सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

Cave लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गुप्त गोदावरी चित्रकूट - Gupt Godavari Chitrakoot

गुप्त गोदावरी गुफा चित्रकूट - Gupt Godavari Caves Chitrakoot / गुप्त गोदावरी चित्रकूट / Gupt Godavari Chitrakoot    गुप्त गोदावरी गुफा एक प्राचीन और धार्मिक जगह है। यह चित्रकूट में स्थित धार्मिक स्थलों में से एक है। यहां पर आपको दो गुफाएं देखने के लिए मिलती है। इन गुफाओं के बारे में कहा जाता है, कि जब राम जी चित्रकूट में वनवास के दौरान आए थे। तब इन गुफाओं में राम जी का दरबार लगता था। यहां पर एक गुफा में आपको रामदरबार देखने के लिए मिल जाता है और दूसरी गुफा में आपको गोदावरी नदी देखने के लिए मिल जाती है। जिसे गुप्त गोदावरी के नाम से जाना जाता है।    गुप्त गोदावरी का महत्व - Importance of Gupt Godavari गुप्त गोदावरी गुफा के अंदर श्री राम जी और लक्ष्मण जी ने दरबार लगाया था। ऐसी मान्यता है कि प्रभु श्री राम ने माता सीता के स्नान हेतु गोदावरी मैया को प्रकट किया था। इसे गुप्त गोदावरी कहते हैं। क्योंकि यह माता सीता का स्नान कुंड है। पताल तोड़कर गोदावरी तभी से यहां लगातार बह रही है।    गुप्त गोदावरी गुफा हम लोग ऑटो से आए थे। ऑटो वाले ने हम लोगों को मंदिर से कुछ आगे छोड़ दिया और हम लोग मंदिर

Pandav Caves Pachmarhi - पचमढ़ी के पांडव गुफा की यात्रा

Information about Pandava Cave of Pachmarhi पचमढ़ी के पांडव गुफा की जानकारी  पांडव गुफा पचमढ़ी की एक खूबसूरत और धार्मिक जगह है। पांडव गुफा पचमढ़ी शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। पचमढ़ी शहर का नाम पांच पांडव गुफा के नाम पर रखा गया है। यहां पर एक बहुत बड़ी चट्टान है। जिस पर गुफा बनाई गई है। यह पचमढ़ी शहर का एक खूबसूरत जगह है। यहां पर खूबसूरत गार्डन भी है, जिसमें आपको तरह तरह के फूल देखने मिलते हैं। Pandav Cave Garden  पचमढ़ी के पांडव गुफा की स्थिति Status of Pandav Cave of Pachmarhi पचमढ़ी एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। पचमढ़ी सतपुडा की पहाडियों में बसा है। पचमढ़ी को सतपुडा की रानी कहा जाता है। पचमढ़ी होशंगाबाद शहर में स्थित है। होशंगाबाद शहर मध्य प्रदेश का एक जिला है। पचमढ़ी में आप रेलगाडी के माध्यम से पहूॅच सकते है। पचमढ़ी मध्य प्रदेश का एकमात्र हिल स्टेशन है। पांडव गुफा पचमढ़ी में स्थित है। पांडव गुफा पचमढ़ी से करीब 2 या 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित होगी। आप यहां पर पैदल भी जा सकते हैं। बहुत से लोग जिप्सी या ऑटो से यहां आते है।  यहां पर हम लोग बहुत पहले करीब 10 साल पहले पैद