सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

इलाहाबाद (प्रयागराज) के पर्यटन स्थल - Allahabad (Prayagraj) Tourist places / Allahabad famous places

इलाहाबाद (प्रयागराज) के दर्शनीय स्थल - Best places to visit in Allahabad / Allahabad Attractions


इलाहाबाद शहर के बारे में

इलाहाबाद उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख नगर है। इलाहाबाद को अब प्रयागराज के नाम से जाना जाता है। इलाहाबाद जिसका अब नाम बदलकर प्रयागराज रख दिया गया है। प्रयागराज का अर्थ होता है तीर्थों का राजाप्रयागराज को तीर्थों का राजा कहा जाता है। यहां पर गंगा यमुना और सरस्वती का संगम देखने के लिए मिलता है। जिस पर हर साल लाखों श्रद्धालु आकर डुबकी लगाते हैं। यहां पर आपको बहुत सारी प्राचीन, ऐतिहासिक और धार्मिक स्थल देखने के लिए मिल जाते हैं। इलाहाबाद (प्रयागराज) के आसपास घूमने की बहुत सारी जगह है, जहां पर आप घूम सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। इलाहाबाद पर्यटन स्थलों का भ्रमण आप ऑटो के द्वारा कर सकते हैं। ऑटो यहां पर घूमने के लिए एक अच्छा माध्यम है। 


इलाहाबाद (प्रयागराज) में घूमने की जगह - Places to visit in Allahabad 


गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम स्थल प्रयागराज - The confluence of Ganga, Yamuna and Saraswati

गंगा, यमुना और सरस्वती का संगम स्थल प्रयागराज शहर का एक प्रसिद्ध स्थल है। यह एक धार्मिक स्थल है। यहां पर हर साल लाखों की संख्या में लोग गंगा जी में डुबकी लगाने के लिए आते हैं। हर साल मकर संक्रांति के समय यहां पर माघ मेला लगता है, जिसमें हजारों की संख्या में लोग शामिल होते हैं। यहां पर हर 12 साल में महाकुंभ का आयोजन होता है। इस महाकुंभ में दूर-दूर से लोग घूमने के लिए आते हैं। इस महाकुंभ में साधु संत से लेकर विदेशी लोग भी घूमने के लिए आते हैं। यहां पर आपको गंगा और यमुना नदी देखने के लिए मिलती है। यहां पर सरस्वती नदी अदृश्य है। यहां पर तीन नदियों का संगम हुआ है इसलिए इस संगम स्थल को त्रिवेणी संगम के नाम से जाना जाता है। यहां पर आकर आप घूम सकते हैं और संगम स्थल पर डुबकी लगा सकते हैं। संगम स्थल पर जाने के लिए आप नाव से जा सकते हैं या आप किनारे में भी नहा सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और आप यहां पर मेले के समय आते हैं, तो बहुत अच्छा रहता है, क्योंकि यहां पर मेले के समय बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। 


प्रयागराज का किला - Prayagraj Fort

प्रयागराज का किला प्रयागराज शहर में यमुना नदी के किनारे स्थित है। प्रयागराज का किला प्रयागराज शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह किला अकबर के द्वारा बनवाया गया था। अभी यह किला खंडहर अवस्था में यहां पर मौजूद है। इस किले के अधिकांश भाग को बंद कर दिया गया है। आप किले के कुछ भाग को ही घूम सकते हैं। इस किले में आपको मंदिर देखने के लिए मिलता है। किले के अंदर आपको पताल पुरी मंदिर देखने के लिए मिलता है और अक्षय वट वृक्ष देखने के लिए मिलता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और बहुत शांति रहती है। इस किले में आपको मिलिट्री हेड क्वार्टर देखने के लिए मिलता है। इस किले में पुलिस वाले निगरानी करते रखते हैं। इसलिए आप इस किले के किसी भी भाग में घूमने के लिए नहीं जा सकते हैं। इस किले के जो भाग खुले हुए हैं। आप वहां पर ही घूम सकते हैं। 


