Garam Pani Kund Mandla - गरम पानी कुंड मंडला

 Garam Pani Kund Mandla

Garam Pani Kund Mandla - गरम पानी कुंड मंडला
बरगी बांध का भराव क्षेत्र

गर्म पानी का कुंड मंडला शहर का प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर एक घूमने वाली जगह है। मंडला में गर्म पानी का कुंड स्थित है। गरम पानी के कुंड के बारे में कहा जाता है कि इस कुंड से सभी प्रकार के त्वचा रोग ठीक हो जाते हैं। यह पर कहा जाता है कि सभी प्रकार के कुष्ठ रोग ठीक हो जाते है।

लोग इस गर्म पानी के कुंड में स्नान करने के लिए दूर-दूर से आते हैं। मंडला में यह जगह एक दर्शनीय जगह है और इस जगह का बहुत महत्व है। यह जगह नर्मदा नदी के बैकबाॅटर के बीच में स्थित है। लोग इस जगह पर प्राकृतिक खूबसूरती भी देखने के लिए आते है। यह पर सरकार के द्वारा इस कुंड को दुबारा बनाया गया है। यह कुंड अब अच्छी तरह बन गया है। बहुत समय पहले यह कुंड बरिश के समय बाढ में डूब गया था। जिसके कारण सरकार ने इस का पुननिर्माण कराया था। 

                                          --------------xxxxxxxxxxxxx-----------------

गरम पानी कुंड कैसे जाये 

How to go to hot water tank


यह गर्म पानी का कुंड मध्यप्रदेश के मंडला जिले में स्थित है। यह मंडला जिले की मंडला जबलपुर मार्ग पर स्थित है। यह जगह मंडला से 13 किलोमीटर दूर है और हाईवे रोड से आपको इस जगह पर जाना पड़ता है। इस जगह आप अपने वाहन से जा सकते है या टैक्सी बुक करके यहां पर जा सकते है। 

                                          --------------xxxxxxxxxxxxx-----------------


माना जाता है कि यह पर सल्फर युक्त चटटानें है, जिससे कुंड पर स्थित पानी पर औषाधीय गुण आ जाते है। जिस पर लोग नहाते है और उनके रोग ठीक हो जाते है। यह घने जंगल के बीच में स्थित है और नर्मदा नदी का भराव क्षेत्र है। यह इलाका हरे भरे पेड़ों से घिरा हुआ है और साथ में नर्मदा नदी का किनारा बहुत ही मनमोहक दृश्य पैदा करता है। लोगों को इस जगह पर शांत वातावरण में आकर समय बिताना पसंद करते है। हम लोग इस जगह पर नहीं जा पाए थे, क्योंकि हम लोग रात को इस जगह पर पहुंचे थे, इसलिए हम लोग इस जगह पर नहीं जा पाए थे। यह पर सरकार के द्वारा पर्किग एवं बैठने के लिए अच्छी व्यवस्था की गई है। यहां पर महिलाएं के लिए कपड़े चेंज करने के लिए लोहे के चेंजिग रूम बने हुए है। आप यहां पर अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ घूमने जा सकते है। 

बिरला मंदिर जयपुर की यात्रा

बिरला मंदिर जयपुर

बिरला मंदिर जयपुर की यात्रा

बिरला मंदिर का खूबसूरत दृश्य 

बिरला मंदिर जयपुर शहर का एक दर्शनीय स्थल है। जयपुर का बिरला मंदिर सफेद संगमरमर से बना हुआ  है। यह मंदिर बहुत बड़ा है, जो देखने में बहुत ही आकर्षक लगता है। इस मंदिर को देखने के लिए बहुत सारे लोग दूर-दूर से आते हैं और यह पर आपको विदेश से आने वाले लोग भी देखने मिल जाएगें। 

यह मंदिर बहुत ही भव्य है और पूरी तरह से वाइट मार्बल से बना हुआ है और काफी बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस मंदिर में आपको श्री लक्ष्मी नारायण जी की मूर्ति देखने मिलेगी। इस मंदिर में फोटो खींचना मना है। मंदिर के बाहर जाकर आप फोटो खींच सकते हैं। यहां का जो वातावरण है, वह शांत है। वैसे शाम को यह पर बहुत सारे पर्यटक मंदिर की खूबसूरती निहारने आते है। 
बिरला मंदिर जयपुर की यात्रा

