सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

सरगुजा जिला का पर्यटन स्थल - Surguja Tourist Place

सरगुजा (अंबिकापुर) जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Surguja / सरगुजा (अंबिकापुर) के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


सरगुजा छत्तीसगढ़ का एक मुख्य जिला है। सरगुजा का मुख्यालय अंबिकापुर है। सरगुजा का मैनपाट छत्तीसगढ़ का शिमला कहा जाता है। सरगुजा मे रिहंद और कान्हार नदी बहती है। सरगुजा छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 335 किलोमीटर दूर है। सरगुजा में घूमने के लिए बहुत सारी जगह मौजूद है। चलिए जानते हैं, सरगुजा में घूमने वाली जगह के बारे में -


सरगुजा में घूमने की जगह 
Sarguja me ghumne ki jagah


मैनपाट सरगुजा - Mainpat Surguja

मैनपाट सरगुजा जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। मैनपाट को छत्तीसगढ़ का शिमला कहा जाता है। यह पूरा पहाड़ी एरिया में स्थित है। यहां पर घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। मैनपाट सरगुजा के मुख्यालय अंबिकापुर से करीब 75 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह विंध्य पर्वतमाला पर स्थित है। मैनपाट की समुद्र तल से ऊंचाई 3781 फीट है। मैनपाट प्राकृतिक सुंदरता से भरा हुआ है। मैनपाट को छत्तीसगढ़ का तिब्बत भी कहा जाता है, क्योंकि यहां पर आप तिब्बती लोगों का बौद्ध मंदिर देख सकते हैं, जो बहुत ही सुंदर है और यहां पर आप तिब्बती लोगों का रहन सहन भी देख सकते हैं। मैनपाट में तिब्बती लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है। मैनपाट में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। यह सारी जगह बहुत सुंदर है। 

मैनपाट में घूमने की जगह

मछली प्वाइंट मैनपाट 
जलपरी पॉइंट 
जलजली मैनपाट 
तिब्बत मंदिर मैनपाट 
उल्टा पानी मैनपाट 
प्रांजल व्यू प्वाइंट मैनपाट 
टाइगर हिल मैनपाट
सनसेट पॉइंट मैनपाट 
मेहता पॉइंट मैनपाट
पुरानी तिब्बती बुद्धिस्ट मॉनेस्ट्री मैनपाट 
हॉर्टिकल्चर गार्डन मैनपाट


घुनघुट्टा बांध सरगुजा - Ghunghutta Dam Surguja

घुनघुट्टा बांध सरगुजा जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय सरगुजा जिले में लिब्रा गांव में स्थित है। इस बांध में आप आ कर नौकायन का भी मजा ले सकते हैं। यहां पर नौकायान की सुविधा उपलब्ध है। यहां पर आप नहाने का भी मजा ले सकते हैं। आप यहां पर आकर पिकनिक मना सकते हैं। यह बांध सरगुजा जिले के मुख्यालय अंबिकापुर से करीब 17 किलोमीटर दूर है। 

घुनघुट्टा बांध में आठ गेट है। बरसात के समय जब घुनघुट्टा बांध पानी से पूरी तरह भर जाता है और इसका पानी ओवरफ्लो होकर बहता है, तो इसके गेट खोले जाते हैं। जिसका दृश्य बहुत ही शानदार रहता है। यहां पर आपको दूर-दूर तक पानी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। शाम के समय यहां पर आपको सूर्यास्त का दृश्य देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही मनोरम रहता है। आप यहां पर फैमिली वालों के साथ और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। 