मनकामेश्वर मंदिर इलाहाबाद - Mankameshwar Temple Allahabad

मनकामेश्वर मंदिर इलाहाबाद का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको शंकर जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर शंकर जी का शिवलिंग विराजमान है। कहा जाता है कि यहां पर आकर आप कोई भी मनोकामना मानते हैं, तो वह मनोकामना आपकी जरूर पूरी होती है। यहां पर बहुत सारे लोग आकर पूजा करते हैं और भगवान शिव से अपनी मनोकामना मांगते हैं। यहां पर प्रसाद की दुकान आपको बाहर देखने के लिए मिल जाती है। मनकामेश्वर मंदिर इलाहाबाद शहर में प्रयागराज किले के पीछे की तरफ स्थित है। यहां पर जाने का रास्ता प्रयागराज के नए पुल के पास से मिल जाता है। आप वहां से इस जगह पर बहुत आराम से जा सकते हैं। यहां पर जाकर आप शिव शंकर जी के दर्शन कर सकते हैं। आप अगर यहां पर यमुना नदी के घाट में भी जाना चाहते हैं, तो जा सकते हैं। यह मंदिर यमुना नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। 


लेटे हुए हनुमान जी का मंदिर प्रयागराज - Lord Hanuman's temple Prayagraj

लेटे हुए हनुमान जी का मंदिर प्रयागराज शहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। यह मंदिर संगम स्थल के पास ही में स्थित है। इस मंदिर में बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। इस मंदिर में आप हनुमान जी की लेटी हुई प्रतिमा देख सकते हैं। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि हनुमान जी के दर्शन करने से सभी प्रकार की इच्छाएं पूरी होती है। इसलिए यहां पर बहुत सारे लोग हनुमान जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर आपको श्री राम जी, माता सीता जी और लक्ष्मण जी का मंदिर भी देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर आकर अच्छा लगता है।


चंद्रशेखर आजाद पार्क प्रयागराज - Chandrashekhar Azad Park Prayagraj

चंद्रशेखर आजाद पार्क प्रयागराज का एक प्रसिद्ध पार्क है। यह पार्क चंद्रशेखर आजाद पार्क, कंपनी गार्डन और अल्फ्रेड पार्क के नाम से भी जाना जाता है। यह पार्क बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यह पार्क इसलिए प्रसिद्ध है, क्योंकि यहां पर चंद्रशेखर आजाद जी ने अपने आप को गोली मारी थी। इस पार्क में आपको बहुत सारी जगह देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको विक्टोरिया मेमोरियल देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको जड़ी बूटियों का प्लांटेशन देखने के लिए मिलता है। यहां पर नर्सरी भी देखने के लिए मिलती है, जिसमें अलग-अलग तरह के फल वाले पौधों को लगाया गया है और उनका यहां पर अलग-अलग किस्में तैयार की जाती है। यहां पर आपको लाइब्रेरी भी देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर चारों तरफ हरियाली है और यहां पर झील भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर बच्चों के लिए झूले भी लगाए गए हैं। 


आदि विमान मंडपम मंदिर प्रयागराज - Adi Vimana Mandapam Temple Prayagraj

आदि विमान मंडपम मंदिर प्रयागराज का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यह मंदिर संगम स्थल के पास ही में स्थित है। यह मंदिर 3 मंजिला है। इस मंदिर में आपको खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलती है, जो इस मंदिर के दीवारों में की गई है।  आपको इस मंदिर की सबसे ऊपरी मंजिल में शंकर जी का शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। यह शिवलिंग देखने में बहुत ही अनोखा लगता है, क्योंकि इस शिवलिंग में असंख्य छोटे-छोटे शिवलिंग को उकेरकर बनाए गए हैं। आप अगर शाम के समय इस मंदिर में आते हैं। शाम के समय, इस मंदिर के सबसे ऊपरी मंजिल से नीचे देखने में बहुत मजा आता है, क्योंकि चारों तरफ आपको टिमटिमाती हुई लाइट देखने के लिए मिलती है, जो ऐसा लगता है, जैसे तारे टिमटिमा रहे हो। 


