सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

मई, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हिरन नदी का उद्गम स्थल - The origin of the Hiran river

हिरन नदी जबलपुर मध्य प्रदेश - Hiran Nadi Jabalpur Madhya Pradesh   हिरण नदी मध्य प्रदेश के प्रमुख नदी है। हिरन नदी मध्य प्रदेश के जबलपुर और नरसिंहपुर जिले में बहती है। इस नदी के बारे में मध्य प्रदेश के अधिकतर लोगों को पता नहीं होगा। मगर यह नदी मध्य प्रदेश के बहुत से गांव एवं शहरों के शहरों की भूमि को पानी से सिंचित करती है। हिरण नदी नरसिंहपुर में हीरापुर के पास में नर्मदा नदी से मिल जाती है। हिरण नदी का सफर अर्थात हिरन नदी की उत्पत्ति जबलपुर के एक छोटे से नगर कुंडम से होती है। हिरण नदी जितने भूमि को सिंचित करती है। उसी तरह यह धार्मिक रूप से भी प्रसिद्ध है।     हिरण नदी के किनारे बहुत सारे धार्मिक स्थल एवं इन धार्मिक स्थलों में से दो स्थलों के बारे में मुझे जानकारी है। हिरण नदी के किनारे ही सतधारा में प्रसिद्ध मेला लगता है। यहां पर शिव जी का प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है और यहां पर मकर संक्रांति के समय बहुत बड़े मेले का आयोजन होता है, जिसमें आसपास के गांव वाले एकत्र होते हैं। सतधारा में हिरण नदी सात धाराओं में बटी हुई देखने के लिए मिलती है। यहां पर हिरण नदी का दृश्य बहुत स

छत्रसाल पार्क पन्ना - Chhatrasal Park Panna

छत्रसाल पार्क पन्ना - Chhatrasal Park Panna   छत्रसाल पार्क पन्ना शहर में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। छत्रसाल उद्यान बहुत ही सुंदर है। पार्क में चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर सुंदर फूलों के पौधे लगाए गए हैं। यहां पर आपको मछली घर देखने के लिए मिलता है। यहां पर बदक भी देखने के लिए मिलती है और खरगोश भी आपको यहां पर देखने के लिए मिल जाता है। इस पार्क में एंट्री फ्री है। इस पार्क में छत्रसाल महाराज की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलते हैं। पार्क के एक तरफ प्राचीन इमारतें देखने के लिए मिलती हैए जो महाराजा छत्रसाल के समय में बनाई गई थी।     छत्रसाल पार्क में हम लोग सुबह के समय घूमने गए थे। हम लोग इस पार्क में अपनी स्कूटी से घूमने गए थे। पार्क के बाहर ही पार्किंग की व्यवस्था है। हम लोगों ने अपनी गाड़ी पार्किंग में खड़ी कर दिया। यहां पर जब हम लोग गए थे। तब यहां पर कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा था। नाली बन रही थी, तो हम लोग गाड़ी खड़ी करने में थोड़ा हिचक लग रही थी और यहां पर सब्जी मंडी भी है और बहुत ज्यादा भीड़ थी, जिससे हमें डर लग रहा था। कि गाड़ी को कोई नुकसान ना हो। मगर हम लोगों ने

केन घड़ियाल अभयारण्य खजुराहो - Ken Gharial Sanctuary Khajuraho

केन घड़ियाल अभयारण्य - K en Ghadiyal Abhyaran Khajuraho केन घड़ियाल अभयारण्य खजुराहो नगर के पास में स्थित एक प्रसिद्ध जगह है। केन घड़ियाल अभयारण्य को केन वन्यजीव अभयारण्य, केन अभयारण्य, केंद्र सेंचुरी, केन घड़ियाल सेंचुरी के नाम से भी जाना जाता है। केन घड़ियाल अभयारण्य पन्ना टाइगर रिजर्व का ही एक हिस्सा है। यहां पर आपको घड़ियाल देखने के लिए मिल जाते हैं और मगरमच्छ देखने के लिए मिल जाते हैं। घड़ियाल का मुंह लंबा होता है और यह मगरमच्छ से छोटे रहते हैं। यह दोनों ही जानवर केन नदी पर देखने के लिए मिल जाते हैं। केन वन्य जीव अभ्यारण बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आप मगरमच्छ और घड़ियाल को देखने के अलावा भी अन्य वन्य प्राणी को भी देख सकते हैं। यहां पर आप मोर, चीतल, सियार, नीलगाय इन सभी जानवरों को देख सकते हैं।  यहां पर और जानवर रहते हैं, जो यहां पर शाम के समय आपको देखने के लिए मिल जाते हैं। दिन के समय जानवर आराम करते हैं इसलिए वह शाम के समय घूमने निकलते हैं।  हम लोग रानेह जलप्रपात घूम कर मगरमच्छ देखने के लिए केन घड़ियाल अभयारण्य में आगे बढ़े। हम लोगों को यहां पर कैंटीन वाले भैया ने ब

