सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कांकेर जिले के पर्यटन स्थल - Kanker Tourist Places

कांकेर जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Kanker district / कांकेर के आसपास घूमने वाली जगह


कांकेर छत्तीसगढ़ का मुख्य जिला है। कांकेर जंगलों और घाटियों से घिरा हुआ है। कांकेर में महानदी बहती है। कांकेर पहले बस्तर जिले का हिस्सा था, लेकिन इसे 1998 में अलग कर, एक जिला बना दिया गया। कांकेर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 140 किलोमीटर दूर है। कांकेर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं, कांकेर में कौन-कौन सी जगह घूमने के लिए है। 


कांकेर में घूमने की जगह
Kanker me ghumne ki jagah


गढ़िया पहाड़ी कांकेर - Gadiya Pahad kanker

गढ़िया पहाड़ी कांकेर जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक ऊंची पहाड़ी है। इस पहाड़ी से आपको कांकेर जिले का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। चारों तरफ दूर दूर तक फैला कांकेर शहर, नदी, नाले आपको यहां से देखने के लिए मिल जाते हैं। आप गढ़िया पहाड़ी के ऊपरी सिरे तक कार या गाड़ी से पहुंच सकते हैं। यहां पर आपको मंदिर भी देखने के लिए मिलता है, जो प्राचीन है। 

गढ़िया पहाड़ी से आपको सूर्यास्त और सूर्योदय का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर आपको मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर के पास में तालाब बना हुआ है। यहां पर तालाब में पूरे साल पानी रहता है। यहां पानी सूखता नहीं है। यहां पर एक गुफा भी है, जिसे छुरी पगार गुफा कहते हैं। इस गुफा के ऊपरी सिरे में आपको छुरी के समान पत्थर देखने के लिए मिलते हैं। इसलिए छुरी पगार गुफा कहते हैं। यहां पर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। बरसात के समय यहां पर हरियाली रहती है। आप यहां पर आकर पूरे कांकेर शहर को देख सकते हैं। यह कांकेर में घूमने लायक जगह है। 


मुनी सुव्रत स्वामी जिनालय कांकेर - Muni Suvrat Swami Jinalaya Kanker

मुनी सुव्रत स्वामी जिनालय कांकेर शहर में स्थित एक सुंदर मंदिर है। यह एक जैन मंदिर है। यह मंदिर गढ़िया पहाड़ के पास में स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है और नक्काशीदार है। मंदिर के अंदर गर्भ गृह में काले कलर की मुनि सुव्रत की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


दीवान तालाब कांकेर - Diwan Talab Kanker

दीवान तालाब कांकेर शहर के बीचोबीच स्थित एक सुंदर जगह है। यह एक सुंदर तालाब है। तालाब के चारों तरफ आपको बहुत सारे जगह देखने के लिए मिलती है। यहां पर इस तालाब के एक तरफ आपको गार्डन देखने के लिए मिलता है। यह गार्डन बहुत सुंदर है और आप यहां पर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। इस तालाब के किनारे आपको शिव मंदिर और हनुमान जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। 


केशकाल घाटी कांकेर - Keshkal Valley Kanker

केशकाल घाटी कांकेर शहर में स्थित एक सुंदर जगह है। यह एक सुंदर घाटी है या कहा जाए, तो यह एक सुंदर रास्ता है। यह रास्ता कांकेर से कोंडागांव की तरफ जाता है। बरसात के समय इस घाटी का दृश्य बहुत ही गजब का रहता है। चारों तरफ हरियाली रहती है। इस घाटी में बहुत ही खतरनाक मोड़ हैं, जिनमें आपको गाड़ी संभाल कर चलाने की जरूरत रहती है, नहीं तो कभी भी आप का एक्सीडेंट हो सकता है। केशकाल घाटी बरसात के समय हरियाली और फूलों से भरी रहती है और छोटे-छोटे झरने कहीं से भी बहते हुए रहते हैं। केशकाल घाटी में व्यूप्वाइंट बने हुए हैं, जहां से आप इस घाटी का दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आपको मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर बहुत अच्छा महसूस करेंगे। यह कांकेर के पास देखने लायक जगह में से एक है। 