पातालपुरी मंदिर प्रयागराज - Patalpuri Temple Prayagraj

पातालपुरी मंदिर प्रयागराज का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर प्रयागराज किले के अंदर स्थित है। इस मंदिर में आप घूमने के लिए आ सकते हैं, क्योंकि यह मंदिर यमुना नदी के किनारे प्रयागराज किले के अंदर बना हुआ है। यहां पर किले के अंदर सुरंग बनाई गई है और किले में भूमिगत मंदिर बनाया गया है। इस मंदिर में आपको बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में आपको नाग देवता की बहुत ही अद्भुत प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर काल भैरव की मूर्ति देख सकते हैं। शनि भगवान जी की मूर्ति आपको यहां देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर बहुत अच्छा लगता है। मगर यहां पर बहुत सारे लोग आपसे डोनेशन मांगते हैं। अगर आपकी डोनेशन करने की इच्छा हो, तो आप यहां पर डोनेशन कर सकते हैं, नहीं तो, नहीं कीजिए। यहां पर आपको बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। आपको यहां पर सबसे पहले काली जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। उसके बाद आप इस सुरंग से प्रवेश करते हैं और सारे देवी देवताओं के दर्शन करते हुए ऊपर आ जाते हैं। 


अक्षयवट प्रयागराज - Akshaywat Prayagraj

अक्षयवट प्रयागराज का एक प्राचीन वृक्ष है। अक्षयवट एक पुराना बरगद का पेड़ है। इस पेड़ के बारे में कहा जाता है, कि यह पेड़ सतयुग, द्वापर युग, त्रेता युग में भी रहा और कलयुग में भी है। यह पेड़ सदैव अमर है और इस पेड़ की आयु भी आप इस मंदिर में जाते हैं, तो देख सकते हैं। इस पेड़ के नीचे आपको कृष्ण जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस पेड़ के नीचे कृष्ण जी की बहुत ही सुंदर मूर्ति देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। 


समुद्रकूप तीर्थ प्रयागराज - Samudra Koop Tirtha Prayagraj

समुद्रकूप तीर्थ प्रयागराज का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको एक प्राचीन कुआं देखने के लिए मिलता है।  इस कुएं को चारों तरफ से रॉड से कवर कर दिया गया है, ताकि कोई भी इस कुएं में गिरे ना। इस कुएं के बारे में कहा जाता है कि इस कुएं का गहराई समुद्र के तल के समान है। इसकी गहराई आज तक पता नहीं लगा पाए हैं। इस कुएं के पास में भगवान शिव जी का शिवलिंग विराजमान है। यहां पर आपको छोटा सा गार्डन देखने के लिए मिलता है। यहां पर हनुमान जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर दक्षिण मुखी हनुमान जी विराजमान है। इस जगह पर आकर बहुत शांति मिलती है। यहां पर आप शाम के समय आते हैं, तो आपको संगम स्थल का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलेगा। 


नागवासुकी मंदिर प्रयागराज - Nagvasuki Temple Prayagraj

नागवासुकी मंदिर प्रयागराज का एक प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में आपको नाग देवता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में नाग देवता की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर प्रयागराज में दारागंज में स्थित है। यह मंदिर गंगा नदी के किनारे बना हुआ है। नागवासुकी मंदिर बहुत प्राचीन है। यहां पर आपको अन्य देवी देवताओं के भी दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। 


स्वराज भवन प्रयागराज - Swaraj Bhawan Prayagraj

स्वराज भवन प्रयागराज का एक संग्रहालय है। इस संग्रहालय में आपको बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिल जाता है। यह संग्रहालय पंडित जवाहरलाल नेहरू का पैतृक घर है। आप इस संग्रहालय में उनके द्वारा उपयोग की गई बहुत सारी वस्तुएं देख सकते हैं। इस संग्रहालय के बाहर आपको सुंदर गार्डन देखने के लिए मिल जाता है। स्वराज भवन प्रयागराज शहर में बीचो-बीच स्थित है। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। 


