सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Origin Point लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

शिप्रा नदी उज्जैन - Shipra River Ujjain

उज्जैन की शिप्रा नदी  और शिप्रा नदी का उद्गम स्थल -  Origin Place of Shipra river and Shipra river of Ujjain शिप्रा नदी मध्य प्रदेश की मुख्य नदी है। शिप्रा नदी को मालवा की गंगा भी कहा जाता है। यह नदी मध्यप्रदेश के इंदौर जिले से निकलती है और इंदौर, देवास, उज्जैन से बहते हुए रतलाम शहर में मध्य प्रदेश और राजस्थान की बॉर्डर के पास चंबल नदी से मिल जाती है। चंबल नदी से शिप्रा नदी का संगम हो जाता है और यहां पर शिप्रा नदी की यात्रा खत्म हो जाती है। यहां पर चंबल और शिप्रा नदी संगम के बाद आगे बढ़ती हैं और चंबल नदी आगे जाकर यमुना नदी से मिल जाती है। शिप्रा नदी उज्जैन में मुख्य तौर पर प्रसिद्ध है। उज्जैन की शिप्रा नदी के किनारे बहुत सारे मंदिर हैं और उज्जैन में शिप्रा नदी के किनारे सुंदर घाट भी बना हुआ है। जिसे शिप्रा घाट कहा जाता है यहां पर शिप्रा नदी के किनारे अनेकों घाट बने हुए हैं और वे सभी घाट प्रसिद्ध हैं और लोग यहां पर आकर स्नान करते हैं। इन घाटों को अलग-अलग नामों से जाना जाता है, मगर यह घाट उज्जैन शिप्रा घाट के नाम से प्रसिद्ध है। उज्जैन में शिप्रा नदी के किनारे रामघाट बहुत प्रसिद

सुनार नदी सागर - Sunar river sagar

सुनार नदी की जानकारी  और  सुनार नदी का उद्गम स्थल -  Sunar River Information and Sunar River Origin सुनार नदी मध्य प्रदेश की एक प्रमुख नदी है। सुनार नदी मध्य प्रदेश के सागर जिले से निकलती है। सुनार नदी मध्य प्रदेश के सागर और दमोह जिले में बहती हुई केन नदी से मिल जाती है। सुनार नदी केन नदी की सहायक नदी है और केन नदी से मिलने के बाद सुनार नदी का सफर खत्म हो जाता है। सुनार नदी सागर जिले के केसली तहसील से निकली है। सुनार नदी सागर और दमोह जिले के मैदानी और पहाड़ी क्षेत्रों से बहते हुए केन नदी से मिलती है। सुनार नदी केसली तहसील से बहते हुए गौरझामर तहसील में बहती है। उसके बाद यह रहली तहसील में में बहती है।  रहली तहसील में सुनार नदी की सहायक नदी देहर नदी भी देखने के लिए मिलती है। देहर नदी और सुनार नदी का संगम स्थल रहली तहसील में देखने के लिए मिलता है। यह बहुत सुंदर है। रहली तहसील में सुनार नदी के किनारे बहुत सारे प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर प्राचीन सूर्य देव का मंदिर देखने के लिए मिलता है और रहली का किला भी देखने के लिए मिलता है। रहली के बाद सुनार नदी गढ़ाकोटा तहसील

बीना नदी मध्य प्रदेश - Bina river Madhya Pradesh

बीना नदी की जानकारी  और  बीना नदी का उद्गम स्थल -  Bina River Information and  Bina River Origin बीना नदी मध्य प्रदेश की प्रमुख नदी है। बीना नदी बेतवा नदी की सहायक नदी है। बीना नदी मध्य प्रदेश के रायसेन जिले से निकलती है। बीना नदी मध्य प्रदेश के मैदानी भाग और पर्वतीय भाग से बहते हुए बेतवा नदी से मिल जाती है। बीना नदी रायसेन जिले से निकलकर सागर और विदिशा जिले में बहती है और विदिशा जिले में कुरवाई में बीना नदी का बेतवा नदी से संगम हो जाता है।  बीना नदी की उत्पत्ति रायसेन जिले के गैरतगंज तहसील से होती है।  गैरतगंज  तहसील से बहते हुए बीना नदी बेगमगंज तहसील में बहती है। उसके बाद बीना नदी सागर जिले में प्रवेश करती है और राहतगढ़ तहसील में बहती है।  सागर की राहतगंज तहसील में बीना नदी जीवन रेखा है, क्योंकि बीना नदी के पानी का उपयोग पीने के लिए यहां पर किया जाता है।   राहतगढ़ तहसील में बीना नदी सुंदर पहाड़ियों से बहती है। यहां पर बीना नदी का सौंदर्य देखते ही बनता है। यहां पर बीना नदी बहुत सुंदर लगती है। मगर यहां पर बीना नदी बहुत गहरी भी है।  यहां पर बहुत सारी दुर्घटनाएं हो चुकी हैं

