Cultural activity in MP लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
Cultural activity in MP लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

कार्तिक पूर्णिमा का मेला - Kartik Purnima Fair

कार्तिक पूर्णिमा का मेला या भेड़ाघाट का मेला
Kartik Purnima fair or Bhedaghat fair


कार्तिक पूर्णिमा का मेला पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। कार्तिक पूर्णिमा को भारत की अलग-अलग जगहों में अलग-अलग तरह से मनाया जाता है। हम जहां रहते हैं। वहां पर कार्तिक पूर्णिमा के दिन लोग पवित्र नदियों के किनारे जाते है और वहां पर लोग जाकर नहाते हैं और भगवान की पूजा करते हैं। कार्तिक पूर्णिमा साल में एक बार पड़ती है। जैसा कि आपको पता है कि हर महीने में एक अमावस्या और पूर्णिमा पड़ती है। हर पूर्णिमा में लोग उपवास रहते हैं और इसमें से 1 दिन उपवास वाली पूर्णिमा पड़ती है और दूसरे दिन स्नान वाली पूर्णिमा पड़ती है। उसी प्रकार लोग कार्तिक पूर्णिमा के दिन नर्मदा नदी में स्नान करते हैं और उपवास भी रहते हैं। कार्तिक पूर्णिमा के दिन पवित्र नदियों के किनारे बहुत बड़ा मेला लगता है, जिसमें बहुत सारे लोग सम्मिलित होते हैं। यहां पर बहुत सारी दुकान होती है और लोग यहां पर आकर बहुत ज्यादा मजा करते हैं।


कार्तिक पूर्णिमा के दिन भेड़ाघाट में बहुत बड़ा मेला लगता है। इस साल 2020 में भेड़ाघाट में मेला 1 दिसंबर को लगा था। मगर 1 दिसंबर को मेला नहीं लगता है। मेला कार्तिक पूर्णिमा  के दिन रहता है। आप यहां पर अगर कैलेंडर की डेट फिक्स कर आएंगे, तो यहां पर आपको मेला देखने नहीं मिलेगा। 2020 में जैसा कि आपको पता है कोविड-19 पूरी दुनिया में फैला हुआ है, तो सार्वजनिक जगहों में जाना मना है। मगर लोग यहां पर अपनी श्रद्धा और भक्ति के अनुसार नर्मदा जी में स्नान करने और उनकी पूजा करने के लिए आए हैं। मगर लोगों की भीड़ इतनी ज्यादा नहीं थी, जितनी हर साल होती है और ना ही इतनी दुकानें लगी थी। आप यहां पर आकर भेड़ाघाट का बहुत खूबसूरत नजारा देख सकते हैं। यहां बहुत अच्छा लगा। यहां पर ज्यादा भीड़ नहीं थी, तो आप अच्छे से घूम सकते थे, अच्छे से बैठ सकते थे। शॉपिंग कर सकते थे। दुकानें भी बहुत ज्यादा नहीं थी। आपको यहां आकर बहुत अच्छा लगेगा। 


कार्तिक पूर्णिमा के दिन यहां पर नर्मदा जी में संगमरमर की वादियों के बीच आप बोट राइडिंग का मजा ले सकते हैं।  भेड़ाघाट में पंचवटी के पास में जो घाट बना है। वहां से आप बोट राइड के लिए टिकिट ले सकते हैं। आपको बहुत मजा आएगा और यहां पर कार्तिक पूर्णिमा के दिन रात में भी बोट राइड का परमिशन रहता हैए तो आप यहां पर रात में भी बोट राइड का आनंद ले सकते हैं। 