आनंद भवन प्रयागराज - Anand Bhawan Prayagraj

आनंद भवन प्रयागराज का एक संग्रहालय है। यह संग्रहालय भी स्वराज भवन के पास ही में स्थित है। इस संग्रहालय के बाहर आपको सुंदर गार्डन देखने के लिए मिलता है। इस संग्रहालय में भी बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह है। 


जवाहर तारामंडल प्रयागराज - Jawahar Planetarium Prayagraj

जवाहर तारामंडल प्रयागराज शहर में स्थित एक प्रमुख स्थल है। यहां पर आपको हमारे सौरमंडल के बारे में जानकारी मिल जाती है। यहां पर आपको बहुत सारी प्रोजेक्ट देखने के लिए मिलते हैं, जिनमें आप हमारे सौरमंडल के बहुत सारे ग्रहों एवं तारों के बारे में जान सकते हैं। यहां पर आपको ऑडियो एवं वीडियो फिल्म भी दिखाई जाती है, जिससे आप इन सभी चीजों के बारे में अधिक ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं। जवाहर तारामंडल आनंद भवन के बाजू में ही स्थित है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


भारद्वाज आश्रम मंदिर प्रयागराज - Bhardwaj Ashram Temple Prayagraj

भारद्वाज आश्रम प्रयागराज का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर प्राचीन समय में भरद्वाज ऋषि का आश्रम हुआ करता था। यहां पर श्री राम जी ने अपने वनवास काल के दौरान भरद्वाज ऋषि के आश्रम आए थे। यहां पर आपको भरद्वाज ऋषि की प्राचीन प्रतिमा देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर और भी बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको श्री राम जी, माता सीता जी के चरण चिन्ह देखने के लिए मिल जाते हैं। भरद्वाज आश्रम मंदिर आनंद भवन के पास ही में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए जा सकते हैं। 


भारद्वाज पार्क प्रयागराज - Bharadwaj Park Prayagraj

भारद्वाज पार्क प्रयागराज में घूमने के लिए एक प्रमुख जगह है। भारद्वाज पार्क एक सुंदर उद्यान है। इस उद्यान में आपको सुंदर फव्वारे देखने के लिए मिलते हैं। इन फव्वारे के नीचे सुंदर लाइट लगी है, जिससे यह फव्वारे रंग-बिरंगे लगते हैं। भारद्वाज पार्क में बहुत सारे झूले भी लगे हैं, जिनमें आप झूल कर मजे ले सकते हैं। यहां पर आपको भारद्वाज ऋषि की बहुत सारी पेंटिंग देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर भारद्वाज ऋषि की बहुत बड़ी मूर्ति भी विराजमान है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। भारद्वाज पार्क आनंद भवन के पास ही में स्थित है। यहां पार्क  आनंद भवन से करीब 500 से 600 मीटर दूर होगा। आप यहां पर पैदल घूमने के लिए आ सकते हैं। 


हाथी पार्क प्रयागराज - Elephant Park Prayagraj

हाथी पार्क प्रयागराज में स्थित एक प्रमुख स्थल है। यह एक सुंदर पार्क है। इस पार्क में आपको हाथी की एक बड़ी सी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। हाथी की इस प्रतिमा के अंदर से फिसल पट्टी बनाई गई है। इसमें बच्चे लोग बहुत इंजॉय करते हैं। इस पार्क को सुमित्रानंदन पंत पार्क भी कहा जाता है। यहां पर  सुमित्रानंदन पंत जी की प्रतिमा भी आपको देखने के लिए मिल जाएगी। इस पार्क में बहुत सारे पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं और यहां पर एक छोटी सी झील भी बनाई हुई है। यहां पर अच्छा लगता है। यहां पर फूड कोर्ट भी है, जहां पर आप अलग-अलग खानों का मजा ले सकते हैं। 


