सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

निदान फॉल का मनोरम दृश्य - Nidan fall, Jabalpur

निदान जलप्रपात जबलपुरNidan Falls Jabalpur


निदान जलप्रपात जबलपुर (Nidan Falls Jabalpur) का एक खूबसूरत झरना है, जो कटंगी में स्थित है। आप जबलपुर से कटंगी जाते है, तो आपको यह झरना देखने मिलता है। यहां झरना चारों तरफ से खूबसूरत पहाडियों से घिरा हुआ है। 

निदान फॉल का मनोरम दृश्य -  Nidan fall, Jabalpur

निदान जलप्रपात की खूबसूरती 

निदान जलप्रपात कहां स्थित है
Where is the Nidan waterfall


निदान जलप्रपात जबलपुर (Nidan Falls Jabalpur) जिले के कंटगी में स्थित है। जबलपुर से दमोह हाईवे रोड पर निदान जलप्रपात (Nidan Fallsस्थित है। कटंगी जबलपुर (Katangi Jabalpur) से 50 से 55 किमी दूर होगा। आप इस झरने में अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। आपको यह पर अपनी गाड़ी से ही जाना पड़ेगा, क्योकि यह झरना जंगल के बीच स्थित है। अगर आप पैदल चलना चाहते है, तो जबलपुर दमोह हाईवे रोड (Jabalpur Damoh Highway Roadपर बसें भी चलती हैं। आप बसों से मेन रोड तक आ सकते हैं और मेन रोड से आपको दो से ढाई किलोमीटर पैदल चलना पड़ेगा। इस झरने तक पहुंचने के लिए। आप चाहे तो इस तरह कभी कर सकते हैं।

यह झरना आपको दमोह जबलपुर हाईवे रोड (Jabalpur Damoh Highway Road) से ही दिखने लगता है। झरने तक पहुॅचने के लिए आपको कटंगी से आगे आना पड़ता है, आपको रोड के बाजू में एक मस्जिद मिलती है। मस्जिद के बाजू से रास्ता गया है झरनें के लिए। आप अपनी गाड़ी से झरनें की तरफ जा सकते हैं। आपको इस रास्तें में एक नदी मिलती है। उस नदी पर झरने का ही पानी आता है। आपको नदी पार करना पडता है, वैसे नदी पर से गाडी चली जाती है। नदी के पास आपको थोडी बदबु आयेगी। नदी में पानी ज्यादा है, तो आप ना जाए और नदी में पानी कम है, तो आप जा सकते हैं। आप झरनें की तरफ आगे बढते है, तो आपको यहां पर खूबसूरत और उचे उचें पहाड देखने मिलेगें। आप अगर ग्रुप में रहेंगे, तो अच्छा रहेगा, क्योंकि यह जो झरना है। यह थोड़ा सुनसान है। वैसे जब झरनें में पानी रहता है, तब यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। बहुत ज्यादा लोग आते हैं। आप यहां पर सुबह जल्दी आते है, तो यहां पर सुनसान रहता है, जैसे जैसे दिन बढता है भीड बढनें लगती है। 

निदान फॉल का मनोरम दृश्य -  Nidan fall, Jabalpur

निदान जलप्रपात 


निदान जलप्रपात (Nidan Falls) से करीब 1 किलोमीटर दूर आपकी गाडी खड़ी होती है और आपको झरनें तक पैदल चलकर आना होता है। बरसात के समय पर यह जगह जन्नत के समान लगती है, क्योंकि आपको चारों तरफ हरे भरे पेड़, ऊंचे पहाड, कलकल करती नदी और शानदार झरनें देखनें मिलते है, जो एक अविस्मरणीय अनुभव होता है। 

आपको निदान झरने (Nidan Falls) तक पैदल चलना पड़ता है, इसलिए आप जूते पहन कर आए, वो आपके लिए बेहतर होगा। अगर आप बरसात के समय यहां पर आते है, तो यहां पर जो चट्टाने रहती हैं। वह फिसलन भरी हो सकती है। जिनमें चलनें में आपको परेशानी हो सकती है, जिसमें आप फिसल कर गिर सकते हैं। तो आपको यहां पर ध्यान से चलने की आवश्यकता है। यहां पर जो रास्ता है  वह बहुत ही उबड़ खाबड़ है, इसलिए आप यहां पर सावधानी पूर्वक कदम बढायें अगर आप यहां पर आते है, तो बूढ़े और बच्चे को साथ न लायें। यह मेरी सलाह है, क्योंकि वह इस जगह पर नहीं चल सकेंगें। 