टाटामारी कांकेर - Tatamari Kanker

टाटामारी कांकेर शहर की एक सुंदर जगह है। टाटामारी एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। टाटामारी से आपको पहाड़ियों का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर हरी-भरी घाटियां देखने के लिए मिलती है। बरसात के समय यहां पर आना बहुत ही अच्छा रहता है। यहां पर गार्डन बना हुआ है। गार्डन में आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं और पहाड़ी के किनारे बैठने की व्यवस्था है, जहां से आप बैठकर घाटियां का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यह जगह कांकेर में केशकाल के पास में स्थित है। यहां पर आप गाड़ि या कार से आ सकते हैं। यहां पर प्रवेश के लिए टिकट लगता है। यहां पर वयस्क व्यक्ति के लिए 10 रूपए और बच्चों के लिए 5 रूपए लगता है। 

टाटामारी के पास में माता महालक्ष्मी शक्तिपीठ मंदिर स्थित है। आप यहां पर भी आकर घूम सकते हैं। यहां पर नवरात्रि के समय ज्योति कलश जलाया जाता है। यहां पर आपको शिव शंकर जी और माता पार्वती जी की अर्धनारीश्वर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 


प्राचीन मंदिर समूह कांकेर - Ancient Temple Group Kanker

प्राचीन मंदिर कांकेर में स्थित एक सुंदर जगह है। यहां पर आपको शिव और विष्णु जी के मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। प्राचीन मंदिर केशकाल से 3 किलोमीटर दूर पश्चिम में गढ़ धनोरा गांव के पास विद्यमान है। यहां पर ईट से निर्मित टूटे हुए अनेक मंदिरों के अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर 3 मंदिर समूह है - विष्णु मंदिर समूह, गोबरहीन मंदिर समूह एवं बंजारिन मंदिर समूह। विष्णु मंदिर समूह में विष्णु, शिव और नरसिंह के मंदिर सहित कुल 10 मंदिर है। बंजारिन मंदिर समूह में चार ध्वस्त मंदिर एवं आवासीय भवन के अवशेष दिखलाई पड़ते हैं। 

गोबरहीन समूह में एक विशाल ईटा निर्मित टीला है, जिसके ऊपर गर्भ गृह एवं मंडप हैं तथा गर्भ ग्रह में शिवलिंग प्रतिष्ठित है। यहां पर जो शिवलिंग विराजमान है। वह ऊंचे और चौड़ा है। आप यहां पर आ कर भगवान शिवलिंग के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर पांचवी और सातवीं शताब्दी में बनाए गए हैं। आप केशकाल आते हैं, तो इन मंदिरों में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 


मांझीनगढ़ कांकेर - Manjhingarh Kanker

मांझीनगढ़ एक सुंदर पहाड़ी है। यहां पर आकर आपको खूबसूरत झरने और पहाड़ियों का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर गहरी घाटी है, जो बहुत ही अच्छी लगती है। आप यहां पर बरसात के समय आएंगे, तो आपको बहुत अच्छा लगेगा, क्योंकि बरसात के समय यह पर चारों तरफ हरियाली रहती है और बरसात के समय यहां पर झरने भी बहते हैं। यहां पर वॉच टावर बने हुए हैं, जहां से आप दूर दूर तक सुंदर नजारे को देख सकते हैं। यह नेचर लवर लोगों के लिए एक बहुत ही अच्छी जगह है। यह जगह कांकेर जिले में खलारी गांव में स्थित है। 

मांझीनगढ़ में आपको मांझीनगढ़ माता का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर आप माता के दर्शन कर सकते हैं। यहां का जो प्राकृतिक वातावरण है। वह बहुत ही अच्छा है और आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। 


