सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Cave लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

लोहानी गुफा मांडू - Lohani Cave Mandav

लोहानी गुफा और सूर्यास्त बिंदु मांडू (मांडव) -  Lohani Cave and Sunset Point Mandu (Mandav) लोहानी गुफा मांडू शहर का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यहां पर देखने के लिए एक प्राकृतिक गुफा है। यह गुफा पहाड़ी को काटकर बनाई गई है और यहां पर एक सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है। इस झरने का पानी पहाड़ियों से आता है। यहां पर प्रकृति का अद्भुत स्वरूप देखने के लिए मिलता है। पहाड़ियों और घाटियों का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर सूर्यास्त प्वाइंट भी है, जहां पर शाम के समय सूर्य अस्त होने का नजारा देखा जा सकता है। हम लोगों की मांडू यात्रा में, हम लोग लोहानी गुफा भी घूमने के लिए गए थे।  हम लोग की मांडू यात्रा में, दरिया खान का मकबरा घूमने के बाद, हम लोहानी गुफा घूमने के लिए गए थे। लोहानी गुफा में जाने का रास्ता होशंग शाह के मकबरे के बाजू से ही जाता है। मगर इस गुफा में जाने के लिए, जो सड़क है। वह बहुत ही खराब है। रोड में बड़े-बड़े पत्थर है। सड़क में हम लोग जैसे तैसे करके इस जगह पर पहुंचे थे। लोहानी गुफा होशंग शाह के मकबरे से करीब एक या डेढ़ किलोमीटर दूर होगी। यहां पर सबसे पहले हम लोग सूर्यास्त प

भर्तृहरि की गुफाएं उज्जैन - Bhartrihari Caves Ujjain

राजा भर्तृहरि की गुफा  या  भरथरी की गुफाएं  उज्जैन -  Raja  Bhartrihari  ki gufa or Raja Bharthari ki gufa ujjain भरथरी की गुफा या भर्तृहरि की गुफाएं उज्जैन शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। भर्तृहरि की गुफाएं गोर खनाथ मठ के द्वारा प्रबंधित की जाती है। यहां पर दो गुफाएं है। इनमें से एक गुफा भूमिगत है। भूमिगत गुफा में जाने के लिए बहुत सकरा रास्ता है और नीचे जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। आप गुफा के नीचे जाएंगे। तो नीचे एक बड़ा सा हॉल है और भगवान शिव का शिवलिंग विराजमान है। यहां पर आप आकर बहुत अच्छा लगेगा और बहुत शांति वाला माहौल रहता है। दूसरी गुफा में भी शिवलिंग विराजमान है। इस शिवलिंग को नीलकंठेश्वर शिवलिंग कहा जाता है। भर्तृहरि गुफा के पास मंदिर भी बना हुआ है और यहां पर बहुत सारे देवी देवता विराजमान है। यहां पर शिप्रा नदी पर सुंदर घाट बना हुआ है। जिसे भर्तृहरि घाट कहते हैं। यहां पर गौशाला बनी हुई है, जहां पर उच्च कोटि की गायों को रखा गया है। यहां पर हम लोगों को बहुत अच्छा लगा।  हमारे उज्जैन के सफर में हम लोग भर्तृहरि गुफा घूमने के लिए गए थे। भर्तृहरि गुफा महाकाल मंदिर से करीब 5