इलाहाबाद लाइब्रेरी - Allahabad Library

इलाहाबाद लाइब्रेरी इलाहाबाद शहर में स्थित एक प्राचीन लाइब्रेरी है। यह लाइब्रेरी एक प्राचीन बिल्डिंग में बनी हुई है। इस बिल्डिंग का डिजाइन भी बहुत सुंदर है। यह लाइब्रेरी चंद्रशेखर आजाद पार्क में स्थित है। आप चंद्रशेखर आजाद पार्क में घूमने जाते हैं, तो इस लाइब्रेरी में भी घूमने के लिए जा सकते हैं।


इलाहाबाद संग्रहालय - Allahabad Museum

इलाहाबाद संग्रहालय प्रयागराज का एक प्रमुख स्थल है। इलाहाबाद संग्रहालय में आपको बहुत सारी प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिल जाता है। इस संग्रहालय में आपको चंद्रशेखर आजाद के द्वारा अपने आप को जिस पिस्टल से गोली मारी गई थी। वह पिस्टल देखने के लिए मिल जाती है। इलाहाबाद संग्रहालय चंद्रशेखर आजाद पार्क के अंदर स्थित है। आप यहां पर आकर बहुत सारी वस्तुओं को देख सकते हैं। यहां पर आपको बहुत सारी मूर्तियां भी देखने के लिए मिल जाती हैं।  


खुसरो बाग (इलाहाबाद) प्रयागराज - Khusro Bagh (Allahabad) Prayagraj

खुसरो बाग प्रयागराज का एक बहुत बड़ा बगीचा है। यह इलाहाबाद में घूमने का एक प्रमुख स्थल है। खुसरो बाग इलाहाबाद की सबसे अच्छी जगह है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आपको खुसरो की कब्र देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको तीन कब्र देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही सुंदर है। इन कब्र में बहुत ही खूबसूरत नक्काशी की गई है। यहां पर आपको फव्वारा भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर बहुत सारे बिही, आम और आंवले के पेड़ देखने के लिए मिलते हैं। यहां नर्सरी है, जहां पर अलग अलग किस्म के पेड़ों को तैयार किया जाता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर तरह तरह के फूल लगाए गए हैं, जिनको देख कर बहुत अच्छा लगता है। 


पत्थर गिरजाघर इलाहाबाद - Patthar Girjaghar Allahabad

पत्थर गिरजाघर एक सुंदर चर्च है। यह इलाहाबाद में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह चर्च सन्डे को ओपन रहता है, तो आप इस चर्च को अंदर से भी देख सकते हैं। यह चर्च बहुत ही पुराना है। यह चर्च गोथिक शैली में बना हुआ है। 


वेणी माधव मंदिर प्रयागराज - Veni Madhav Temple Prayagraj

वेणी माधव मंदिर प्रयागराज में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत पुराना है। इस मंदिर में श्री कृष्ण जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर के बाहर आपको बहुत सारे मिठाइयों की दुकान देखने के लिए मिलती है, जहां से आप प्रसाद ले सकते हैं और श्री कृष्ण जी को अर्पण कर सकते हैं। इस मंदिर के सामने शंकर जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर भी बहुत प्रसिद्ध है और बहुत पुराना है। यह मंदिर इलाहाबाद के दारागंज में स्थित है। 


मिंटो पार्क इलाहाबाद - Minto Park Allahabad

मिंटो पार्क इलाहाबाद में स्थित एक प्रसिद्ध स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर गार्डन देखने के लिए मिलता है। यह गार्डन यमुना नदी के किनारे बना हुआ है। यमुना नदी के न्यू ब्रिज के पास यह गार्डन बना हुआ है। गार्डन में आपको प्रवेश के लिए टिकट लगता है। यहां पर 10 रूपए प्रवेश शुल्क लिया जाता है। आप गार्डन में आते हैं, तो आपको चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको एक स्तंभ भी देखने के लिए मिलता है। मिंटो पार्क को मदन मोहन मालवीय पार्क के नाम से भी जाना जाता है। यह पार्क एक ऐतिहासिक पार्क है। इस पार्क में 1858  क्वीन विक्टोरिया का लेटर पढ़ा गया था, जो ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए था। 


