सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

Temple लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

श्री गौरी शंकर मंदिर हटा तहसील दमोह - Shree Gauri Shankar temple Hatta, Damoh

श्री गौरी शंकर मंदिर हटा तहसील दमोह  - Shree Gauri shankar Mandir Hatta Tehsil Damoh   श्री गौरी शंकर मंदिर हटा का एक प्राचीन मंदिर है। हटा के गौरी शंकर मंदिर में आपको शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर शिव भगवान जी दूल्हा वेश धारण किए हुए हैं। शिव भगवान जी नंदी पर सवार है और माता पार्वती को लिए हुए यहां पर विराजमान है। आपको गौरी शंकर मंदिर परिसर में आपको और भी मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर श्री शनिदेव का मंदिर स्थापित है। हनुमान मंदिर भी आपको यहां पर देखने के लिए मिल जाता है, जो भगवा रंग का है। यहां पर गणेश मंदिर भी है। यहां पर सत्यनारायण मंदिर भी है। यहां पर पितांबरा पीठ भी आपको देखने के लिए मिलेगा। यहां पर यज्ञशाला भी बनी हुई है आप वह भी देख सकते हैं। यह मंदिर हटा शहर में केन नदी से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है।     हम हटा का किला घूम लिया। उसके बाद हम लोग हटा के गौरी शंकर मंदिर घूमने के लिए आगे बढ़े। गौरी शंकर मंदिर पहुंचने का जो रास्ता है। वह सकरी गलियों से होते हुए गुजरता है। हम लोग गाड़ी से गौरी शंकर मंदिर पहुंचे। गौरी शंकर मंदिर बहुत ही खूबसूर

लक्ष्मण पहाड़ी चित्रकूट - Lakshman Pahari Chitrakoot

लक्ष्मण पहाड़ी - Lakshman Pahadi / लक्ष्मण पहाड़ /  Laxman Pahadi / L akshman pahari chitrakoot लक्ष्मण पहाड़ी चित्रकूट की एक धार्मिक स्थल है और यह पहाड़ी कामदगिरि पहाड़ी के पास ही में है। आप इस पहाड़ी में कामदगिरि परिक्रमा जब करते हैं, तब इस पहाड़ी में भी जा सकते हैं। इस पहाड़ी में आपको राम, लक्ष्मण, भरत जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस पहाड़ी में खंभे बने हुए हैं। इन खंभे को आपको भेटना पड़ता है। भेटने मतलब होता है। आपको इन खंभों को गले लगाना पड़ता है। यहां पर जो पंडित जी बैठे रहते हैं। वह आपको इन खभों को गले लगाने के लिए कहते हैं और आपसे कुछ दक्षिणा के लिए कहते हैं। आप चाहें तो उन्हें दक्षिणा दे सकते हैं। कहा जाता है कि जब भरत जी यहां आए थे। तब राम भगवान जी के गले मिले थे। इसलिए इन खंभों को भी भेटना होता है।  लक्ष्मण पहाड़ी पर आप आते हैं, तो आपको सबसे पहले शंकर जी देखने के लिए मिलते हैं, जो यहां पर एक छोटे से छाया के नीचे बैठे हुए हैं। उसके बाद बरगद का पेड़ लगा हुआ है।  लक्ष्मण पहाड़ी पर स्थित राम, लक्ष्मण, भरत, शत्रुघ्न और मां सीता जी का मंदिर देख सकते हैं। लक्ष्मण पहाड़ी पर स्थित यह

