सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

मई, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जैसलमेर का किला (Jaisalmer Fort) की यात्रा

जैसलमेर का किला जैसलमेर जिलें  के प्रमुख  पर्यटन स्थलों  में से एक है।  जैसलमेर का किला जैसलमेर जिले में स्थित एक बहुत ही विशाल किला है।  यह किला आपको जैसलमेर शहर के किसी भी हिस्से से देखने मिल जाता है।  यह किला एक पहाड़ी पर स्थित है और यह किला रेलवे स्टेशन से करीब 2 से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित होगा। आप इस किलें तक पहुॅचने के लिए  ऑटो लेकर आराम से जा सकते हैं। रेल्वे स्टेशन में ही आटों वाले आ जाते है, और आपसे पूछते है, कि आप कहां जाएगें। आप आटो वालों से मोलभाव करके इस किलें तक आ सकते है।  जैसलमेर किले का रानी महल  इस किलें की स्थापना राव जैसल द्वारा सन ११५६ में की गई थी। यह किला त्रिकूट पहाड़ी पर स्थित है। रेगिस्तान में स्थित होने के कारण इसे सोनार किला या सुनहरा किला भी कहते हैं। इस किला को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर की रूप में शामिल किया गया है।  जैसलमेर का किलें तक जाने के लिए हम लोग ने भी आटों बुक किया था।  यह किला बहुत बड़ा है और यह दुनिया का पहला लिबिंग फोर्ट है, मतलब आज भी इस किलें में लोग रहते हैं। यह किला बहुत बड़ा है, तो आप इस किलें में जाते है तो

निदान फॉल का मनोरम दृश्य - Nidan fall, Jabalpur

निदान जलप्रपात जबलपुर Nidan Falls Jabalpur निदान जलप्रपात जबलपुर ( Nidan Falls Jabalpur ) का एक खूबसूरत झरना है, जो कटंगी में स्थित है। आप जबलपुर से कटंगी जाते है, तो आपको यह झरना देखने मिलता है। यहां झरना चारों तरफ से खूबसूरत पहाडियों से घिरा हुआ है।  निदान जलप्रपात की खूबसूरती  निदान जलप्रपात कहां स्थित है Where is the Nidan waterfall निदान जलप्रपात जबलपुर ( Nidan Falls Jabalpur ) जिले के कंटगी में स्थित है। जबलपुर से दमोह हाईवे रोड पर निदान जलप्रपात ( Nidan Falls )  स्थित है। कटंगी जबलपुर ( Katangi Jabalpur ) से 50 से 55 किमी दूर होगा। आप इस झरने में अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। आपको यह पर अपनी गाड़ी से ही जाना पड़ेगा, क्योकि यह झरना जंगल के बीच स्थित है। अगर आप पैदल चलना चाहते है, तो जबलपुर दमोह हाईवे रोड ( Jabalpur Damoh Highway Road )  पर बसें भी चलती हैं। आप बसों से मेन रोड तक आ सकते हैं और मेन रोड से आपको दो से ढाई किलोमीटर पैदल चलना पड़ेगा। इस झरने तक पहुंचने के लिए। आप चाहे तो इस तरह कभी कर सकते हैं। यह झरना आपको दमोह जबलपुर हाईवे रोड ( Jabalpur Damoh High

Madan Mahal Fort or Queen Durgavati Fort

मदन महल का किला,  जबलपुर  मदन महल का किला ( Madan Mahal Fort ) या रानी दुर्गावती का किला ( Rani Durgavati Fort ) जबलपुर में स्थित है। यह जबलपुर जिले के मदन महल क्षेत्र में स्थित है। इस किले को मदन महल का किला ( Madan Mahal Fort )  या रानी दुर्गावती के किले ( Rani Durgavati Fort ) के नाम से जाना जाता है। यह किला एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। यहां पर पहुंचने के लिए आपको सीढ़ियां मिलती है और इन सीढ़ियों से चलकर आप इस किले तक पहुॅच सकते है।   रानी दुर्गावती का किला ( Rani Durgavati Fort ) आप दिन में कभी भी जा सकते हैं। यहां पर सिक्योरिटी गार्ड रहते है, यह पर एक गार्ड मेल और फीमेल रहते है। यहां पर आप सुबह 10 बजे से शाम को 5 बजे तक जा सकते है। वैसे यह किला बहुत ज्यादा बडा नही है, मगर यह किला बहुत प्राचीन है।  मदन महल किले ( Madan Mahal Fort ) का निर्माण लगभग 1100 ई. में राजा मदन सिंह द्वारा करवाया गया था। इस किले का इस्तेमाल सेनाएं के वॉच टावर के रूप में किया जाता था। लेकिन यह किला अब खंडहर में बदल गया है, लेकिन यह पर बहुत से पर्यटक किलें को देखने के लिए आते है। मदन महल किल