गार्डन में स्थित शंकर भगवान जी की मूर्ति 

बिरला मंदिर बहुत ही अच्छा है। यह पर आपको बहुत अच्छा लगेगा। इस मंदिर पर हम लोग ऑटो से आए थे। हम लोग इस मंदिर में शाम को आए थे। शाम को हम लोग 4 बजे करीब अपने होटल से इस मंदिर के लिए निकले थे और करीब आधे घंटे में इस मंदिर में पहुंच गए थे। इस मंदिर में बहुत बड़ा गार्डन है। गार्डन में एक मंदिर बना हुआ है। इस मंदिर में आपको शंकर जी की मूर्ति के दर्शन करने मिलते है। आप शंकर जी की मूर्ति के दर्शन कर सकते है और कुछ समय के लिए इस गार्डन में शंति से बैठ सकते है। शंकर जी की मूर्ति के पास जाने में मनाही है और दूर से ही मंदिर के दर्शन कर सकते हैं।

बिरला मंदिर जयपुर की यात्रा

बिरला मंदिर के सामने के द्वार का दृश्य 

बिरला मंदिर जयपुर की यात्रा

बिरला मंदिर का खूबसूरत दृश्य 

फिर हम लोग बिरला मंदिर की तरफ आगे बढ़ते हैं, तो आपको मंदिर से कुछ दूरी पर अपने जूते चप्पल उतारने पड़ते हैं। उसके बाद आप मंदिर में प्रवेश कर सकते हैं। मंदिर बाहर से जितना खूबसूरत है। उतना ही अंदर से मनोरम है। मंदिर में अंदर आपको भगवान के दर्शन करने मिलते है। मंदिर के अंदर और बाहर आपको खूबसूरत नक्काशी देखने मिलती है। मंदिर में लक्ष्मी और नारायण जी की मूर्ति है और काफी शांति रहती है। शाम को यहां पर बहुत सारे लोग आते हैं। आप मंदिर के बाहर आते है, तो आपको यह पर दो स्टैच्यू देखने मिलता है। यह स्टैच्यू बहुत ही खूबसूरत है। इनके आप पिक्चर क्लिक कर सकते हैं। मंदिर के सामने बहुत बड़ा आंगन है, जहां से आप रोड का व्यू देख सकते है। मंदिर के आंगन में आप अलग अलग पोज देकर फोटोशूट कर सकते है। वैस मंदिर का आंगन एक अच्छा व्यू पांइट है। यहां से आप मेन रोड चैराहा देख सकते है। जहां पर शाम को बहुत ज्यादा ट्रैफिक रहता है।

बिरला मंदिर में शाम के टाइम बहुत ज्यादा भीड़ रहती है, क्योकि शाम का मौसम ठंडा रहता है। शाम के समय यहां पर सूर्यास्त का व्यू भी बहुत शानदार रहता है। मंदिर में आपको हर प्रकार की सुविधा मिल जाती है। यहां पर पानी की व्यवस्था है। बाथरूम की भी व्यवस्था हैं। यह पर बैठकर अच्छा समय बिताया जा सकता हैं। यह फोटोग्राफी करने के लिए बहुत अच्छी जगह है। यहां पर बहुत अच्छी फोटोग्राफ आते हैं और मंदिर के नीचे बिरला म्यूजियम है। इस म्यूजियम में भी आप घूम सकते हैं।

बिरला मंदिर के बाहर आपको बहुत सारी शॉप देखने मिल जाएगी। आप वहां जाकर चार्ट फुलकी खा सकते हैं। मगर यहां पर थोडा महंगा रहता है। यह हमारी बिरला मंदिर जयपुर की यात्रा थी। 

आप लोगों को अगर ब्लॉक अच्छा लगा हो, तो ब्लॉक को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कीजिएगा।

अपना समय देने के लिए धन्यवाद


जल महल, जयपुर की यात्रा

जल महल जयपुर


जल महल, जयपुर की यात्रा


जल महल (Jal Mahalजैसा कि आपको नाम से समझ आ रहा होगा कि जल में बना महल 

जलमहल (Jal Mahal) जयपुर शहर में एक झील के बीच में बना है। यह जयपुर शहर की एक शानदार जगह है। यह एक ऐतिहासिक इमारत है। आप इस महल को दूर से रोड से देख सकते है। मगर इस महल में जाने की मनाही है। 

जलमहल (Jal Mahal) मान सागर झील (Man Sagar Lake) के बीच में बना हुआ है। जलमहल (Jal Mahal) लाल बलुआ पत्थर से बना हुआ है। इस महल में पाँच मंजिला है, जिसमें से चार मंजिल पानी में ही डूबे रहते है और उपर का एक ही तल दिखाई देता है। 

