सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

जुलाई, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

शीतल दास की बगिया भोपाल - Sheetal Das Ki Bagiya Bhopal

शीतल दास की बगिया मंदिर  और वर्धमान पार्क  भोपाल -  Sheetal Das Ki Bagiya Temple and Vardhman Park Bhopal शीतल दास की बगिया भोपाल शहर का एक सुंदर मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर भोपाल शहर में बड़ा तालाब के किनारे बना हुआ है। मंदिर से बड़ा तालाब का दृश्य बहुत सुंदर लगता है। यहां पर घाट भी बना हुआ है, जहां पर आप स्नान कर सकते हैं। यहां पर शंकर जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर हनुमान जी का बहुत सुंदर मंदिर बना हुआ है। यह मंदिर लाल रंग का है और मंदिर के गर्भ गृह में हनुमान जी की सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। शीतल दास की बगिया के बाजू में वर्धमान पार्क है। इस पार्क में भी आप घूमने के लिए जा सकते हैं।  वैसे भोपाल शहर में बड़े तालाब के किनारे बहुत सारे दर्शनीय स्थल देखने के लिए मिल जाते हैं। उनमें से शीतल दास की बगिया और वर्धमान पार्क भी है। शीतल दास की बगिया राजा भोज सेतु के पास ही में स्थित है और यह रोड के किनारे ही बना हुआ है। हम लोग यहां पर अपनी गाड़ी से घूमने के लिए गए थे और यहां पर हम लोगों ने भगवान शिव के दर्शन कि

केन नदी का उद्गम स्थल - Ken River Origin

केन नदी कटनी जिला मध्य प्रदेश - Ken River Katni District Madhya Pradesh /  Origin point of Ken river केन नदी  की जानकारी -  Ken River information केन नदी मध्यप्रदेश की एक प्रमुख नदी है। केन नदी का प्राचीन नाम कर्णावती है। केन नदी मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश दोनों राज्यों में बहती है। केन नदी यमुना नदी की सहायक नदी है। केन नदी मध्य प्रदेश के कटनी जिले से निकलती है। केन नदी कटनी जिले से निकलकर बहती हुई पन्ना जिले में प्रवेश करती है। केन नदी के किनारे बहुत सारे धार्मिक, ऐतिहासिक और प्राकृतिक स्थल देखने के लिए मिलते हैं। केन नदी के किनारे हिंदू मंदिर पांडवन देखने के लिए मिलता है। यहां पर सुंदर जलप्रपात भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर प्राचीन है।  केन नदी पन्ना राष्ट्रीय उद्यान की सीमा बनाती है। पन्ना राष्ट्रीय उद्यान केन नदी के किनारे ही बसा हुआ है और फल फूल रहा है। पन्ना नेशनल पार्क में केन नदी के किनारे आपको गिद्धों का साम्राज्य देखने के लिए मिल जाएगा। केन नदी पन्ना नेशनल पार्क के किनारे से बहती है। केन नदी का यहां का दृश्य बहुत सुंदर रहता है। केन नदी का पानी हरे कलर का रहता है और साफ

मनुआभान की टेकरी भोपाल - Manuabhan Tekri Bhopal

मनुआभान टेकरी  और जैन मंदिर  भोपाल मध्य प्रदेश -  Manuabhan Tekri and Jain Temple Bhopal Madhya Pradesh मनुआभान की टेकरी भोपाल शहर की सबसे मशहूर पर्यटन स्थल है। यह भोपाल की सबसे ऊंची जगह है। मनुआभान की टेकरी भोपाल शहर में लाल घाटी में स्थित है। इस टेकरी से चारों तरफ की सुंदर पहाड़ियां देखने के लिए मिलती हैं। यहां से भोपाल शहर का शानदार दृश्य देखने के लिए मिलता है और भोपाल तालाब का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। मनुआभान की  टेकरी के ऊपरी सिरे तक पहुंचने के लिए सड़क मार्ग और रोप वे की सुविधा उपलब्ध है। मनुआ भान की टेकरी में सुंदर गार्डन देखने के लिए मिलता है और जैन मंदिर देखने के लिए मिलता है।  भोपाल की लालघाटी में स्थित मनुआ भान की टेकरी में घूमने के लिए हम लोग स्कूटी से गए थे। मनुआ भान की टेकरी तक हमारी स्कूटी आराम से चली गई थी। यहां पर आप अपनी कार या बाइक से भी आराम से जा सकते हैं। यहां पर शानदार रोड बनी हुई है। मनुआ भान की टेकरी में जाते समय हम लोगों को शिव जी का मंदिर देखने के लिए मिला। यहां पर घुमावदार रास्ते से होते हुए, हम लोग मनुआ भान की टेकरी पहुंचे। जब हम लोग यहां पर गए

