सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

दुर्ग जिले के पर्यटन स्थल - Durg Tourist Places

दुर्ग (भिलाई) के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Durg / दुर्ग (भिलाई) जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह 


दुर्ग छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख जिला है। दुर्ग जिला एक मुख्य औद्योगिक शहर है। यहां पर भिलाई इस्पात संयंत्र स्थापित है। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 50 किलोमीटर दूर है। दुर्ग जिले में शिवनाथ नदी और खारून नदी बहती है। दुर्ग जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं दुर्ग जिले में घूमने के लिए कौन-कौन सी जगह है। 


दुर्ग में घूमने की जगह / भिलाई में घूमने की जगह
Durg me ghumne ki jagah / Bhilai me ghumne ki jagah


मैत्री बाग चिड़ियाघर दुर्ग - Maitri Bagh Zoo Durg 

मैत्री बाग चिड़ियाघर दुर्ग जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह छत्तीसगढ़ का सबसे पुराना और सबसे बड़ा चिड़ियाघर है। मैत्री बाग चिड़ियाघर भिलाई में स्थित है। यह भिलाई शहर का मुख्य स्थल है। यहां पर आपको बहुत सारे जंगली जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर देशी और विदेशी प्रजाति के जंगली जानवर रखे गए हैं। यहां पर आप जंगली जानवर को देखने के अलावा मिनी ट्रेन का भी मजा ले सकते हैं। यहां पर म्यूजिकल फाउंटेन हैं, जो संगीत की धुन पर नाचता है। यहां पर आप बोटिंग का मजा ले सकते हैं। यहां पर बड़ी झील है, जिसमें आप बोटिंग का मजा ले सकते हैं। आप यहां पर प्रगति मीनार पर भी जा सकते हैं। प्रगति मीनार एक बड़ी सी मीनार है, जिसमें चारों तरफ का सुंदर दृश्य आपको देखने के लिए मिल जाता है। यह चिड़ियाघर भिलाई स्टील प्लांट के द्वारा मैनेज किया जाता है। इस चिड़ियाघर की स्थापना भिलाई स्टील प्लांट के द्वारा ही की गई है।

मैत्री बाग चिड़ियाघर बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आपको बहुत सारे जंगली जानवर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आप सफेद बाघ, जंगली भालू, मोर, तेंदुआ, हिरण, बदक, विभिन्न प्रकार की चिड़िया, खरगोश, कछुए, पाइथन, मगरमच्छ, घड़ियाल, नीलगाय, कॉकटील, यहां पर और भी विभिन्न प्रकार के जानवर आपको देखने के लिए मिल जाते हैं। 

इस चिड़ियाघर में और भी बहुत सारी चीजें देखने लायक है। यहां पर बहुत सुंदर सुंदर कलाकृतियां देखने के लिए मिलती हैं, जो बहुत ही आकर्षक लगती हैं। मैत्री बाग में आप घूमने के लिए आते हैं, तो आपका प्रवेश शुल्क लगता है। यहां पर 20 रूपए एक व्यक्ति का लिया जाता है। अगर आप बोटिंग करने जाते हैं, तो बोटिंग का 10 रूपए लगता है। यहां पर बहुत सारे झूले हैं, जिनमें आप झूल सकते हैं। यह चिड़ियाघर सोमवार को बंद रहता है। यह भिलाई में घूमने लायक जगह है। 


शहीद उद्यान दुर्ग - Shaheed Udyan Durg 

शहीद उद्यान दुर्ग भिलाई जिले में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर उद्यान है। यह उद्यान मुख्य रूप से हमारे देश के लिए शहीद हुए वीर जवानों को समर्पित है। यहां पर आपको शहीद भगत सिंह की बहुत बड़ी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर 3D लेजर शो भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर बहुत सारे फव्वारे हैं और शाम के समय यहां पर लाइट जलती है, जिससे यहां पर अलग अनुभव महसूस होता है। 3D लेजर शो सोमवार से शनिवार 7:00 बजे शुरू होता है और रविवार को 6:00 से 8:00 बजे तक रहता है। यहां पर आप आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। पार्क के अंदर आपको फूड एरिया एवं चिल्ड्रन प्ले एरिया भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर दीवारों में बहुत सारी मूर्तियां बनाई गई है। यहां पर शाम के समय बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पार्क भिलाई क्षेत्र में स्थित है। यह भिलाई में घूमने वाली जगह है। 