जल महल (Jal Mahal) जयपुर जिले की शान है और यह महल देखने में बहुत ही बढ़िया लगता है। इसका मुख्य आकर्षण है कि यह महल झील के बीच में है और इस महल में आप जा नहीं सकते हैं। यह आपका बैड लक है, कि आप इस जगह जा नहीं सकते हैं। आप इसको दूर से ही देख सकते हैं। ठंड के समय में यहां पर विदेशी पक्षी आते हैं, जो झील के चारों तरफ घूमते रहते है और रोड के पास में महल में बैठे हुए आपको देखने मिल जाते है। यह बहुत खूबसूरत लगते हैं। मानसागर झील (Man Sagar Lake) पहाडों से घिर हुई है। झील के एक तरफ बाउंड्री बनी है, बाउंड्री के बाजू से एक गलियारा गया है जहां पर आप खडे होकर इस जल महल (Jal Mahal) को निहार सकते है। यह पर आपको बहुत सारे खाने पीने की दुकान नजर आ जायेगी और गलियारे में शाम के समय बाजार भी भरता है। इस गलियारे से आप झील का मनोरम व्यू देख सकते है।

जल महल, जयपुर की यात्रा


हम लोग सुबह नाहरगढ़ किला देखने जा रहे थे। तब इस महल के हमें दर्शन हुए थे। हम लोग तब इस महल में नहीं रूके थे। सुबह के समय हम लोगों को विदेशी पक्षी भी देखने मिले थे। नाहरगढ़, जयगढ़ और आमेर किले को देखने के बाद शाम को हम लोग वापस लौटे। तो फिर हम लोगों ने जल महल (Jal Mahal) में कुछ समय बिताया। 

जल महल (Jal Mahal) को शाम के समय लाइटों से सजाया जाता है और यह दूर से देखने में बहुत ज्यादा अदुभ्त लगता है। झील की बाउंड्री के बाजू में जो गलियारा बना हुआ है। वहां पर बहुत बड़ा मार्केट भरता है। शाम के टाइम तो आप मार्केट से बहुत सारे सामान ले सकते हैं। यहां पर आपको राजस्थानी जूतियां मिल जाती है। आपको यहां पर बारगेन करने की जरूरत रहती है। अगर आप कुछ लेते है, तो हम लोगों ने यहां पर कुछ नहीं लिया था। अगर आप बारगेन करते हैं, तो आपको वह सामान सस्ते में मिल सकता है। यहां पर आपको बहुत सारे लोग राजस्थानी ड्रेस किराए पर उपलब्ध कराते है, जिसे पहन कर आप फोटो खिचा सकते है। राजस्थानी ड्रेस के अलावा आपको पूरी ज्वेलरी उपलब्ध कराई जाती है। इन राजस्थानी ड्रेस का किराया 150 से 200 रू तक रहता है। 

मेरे हिसाब से झील में समय बिताने का सबसे अच्छा समय शाम का रहता है, क्योंकि यहां पर शाम को झील रोशनी से जगमगाता हुआ महल बहुत मनोरम लगता है।  आप झील के सामने बैठकर इस खूबसूरत नजारे को इंजॉय कर सकते हैं। आप यहां पर ठंड में दिन के समय भी झील के सामने बैठकर झील को देख सकते हैं। यहां पर आपको अच्छा लगेगा और आपका अच्छा समय बीतेगा।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो, तो आप इस लेख को शेयर जरूर कीजिएगा। अगर आपको जयपुर सिटी घूमने का अनुभव है, तो आप अपने अनुभव हम से शेयर करें। 

अपना अपने समय दिया इसके लिए धन्यवाद



जयगढ़ किले (Jaigarh fort) की यात्रा

जयगढ़ किला


जयगढ़ किले (Jaigarh fort) की यात्रा

जयगढ़ किले से जयपुर सिटी का व्यू  

जयगढ़ का किला जयपुर का एक दर्शनीय स्थल है। वैसे जयपुर शहर में बहुत सारे प्राचीन किलें हैं और इन किलों को देखने के लिए पूरी दुनिया से लोग आते हैं। इन सभी किलो में जयगढ़ का किला बहुत फैमस है। 

जयगढ़ का किला यहां पर रखी तोप के कारण प्रसिद्ध है। इस तोप के बारे में कहा जाता है, कि यह दुनिया की सबसे बड़ी तोप है। जयगढ़ का किला एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। इस किलें तक पहुॅचने के लिए हम लोगों ने गाडी बुक किया था। पहले हम लोग नाहरगढ़ किले घूमे थे। उसके बाद हम लोग ने जयगढ़ के किले गए थे। नाहरगढ़ किला और जयगढ़ का किला दोनों एक ही रोड में हैं। पहले हम लोगों ने  नाहरगढ़ किला घूमा। उसके बाद जयगढ़ किला गए थे। जयगढ़ किला नाहरगढ़ किला से करीब 5 किलोमीटर की दूरी पर होगा।