कामदगिरि मंदिर चित्रकूट - Kamadgiri Temple Chitrakoot

कामदगिरि मंदिर चित्रकूट -  Kamadgiri mandir Chitrakoot / Kamadgiri Temple कामदगिरि मंदिर चित्रकूट का एक प्रसिद्ध मंदिर है। कामदगिरि मंदिर को कामत नाथ मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। कामदगिरि मंदिर कामदगिरि पहाड़ी  में स्थित है और कामदगिरि परिक्रमा कामदगिरि मंदिर से ही शुरू होती है। कामदगिरि मंदिर में आपको कामत नाथ की आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा काले रंग की है। कामदगिरि मंदिर चित्रकूट से करीब 2 से ढाई किलोमीटर दूर होगा। कामदगिरि मंदिर में आने के लिए आप ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। ऑटो किराया आपका ₹10 लगता है और ऑटो वाला आपको कामदगिरि मंदिर के एंट्री गेट पर छोड़ देता है।  कामदगिरि मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि आप यहां पर जो भी मनोकामना लेकर आते हैं, तो आपकी वह मनोकामना पूरी होती है और भगवान आपको उसका फल जरूर देता है।  कामदगिरि मंदिर के एंट्री गेट में आपको बहुत सारे प्रसादओं की दुकान देखने के लिए मिलती है। मंदिर के गेट से लेकर मुख्य मंदिर तक आपको बहुत सारी प्रसाद  की  दुकान देखने के लिए मिलती है। आप जिस भी दुकान में चाहे प्रसाद ले सकते हैं। यहां पर प्रसादओं

आदि विमान मंडपम मंदिर इलाहाबाद (प्रयागराज) - Adi Vimana Mandapam Temple Allahabad (Prayagraj)

आदि विमान मंडपम मंदिर इलाहाबाद (प्रयागराज) - Adi Viman Mandapam Mandir Allahabad (Prayagraj) /  Allahabad Tourism / इलाहाबाद पर्यटन   आदि विमान मंडपम मंदिर इलाहाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। विमान मंडपम मंदिर इलाहाबाद में संगम स्थल के पास ही में स्थित है। आदि विमान मंडपम मंदिर साउथ इंडियन स्टाइल में बना हुआ है। इस मंदिर में आपको चार मंजिल देखने के लिए मिलती है, जिनमें से तीन मंजिलों में भगवान जी की स्थापना की गई है। इस मंदिर के ग्राउंड फ्लोर में मीनाक्षी माता की प्रतिमा विराजमान है। आप उनके दर्शन कर सकते हैं। सेकंड फ्लोर में आपको भगवान बालाजी की प्रतिमा देखने के लिए मिल जाएगी और थर्ड फ्लोर में आपको शिव जी का शिवलिंग देखने के लिए मिल जाएगा। यह मंदिर कांची शंकराचार्य मठ के द्वारा बनवाया गया है। इस मंदिर की कारीगरी बहुत ही खूबसूरत है।     आप आदि विमान मंडपम मंदिर में आएंगे, तो इस मंदिर की दीवारों पर आपको खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलेगी। इस मंदिर में आपको हर जगह पर मूर्ति की स्थापना देखने के लिए मिलती है। यह मूर्तियां काले पत्थर से बनी हुई है और बहुत ही आकर्षक लगती है। इस मंदिर

श्री पदम प्रभु जैन मंदिर कौशांबी - Jain Shwetambar Temple Kaushambi

श्री पदम प्रभु जैन श्वेतांबर मंदिर कौशांबी - Jain shwetambar mandir Kaushambi / Kaushambi tourism / कौशाम्बी पर्यटन   श्री पदम प्रभु जैन श्वेतांबर मंदिर कौशांबी में स्थित एक सुंदर मंदिर है। यह मंदिर पूरी तरह सफेद मार्बल से बना हुआ है और आपको इस मंदिर में खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलेगी, जो सफेद मार्बल पर की गई है। यह मंदिर कौशांबी नगर में मुख्य सड़क पर ही बना है। आप इस मंदिर में बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं। यह मंदिर कौशांबी थाने से करीब 300 से 400 मीटर दूर होगा। आप अगर बस से आते हैं, तो बस से इस मंदिर में डायरेक्ट पहुंच सकते है।    हम लोग भी इस मंदिर में घूमने के लिए गए थे। हम लोग जब बस से आ रहे थे। तब इस मंदिर को हम लोगों ने देखा था। यह मंदिर सड़क के बाजू में ही स्थित है और हम लोग कौशांबी थाने से पैदल ही इस मंदिर में गए थे। इस मंदिर के प्रवेश द्वार में भी खूबसूरत नक्काशी की गई है। खूबसूरत मूर्तियां को पत्थर पर उकेरा गया है। अंदर जाकर आप देखेंगे, तो यह मंदिर पूरा संगमरमर से बना हुआ है। पूरे मंदिर में नक्काशी की गई है। मंदिर की दीवारों, प्रवेश द्वार, स्तंभों में भी खूबसूरत नक्का

इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद - ISKCON Temple Allahabad / Allahabad Tourism

इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद (प्रयागराज) - ISKCON mandir Allahabad (prayagraj) / इलाहाबाद यात्रा   इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी और राधा रानी को समर्पित है। इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद शहर में यमुना नदी के किनारे बलुआ घाट के पास में स्थित है। इस मंदिर में आप बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं। आप इस मंदिर में पैदल भी आ सकते हैं और  ऑटो से भी आ सकते हैं। इस मंदिर में आपको श्री कृष्ण जी की और राधा रानी जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के बाहर आपको गरुड़ भगवान जी के दर्शन करने मिल जाते हैं। मंदिर में बगीचा भी है, जिसमें सुंदर-सुंदर पुष्प खिले रहते हैं, जिनको देखकर मन खुश हो जाता है। मंदिर में गौशाला भी देखने के लिए मिल जाती है, जहां पर गायों की सेवा की जाती है। मंदिर में आपको एक छोटी सी शॉप भी देखने के लिए मिल जाती है, जहां से आप धार्मिक चीजें खरीद सकते हैं। मंदिर में आकर बहुत ही अच्छा लगता है।     हम लोग इस्कॉन मंदिर में पैदल ही आए थे। हम लोग ओल्ड नैनी ब्रिज से घूमते हुए आए थे। हम लोग को रास्ते में ओम नमः शिवाय मंदिर भी देखन

श्रीलंका मंदिर कौशांबी - Sri Lanka Temple Kaushambi / Kaushambi tourism

श्रीलंका मंदिर कौशांबी - Sri Lanka Temple Kaushambi / धम्म मित्र बुद्ध विहार कौशांबी - Dhamma Mitra Buddha Vihar Kaushambi   श्रीलंका मंदिर कौशांबी में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर श्रीलंका देश की मदद से कौशांबी में बनाया गया है। इसलिए इस मंदिर को श्रीलंका मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरती से बना हुआ है। हम लोग मंदिर के अंदर नहीं जा पाए थे, इसलिए हम लोगों ने मंदिर को बाहर से ही देखा। बाहर से ही मंदिर की बनावट बहुत ही खूबसूरत है।    हम लोग कौशांबी में जितने भी मंदिर घूमे हैं या जितने भी प्राचीन स्थल घूमे हैं। वह सभी पैदल ही घूमे हैं। हम लोग अशोक स्तंभ स्थल और गोष्ट राम बिहार स्थल में पैदल घूम कर कौशांबी की तरफ आ गए। कौशांबी थाने से श्रीलंका टेंपल करीब 500 से 600 मीटर दूर होगा। हम लोग पैदल ही श्रीलंका टेंपल की तरफ चल दिए। हम लोग टेंपल पहुंच गए। टेंपल बाहर से बंद था। हम लोगों ने टेंपल के भीतर बैठे कर्मचारियों से पूछा कि टेंपल में हम लोग दर्शन कर सकते हैं, तो उन्होंने बोला कि अभी कोविड-19 कारण आप लोग मंदिर के अंदर नहीं आ सकते हैं। मंदिर को बाहर से ही देख सक

54 feet high Hanuman ji temple Jhusi Allahabad - हनुमान मंदिर इलाहाबाद

54 फीट ऊंचे हनुमान जी का मंदिर झूसी इलाहाबाद (प्रयागराज) - 54 feet high Hanuman ji temple Jhusi Allahabad (Prayagraj) / इलाहाबाद यात्रा / Allahabad Tourism   54 फीट ऊंचे हनुमान जी का मंदिर इलाहाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। आप इलाहाबाद के झूसी एरिया में घूमने के लिए आते हैं, तो आपको यहां पर बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। इन मंदिरों में एक मंदिर और प्रसिद्ध है, जो हनुमान जी का मंदिर है। इस मंदिर में आपको हनुमान जी की 54 फीट ऊंची प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको 111 छोटे-छोटे शिवलिंग देखने के लिए मिलते हैं। यहां एक नर्वदेश्वर शिवलिंग स्थित है। नर्वदेश्वर शिवलिंग का मतलब है, कि यह शिवलिंग नर्मदा नदी से लाया गया होगा, क्योंकि नर्मदा नदी एक ऐसी नदी है, जिसके हर पत्थर में शिवलिंग है। इसलिए इसे नर्वदेश्वर शिवलिंग कहते हैं। यहां पर दुर्गा जी की विराट प्रतिमा आपको देखने के लिए मिल जाती है। माता सीता और राम जी की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। राधा और कृष्ण की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। श्री लक्ष्मी नारायण जी की भी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है और शंकर जी पार्वती

