सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Ghat लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बांद्राभान होशंगाबाद - Bandrabhan Hoshangabad

बांद्राभान घाट होशंगाबाद  या  बांद्राभान - तवा और नर्मदा नदी का संगम स्थल -  Bandrabhan Ghat Hoshangabad or Bandrabhan - the confluence of Tawa and Narmada river बांद्राभान होशंगाबाद शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यहां पर मध्य प्रदेश की दो प्रमुख नदियों का संगम हुआ है। यहां पर नर्मदा नदी और तवा नदी का संगम हुआ है। यह संगम स्थल बहुत ही सुंदर है। यह संगम स्थल बहुत विशाल क्षेत्र में फैला हुआ है। संगम स्थल के दूसरी तरफ घाट बना हुआ है और मंदिर बना हुआ है। बांद्राभान में दो पवित्र नदियों का संगम हुआ है। इसलिए यहां पर तीज त्योहारों के समय बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत ज्यादा लोग पवित्र नदियों में स्नान करने के लिए आते हैं। यहां पर मकर संक्रांति के समय और कार्तिक पूर्णिमा के समय बहुत सारे लोग आते हैं। यह जगह बहुत पवित्र है। इसके अलावा यहां का प्राकृतिक दृश्य भी देखने के लिए मिलता है।  हम लोग होशंगाबाद शहर के आदमगढ़ पहाड़ी घूमने के बाद बांद्राभान घूमने के लिए गए थे। बांद्राभान होशंगाबाद शहर से करीब 7 किलोमीटर दूर है। यहां पर जाने के लिए पक्की सड़क है और हम लोग यहां पर अपनी स्कूटी से गए

होशंगाबाद की प्रसिद्ध घाट - Narmada Ghat Hoshangabad

नर्मदा घाट होशंगाबाद मध्य प्रदेश -  Narmada Ghat Hoshangabad Madhya Pradesh होशंगाबाद शहर नर्मदा नदी के किनारे बसा हुआ है। होशंगाबाद शहर को नर्मदापुरम के नाम से जाना जाता है। नर्मदापुरम होशंगाबाद का प्राचीन नाम है। होशंगाबाद शहर में नर्मदा नदी बहती है और नर्मदा नदी के किनारे बहुत सारे घाट बनते हैं।  चलिए जानते हैं, नर्मदा नदी के घाटों के बारे में सेठानी घाट होशंगाबाद -  Sethani Ghat Hoshangabad सेठानी घाट होशंगाबाद शहर का सबसे प्रमुख घाट है। यह घाट बहुत प्रसिद्ध है। यह घाट सभी घाटों में सबसे बड़ा है। यह घाट बहुत सुंदर है। सेठानी घाट के आस पास बहुत सारे प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। घाट में नर्मदा जी का मंदिर भी बना हुआ है। सेठानी घाट में नहाने का मजा लिया जा सकता है। यहां पर महिलाएं भी नहा सकते हैं। यहां पर शाम के समय बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर आकर बहुत एंजॉय किया जा सकता है। सेठानी घाट में नर्मदा जी का मंदिर, शंकर जी का मंदिर, हनुमान जी का मंदिर, श्री राधे कृष्ण जी का मंदिर और प्रसिद्ध श्री गायत्री शक्तिपीठ मंदिर स्थित है। यह सभी मंदिर आप सेठानी घाट मे

होशंगाबाद का फेमस सेठानी घाट - Sethani Ghat Hoshangabad

सेठानी घाट होशंगाबाद मध्य प्रदेश -  Sethani Ghat Hoshangabad Madhya Pradesh सेठानी घाट होशंगाबाद शहर का एक प्रसिद्ध घाट है। सेठानी घाट नर्मदा नदी के किनारे बना हुआ है। नर्मदा नदी होशंगाबाद शहर में बहती है और होशंगाबाद शहर को नर्मदापुरम के नाम से भी जाना जाता है। सेठानी घाट प्राचीन घाट है और यह घाट बहुत बड़ा है। यह घाट भारत में स्थित सभी घाटों में से बहुत बड़ा है। यहां पर शाम के समय बहुत सारे लोग अपना समय बिताने के लिए आते हैं। सेठानी घाट में नर्मदा जी का मंदिर बना हुआ है। हर शाम को यहां पर आरती होती है। सेठानी घाट में बहुत सारे फिल्म, कार्यक्रमों की शूटिंग भी हो चुकी है। यह घाट बहुत सुंदर है और इसे बहुत अच्छी तरीके से साफ सुथरा रखा गया है।  सेठानी घाट में हम लोग शाम के समय घूमने गए थे, क्योंकि  होशंगाबाद शहर में आते-आते हम लोगों को शाम हो गई थी। हम लोग सेठानी घाट अपनी गाड़ी से गए थे। सेठानी घाट जाने वाली सड़क में हम लोगों को खाने पीने की दुकानें देखने के लिए मिली। मगर हम लोगों ने पहले मां नर्मदा जी के दर्शन किए। उसके बाद ही हम लोग ने सोचा, कि खाना-पीना खाएंगे। तो हम लोग सीधे