जयगढ़ का पूरा किला हम लोगों ने अपनी गाडी से घूमा था। आप चाहे तो पैदल भी घूम सकते हैं। आप जयगढ़ किला पहुॅचते है, तो सबसे पहले आपको किलें में प्रवेश के लिए टिकट लेना पडता है। प्रवेश द्वार पर टिकट मिलता है। यहां पर आपको टिकट लेनी पड़ती है। टिकट के लिए बहुत लंबी लाइन लगती है। यहां पर दो टिकट घर है, जहां पर आप को टिकट मिलती है। किले में प्रवेश करने के लिए गाड़ी का अलग चार्ज होता है। इसके बाद आप किलें में गाड़ी लेकर प्रवेश कर सकते हैं। हम लोग गाडी से ही तोप के पास तक गए थे। हमारे गाडी चालाक ने रोड पर गाडी रूक दिया था। उसके बाद हम लोग गाड़ी से उतरकर तोप को देखने के लिए पैदल गए थे। यहां पर आपको तोप देखने जाने वाले रास्तें में एक साइड में एक कुंड देखने मिलता है। हम लोग तोप के पास पहुॅच गए। 

जयगढ़ किले (Jaigarh fort) की यात्रा

जयगढ़ किले में रखी तोप  

जयगढ़ किले (Jaigarh fort) की यात्रा

 जयगढ़ किले में रखी तोप का दृश्य


Jaivana cannon
जयावाण तोप


जयगढ़ किलें में रखी तोप दुनिया की सबसे बडी तोप है। इस तोप को जयावाण तोप के नाम से भी जाना जाता है।  तोप एक शेड के नीचे रखी गई है। इस तोप के बारे में कहा जाता है कि प्राचीन समय में एक ही बार इस तोप को चलाया गया था और जो भी इस तोप को चलाता था। वहां तोप के बाजू में बने कुंड में छलाग लगा देता था, क्योंकि यह तोप इतनी शक्ति शाली थी और इस तोप की आवाज बहुत जोरदार थी। जिससे जो भी इस तोप को चलाता उसकी मृत्यु हो जाती। इसलिए वह इस कुंड में तोप को चलाने के बाद कूद जाया करता थे। इस तोप का निर्माण 1720 में हुआ था। इस तोप से निकला बारूद 35 किलोमीटर की दूरी तय कर सकता था। तोप के बैरल की लंबाई 6.15 मीटर है। इस तोप का वजन 50 टन है। यह जानकारी हम लोग का हमारे ड्राइवर ने दिया था। आप यहां पर गाइड करना चाहते है, तो कर सकते हैं। गाइड आपको पूरी तरह से इस जगह की जानकारी देगा और आपका ड्राइवर सीमित जानकारी दे पायेगा। 

जयगढ़ किले (Jaigarh fort) की यात्रा

जयगढ़ किले का पूरा व्यू  

आप महल की चोटी से पूरा जयपुर शहर का नजारा देख सकते है। तोप के पास ही में व्यू पांइट है, जहां पर खडे होकर व्यू का मजा ले सकते है। यहां से आपको जल महल देखने मिलता है। आप यहां से आगे बढते है, तो आपको ऊंट देखने मिल जाते है। जिस पर आप सवारी कर सकते है। हम लोग जब गए थे, तब यहां पर हमको हाथी देखने नहीं मिले थे। आप यहां पर हाथी की सवारी भी कर सकते है। यहां पर रेस्टोरेंट भी है, जहां पर आप खाना पीना खा सकते हैं। कुछ देर रेस्ट कर सकते हैं। इसके अलावा यहां पर हम लोगों को बहुत ढेर सारे बंदर भी देखने मिले थे, जो आपसे आपका सामान छीन सकते है, तो आप यहां पर अपना सामान संभल कर रखें। 

जयगढ़ किले को अगर आप पैदल घूमते है, तो आपको इस महल के बारे में अच्छे जानकारी मिल जाएगी और यहां की पूरी जगह आप घूम सकते है। अगर आप यहां पर कार से घूमते हैं, तो आप यहां पर आधे घंटे में घूम सकते हैं और आप पैदल घूमेंगे तो आपका करीब एक से डेढ़ घंटा लग सकता है। आप किलें के बाहर आते है, तो आपको यहां पर बहुत सारी छोटे छोटे सामान बेचने वाले देखने मिल जाती है। यहां पर आपको राजस्थानी पगड़ी देखने मिलती हैं, जो यहां पर बहुत फेमस है। आप चाहे तो याद की तरह इन पगड़ी को लेकर जा सकते हैं।

यह ब्लॉग यही तक था, अगर आपको अच्छा लगा हो, तो आप इसे शेयर जरूर कीजिएगा। अपने दोस्तों के साथ, और अगर आपका जयपुर जाने का एक्सपीरियंस हो, तो आप हमें कमेंट करके जरूर बताइए क्या कि आप की जयपुर की यात्रा कैसी रही।