ठिनठिनी पत्थर सरगुजा - Thinthini patthar sarguja

ठिनठिनी पत्थर सरगुजा का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक अनोखी जगह है। यहां पर आपको प्रकृति का एक अजूबा देखने के लिए मिलेगा। यहां पर एक बड़ी सी चट्टान है। इस चट्टान में आप दूसरे छोटे से पत्थर से चोट करेंगे, तो आपको यहां पर धातु के बजनों की धुन सुनाई देगी। मतलब आप इस चट्टान पर किसी अन्य छोटी चट्टान से मारेंगे, तो आपको लगेगा कि इससे धातु के बजने की आवाज आ रही है। यह एक विशेष प्रकार का पत्थर है और यह छत्तीसगढ़ में अंबिकापुर सरगुजा जिले में पाया जाता है और यहां पर आप आकर इस चीज का अनुभव कर सकते हैं, जो बहुत ही अचंभे में डालने वाली रहती है। 

ठिनठिनी पत्थर सरगुजा जिले में दारिमा एयरपोर्ट के पास स्थित है। यहां पर आप बाइक या कार से आराम से पहुंच सकते हैं। यहां पर आपको हनुमान जी का एक मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। 


घाघी जलप्रपात अंबिकापुर - Ghaghi Falls Ambikapur

घाघी जलप्रपात अंबिकापुर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात घने जंगलों के अंदर स्थित है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यहां पर चेक डैम बना हुआ है। जब यहां से पानी ओवरफ्लो होता है। तब यह जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यहां पर पानी चट्टानों के ऊपर से बहता है, जिसका दृश्य बहुत ही आकर्षक रहता है। 

घाघी जलप्रपात अंबिकापुर से मैनपाट जाने वाले सड़क के पास स्थित है। जलप्रपात में पहुंचने के लिए आपको जंगल की तरफ अंदर जाना पड़ता है। नवपाड़ा कालान के पास से आपको जंगल की तरफ मुड़ना पड़ता है और थोड़ी दूर कच्चे रास्ते में चलते हुए आप इस जलप्रपात तक पहुंच जाते हैं। यह जलप्रपात खासतौर पर बरसात में बहुत ही सुंदर रहता है, क्योंकि जलप्रपात में पानी की बहुत ज्यादा मात्रा रहती है और चारों तरफ हरियाली भरा माहौल रहता है। आप यहां पर आ कर पिकनिक मना सकते हैं। 


पंचधारा जलप्रपात सरगुजा - Panchdhara Falls Surguja

पंचधारा जलप्रपात सरगुजा का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात घने जंगलों के अंदर स्थित है। यह जलप्रपात बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। यहां पर ऊंची ऊंची पहाड़ियों से पानी नीचे कुंड में गिरता है, जो बहुत सुंदर लगता है। यह जलप्रपात अंबिकापुर के पास नान दामाली गांव के पास स्थित है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


सीताबेंगरा गुफा एवं जोगीमारा गुफा सरगुजा - Sitabengra Cave and Jogimara Cave Surguja

सीता बेंगरा गुफा एवं जोगीमारा गुफा सरगुजा का एक प्रमुख दर्शनीय स्थल है। यहां पर आपको प्राकृतिक गुफा देखने के लिए मिलती है। यह गुफाएं घने जंगलों के अंदर स्थित है। यह गुफाएं सरगुजा जिले में उदयपुर तहसील में रामगढ़ पहाड़ी पर स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर सीताबेंगरा गुफा और जोगीमारा गुफा है। यह गुफा पूरी तरह पत्थर से बनी हुई है। यह गुफाएं लघु आकार की हैं और इन गुफाओं में सीढ़ियों से पहुंचा जा सकता है। इनका भू विन्यास आयताकार है। सीताबेंगरा गुफा 14 मीटर लंबी, 5 मीटर चौड़ी और 1.8 मीटर ऊंची है। गुफा के सामने अर्धचंद्राकार पत्थर का बना हुआ बेंच का निर्माण किया गया है। गुफा के पूर्वी दीवाल पर अशोक कालीन ब्राह्मी लिपि से लिखा हुआ अभिलेख देखने के लिए मिलता है। 