धुआंधार जलप्रपात के पास में एक छोटा सा होटल है। होटल से आप चाय, कॉफी या कुछ भी खाने का सामान ऑर्डर कर सकते हैं। भेड़ाघाट में मेले के समय यह पर बहुत भीड़ रहती है। इतनी भीड़ थी, कि पैर रखने तक की जगह नहीं रहती है। मगर इस समय कोविड-19 के समय जब हम लोग यहां पर आए हैं। तब यहां पर ज्यादा भीड़ नहीं थी। आप आराम से आकर धुआंधार जलप्रपात का दृश्य देख सकते थे, फोटो ले सकते थे और आपको बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर आकर बहुत सारे लोग आपको देखने के लिए मिलते हैं, जो पैसे के लिए धुआंधार जलप्रपात में बहती हुई नर्मदा नदी की धाराओं में छलांग लगाते हैं,  यह एक जानलेवा काम है। मगर बहुत सारे लोग पैसे के लिए यह काम करते हैं। इस तरह नर्मदा नदी में छलांग लगाना प्रतिबंधित है। मगर लोग पैसे के लिए यह करते हैं। हम लोगों को यहां पर बहुत अच्छा लगा। उसके बाद धुआंधार का दृश्य देखने के बाद हम लोग थोड़ी दूर आगे गए और वहां पर संगमरमर की चट्टानों के ऊपर नर्मदा नदी के किनारे हम लोग कुछ टाइम बैठे रहे। यहां पर बहुत सारे लोग  तुलसी जी और भगवान शिव जी की पूजा कर रहे थे। बहुत सारे लोग नहाने का मजा ले रहे थे और बहुत सारे लोग फोटो खींचने का मजा ले रहे थे। हम लोगों का टाइम बहुत अच्छा बीता और हम लोगों ने यहां के बाजार में भी शॉपिंग करें। यहां पर बहुत सारे लोकल लोग आपको देखने के लिए मिलते हैं, जो आपको  ताजी ककड़ी और उबली हुई बेर बेचते है। तो आप उसका भी यहां पर आकर आनंद ले सकते हैं। कार्तिक पूर्णिमा के मेले में आकर हम लोग को बहुत अच्छा लगा और आप लोग भी यहां पर आ सकते हैं। 


दलदली माता मंदिर नैनपुर, मंडला,

सतधारा मेला सिहोरा जबलपुर

सहस्त्रधारा जलप्रपात मंडला

रूपनाथ धाम कटनी


जैसलमेर कैंप का अनुभव - Jaisalmer safari camp | Jaisalmer sand dunes camp booking

जैसलमेर रेगिस्तान कैंप - Jaisalmer camp booking


जैसलमेर कैंप का अनुभव - Jaisalmer safari camp | Jaisalmer sand dunes camp booking



जैसलमेर भारत में स्थित एक जिला है और यह जिला रेगिस्तान के लिए प्रसिद्ध है। जैसलमेर भारत देश के राजस्थान राज्य में स्थित है।  रेगिस्तान जैसलमेर के बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है और इस रेगिस्तान को देखने के लिए हर साल लाखों की तादाद में लोग जैसलमेर में घूमने के लिए आते हैं। आप जैसलमेर में ट्रेन के द्वारा और प्लेन के द्वारा पहुंच सकते हैं। हम लोग जैसलमेर ठंड के समय पर गए थे। ठंड के समय हम लोग जनवरी के महीने में गए थे। हम लोग यहां पर ट्रेन से पहुंचे थे। यहां पर हम लोग सुबह 5:00 बजे पहुंच गए थे। 


हम लोग जैसलमेर में रेगिस्तान में कैंपिंग करने का मजा लेने के लिए गए थे और हमारे यहां का अनुभव बहुत ही जबरदस्त रहा है। हम लोगों को बहुत मजा आया। हम लोगों ने कैंप की बुकिंग ऑनलाइन किया था। आपको यहां पर कैंपिंग के जो प्राइस रहते हैं। वह सारे अलग-अलग रहते हैं और सारी अलग-अलग फैसिलिटी रहती है। आपको जैसी फैसिलिटी चाहिए। आप उस तरह का प्राइस देकर बुकिंग कर सकते हैं। हम लोगों को जो फैसिलिटी मिली। उसमें हमारा कैंप में रहने का, हमारे खाने का और ऊंट की हमारी सवारी का, और जो यहां पर शाम के समय कल्चरल प्रोग्राम होते हैं। वह सब शामिल था और कल्चरल प्रोग्राम में भी आपको नाश्ता और चाय दी जाती है। यह सब चीजें शामिल थी। जैसलमेर तक हम लोग ट्रेन से पहुंचे थे। उसके बाद हम लोग कैंप वाले को संपर्क किए। उन्होंने हमारे लिए गाड़ी का प्रबंध किया। कैंप तक जाने के लिए। जैसलमेर शहर से कैंप की दूरी करीब 25 से 30 किलोमीटर होगी और रास्ते में आपको बहुत खूबसूरत नजारे देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको बहुत सारी पवनचक्की है, देखने के लिए मिलती है। उसके बाद हम लोग कैंप में पहुंचे और कैंप बहुत खूबसूरत था। यहां पर एक लाइन से सफेद कपड़े के तंबू बने हुए थे, जो बहुत खूबसूरत लग रहे थे। जैसा आप फिल्मों में देखते हैं, उसी तरह का फील आ रहा था। यहां पर हम लोग को जो तंबू देखने के लिए मिले थे। वह रेत में ही बने थे। रेत में मंडप बनाया गया था और मंडप के ऊपर तंबू बनाए गए थे। 