सीसी मॉन्यूमेंट गार्डन दुर्ग - CC Monument Garden Durg

सीसी मॉन्यूमेंट गार्डन दुर्ग भिलाई का एक सुंदर गार्डन है। यह भिलाई क्षेत्र में स्थित है। यह एक सुंदर गार्डन है। यहां पर आपको एक सुंदर कलाकृति देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर बहुत सारे खाने पीने के ठेले लगे रहते हैं, जहां पर आप खाना पीना खा सकते हैं। 


बालाजी मंदिर भिलाई - Balaji Temple Bhilai

बालाजी मंदिर या वेंकटेश मंदिर के नाम से प्रसिद्ध यह मंदिर भिलाई में स्थित है। यह मंदिर विष्णु भगवान जी के अवतार वेंकटेश भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर में आपको वेंकटेश भगवान के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर का बाहरी प्रवेश द्वार बहुत ही सुंदर है और इसमें बहुत ही कलात्मक कार्य किया गया है। यह मंदिर तिरुमाला के वेंकटेश मंदिर के समान है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


श्री जगन्नाथ मंदिर भिलाई - Shree Jagannath Temple Bhilai

श्री जगन्नाथ मंदिर दुर्ग भिलाई जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर जगन्नाथ भगवान को समर्पित है। मंदिर में जगन्नाथ जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर हर साल रथ यात्रा निकाली जाती है। यह मंदिर उड़ीसा के जगन्नाथ पुरी मंदिर के समान ही बनाया गया है। यहां पर आपको शंकर जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर आकर अपना समय शांति से बिता सकते हैं। यह मंदिर भिलाई में सेक्टर नंबर 4 में स्थित है। 


शिर्डी साईं बाबा मंदिर भिलाई - Shirdi Sai Baba Mandir Bhilai

शिर्डी साईं बाबा मंदिर भिलाई शहर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर साईं बाबा को समर्पित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर में साईं बाबा की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के बाहर आपको फूल एवं प्रसाद की दुकान देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर आप आकर बहुत शांति से अपना समय बिता सकते हैं। यह मंदिर भिलाई में स्थित है। यह मंदिर भिलाई में सेक्टर नंबर 6 में स्थित है। 


जुबली पार्क भिलाई - Jubilee Park Bhilai 

जुबली पार्क दुर्ग भिलाई जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह पार्क भिलाई में स्थित है। यह पार्क बहुत सुंदर है और हरियाली से भरा हुआ है। यह पार्क भिलाई इस्पात संयंत्र के द्वारा स्थापित किया गया था और यह पार्क भिलाई इस्पात संयंत्र के 25 साल पूरे होने के उपलक्ष में बनाया गया था। यहां पर आपको फव्वारा देखने के लिए मिल जाता है। छोटा सा तालाब देखने के लिए मिल जाता है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


सुनीति उद्यान भिलाई - Suniti Park Bhilai

सुनीति उद्यान दुर्ग भिलाई शहर का एक पर्यटन स्थल है। यह एक बगीचा है। यह बगीचा बहुत सुंदर है। यहां पर आपको चारों तरफ बहुत सारे फूल देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी कलाकृतियां भी देखने के लिए मिलती है। यह उद्यान भिलाई में सेक्टर 8 में स्थित है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


बूढ़ेश्वर शिव मंदिर तथा चतुर्मुखी मंदिर - Budheshwar Shiva Temple and Chaturmukhi Temple