जोगीमारा गुफा सीता बेंगरा गुफा से छोटी है। इस गुफा की लंबाई 3 मीटर, चौड़ाई 1.8 मीटर और ऊंचाई 1.8 मीटर है। इस गुफा के अंदर विभिन्न तरह के चित्र देखने के लिए मिलती है। इस गुफा में नृत्य समूह, फूलदार पौधे, मत्स्य और पशु समूह आदि के चित्र देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर तीसरी और दूसरी शताब्दी के ब्राह्मी लिपि के अभिलेख भी है। यहां पर और भी जगह मौजूद है, जो देखने लायक हैं। यहां पर आपको श्री राम वन गमन मार्ग देखने के लिए मिल जाता है।  यहां पर राम जानकी मंदिर है। यहां पर एशिया की पहली नाट्यशाला है। यहां पर महाकवि कालिदास जी का रचना स्थल है। यह सभी जगह बहुत सुंदर है। यह सरगुजा में घूमने लायक एक मुख्य स्थल है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


शिव मंदिर महेशपुर सरगुजा - Shiv Mandir Maheshpur Surguja

शिव मंदिर सरगुजा में स्थित एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर सरगुजा जिला में महेशपुर गांव के पास रिहंद नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर रिहंद नदी का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। साथ ही साथ आपको शिव जी का प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है। मगर यहां पर शिव भगवान जी के मंदिर के अब भग्नावशेष ही आपको देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको पत्थरों से बना प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर की दीवारों में सुंदर मूर्ति कला देखने के लिए मिलती है। मंदिर के परिसर में चारों तरफ बहुत सारे मूर्तियों और मंदिरों के अवशेष देखने के लिए मिल जाते हैं। गर्भ ग्रह में शिवलिंग विराजमान हैं। आप यहां पर बरसात के समय आएंगे, तो आपको अच्छा लगेगा। 


संजय वन वाटिका अंबिकापुर - Sanjay Van Vatika Ambikapur

संजय वन वाटिका अंबिकापुर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। संजय वन वाटिका को संजय पार्क के नाम से भी जाना जाता है। यहां पार्क अंबिकापुर के वन क्षेत्र में स्थित है। यहां पर आपको हिरण और मोर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर सुबह के समय योगा किया जाता है। यहां पर टॉय ट्रेन है, जिसमें बच्चे लोग बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यहां चारों तरफ हरियाली है। यह झूले हैं, जिसमें सभी लोग इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर बहुत सारे पक्षियों को रखा गया है, जिन्हें आप देख सकते हैं। यहां पर बहुत सारे जानवरों के स्टेचू देखने के लिए मिल जाते हैं और यह बहुत से स्टेचू ग्रामीण वस्तुओं से  संबंधित है। यहां पर व्यायामशाला है। जहां पर आप कसरत भी कर सकते हैं। 

यहां वन औषधि संग्रहालय है, जहां पर आप को विभिन्न प्रकार की औषधि के बारे में जानकारी मिल जाती है। यहां पर तालाब भी है, जहां पर विभिन्न प्रकार की मछलियां देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर आप वन्य प्राणियों को गोद ले सकते हैं और उनका पालन पोषण भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको यहां पर मैनेजमेंट से बात करनी पड़ती है। यहां पर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


जिला पुरातत्व संग्रहालय अंबिकापुर - District Archaeological Museum Ambikapur

जिला पुरातत्व संग्रहालय सरगुजा जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको विभिन्न तरह की वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर अलग-अलग गैलरी में अलग-अलग वस्तुओं को संग्रह करके रखा गया है। यहां पर आपको मिनिएचर वस्तुओं का बहुत अच्छा संग्रह देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर मिट्टी से बनी हुई बहुत सारी वस्तुएं भी देखने के लिए मिलती हैं। यह संग्रहालय सरगुजा जिले में प्रतापपुर रोड में स्थित है। आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं, क्योंकि यह मुख्य सड़क पर स्थित है। 