दुधवा बांध कांकेर - Dudhwa Dam Kanker

दुधवा बांध कांकेर के पास स्थित एक सुंदर घूमने की जगह है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय धमतरी जिले के अंतर्गत आता है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर चारों तरफ पहाड़ी है और जलाशय का दृश्य बहुत ही आकर्षक लगता है। यह दोस्तों के साथ घूमने के लिए बहुत अच्छी जगह है। यह जलाशय दुधवा नाम के गांव के पास स्थित है। यह जलाशय  1953 में बनना शुरू हुआ था और 1964 में बनकर तैयार हो गया था। यह जलाशय महानदी पर बना हुआ है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और यहां पर शाम के समय आप आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


मलाजकुंडूम जलप्रपात कांकेर - Malajkundum Falls Kanker

मलाजकुंडूम जलप्रपात कांकेर शहर का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यह जलप्रपात घने जंगलों के बीच में बड़ी-बड़ी चट्टानों के मध्य से बहता है। यहां पर आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आप अगर बरसात के समय आएंगे, तो आपको पानी की बहुत अधिक मात्रा देखने के लिए मिलेगी और आपको बहुत अच्छा लगेगा। आप यहां पर अपनी फैमिली मेंबर्स के साथ और अपने दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जलप्रपात दूध नदी पर बना हुआ है। यह जलप्रपात कांकेर जिले में मलाजकुंडम नाम के जगह पर स्थित है। यहां पर चारों तरफ जंगल है। यहां का प्राकृतिक वातावरण बहुत ही अच्छा है और सुकून देता है। यहां पर आप पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। आप बहुत अच्छा समय यहां पर बिता सकते हैं। 


चर्रे मर्रे जलप्रपात कांकेर - Charre MurrFalls Kanker

चर्रे मर्रे जलप्रपात कांकेर शहर का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यह जलप्रपात कांकेर में अंतागढ़ मे स्थित है। यह जलप्रपात जोगी धारा नदी पर बना हुआ है। जलप्रपात के चारों तरफ जंगल है और बरसात में यह हरियाली भरा रहता है। यहां पर आपको चट्टानों के मध्य से बहता हुआ सुंदर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यहां पर बहुत सारे छोटे छोटे जलप्रपात बनते हैं, जो बहुत सुंदर लगते हैं। यहां पर वॉच टावर भी बना हुआ है, जहां से आपको चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। झरने में नीचे तरफ जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। यहां पर आकर आप पिकनिक बना सकते हैं और नहाने का लुफ्त उठा सकते हैं। मगर भारी बारिश हो रही हो, तो आप झरने में जाने की कोशिश ना करें, क्योंकि यहां पर कोई भी दुर्घटना हो सकती है। यहां का प्राकृतिक वातावरण बहुत अच्छा है और यहां पर आकर शांति मिलती है। 


खंडी घाटी कांकेर - Khandi Ghati Kanker

खंडी घाटी कांकेर जिले में स्थित एक सुंदर स्थल है। यहां पर आपको प्राकृतिक सुंदरता देखने के लिए मिलती है। यहां पर एक नदी बहती है। नदी के दोनों तरफ सुंदर चट्टानें हैं, जिनका दृश्य बहुत ही आकर्षक रहता है। यहां पर आपको मंदिर भी देखने के लिए मिलता है, जो शंकर जी को समर्पित है। इस मंदिर को खंडेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहां पर बहुत सारे लोग पिकनिक मनाने के लिए आते हैं, क्योंकि यह जगह प्राकृतिक रूप से बहुत सुंदर है। यहां पर आप आकर बहुत अच्छा समय लगता हैं और नदी का किनारा बहुत अच्छा है। यह जगह कांकेर में दुर्गुकोंदल तहसील में स्थित है। 


कांकेर जिले के आकर्षण स्थल एवं पिकनिक स्थल - Attractions and Picnic Places of Kanker District

पहाड़ीवाली बंजारिन माता कांकेर
डोमाहर्रा जलाशय कांकेर


जांजगीर-चांपा के दर्शनीय स्थल

कवर्धा के दर्शनीय स्थल

बस्तर के दर्शनीय स्थल

कोरबा दर्शनीय स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।