तवा नदी मध्य प्रदेश - Tawa River Madhya Pradesh

तवा नदी की जानकारी  और  तवा नदी का उद्गम स्थल -  Tawa River Information and Tawa River Origin तवा नदी मध्य प्रदेश की प्रमुख नदी है। तवा नदी मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले से निकलती है। तवा नर्मदा नदी की सहायक नदी है। तवा नदी मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले में नर्मदा नदी से मिल जाती है। तवा और नर्मदा के संगम स्थल को बांद्राभान के नाम से जाना जाता है। यह जगह बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर बहुत बड़ा मैदान देखने के लिए मिलता है। यहां पर हर साल  मकर संक्रांति के समय बहुत विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। यह बांद्राभान होशंगाबाद से 7 किलोमीटर दूर है। तवा और नर्मदा नदी का संगम बहुत ही सुंदर लगता है। तवा नदी छिंदवाड़ा शहर से निकली है और यह छिंदवाड़ा शहर से निकलने के बाद बैतूल जिले में बहती है। बैतूल जिले की पहाड़ियों और घाटियों से बहते हुए, यह इटारसी में पहुंचती है और यह होशंगाबाद में जाकर नर्मदा नदी से मिल जाती है। तवा और नर्मदा नदी का संगम स्थान बहुत ही विशाल है। इस क्षेत्र में रेत का उत्खनन भी होता है। तवा नदी में यहां पर बहुत अधिक मात्रा में रेत निकाली जाती है। बांद्राभान जाने वाली सड़क में

केन नदी का उद्गम स्थल - Ken River Origin

केन नदी कटनी जिला मध्य प्रदेश - Ken River Katni District Madhya Pradesh /  Origin point of Ken river केन नदी  की जानकारी -  Ken River information केन नदी मध्यप्रदेश की एक प्रमुख नदी है। केन नदी का प्राचीन नाम कर्णावती है। केन नदी मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश दोनों राज्यों में बहती है। केन नदी यमुना नदी की सहायक नदी है। केन नदी मध्य प्रदेश के कटनी जिले से निकलती है। केन नदी कटनी जिले से निकलकर बहती हुई पन्ना जिले में प्रवेश करती है। केन नदी के किनारे बहुत सारे धार्मिक, ऐतिहासिक और प्राकृतिक स्थल देखने के लिए मिलते हैं। केन नदी के किनारे हिंदू मंदिर पांडवन देखने के लिए मिलता है। यहां पर सुंदर जलप्रपात भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर प्राचीन है।  केन नदी पन्ना राष्ट्रीय उद्यान की सीमा बनाती है। पन्ना राष्ट्रीय उद्यान केन नदी के किनारे ही बसा हुआ है और फल फूल रहा है। पन्ना नेशनल पार्क में केन नदी के किनारे आपको गिद्धों का साम्राज्य देखने के लिए मिल जाएगा। केन नदी पन्ना नेशनल पार्क के किनारे से बहती है। केन नदी का यहां का दृश्य बहुत सुंदर रहता है। केन नदी का पानी हरे कलर का रहता है और साफ

बेतवा नदी का उद्गम स्थल - Origin Place of Betwa River

बेतवा नदी की पूरी जानकारी  और बेतवा नदी उद्गम स्थल -  Betwa River Information and B etwa River Origin Point बेतवा नदी मध्य प्रदेश  राज्य की  एक मुख्य नदी है। बेतवा नदी का प्राचीन नाम वेत्रवती है। बेतवा नदी यमुना नदी की सहायक नदी है। बेतवा नदी मध्य प्रदेश की पूजनीय नदी है। बेतवा नदी के किनारे बहुत सारे धार्मिक स्थल और तीर्थ स्थल मौजूद है। बेतवा नदी मध्य प्रदेश के भोपाल, विदिशा, गंजबासौदा, बीना कुरवई, ओरछा जैसे जिलों से बहते हुए उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा में बहती है। बेतवा नदी उत्तर प्रदेश के झांसी, चिरगांव, हमीरपुर क्षेत्र में बहती है और हमीरपुर जिले के पास यमुना नदी से मिल जाती है। बेतवा नदी पर बहुत सारे बांध बने हुए हैं। इन बांधों में प्रमुख बांध है - राजघाट बांध, माताटीला बांध, सुकमा दुकमा बांध। यह बांध बहुत प्रसिद्ध है। यह बांध मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की सीमा पर बने हुए हैं। यह बांध बहुत सुंदर हैं और बरसात के समय में यह पर्यटन का मुख्य आकर्षण होते हैं।  बेतवा नदी के किनारे कई सारे धार्मिक और प्राकृतिक स्थल मौजूद हैं। विदिशा जिले में बेतवा नदी के किनारे आपको प्र