प्राचीन श्री हनुमान गुफा इलाहाबाद - Hanuman Mandir Allahabad

हनुमान मंदिर इलाहाबाद - प्राचीन श्री हनुमान गुफा इलाहाबाद   Hanuman Temple Allahabad - Ancient Sri Hanuman Cave Allahabad   प्राचीन श्री हनुमान गुफा इलाहाबाद में प्रसिद्ध मंदिर है और यह मंदिर इलाहाबाद में गंगा नदी के दूसरी तरफ झूसी में स्थित है।  यहां पर आपको एक गुफा देखने के लिए मिलती है। आपको यहां पर हनुमान जी के दर्शन करने मिलते हैं। यह मंदिर एक ऊंचे टीले पर स्थित है और टीले पर चढ़ने के लिए सीढ़ियां चढ़ने पड़ती है, और जो यहां पर सीढ़ियां है। वह इतनी पुरानी है और इतनी पतली है, कि चढ़ने में बहुत डर लगता है और बिलकुल खड़ी सीढ़ियां है, तो डर लगेगा ही।  प्राचीन श्री हनुमान गुफा मंदिर पहुंचकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आप मंदिर में प्रवेश करते हैं, तो आपको एक बड़ा सा आंगन देखने के लिए मिलता है और इसके साथ ही यहां पर एक चबूतरे में शिवलिंग भी विराजमान है। आप उनके दर्शन कर सकते हैं। यहां पर एक संत की मूर्ति रखी रही। आप उनके भी दर्शन कर सकते हैं और आगे साइड छोटा सा गार्डन बना हुआ है, जहां पर फूलों के प्लांट लगे हुए हैं। यहां पर आपको एक कुआं भी देखने के लिए मिलता है।  आप हनुमान जी के दर्शन के लिए सीढ़

Hanuman Mandir Civil Lines Allahabad - हनुमान मंदिर सिविल लाइंस इलाहाबाद

हनुमत  निकेतन मंदिर इलाहाबाद (प्रयागराज ) -  हनुमान मंदिर सिविल लाइंस इलाहाबाद ( प्रयागराज ) Hanumat Niketan Temple Allahabad (Prayagraj )  - Hanuman Mandir Allahabad civil lines हनुमत निकेतन मंदिर  इलाहाबाद में प्रसिद्ध मंदिर हैं। यह मंदिर इलाहाबाद के सिविल लाइन इलाके में स्थित है। इसलिए इस मंदिर को सिविल लाइन के हनुमान मंदिर के नाम से भी जाना जाता है और इसे हनुमत निकेतन मंदिर के  नाम  में जाना जाता है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। आपको इस मंदिर में हनुमान जी की बहुत ही भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। हनुमत निकेतन मंदिर   का प्रवेश द्वार बहुत ही भव्य है। मंदिर के प्रवेश द्वार के ऊपर आपको रथ का डिजाइन देखने के लिए मिल जाएगा, जो बहुत ही आकर्षक लगता है। यह रथ भीष्म पितामह जी का है। आप प्रवेश द्वार से अंदर जाएंगे, तो आपको यहां पर बहुत बड़ा ग्राउंड देखने के लिए मिलेगा। ग्राउंड के एक साइड में आपको प्रसाद की दुकान देखने के लिए मिलेगी, जहां से आप हनुमान जी को प्रसाद चढ़ाने के लिए खरीद सकते हैं। आपको दूसरे साइट एक मंदिर देखने मिलेगा और मुख्य मंदिर आपको सामने देखने के लिए मिलेगा। मुख्