मरीन ड्राइव पार्क अंबिकापुर - Marine Drive Park Ambikapur

मरीन ड्राइव पार्क सरगुजा का एक प्रमुख स्थल है। यह सरगुजा जिले के मुख्यालय अंबिकापुर के बीचो-बीच स्थित है। यहां पर आपको एक झील देखने के लिए मिलती है। झील के बीच में एक मंदिर बना हुआ है। मंदिर में जाने के लिए पुल बना हुआ है। यहां पर गार्डन भी बना हुआ है, जहां पर आप बैठ कर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर बहुत सारे सेल्फी प्वाइंट है, जहां से आप अपनी अच्छी तस्वीर खींच सकते हैं। यह अंबिकापुर में घूमने के लिए एक मुख्य जगह है। 


मां महामाया मंदिर अंबिकापुर - Maa Mahamaya Temple Ambikapur

मां महामाया मंदिर अंबिकापुर का एक प्रमुख मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर मा महामाया को समर्पित है। मां महामाया सभी भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करती है। इसलिए लोग यहां पर माता के दर्शन करने आते हैं और अपनी मनोकामना मांगने आते हैं। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर परिसर में बरगद का एक बड़ा सा पेड़ भी लगा हुआ है। मंदिर के गर्भ गृह में मां महामाया की बहुत ही भव्य मूर्ति देखने के लिए मिलती है, जो आभूषणों और फूल मालाओं से सजी हुई है। यहां पर आकर बहुत शांति मिलती है। नवरात्रि के समय यहां पर बहुत भीड़ रहती है। 


बांकी बांध अंबिकापुर - Banki Dam Ambikapur

बांकी बांध अंबिकापुर में स्थित एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय अंबिकापुर में खैरवार में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जलाशय चारों तरफ से पहाड़ियों और जंगलों से घिरा हुआ है। यहां पर बरसात के समय अच्छा लगता है। आप यहां पर आकर पिकनिक बना सकते हैं।


सेदम जलप्रपात अंबिकापुर - Sedam Falls Ambikapur

सेदम जलप्रपात अंबिकापुर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर झरना है। यह झरना अंबिकापुर से करीब 44 किलोमीटर की दूरी पर सीतापुर वन क्षेत्र में स्थित है। यह सेदम नाम के गांव में से थोड़ी दूरी पर स्थित है। यह झरना बहुत सुंदर है। यह झरना जंगल के बीच में स्थित है और बहुत ही शानदार लगता है। पहाड़ों के बीच से बहता हुआ पानी का दृश्य बहुत ही आकर्षक रहता है। यहां पर साल भर लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर वॉच टावर बना हुआ है, जहां से झरने का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। झरने में आप नहाने का भी मजा ले सकते हैं। यहां पर एक शिव मंदिर है।  शिवरात्रि के समय यहां पर मेला लगता है। आप बरसात के समय सेदम झरना घूमने के लिए आ सकते हैं। 


कुवरपुर डैम सरगुजा - Kuwarpur Dam Surguja

कुवरपुर बांध सरगुजा का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यह जलाशय मुख्य रूप से सिंचाई के उद्देश्य से बनाया हुआ है। यहां पर चारों तरफ हरियाली है। आप यहां पर बरसात के समय घूमने आएंगे, तो आपको बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलेगा। यहां पर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं और पिकनिक के लिए आ सकते हैं। यह बांध सरगुजा के लखनपुर तहसील में स्थित है। 


सरगुजा जिला का प्रमुख आकर्षण स्थल एवं पिकनिक स्थल - Major attractions and picnic spots of Surguja district


पिल्खा पहाड़ और झील अंबिकापुर
प्राचीन काली मंदिर लुचकी घाट अंबिकापुर
ऑक्सीजन पार्क अंबिकापुर
पुष्प वाटिका अंबिकापुर
बंकीपुर बांध अंबिकापुर
बड़ा दामाली अंबिकापुर


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का