सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रायगढ़ जिले के पर्यटन स्थल - Raigarh Tourist Places

रायगढ़ जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Raigarh (Chhattisgarh) / रायगढ़ जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


रायगढ़ छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख जिला है। रायगढ़ छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 246 किलोमीटर दूर है। रायगढ़ में केलो नदी बहती है। रायगढ़ छत्तीसगढ़ और उड़ीसा की सीमा पर स्थित है। रायगढ़ में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - रायगढ़ में घूमने वाली जगह के बारे में


रायगढ़ में घूमने की जगह - Raigarh me ghumne ki jagah


पहाड़ मंदिर रायगढ़ - Pahad mandir raigarh

पहाड़ मंदिर रायगढ़ जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। पहाड़ मंदिर को श्री संकटमोचन बजरंगबली मंदिर भी कहा जाता है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। मंदिर में हनुमान जी, दुर्गा जी और शंकर भगवान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। रायगढ़ जिले के लोग इस मंदिर को पहाड़ मंदिर के नाम से जानते हैं। इस मंदिर से पूरे रायगढ़ शहर का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर में मंगलवार के दिन बहुत सारे भक्त हनुमान जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। 

पहाड़ मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। इस मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। इस मंदिर की स्थापना 1980 में हुई थी। यह मंदिर बहुत सुंदर है और यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। इस मंदिर में दर्शन के लिए सुबह 7 बजे से शाम के 7 बजे तक मंदिर खुला रहता है। पहाड़ मंदिर में शनिवार और मंगलवार के दिन बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। इस दिन मंदिर ज्यादा समय तक खुला रहता है। 


मोती महल रायगढ़ - Moti Mahal Raigarh

मोती महल राजगढ़ जिले का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक सुंदर महल है। यह महल राजगढ़ जिले के राजसी परिवार का निवास स्थान हुआ करता था। अब यह महल खाली है और यहां पर कोई भी नहीं रहता है। यह महल बहुत ही सुंदर बना हुआ है और इस महल में बहुत ही सुंदर कारीगरी देखने की मिलती है। इस महल में गलियारे देखने के लिए मिलते हैं। गलियारे में जो पिलर बनाए गए हैं। उनकी नक्काशी बहुत ही सुंदर है। पिलर में फूलों की बहुत ही आकर्षक नक्काशी को बनाया गया है। 

मोती महल राजगढ़ जिले में केलो नदी के किनारे बना हुआ है।  यहां पर आसानी से पहुंचा जा सकता है। यह महल तीन मंजिला है। महल के सबसे ऊपरी सिरे में क्लॉक टावर भी देखने के लिए मिलता है। आप राजगढ़ आते हैं, तो आपको इस महल में जरूर आकर घूमना चाहिए। इस महल के रंग-बिरंगे दरवाजे बहुत अच्छे लगते हैं और महल का ज्यादातर हिस्सा बंद कर दिया गया है। मगर आप इस महल को देख सकते हैं। 


समलाई माता मंदिर राजगढ़ - Samlai Mata Temple Rajgarh

समलाई माता मंदिर राजगढ़ जिले का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर समलाई माता को समर्पित है, जो मां दुर्गा का ही रूप है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। यह मंदिर राजगढ़ जिले के राजा की कुलदेवी थी। मंदिर में माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में नवरात्रि के समय बहुत भीड़ लगती है। यह मंदिर राजगढ़ में केलो नदी के किनारे बना हुआ है। इस मंदिर के सामने ही केलो नदी का सुंदर घाट देखने के लिए मिलता है, जिसमें केलो नदी में स्नान किया जा सकता है और यहां पर केलो नदी का आरती स्थल भी देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर में घूमने के लिए आया जा सकता है। 


केलो बांध रायगढ़ - Kelo Dam Rajgarh

केलो बांध रायगढ़ जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक बहुत बड़ा जलाशय है। यह जलाशय बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। यह जलाशय केलो नदी पर बना हुआ है। यहां पर आप परिवार वालों के साथ और दोस्तों के साथ पिकनिक बनाने के लिए आ सकते हैं। केलो बांध के पास में ही केलो पार्क बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है। यहां पर बहुत सारे स्टेचू देखने के लिए मिलते हैं और यहां पर बच्चों को खेलने के लिए झूले और फिसलपट्टी भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर तरह-तरह के पौधे लगे हुए हैं। पार्क में एंट्री का चार्ज लिया जाता है। अगर आप केलो बांध घूमने के लिए आते हैं, तो आप बोटिंग का मजा भी ले सकते हैं। यहां पर अलग-अलग तरह की बोट राइड का मजा लिया जा सकता है, जो बहुत मजेदार होती हैं। 