Savitri temple pushkar || सावित्री मंदिर पुष्कर

Savitri temple pushkar सावित्री मंदिर पुष्कर पुष्कर का सावित्री मंदिर (Savitri mata temple pushkar ) बहुत ही खूबसूरत जगह है। खूबसूरत पहाड़ियों का दृश्य  पुष्कर शहर का सावित्री मंदिर एक धार्मिक जगह है। यह जो मंदिर है, वह उचीं  पहाड़ी पर स्थित है। इस पहाडी को रत्नागिरी पहाडी कहते है। इसकी ऊँचाई 750 फीट है। आपको यहां पर देसी और विदेशी दोनों प्रकार के लोगों लोग देखने मिल जाएंगे, मतलब यहां पर भारतीय लोग और विदेशी लोग लोग सभी लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं।  पुष्कर का सावित्री मंदिर (Savitri mata temple pushkar ) भगवान ब्रह्मा की पहली पत्नी को समर्पित है। इस मंदिर में स्थित देवी सावित्री की मूर्ति बहुत ही प्राचीन है।  मंदिर परिसर में बैठे कुछ बंदर  मंदिर से नीचे का खूबसूरत दृश्य  हमने पुष्कर के सावित्री मंदिर  (Savitri mata temple pushkar )   का जाने का प्लान बनाया और हम लोगों तैयार हो गए। उसके बाद हम लोगों ने पुष्कर घूमने के लिए ऑटो बुक किया था। मगर हम लोगों को बहुत लेट हो गया था, तो हम लोग सबसे पहले इस मंदिर के लिए निकले। हम लोगों मंदिर पहुॅ

Lamheta Ghat Jabalpur

Lamheta Ghat Jabalpur लम्हेटाघाट जबलपुर  लम्हेटाघाट नर्मदा नदी का शांत और खूबसूरत घाट लम्हेटाघाट   लम्हेटाघाट जबलपुर ( Lamheta ghat Jabalpur ) में स्थित एक खूबसूरत घाट है। लम्हेटाघाट जबलपुर  ( Lamheta ghat Jabalpur )  शहर का खूबसूरत पर्यटन स्थल है। यह घाट नर्मदा नदी पर बना हुआ है। यह घाट ज्यादा बड़ा नहीं है, मगर आप यहां पर आकर बहुत सारी जगहों के दर्शन कर सकते है। यह पर आपको नर्मदा नदी के घाट के अलावा ऐतिहासिक जगह भी देखने मिल जाती है। लम्हेटाघाट के आसपास में बहुत सारी ऐतिहासिक जगह है, जहां पर जाकर आपको अपने इतिहास के बारे में जानकारी मिल सकती है। मगर मेरे हिसाब से यहां के कुछ ऐतिहासिक स्थलों की हालात बहुत ही बेकार है।  लम्हेटाघाट  ( Lamheta ghat )  में आप आकर अपना अच्छा टाइम बिता सकते हैं और यहां पर ज्यादा लोग नहीं रहते हैं, जो लोग यहां पर रहते है। वहां यह के स्थानीय लोग ही रहते है। यहां पर बहुत से लोग इस घाट पर घूमने के लिए आते है। वहां भी आपको देखने मिलेगें, मगर यहा पर पर्यटक की संख्या कम रहती है।   लम्हेटाघाट जबलपुर  ( Lamheta ghat Jabalpur )  में स्थित है और यह

Muhas Hanuman Temple || मुहास हनुमान मंदिर

Muhas Hanuman Temple मुहास हनुमान मंदिर  हड्डी जोड़ने वाला मुहास का हनुमान मंदिर हनुमान मंदिर का मुख्य द्वार   हनुमान मंदिर मुहास ( Muhas Hanuman Temple ) बहुत प्रसिद्ध है। इस हनुमान मंदिर को हड्डी जोड़ने वाले मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। लोगों का मानना है कि यहां पर हनुमान जी स्वयं लोगों की हड्डी जोड़ने का इलाज करते हैं। यह मंदिर पूरे भारत देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर के बारे में न्यूज चैनलों में भी आ चुका है। इस मंदिर की प्रसिद्धि पूरे देश में है। यहां पर जो भी लोग आते हैं। वह अपनी समस्या लेकर आते हैं और हनुमान जी उनकी समस्या को ठीक करते हैं। मुहास हनुमान मंदिर कहा है Where is Muhas Hanuman Temple हम लोग भी इस मंदिर में घूमने गए थे। यह मंदिर मध्यप्रदेश के कटनी जिले में स्थित है। यह मंदिर कटनी जिले से लगभग 35 किमी दूर होगा। यह रीठी तहसील की मुहास नाम के गांव में स्थित है। यह एक छोटा सा मंदिर है, ज्यादा बड़ा मंदिर नहीं है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरती से बनाया गया है। यह मंदिर मुहास में मेन रोड में स्थित है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। यहां पर बसें