भोपाल का फेमस चिनार पार्क - Chinar Park Bhopal

चिनार पार्क भोपाल मध्य प्रदेश -  Chinar Park Bhopal Madhya Pradesh चिनार पार्क भोपाल शहर का एक मुख्य पार्क है। चिनार पार्क भोपाल शहर का सबसे बड़ा पार्क है। इसमें आपको बहुत सारी कलाकृतियां देखने के लिए मिलेगी। यह कलाकृतियां लोहे और वेस्ट सामानों से बनाई गई है। पार्क में चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलेगी। चिनार पार्क के अंदर आपको गणेश जी और दुर्गा जी का मंदिर भी देखने के लिए मिल जाता है। यह मंदिर चिनार पार्क में मेन गेट के सामने देखने के लिए मिलता है। यह पार्क बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। पार्क में बहुत सारे झूले लगे हुए हैं, जो बच्चों को बहुत आकर्षित करते हैं। इस पार्क में आप फैमिली के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। चिनार पार्क भोपाल शहर के बीचोंबीच स्थित है। चिनार पार्क बहुत सुंदर है।  हम लोग भोपाल के शौर्य स्मारक घूमने के बाद, चिनार पार्क घूमने के लिए गए। चिनार पार्क और शौर्य स्मारक दोनों आजू-बाजू है। शौर्य स्मारक से निकलने के बाद, हम लोग चिनार पार्क जाने लगे। चिनार पार्क का पिछला हिस्सा हमें रोड से देखने के लिए मिल रह

देश भक्ति से भरा स्थल शौर्य स्मारक, भोपाल - Shaurya smarak Bhopal

शौर्य स्मारक भोपाल - Shaurya Smarak B hopal शौर्य स्मारक भोपाल शहर का एक प्रसिद्ध स्थल है। यह एक सुंदर गार्डन है। यहां पर आप लोगों को हमारे देश के लिए शहीद हुए बहुत सारे वीर लोगों के बारे में जानकारी मिलेगी। यहां पर आपको एक स्तंभ देखने के लिए मिलता है। इस स्तंभ को शौर्य स्तंभ कहा जाता है। यह हमारे वीर सैनिकों के लिए समर्पित है, जिन्होंने देश की के लिए जान दिया। यहां पर एक भूमिगत संग्रहालय भी बना हुआ है। यह वॉर म्यूजियम है। यहां पर आपको हमारे वीर सैनिकों के बारे में  बताया गया है, कि हमारे वीर जवान किस परिस्थिति में रहते हैं और किस तरह से युद्ध किया करते हैं। यहां पर वीर सैनिकों को मिलने वाले मेडल्स की जानकारी भी दी गई है। यहां पर आपको बहुत सारी फोटो देखने के लिए मिलती है, जो आर्मी के उच्च अधिकारियों की रहती है। यहां पर आर्मी हथियार को भी दिखाया गया है। गार्डन पर भारत माता की बहुत बड़ी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। शौर्य स्मारक में एक कैफिटेरिया भी बना हुआ है। यह स्मारक बहुत ही सुंदर है। शौर्य स्मारक में प्रवेश करने का प्रवेश शुल्क लिया जाता है।  हम लोग शाहपुरा झील घूमने के बाद, शौर्य