केलो बांध रायगढ़ जिले से करीब 12 किलोमीटर दूर अंबिकापुर  हाईवे सड़क पर स्थित है। आप यहां पर अपनी कार और बाइक से आ सकते हैं। 


इको पार्क राजगढ़ - Eco Park Rajgarh

इको पार्क राजगढ़ में स्थित एक सुंदर जगह है। यहां पर आपको पहाड़ियां देखने के लिए मिलती है और पेड़ पौधों देखने के लिए मिलते हैं। यहां से पहाड़ियों से बहता हुआ एक सुंदर सा जलप्रपात और कुंड देखने के लिए मिलता है। यह जगह बहुत सुंदर है। यह राजगढ़ में बिंजकोट में स्थित है। यहां पर आप बाइक और कार से पहुंच सकते हैं। यहां पर आप फैमिली के साथ पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। यहां पर ट्रैकिंग का मजा भी लिया जा सकता है। यह जगह प्राकृतिक प्रेमी के लिए एक अनमोल उपहार है और यहां पर आकर अच्छा समय बिताया जा सकता है। 


इंदिरा विहार रायगढ़ - Indira Vihar Raigarh

इंदिरा विहार राजगढ़ में स्थित एक सुंदर जगह है। यह जगह जंगल से घिरी हुई है। यहां पर छोटा सा उद्यान बना हुआ है। इस उद्यान में घूमने के लिए आया जा सकता है। यहां पर बच्चों के खेलने के लिए झूले लगे हुए हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है, क्योंकि यह जगह हरियाली से घिरी हुई है। यहां पर घना जंगल है। यहां पर आकर चिड़िया और बंदर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आप शहर की भागदौड़ भरी जिंदगी से छुटकारा पाकर चैन की सांस ले सकते हैं, क्योंकि यहां पर चारों तरफ पेड़ पौधे लगे हैं और आपको ताजी हवा मिलेगी। 

यह पार्क रायगढ़ से सुंदरगढ़ जाने वाले हाईवे सड़क पर स्थित है। इस पार्क से थोड़ी ही दूरी पर रानी महल देखने के लिए मिलता है। रानी महल पुराना महल है और यह महल खंडहर  अवस्था में यहां पर देखने के लिए मिलता है। आप जब भी पार्क घूमने के लिए आते हैं, तो इस महल में भी घूम सकते हैं। 

राबो बांध रायगढ़ - Rabo Dam Raigarh

राबो बांध रायगढ़ जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यह बांध पहाड़ियों से घिरा हुआ है। बरसात में यह बांध बहुत ही सुंदर लगता है। यहां पर रायगढ़ से घूमने के लिए आया जा सकता है। यह रायगढ़ जिले से करीब 14 किलोमीटर दूर है। यहां पर फैमिली वालों के साथ और दोस्तों के साथ पिकनिक मनाने के लिए आया जा सकता है। 

इस बांध के पास में हनुमान जी का एक मंदिर भी बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर लगता है। यहां से बांध का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। यहां पर पहाड़ियों और बांध का दृश्य बहुत ही शानदार रहता है। 


राम झरना रायगढ़ - Ram Jharna Raigarh

राम झरना रायगढ़ का प्राकृतिक और धार्मिक दोनों ही स्थल है। यहां पर आपको जंगल का खूबसूरत दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर झरना और प्राकृतिक पूल देखने के लिए मिलता है। कहा जाता है, कि यहां राम भगवान जी ने अपने 14 वर्ष के वनवास के समय का कुछ समय यहां पर बिताया था और एक बार सीता जी को प्यास लगी। राम जी को आभास हुआ। तब राम जी ने अपने धनुष बाण को निकाला और धरती पर प्रहार किया, जिससे एक जलधारा फूट पड़ी और सीता जी ने पानी पिया। इस प्रकार आज तक यहां पर जल धारा बह रही है और इस जलधारा को राम झरना कहा जाता है। 

राम झरने को एक ईकोटूरिज्म पर्यटन स्थल की तरह विकसित किया गया है। यहां पर राम भगवान, सीता जी और लक्ष्मण जी की बहुत सारी प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती है। यहां पर झ रना और एक छोटा सा कुंड देखने के लिए मिलता है। यह कुंड प्राकृतिक है। यह जगह चारों तरफ से जंगल से घिरी हुई है और बहुत ही अच्छी लगती है। राम झरने में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। राम झरने के पास में ही एक बहुत बड़ा जलाशय बना हुआ है। इस जलाशय को बिलासपुर जलाशय के नाम से जाना जाता है। यह जलाशय पहाड़ों से घिरा हुआ है और बहुत सुंदर लगता है। आप राम झरना जब भी जाते हैं, तो इस जलाशय में जाकर भी घूम सकते हैं। 