रानेह जलप्रपात खजुराहो - Raneh Falls Khajuraho

रानेह झरना खजुराहो -  Raneh waterfall Khajuraho रानेह झरना खजुराहो नगर के पास में स्थित एक प्रसिद्ध जगह है। यह एक सुंदर जलप्रपात है। रानेह जलप्रपात खजुराहो से 19 किलोमीटर दूर है। हम लोग इस जलप्रपात में अपनी स्कूटी से आए थे। रानेह जलप्रपात में कार एवं ऑटो वगैरह से भी आराम से पहुंचा जा सकता है।  रानेह जलप्रपात  केन नदी पर बना बनता है और बहुत ही आकर्षक लगता है। यहां पर जो चट्टाने हैं। वह कुछ अलग प्रकार की है। यहां पर आपको अलग-अलग रंगों की चट्टाने देखने के लिए मिल जाती हैं। हम लोगों को यहां पर लाल, काले, पीले, सफेद रंग की चट्टाने देखने के लिए मिली थी। रानेह जलप्रपात पन्ना टाइगर रिजर्व का एक हिस्सा है।  हम लोग रानेह जलप्रपात जब गए थे। तब यहां गर्मी का समय था और झरना नहीं बह रहा था। मगर हम लोग खजुराहो गए थे। इसलिए हम लोग रानेह जलप्रपात भी घूमने के लिए चले गए थे। यहां पर सबसे पहले रानेह जलप्रपात में पहुंचकर टिकट लेना पड़ता है। उसके बाद मुख्य गेट से प्रवेश करते हैं और अंदर आपकी टिकट चेक होती है। उसके बाद हम मुख्य जंगल में प्रवेश करते हैं। रानेह जलप्रपात टिकट काउंटर से करीब  3 किलोमीटर दूर ह

वामन मंदिर खजुराहो - Vamana Temple Khajuraho

खजुराहो का वामन मंदिर -  Vamana Mandir khajuraho वामन मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। यह मंदिर ब्रह्मा मंदिर के आगे स्थित है। इस मंदिर में आपको विष्णु भगवान जी के वामन अवतार के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर भी एक ऊंचे मंडप पर बना हुआ है और बहुत खूबसूरत लगता है। ब्रह्मा मंदिर, जवारी मंदिर  और वामन मंदिर यह तीनों मंदिर आसपास में ही स्थित है और आप जब कभी भी खजुराहो घूमने जाते हैं, तो इन तीनों मंदिर में घूम सकते हैं।  खजुराहो के वामन मंदिर की वास्तुकला -  Architecture of Vamana Temple of Khajuraho खजुराहो का वामन मंदिर बहुत ही सुंदर है। यह मंदिर निरंधार शैली में बना हुआ है। इस मंदिर के अंदरूनी भाग को देखने पर 4 भाग आपको देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको मंडप, महा मंडप, अंतराल और गर्भ ग्रह देखने के लिए मिलता है। यहां पर प्रदक्षिणा पथ नहीं बनाया गया है। इस मंदिर के गर्भ गृह में चतुर्भुजी वामन की प्रतिमा स्थापित की हुई है, जिनके बाएं ओर चक्रपुरुष एवं दाये ओर शंख पुष्प का अंकन है। मंदिर के गर्भ गृह के प्रवेश द्वार सप्तशाखाओं से अलंक

जवारी मंदिर खजुराहो - Javari Temple Khajuraho

खजुराहो का जवारी मंदिर -  Javari Mandir Khajuraho जवारी मंदिर खजुराहो में स्थित प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। जवारी  मंदिर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यहां पर विष्णु भगवान की जो प्रतिमा स्थापित है, वह प्रतिमा खंडित अवस्था में है और उस प्रतिमा का सर आपको देखने के लिए नहीं मिलेगा। आप जब भी खजुराहो घूमने के लिए आते हैं, तो इस मंदिर में भी घूमने के लिए आ सकते हैं ,यह मंदिर ब्रह्मा मंदिर के आगे स्थित है। इस मंदिर में खूबसूरत गार्डन बना हुआ है और गार्डन के बीच में जवारी  मंदिर बना हुआ है, जो बहुत सुंदर लगता है।  खजुराहो के जवारी मंदिर की मूर्ति कला - Statue of Javari Temple of Khajuraho खजुराहो जवारी  मंदिर की मूर्ति कला बहुत ही अद्भुत है। जवारी मंदिर की बाहरी दीवार मूर्ति कला से सुसज्जित है। जब आप इस मंदिर में जाते हैं, तो आपको मंदिर के प्रवेश द्वार पर तोरण देखने के लिए मिलता है। इसे मकर तोरण कहते हैं। यह एक ही पत्थर का बना हुआ है और बहुत ही खूबसूरत लगता है। आप मंदिर के अंदर जाते हैं, तो मंदिर के अंदर आपको मंदिर के गर्भ गृह के प्रवेश द्वार में खूबसूरत मू