शाहपुरा झील भोपाल - Shahpura Lake Bhopal

शाहपुरा लेक और भगवान ऋषभदेव उद्यान भोपाल  -  Shahpura Lake and Bhagwan Rishabhdev Udyan Bhopal शाहपुरा झील भोपाल शहर की एक सुंदर झील है। शाहपुरा झील के पास  ऋषभदेव  उद्यान भी देखने के लिए मिलता है। यह उद्यान और झील बहुत ही सुंदर लगते हैं। झील बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हुई है और झील के किनारे  ऋषभदेव  उद्यान बना हुआ है।  ऋषभदेव  उद्यान में बैठने के लिए बहुत सारे चेयर हैं। यहां पर आप आराम से बैठकर झील के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। झील में नौका विहार की भी सुविधा उपलब्ध है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर बहुत सारे पेड़ पौधे लगे हुए हैं और चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। शाहपुरा झील मुख्य सड़क पर स्थित है। इसलिए यहां पर पहुंचने में किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होती है। यहां पर आकर समय बिताना बहुत अच्छा लगता है। इस पार्क में आप निशुल्क प्रवेश कर सकते हैं। यहां पर एंट्री फीस नहीं लगती है। ऋषभदेव पार्क को शाहपुरा पार्क भी कहा जाता है। यह पार्क झील के नाम से भी जाना जाता है।  भगवान ऋषभदेव उद्यान का नाम जैन धर्म के प्रथम तीर्थकार के नाम पर रख गया है।  ऋषभदेव उद्यान में लोग

बेतवा नदी का उद्गम स्थल - Origin Place of Betwa River

बेतवा नदी की पूरी जानकारी  और बेतवा नदी उद्गम स्थल -  Betwa River Information and B etwa River Origin Point बेतवा नदी मध्य प्रदेश  राज्य की  एक मुख्य नदी है। बेतवा नदी का प्राचीन नाम वेत्रवती है। बेतवा नदी यमुना नदी की सहायक नदी है। बेतवा नदी मध्य प्रदेश की पूजनीय नदी है। बेतवा नदी के किनारे बहुत सारे धार्मिक स्थल और तीर्थ स्थल मौजूद है। बेतवा नदी मध्य प्रदेश के भोपाल, विदिशा, गंजबासौदा, बीना कुरवई, ओरछा जैसे जिलों से बहते हुए उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा में बहती है। बेतवा नदी उत्तर प्रदेश के झांसी, चिरगांव, हमीरपुर क्षेत्र में बहती है और हमीरपुर जिले के पास यमुना नदी से मिल जाती है। बेतवा नदी पर बहुत सारे बांध बने हुए हैं। इन बांधों में प्रमुख बांध है - राजघाट बांध, माताटीला बांध, सुकमा दुकमा बांध। यह बांध बहुत प्रसिद्ध है। यह बांध मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर बने हुए हैं। यह बांध बहुत सुंदर हैं और बरसात के समय में यह पर्यटन का मुख्य आकर्षण होते हैं।  बेतवा नदी के किनारे कई सारे धार्मिक और प्राकृतिक स्थल मौजूद हैं। विदिशा जिले में बेतवा नदी के किनारे आपको प्र

भोपाल का प्राकृतिक स्थल कोलार बांध - Kolar Dam Bhopal

कोलार डैम या कोलार परियोजना भोपाल -  Kolar Dam and Kolar Project Bhopal कोलार  बांध  भोपाल शहर के पास में स्थित एक सुंदर जगह है। कोलार डैम एक सुंदर जलाशय है। कोलार बांध को कोलार परियोजना और वीरपुर बांध के नाम से भी जाना जाता है। कोलार डैम वैसे सीहोर जिले के अंतर्गत आता है। कोलार डैम घने जंगलों के अंदर स्थित है। यहां पर आने का रास्ता भी बहुत खूबसूरत है। यहां पर दोनों तरफ घना जंगल देखने के लिए मिलता है। कोलार डैम भोपाल शहर की प्यास बुझाने का एक मुख्य जल स्त्रोत है। यहां पर आकर दूर दूर तक पहाड़ों और पानी से भरा हुआ जलाशय देखने के लिए मिलता है।  कोलार बांध में हम लोग घूमने के लिए अपनी स्कूटी से गए थे। आप यहां पर घूमने के लिए कार या बाइक से आराम से जा सकते हैं। कोलार डैम रातापानी वन्य जीव अभ्यारण के अंदर स्थित है। यहां पर हरा भरा वन क्षेत्र देखने के लिए मिलता है। अगर आप लकी हुए, तो आपको जंगली जानवर भी देखने के लिए मिल जाता है। कोलार डैम में जाते हुए हम लोगों को बहुत सारे गांव भी देखने के लिए मिले। हम लोग यहां पर संडे के दिन गए थे। संडे के दिन इन गांवों में बाजार लगता है, जहां पर बह