बेतवा नदी का घाट विदिशा - Betwa River Ghat Vidisha

बेतवा नदी  और घाट  विदिशा -  Betwa River and Ghats Vidisha मध्य प्रदेश का विदिशा शहर बहुत ही प्राचीन है। इस  विदिशा  में घूमने के लिए प्राचीन और धार्मिक जगह मौजूद है। विदिशा शहर बेतवा नदी के किनारे स्थित है। बेतवा नदी के किनारे बहुत सारे धार्मिक स्थल मौजूद है। विदिशा शहर में बेतवा नदी के किनारे बहुत सारे घाट बना है। चलिए जानते है इन घाट के बारे में  बेतवा नदी के प्रमुख घाट -  Major Ghats of Betwa River राम घाट विदिशा -  Ram Ghat Vidisha राम घाट विदिशा शहर का प्रमुख घाट है। यहां पर आपको प्राचीन शंकर जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह घाट बहुत सुंदर है। यहां पर आप स्नान भी कर सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर मंदिर भी है। यहां पर शंकर जी का मंदिर पर बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर लगता है। मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग विराजमान है और मंदिर के मंडप में नंदी भगवान की प्रतिमा विराजमान है।  श्री बाहरा बाबा घाट विदिशा -  Shri Bahra Baba Ghat Vidisha श्री बाहरा बाबा घाट बेतवा नदी के किनारे बना हुआ एक सुंदर घाट है। यहां पर भी आपको मंदिर देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर

बनेनी घाट और शिव मंदिर राहतगढ़ - Baneni Ghat and Shiv Mandir Rahatgarh

बनेनी घाट और शिव मंदिर राहतगढ़,  सागर  -  Banni Ghat and Shiv Mandir Rahatgarh, Sagar राहतगढ़ का बनेनी घाट और शिव मंदिर प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर राहतगढ़ में बीना नदी के किनारे पर बने हुए हैं। इस मंदिर के गर्भ गृह में शंकर जी का शिवलिंग विराजमान है। इस मंदिर में प्रवेश करेंगे, तो आपको शीतला माता की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। शीतला माता की प्रतिमा भी बहुत अद्भुत लगती है। यहां पर बहुत सारे भक्त शीतला माता और शंकर जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। शिवजी के मंदिर के पीछे बीना नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर घाट भी बना हुआ है, जहां पर नहाने का मजा लिया जा सकता है। यहां पर पानी को रोकने के लिए स्टॉप डैम भी बनाया गया है। जिससे यहां पर पानी हमेशा भरा रहता है। मंदिर के पीछे नदी के उस पर आपको प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। वैसे यह इमारत अब पूरी तरह खंडहर हो चुकी है और इमारत पर यहां के लोकल लोग आकर बैठे रहते हैं।  हम लोग लखेरा धाम मंदिर घूमने के बाद राहतगढ़ के प्राचीन शिव मंदिर घूमने के लिए गए। यह प्राचीन शिव मंदिर राहतगढ़ में बीना नदी के किनारे बने घाट में

चकरा घाट सागर - Chakra Ghat Sagar

चकरा घाट, सागर  जिला, मध्य प्रदेश -  Chakra Ghat, Sagar District, Madhya Pradesh चकरा घाट सागर शहर का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। चकरा घाट सागर शहर में सागर झील के किनारे में स्थित है। इस घाट में आपको बहुत सारे प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। इस घाट में आपको हनुमान जी का प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलेगा। यहां पर गंगा माता का मंदिर भी बना हुआ है। इस घाट से आपको सागर झील का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर बरसात के समय नाव भी चलती है। आप यहां पर नाव  में घूमने का भी मजा ले सकते हैं। चकरा घाट में और भी बहुत सारे मंदिर है। यहां पर राम भगवान जी का मंदिर भी आपको देखने के लिए मिलता है। यह सभी मंदिर प्राचीन है। चकरा घाट में मां शीतला माता का प्राचीन मंदिर है। आप इस मंदिर में भी घूम सकते हैं। चकरा घाट में शाम के समय बहुत अच्छा लगता है। शाम के समय यहां पर बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर आपको गणेश जी का मंदिर देखने के लिए मिलेगा और यहां पर शंकर जी का मंदिर भी बना हुआ है। यहां पर गंगा मंदिर बरगद के पेड़ के नीचे बना हुआ है। यहां पर आपको सागर किले का एक बुर्ज भी

दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर इलाहाबाद - Dashashwamedh Ghat and Temple Allahabad