इस जगह पर एक नहीं दो झरने है और दोनों अलग-अलग दिशा में है। आप अपनी गाडी पार्क करते है, तो आपको दोनों झरनें देखने मिलते है। दोनों झरनों तक पहुंचने के लिए आपको 1 किलोमीटर ट्रैक करना पड़ता है, मतलब 1 किलोमीटर तक पैदल चलना होता है। आप झरना पहुंचते हैं, तो झरना बहुत खूबसूरत है। ऊंची पहाड़ियां के ऊपर से गिरता हुआ पानी एक कुंड में गिरता है, जो देखने में बहुत अच्छा लगता है। 

हम लोग को इस जगह पर जाकर बहुत अच्छा लगा। हम लोग जिस झरनें मे गए थे। उस झरने का जो कुंड है, वह बहुत गहरा है और यहां पर आप कुंड में नहा नहीं सकते है। यहां पर नहानें की मनाही है। पर्किग वाला आपको यह जरूर बोलेगा और आप भी इस बात का ध्यान दें। झरनें तक पहुॅचने का जो रास्ता है, वह जंगल वाला है। यहां पर जंगली जानवर तो नहीं मगर छोटे-मोटे जहरीले जानवर हो सकते है। आप यहां पर आये तो जूते पहनकर आएंगे।

यहां पर दूसरी तरफ जो झरना है, उस तरफ का कुंड छोटा है और उस तरफ आप नहाने का आनंद भी उठा सकते हैं, तो आप चाहें तो वहां जा सकते हैं।  यह जानकारी आप पार्किंग वालों से ले सकते हैं। वह आपको दोनों झरनें की  जानकारी दे सकते हैं, कि आप कहां नहा सकते हैं और कहां कुंड गहरा है।

आप यहां पर अपना पूरा 1 दिन बिता सकते हैं। आप यहां पर आते हैं, तो अपने साथ कुछ खाने पीने का जरूर लेकर आइएगा, क्योंकि यहां पर किसी भी तरह के खाने पीने की दुकान नहीं है। यहां का पूरा एरिया जंगल का है, तो आप यहां पर खाना जरूर साथ लायें। आप जो भी अपने साथ लाते हैं, तो वहां कचरा भी अपने साथ लेकर जाएं। इसके अलावा यहां पर किसी भी तरह की लेट्रिन बाथरूम की सुविधा नहीं है, तो आपको इस चीज का भी ख्याल रखना पड़ेगा। यह पूरा जंगल एरिया है।

बरसात के समय में जो दमोह जबलपुर हाईवे रोड (Jabalpur Damoh Highway Road) से आपको यह झरना दिखाई देने लगता है। यहां पर आकर इस खूबसूरत वादियों का आनंद ले सकते हैं हम लोग भी यहां पर गए थे। यहां पर आप जब अपनी गाड़ी खड़ी करते हैं, तो उसका 20 रू चार्ज लिया जाता है और गाड़ी खड़ी करने के बाद पैदल पैदल जाना होता है। यहां सुनसान हो तो आप अंदर ना जाए मेरे हिसाब से तो यहां जब भी आते हैं, ग्रुप के साथ आए तो आपको बहुत मजा आएगा।

यह काफी खूबसूरत जगह है। आप यहां पर अपनी फैमिली और अपने दोस्तों के साथ जाकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो, तो इस लेख को जरूर शेयर करें और अपने विचार हमसे साझा करें। 
आपने अपना समय दिया उसके लिए धन्यवाद


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur || नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुर

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुरनर्मदा गौ कुंभ नर्मदा नदी के किनारे लगा हुआ है। नर्मदा कुंभ में देश के कोने-कोने से साधु-संत सम्मिलित हुए हैं। नर्मदा गौ कुंभ मेले में आपको बहुत सारी अनोखी चीजों के दर्शन करने मिल जाएंगे, नर्मदा गौ कुंभ का मेला कई सालों में आयोजित किया जाता है। इस बार यह कुंभ मेला फरवरी महीने की 23 तारीख से शुरू होकर 3 मार्च तक चला है। नर्मदा गौ कुंभ मेलें में शामिल होने के लिए दूर-दूर से लोग आए हैं।



नर्मदा गौ कुंभ मेले में अयोजन मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में ग्वारीघाट के गीताधाम मंदिर के सामने वाले मैदान में किया गया था। इस मेले में बहुत से मंदिर बनाये गये थें जहां पर मूर्तियां की स्थापना की गई थी। यहां पर मां दुर्गा, श्री राम चन्द्र, माता नर्मदा जी का मंदिर बनाये गए थे। 
ग्वारीघाट के नर्मदा कुंभ में आपको साधु संतो के दर्शन करने मिलेंगे, और इस कुंभ के मेले में ग्वारीघाट के नर्मदा नदी के घाटों पर हजारों लोग श्रद्धा की डुबकी लगने देश के कोने से लोग आये हुए थे। नर्मदा गौ कुंभ का आयोजन का मुख्य उद्देश्य नर्मदा नदी को स्वच्छ बनाए रखना और गौ माता की रक्…