केरवा बांध भोपाल - Kerwa Dam Bhopal

भोपाल का केरवा डैम और केरवा जंगल कैंप -  Kerwa Dam and Kerwa Jungle Camp Bhopal केरवा बांध भोपाल शहर का एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय घने जंगलों के बीच में स्थित है। यहां पर आपको चारों तरफ ऊंची ऊंची पहाड़ियां देखने के लिए मिलती है। केरवा बांध घने जंगल के बीच में स्थित है।  केरवा बांध में आपको ट्रीहाउस भी देखने के लिए मिल जाते हैं, जहां पर आप जा सकते हैं।  केरवा बांध का जहां पर पानी ओवरफ्लो होकर बहता है। वहां का दृश्य बहुत सुंदर रहता है। सामने आपको पूरा जंगल देखने के लिए मिलता है। यहां पर हरियाली छाई रहती है। यहां पर बहुत सारे लोग पिकनिक मनाने के लिए आते हैं। यह जगह बहुत सुंदर है। यहां पर आप जंगल कैंप का भी आनंद ले सकते हैं। यहां पर बहुत सारे रिसोर्ट है, जहां से आप को सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। केरवा बांध में आप ठंडी, गर्मी और बरसात किसी भी समय आएंगे, तो आपको सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलेगा। केरवा बांध चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है।  केरवा बांध हम लोग अपनी स्कूटी से गए थे। केरवा बांध जाने वाली सड़क बहुत सुंदर है। यहां पर सड़क के दोनों तरफ फूल  वाले  पौधे देखने के लिए म

कलियासोत बांध भोपाल - kaliyasot dam bhopal

भोपाल का कालियासोत बांध -  Kaliasot Dam Bhopal Madhya Pradesh कलियासोत बांध भोपाल शहर का एक मुख्य बांध है। यह बांध कलियासोत नदी पर बना हुआ है। यह बांध घने जंगलों के बीच में बना हुआ है। इस बांध में मगरमच्छ एवं घड़ियाल है। यह बांध बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ हैं। कलियासोत डैम भोपाल शहर की सुंदर जगह है। यह बांध चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। इस बांध के बीच में एक मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर एक टापू में बना हुआ है। इस मंदिर को विश्वनाथ मंदिर कहते हैं। यह मंदिर शिव  भगवान जी को समर्पित है। कलियासोत बांध में बहुत सारे व्यूप्वाइंट बने हुए हैं। यहां पर पहाड़ी पर एक और मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो शिव मंदिर है।  कालियासोत बांध में घूमने के लिए आप बरसात के समय आ सकते हैं। यहां पर बरसात के समय आपको बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है, क्योंकि पानी के पूरे तरह से भर जाता है और इसके गेट खोलते हैं, जिसका दृश्य बहुत सुंदर दिखाई देता है। बांध के गेट के सामने ही मेन रोड है। वहां से खड़े होकर आप बांध का दृश्य देख सकते हैं। यहां पर दोनों तरफ जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए

भदभदा बांध भोपाल - Bhadbhada Dam Bhopal

भदभदा बांध एवं भदभदा पहाड़ी भोपाल, मध्य प्रदेश -  Bhadbhada Dam and Bhadbhada Hill Bhopal Madhya Pradesh भदभदा बांध भोपाल शहर का एक मुख्य बांध है। यह बांध कलियासोत नदी में बना हुआ है। यह बांध बहुत सुंदर है। इस बांध में फव्वारा भी लगा हुआ है। यहां पर बांध का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। बरसात के समय बांध के गेट खोले खोले जाते हैं, जिससे बहुत सारे जल राशि गेटों के द्वारा बहती है और बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर भदभदा पहाड़ी भी देखने के लिए मिलती है। भोपाल शहर की यह जगह हरियाली से भरी हुई है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। भदभदा बांध सैर सपाटा के थोड़ा ही आगे स्थित है। यहां पर आराम से पहुंचा जा सकता है। हम लोग सैर सपाटा देखने के बाद आगे बढ़े, तो हम लोगों को भदभदा चौराहा देखने के लिए मिला। भदभदा चौराहे में सुंदर चौराहा बना हुआ है। चौराहे की बीच में सुंदर मूर्ति लगी हुई है। हम लोग भदभदा चौराहा से भदभदा रोड की तरफ आगे बढ़े, तो यहां पर हमें भदभदा ब्रिज देखने के लिए मिला। भदभदा ब्रिज से भदभदा बांध का सुंदर नजारा देखने के लिए मिलता है। भदभदा ब्रिज से बांध का भराव