बूढ़ेश्वर शिव मंदिर एवं चतुर्मुखी विष्णु मंदिर दुर्ग जिले का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर दुर्ग जिले के धमधा गांव में स्थित है। यह मंदिर प्राचीन है। यह पूरा मंदिर पत्थरों से बना हुआ है। यहां पर शिव जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर गर्भ ग्रह और मंडप देखने के लिए मिलता है। गर्भ गृह में शिव भगवान जी की बहुत ही सुंदर शिवलिंग विराजमान है और नंदी भगवान भी विराजमान है। शिव मंदिर के पास में भी विष्णु भगवान जी का चतुर्मुखी मंदिर देखने के लिए मिलता है। 

चतुर्मुखी मंदिर भी सुंदर है और पूरा पत्थरों से बना हुआ है। यह मंदिर 14 और 15 वी शताब्दी में बनाया गया है। यह मंदिर दुर्ग बेमेतरा रोड पर 26 किलोमीटर की दूरी पर बड़े तालाब और चौगाड़िया तालाब के पास में स्थित है। दोनों मंदिर का मुख पश्चिम दिशा की ओर है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह दुर्ग जिले में घूमने वाली एक प्रमुख जगह है। 


धमधा का किला - Dhamdha Fort

धमधा का किला दुर्ग जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। धमधा छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख गढ़ रहा है और यह किला भी बहुत प्रसिद्ध है। यह एक प्राचीन किला है। यह किला बूढ़े तालाब के पास में स्थित है। यहां पर अब आपको किले का खंडहर भाग देखने के लिए मिलता है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। किले के आस पास बहुत सारे प्राचीन मंदिर हैं, जिन्हें आप घूम सकते हैं। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा।  यह दुर्ग के पास एक मुख्य पर्यटन स्थल है। 


श्री त्रिमूर्ति महामाया बुढा देव मंदिर - Sri Trimurti Mahamaya Budha Dev Temple

श्री त्रिमूर्ति महामाया बुढा देव मंदिर दुर्ग जिले में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर दुर्ग जिले में धमधा में स्थित है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इस मंदिर का निर्माण यहां के राजा के द्वारा किया गया था। इस मंदिर में आपको महाकाली, महासरस्वती और महालक्ष्मी जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर में प्राचीन गणेश जी की प्रतिमा के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं और हनुमान जी के प्राचीन प्रतिमा के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर धमधा में बूढ़े तालाब के पास में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। नवरात्रि के समय यहां पर बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। 


चतुर्भुजी मंदिर तितुरघाट दुर्ग - Chaturbhuji Temple Titurghat Fort

चतुर्भुजी मंदिर दुर्ग जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर शिवनाथ नदी के किनारे बना हुआ है। इस मंदिर में आपको विष्णु भगवान जी की बहुत प्राचीन प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको घाट भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर मेला भी भरता है। यहां पर प्रतिवर्ष 2 बार मेला लगता है। कार्तिक पूर्णिमा एवं माघ पूर्णिमा के समय यहां मेला लगता है। यहां पर आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह मंदिर दुर्ग जिले में तितुरघाट गांव में स्थित है। यह दुर्ग का एक प्रमुख पिकनिक स्पॉट है। 


वन चेतना केंद्र मनगट्टा दुर्ग - Van chetna kendra mangatta durg

वन चेतना केंद्र दुर्ग जिले के पास स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह जगह चारों तरफ से हरियाली और पहाड़ियों से घिरी हुई है। यहां पर आपको जंगली जानवर भी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको मोर, खरगोश, जंगली बिल्ली, पैंगोलिन, नीलगाय, छिपकली, तेंदुआ जैसे जंगली जानवर आपको देखने के लिए मिल जाएंगे। यहां पर आप सफारी का मजा ले सकते हैं। सफारी के लिए आप जीप से जा सकते हैं और उसका चार्ज अलग लिया जाता है। यह दुर्ग जिले से करीब 20 किलोमीटर दूर है। 