श्री ब्रह्मेश्वर मंदिर या दशाश्वमेध मंदिर इलाहाबाद - Shree Brahmeshwar Temple or Dashashwamedh Temple Allahabad   दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर इलाहाबाद शहर का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको भगवान शिव का मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर का धार्मिक महत्व है। यह मंदिर गंगा नदी के किनारे स्थित है। यहां पर घाट भी है। यहां पर लोग आकर स्नान करते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। हम लोग इस घाट में पैदल गए थे। यह घाट गंगा संगम घाट से करीब 3 किलोमीटर दूर होगा।     श्री ब्रह्मेश्वर मंदिर या दशाश्वमेध मंदिर का कहानी एवं महत्व -  Shri Brahmeshwar Temple or Dashashwamedh Temple Story दारागंज क्षेत्र में गंगा नदी के तट पर स्थित इस प्राचीन मंदिर के बारे में मान्यता है, कि यह ब्रह्मेश्वर जी द्वारा अश्वमेध यज्ञ किए गए थे। मंदिर में दो शिवलिंग स्थापित है, जो काले पत्थर के हैं, एक  दशाश्वमेध महादेव का और दूसरा ब्रह्मेश्वर महादेव का है। दोनों शिवलिंग के मध्य त्रिशूल स्थापित हैं। मंदिर में भगवान शिव के वाहक नंदी तथा शेषनाथ आदि की प्रतिमाएं भी है। इस मंदिर के निकट ही चैतन्य महाप्रभु की पीठ भी है।    

रामघाट चित्रकूट - Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट रामघाट - Ram ghat Chitrakoot / Chitrakoot ka Ramghat /  चित्रकूट पर्यटन रामघाट चित्रकूट में मंदाकिनी नदी के किनारे बना हुआ एक सुंदर घाट है। इस घाट के किनारे आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिल जाएंगे। यह मंदिर प्राचीन है। रामघाट बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है और पूरी तरह पक्का बना हुआ है। रामघाट में आप नाव की सवारी का भी मजा ले सकते हैं। यहां पर आपको रंग बिरंगे नाव देखने के लिए मिलती हैं, जिनमें खरगोश भी रखे रहते हैं, जो पर्यटकों को पसंद आते हैं। रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारे मंदिर है। रामघाट में बहने वाली मंदाकिनी नदी में आकर आप स्नान कर सकते हैं। मंदाकिनी नदी का पानी बहुत ठंडा रहता है।  रामघाट को रामघाट इसलिए कहा जाता है, क्योंकि वनवास काल के दौरान श्री राम जी चित्रकूट आए थे और उन्होंने मंदाकिनी नदी पर इसी स्थान पर स्नान किया था। इसलिए इस जगह को रामघाट के नाम से जाना जाता है।  रामघाट में हम लोग ऑटो से आए थे। ऑटो स्टैंड से रामघाट ज्यादा दूर नहीं है। आप आराम से रामघाट जा सकते हैं। ऑटो वाला ने हमे रामघाट के पास ही में उतरा। हम लोग रामघाट के लिए पैदल चल पड़े और रामघा

Narmada sangam sthal or Narmada sangam ghat mandla - Narmada or Banjar nadi ka sangam

नर्मदा संगम स्थल या नर्मदा संगम घाट मंडला - नर्मदा और बंजर नदी का संगम   नर्मदा संगम घाट नर्मदा संगम घाट नर्मदा संगम स्थल या नर्मदा संगम घाट मंडला जिले का एक प्रमुख दर्शनीय स्थल है। यहां पर नर्मदा नदी और बंजर नदी का संगम हुआ है, इसलिए इसे संगम घाट कहा जाता है। यहां पर बहुत बड़ा घाट बना हुआ है। आप यहां पर आकर इस घाट में घूम सकते हैं। घाट के आस पास बहुत सारे प्राचीन मंदिर बने हुए हैं। आप इन मंदिरों में भी घूम सकते हैं। नर्मदा नदी और बंजर नदी मंडला शहर की एक प्रमुख नदी है।    यहां पर आपको नर्मदा नदी का बहुत ही अद्भुत दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर नर्मदा नदी सी आकार की आपको देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर बोटिंग का मजा ले सकते हैं। बोटिंग का चार्ज भी नॉर्मल रहता है। आप इस जगह से नाव  के द्वारा नर्मदा नदी के एक किनारे से दूसरे किनारे पर जा सकते हैं। आपको नर्मदा नदी के दूसरे किनारे पर मंडला का किला देखने के लिए मिलता है। यह किला अब खंडहर में तब्दील हो चुका है। मगर अपने समय में यह किला बहुत ही भव्य था। नर्मदा नदी के दूसरे किनारे पर आपको एक भव्य मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर पु