आदमगढ़ शैलाश्रय होशंगाबाद - Adamgarh Rock shelters Hoshangabad

आदमगढ़ की गुफा होशंगाबाद  मध्य प्रदेश -  Adamgarh Cave Hoshangabad Madhya Pradesh आदमगढ़ की गुफाएं होशंगाबाद शहर की एक प्रसिद्ध जगह है। यहां पर प्राचीन गुफाएं देखने के लिए मिलते हैं। इन गुफाओं में आदिमानव रहा करते थे। यहां पर करीब 18 गुफा मौजूद हैं, जिन्हें देखा जा सकता है। यह गुफा एक पहाड़ी पर स्थित है। इस पहाड़ी को आदमगढ़ की पहाड़ी कहा जाता है। आदमगढ़ की पहाड़ियां आदमगढ़ शैलाश्रय एवं शैल चित्रों के कारण प्रसिद्ध है। यह गुफाएं होशंगाबाद शहर से करीब 3 किलोमीटर दूर है। यह गुफाएं जंगल के अंदर स्थित है। यहां पर प्रवेश के लिए टिकट लेना पड़ता है। जब हम लोग यहां पर घूमने के लिए गए थे। तब यहां पर हरियाली थे।  आदमगढ़ की पहाड़ी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के द्वारा प्रबंधित की जाती है। इन गुफाओं के खुलने का समय सूर्योदय से सूर्यास्त तक का है।  आदमगढ़ की गुफा होशंगाबाद इटारसी रोड पर स्थित है। यह गुफाएं मुख्य सड़क पर स्थित है। यह गुफाएं आदमगढ़ पहाड़ी पर स्थित है। आदमगढ़ पहाड़ी चारों तरफ से कवर है। आजमगढ़ पहाड़ी के एक तरफ बस्ती है। हम लोग गूगल मैप के द्वारा  आदमगढ़  पहाड़ी पहुंचे थे। मगर गूगल म

भीमबेटका की गुफाएं - Bhimbetka ki gufa or Bhimbetka Cave

भीमबेटका रॉक शेल्टर  और भीमबेटका रॉक पेंटिंग  की जानकारी -  Bhimbetka Rock Shelter and Bhimbetka Rock Painting भीमबेटका की गुफाएं विश्व प्रसिद्ध ऐतिहासिक धरोहर है। भीमबेटका की गुफाएं रायसेन जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। भीमबेटका की गुफाएं भोपाल के पास में स्थित है। यह गुफाएं आदिमानव काल के समय की है। यहां पर गुफाओं में आदिमानव द्वारा बनाई गई पेंटिंग देखने के लिए मिलती है। यहां पर आदिमानव के द्वारा बहुत सारी पेंटिंग बनाई गई है। यहां पर प्राचीन समय में आदिमानव रहा करते थे। यह गुफाएं रातापानी वन्य जीव अभ्यारण के अंदर स्थित है। यहां पर चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है और यह गुफाएं पहाड़ियों पर बनाई गई है। यहां पर पहाड़ियों का लाजवाब दृश्य देखने के लिए मिलता है। रातापानी वन्य जीव अभ्यारण में जंगली जानवर भी देखने का मौका मिल सकता है। यहां पर जानवरों और पक्षियों की बहुत सारी प्रजातियां देखने के लिए मिल सकती हैं। हम लोगों को यहां पर मोर देखने के लिए मिला था। भीमबैठका गुफाओं के थोड़ा आगे जाने पर हम लोगों को मंदिर देखने के लिए मिला था। यह मंदिर वैष्णो माता को समर्पित है। यह मंदिर

प्राचीन मां पार्वती गुफा मंदिर रायसेन - Ancient Maa Parvati Cave Temple Raisen

मां पार्वती की गुफा या पार्वती गुफा मंदिर रायसेन मध्य प्रदेश -  Maa Parvati ki Gufa or Parvati Gufa Mandir Raisen Madhya Pradesh मां पार्वती का प्राचीन गुफा मंदिर भोजपुर शहर का एक प्रमुख आकर्षण केंद्र है। यह मंदिर बेतवा नदी के किनारे बना हुआ है।  यह मंदिर प्राचीन गुफाओं में बना हुआ है। यहां पर प्राकृतिक सौंदर्य के साथ-साथ धार्मिक स्थलों का भी दर्शन करने के लिए मिलता है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। मां पार्वती गुफा मंदिर भोपाल से करीब 32 किलोमीटर दूर भोजपुर शहर में स्थित है। यहां पर मां पार्वती जी की भव्य मूर्ति देखने के लिए मिलती है। इसके अलावा यहां पर गौरी पुत्र गणेश की भी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर प्राचीन है और इस गुफा मंदिर में चमगादड़ भी है। यहां पर आकर आपको पहाड़ियों का सौंदर्य देखने के लिए मिलता है।  हम लोग भोजपुर के भोजेश्वर मंदिर की तरफ जाते समय पर्वती गुफा मंदिर भी घूमने के लिए गए थे। पर्वती गुफा मंदिर भोपाल से भोजेश्वर मंदिर की तरफ जाने वाले रास्ते में पहले पड़ता है। इसलिए हम लोग पहले पार्वती गुफा मंदिर घूमने के लिए गए थे। जब इस रास्ते से हम लोग पार्वती गुफ