इस्कॉन मंदिर प्रयागराज - ISKCON Temple Prayagraj

इस्कॉन मंदिर प्रयागराज का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी को समर्पित है। इस मंदिर में श्री कृष्ण जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर इलाहाबाद शहर में यमुना नदी के पास में स्थित है। इस मंदिर में आप सुबह के समय आकर आप श्री कृष्ण जी के दर्शन कर सकते हैं। दोपहर को यह मंदिर बंद रहता है और शाम के 4 बजे यह मंदिर खुलता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां का, जो माहौल है। वह भक्तिमय रहता है। 


इलाहाबाद के प्रमुख घाट - Major Ghats of Allahabad

फाफामऊ घाट 
किला घाट 
गंगा घाट 
देवी घाट 
सरस्वती घाट 
कालीघाट
त्रिवेणी घाट 
गऊघाट 
बलुआ घाट और बारादरी घाट 
दशाश्वमेध घाट 
सोमेश्वर महादेव घाट 
श्री  चक्र माधव घाट 
अरैल घाट 
सम्राट हर्षवर्धन घाट 
यमुना घाट
दिव्या घाट


इलाहाबाद के अन्य प्रमुख पर्यटन आकर्षण स्थल - Other major tourist attractions of Allahabad

दशाश्वमेध मंदिर 
खड़े हनुमान मंदिर 
ओल्ड नैनी ब्रिज 
न्यू यमुना ब्रिज 
संगम यात्रा मंदिर 
सच्चा बाबा की समाधि 
महर्षि महेश योगी संस्थान 
हनुमान निकेतन मंदिर सिविल लाइन 
लॉर्ड कर्जन पार्क
कैलाश धाम मंदिर
श्री चक्र माधव मंदिर 
सोमेश्वर महादेव मंदिर 



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है। जागृति पार्क कटनी में माधव नगर में स्थित है। जागृति पार्क

बालाघाट दर्शनीय स्थल - Balaghat tourist place | Tourist places near Balaghat

बालाघाट पर्यटन स्थल - Picnic spot near Balaghat | Balaghat famous places | Balaghat Jila बालाघाट जिला Balaghat District बालाघाट मध्य प्रदेश का एक जिला है। बालाघाट छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की सीमा के पास स्थित है। बालाघाट में वैनगंगा नदी बहती है। बालाघाट में भारत की सबसे बड़ी कॉपर की खदान मौजूद है। बालाघाट का मलाजखंड क्षेत्र कॉपर का सबसे बड़ा उत्पादक क्षेत्र है। यहां खुली खदान मौजूद है। बालाघाट जबलपुर संभाग के अतंर्गत आता है। बालाघाट 10 तहसीलों में बटा हुआ है। यह तहसील है - बालाघाट, बैहर, बिरसा, परसवाडा ,कटंगी, वारासिवनी, लालबर्रा, खैरलांजी, लांजी, किरनापूर। बालाघाट जिलें में घूमने के लिए बहुत सारे प्राकृतिक एवं ऐतिहासिक स्थल मौजूद है, जहां पर जाकर आप आप अपना समय बिता सकते है। Places to visit in Balaghat बालाघाट में घूमने लायक जगहें बोटैनिकल गार्डन - Botanical Garden Balaghat वनस्पति उद्यान बालाघाट जिले में स्थित एक दर्शनीय जगह है। यह बालाघाट में घूमने के लिए अच्छी जगह है। यह उद्यान वैनगंगा नदी के किनारे स्थित है। यहां पर आपको विभिन्न तरह के वनस्पतियां

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city Betul jila बैतूल जिला बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है। यह भारत का पांचवा धाम है। ब