तंबू के अंदर सारी व्यवस्थाएं उपलब्ध थी। यहां पर लेट्रिन बाथरूम तंबू से अटैच था। तंबू के अंदर बेड था और कुर्सियां थी। मिरर था। हम लोग तंबू में जाकर फ्रेश हुए। उसके बाद हमारा जो भी प्रोग्राम था। वह शाम का था। शाम को 4:00 बजे करीब हम लोगों ने कैमल सफारी का मजा लिया। उसके बाद हम लोगों ने जीप सफारी का मजा लिया और यह दोनों सफारी बहुत ही मजेदार थी। हम लोगों ने जीप की सवारी ऑनलाइन बुक नहीं किया था। अगर आपको ऑनलाइन जीप की सवारी बुक करने का ऑप्शन मिलता है, तो आप जरूर कीजिएगा। क्योंकि जीप की सवारी करने में बहुत मजा आता है। हम लोगों को यहां पहुंचकर जीप की सवारी बुकिंग महंगी पड़ गए थे। आपको ऑनलाइन सस्ता ऑप्शन मिलता है, तो आप जरूर बुक कर लीजिएगा। यहां पर हम लोग ने सनसेट होते भी देखा, जो अविस्मरणीय था। 


जैसलमेर कैंप का अनुभव - Jaisalmer safari camp | Jaisalmer sand dunes camp booking


हम लोग यह सारी एक्टिविटी करके अपने कैंप में वापस आए और कैंप में हमारा वेलकम किया गया। उसके बाद हम लोग कैंप का जो सेंटर पॉइंट था। वहां पर बैठने की व्यवस्था थी और वहीं पर कल्चरल प्रोग्राम हुआ। यहां पर कल्चर प्रोग्राम में राजस्थानी भाषा में गाने गाए गए और डांस भी हुआ जो बहुत ही  मजेदार लगा और यहां पर डीजे भी बजाया गया, जिसमें हम लोगों ने बहुत डांस किया। हम लोगो को बहुत मजा आया और उसके बाद हम लोग ने यहां पर खाना खाया। खाना बहुत अच्छा था और राजस्थान का फेमस दाल बाटी भी यहां पर बनाया गया था, जिसका स्वाद बहुत अच्छा था। उसके बाद हम लोग यहां पर सोने चले गए। रात के समय यहां पर हवाएं चलती हैं, जो बहुत ही ठंडी होती हैं। मगर हमारा कैंप पूरी तरह से गर्म रहा। हमें यहां पर ठंडी नहीं लगी। सुबह हमारा वापस जैसलमेर आने का प्लान था। सुबह हमने यहां पर नाश्ता किया। उसके बाद हम लोग जैसलमेर आने के लिए हमारी गाड़ी आ गई थी और गाड़ी से हम लोग जैसलमेर आ गए। यहां पर हमारा कैंपिंग का अनुभव बहुत ही बढ़िया रहा है और हम दोबारा भी यहां पर जाना चाहेंगे। 


जैसलमेर का किला

कुलधरा गांव, जैसलमेर

नाहरगढ़ किला जयपुर

नाहरगढ़ का किला जयपुर