राम झरना रायगढ़ में भूपदेवपुर में स्थित है। यह जगह रायगढ़ से करीब 20 किलोमीटर दूर है और यहां आकर बहुत अच्छा शांति से समय बिताया जा सकता है।


सिंघनपुर गुफा रायगढ़ - Singhanpur Cave Raigarh

सिंघनपुर गुफा रायगढ़ का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यहां पर प्राकृतिक गुफाएं देखने के लिए मिलती हैं। यह प्राचीन समय में शैलाश्रय हुआ करती थी। यह गुफाएं रायगढ़ से करीब 20 किलोमीटर दूर पश्चिम में स्थित है। यह गुफाएं रायगढ़ में  भूपदेवपुर में स्थित है। यहां पर प्राचीन शैल चित्र युक्त शैलाश्रय देखने के लिए मिलते हैं। यह गुफाएं एवं शैलचित्र करीब 30000 साल पुराना है। यह गुफाएं घने जंगल के अंदर स्थित है। इन गुफाएं तक पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करके आना पड़ता है। इन गुफाओं में जो शैल चित्र देखने के लिए मिलते हैं।  उनमे कंगारू, वन्य पशु, भैसा, बंदर, छिपकली और नृत्य करते हुए लोगों की टोली देखने के लिए मिलती है। इन गुफाओं की खोज 1910 में की गई थी। यहां पर 3 गुफाएं हैं। यह गुफाएं पहाड़ी पर स्थित है। पहाड़ी से सूर्यास्त का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और इस जगह का आनंद ले सकते हैं। 


बूढ़ी माई मंदिर रायगढ़ - Budhi Mai Mandir Raigarh

बूढ़ी माई मंदिर राजगढ़ का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बूढ़ी माई को समर्पित है। यह मंदिर मुख्य राजगढ़ शहर में स्थित है। यह मंदिर रेलवे स्टेशन से करीब 1 किलोमीटर दूर है। इस मंदिर के पास एक तालाब भी है। यह मंदिर बहुत पुराना है। इस मंदिर में नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। मंदिर में बूढ़ी माता की बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 


उषाकोठेश्वर महादेव मंदिर रायगढ़ - Ushakoteshwar Mahadev Temple Raigarh

उषाकोठेश्वर महादेव मंदिर एक शिव मंदिर है। यह मंदिर घने जंगल में स्थित है। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर तक जाने के लिए ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है। यह मंदिर छत्तीसगढ़ और उड़ीसा की बॉर्डर पर बना हुआ है। यह मंदिर रायगढ़ से करीब 60 किलोमीटर दूर है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। ऊंची पहाड़ी में शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर प्राकृतिक वातावरण देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर है। यहां पर घूमने के लिए आया जा सकता है। यह राजगढ़ में घूमने लायक जगह है। 


गोमर्डा वन्यजीव अभ्यारण रायगढ़ - Gomarda Wildlife Sanctuary Raigarh

गोमर्डा वन्यजीव अभ्यारण रायगढ़ का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह अभ्यारण रायगढ़ में सारंगढ़ तहसील में स्थित है। यह  अभ्यारण रायगढ़ से करीब 60 किलोमीटर दूर है। गोमर्डा अभ्यारण 278 स्क्वायर किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर मुख्य आकर्षण जंगली भैंसा है। 

गोमर्डा अभयारण्य के अंदर बहुत सारे दर्शनीय स्थल देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारे झरने और जलाशय हैं। यहां का प्राकृतिक सौंदर्य अद्भुत है। गोमर्डा अभयारण्य में तेंदुआ, लकड़बग्घा, जंगली कुत्ता, सियार, भेड़िया, जंगली बिल्ली आदि मांसाहारी जानवर पाए जाते हैं। यहां पर गौर, नीलगाय, सांभर, चीतल, बंदर शाकाहारी जीव पाए जाते हैं। राष्ट्रीय पशु मोर दूधराज एवं अनेक रंग बिरंगी चिड़िया यहां पर देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर अजगर, धामन और नाग पाए जाते हैं। यहां पर मछलियों की बहुत सारी प्रजातियां पाई जाती है। यह जगह बहुत सुंदर है और यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। 


रायगढ़ जिले के पिकनिक स्थलों और पर्यटन स्थल की सूची - List of Picnic Places and Tourist Places in Raigad District

माड़ो सिल्ली जलप्रपात (गोमर्डा अभयारण्य)

कुर्रा गुफा रायगढ़

कमला नेहरू पार्क रायगढ़

किंकरी डैम रायगढ़

पंचधारी वाटरफॉल एवं स्टॉप डैम रायगढ़

बंजारी माता का मंदिर राजगढ़


सुकमा में घूमने की जगह

राजनांदगांव में घूमने की जगह

सरगुजा में घूमने की जगह

कोरिया में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।