वन चेतना केंद्र में आपको बहुत सारे तालाब देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आप अपना समय शांति के साथ बिता सकते हैं। यहां पर बच्चों के लिए बाल वाटिका है, जहां पर बच्चे लोग काफी इंजॉय कर सकते हैं और इसमें तरह-तरह के झूले लगाए गए हैं, जो बच्चों को बहुत पसंद आएंगे। यहां पर बहुत सारी गतिविधियां भी की जा सकती है। यहां पर आपको ट्री हाउस देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही सुंदर लगते हैं। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जगह दुर्ग जिले के पास मनगट्टा में स्थित है। यह दुर्ग जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। 


विष्णु मंदिर दुर्ग - Vishnu Temple durg

विष्णु मंदिर दुर्ग जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। विष्णु जी का यह मंदिर अति प्राचीन है। इस मंदिर में विष्णु जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर का निर्माण 16वीं और 17वीं शताब्दी में हुआ है। यह मंदिर दुर्ग जिले के बानबरद नामक गांव में बना हुआ है। मंदिर के गर्भ ग्रह में भगवान विष्णु की प्रतिमा स्थापित है। इस मंदिर के पास ही में एक बावड़ी देखने के लिए मिलती है। इस बावड़ी में सीढ़ियां बनी हुई है। इस बावड़ी को पापमोचन कुंड के नाम से भी जाना जाता है। कहा जाता है, कि इसमें स्नान करने से गौ हत्या पाप से मुक्ति मिलती है। यह मंदिर रायपुर धमधा रोड पर अहिवारा से कुछ दूरी पर बानबरद नाम के गांव में स्थित है। आप यहां पर गाड़ी से पहुंच सकते हैं। यहां पर माघ माह की पूर्णिमा में मेला भरता है, जो बहुत ही भव्य होता है और इसमें बहुत दूर दूर से लोग आते हैं। यह दुर्ग जिले के में घूमने लायक जगह है। 


मां अंगार मोती मंदिर - Maa Angar Moti Temple

अंगार मोती माता मंदिर दुर्ग जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर दुर्ग जिले में खारुन नदी के किनारे तरीघाट गांव में स्थित है। इस मंदिर में बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ लगती है। यहां पर खारुन नदी का सुंदर दृश्य भी देख सकते हैं। यहां पर नवरात्रि के समय मेला लगता है। यहां पर मां के दर्शन करके बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। 


तरीघाट ऐतिहासिक धरोहर - Tarighat Historical Heritage

तरीघाट दुर्ग जिले के पास में स्थित एक ऐतिहासिक जगह है। यहां पर प्राचीन अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यह अवशेष दूसरी शताब्दी के हैं। यहां से बहुत सारी प्राचीन वस्तुएं भी प्राप्त की गई। यहां पर खुदाई की गई थी, जिससे इस जगह के बारे में पता चला। यह जगह खारुन नदी के किनारे स्थित है। यहां पर मां महामाया का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। 


श्री शिव मंदिर दुर्ग - Shri Shiv Mandir Durg

श्री शिव मंदिर दुर्ग जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर खारुन नदी के बीच में बना है। यह मंदिर 2 मंजिला है। मंदिर में आपको शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर राम दरबार भी है, जहां पर राम जी, सीता जी और लक्ष्मण जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर दुर्ग जिले में टोला घाट में स्थित है। यहां पर बरसात के समय आना बहुत अच्छा लगता है। यहां पर महाशिवरात्रि के समय मेला भी लगता है। 


दुर्ग-भिलाई जिला का पिकनिक स्थल एवं प्रमुख आकर्षण स्थल - Picnic places and major attractions of Durg-Bhilai district

सगनी घाट दुर्ग
पहाड़ीपाट मंदिर मनगट्टा दुर्ग
शिवनाथ एवं तांदुला नदी संगम स्थल 
बंधा तालाब दुर्ग
अक्कुस तालाब पार्क 
छत्तीसगढ़ ग्रंथालय
मां गायत्री मंदिर भिलाई 
यातायात पार्क भिलाई


धमतरी में घूमने वाली जगह

कांकेर में घूमने की जगह

जांजगीर-चांपा में घूमने की जगह

कवर्धा में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का