सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पुष्कर के दर्शनीय स्थल - Pushkar Tourist Places / Pushkar Famous Place

पुष्कर पर्यटन स्थल - Places to visit in Pushkar / Pushkar Attractions / Best tourist places in Pushkar 


पुष्कर के बारे में जानकारी

पुष्कर राजस्थान का एक सुंदर शहर है। पुष्कर अजमेर के पास स्थित है। अजमेर से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पुष्कर शहर चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है और यहां पर आपको बहुत सारे मोर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर ठंड के समय चारों तरफ कोहरा छाया हुआ रहता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। पुष्कर में घूमने की बहुत सारी जगह है। पुष्कर में करीब 300 से भी ज्यादा मंदिर है। आपको यहां पर घूमने में 1 दिन पूरा लग जाता है। यहां पर देश और विदेश से लोग घूमने के लिए आते हैं। पुष्कर ब्रह्मा मंदिर के लिए प्रसिद्ध है, क्योंकि भारत का इकलौता ब्रह्मा मंदिर पुष्कर में स्थित है। पुष्कर शहर में आप घूमने के लिए आ सकते हैं और यहां पर आपको मानसिक और आत्मिक शांति मिलेगी। 


पुष्कर में घूमने लायक जगह


पुष्कर झील - Pushkar Lake

पुष्कर झील पूरे भारत देश का एक प्रसिद्ध स्थल है। पुष्कर झील एक धार्मिक स्थल है। यह एक तीर्थ स्थल है। पुष्कर झील पुष्कर में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। पुष्कर झील बहुत बड़ी क्षेत्र में फैली हुई है। पुष्कर झील के चारों तरफ प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। पुष्कर झील के पास ही में ब्रह्मा मंदिर बना हुआ है। पुष्कर झील में बहुत सारे घाट बने हुए हैं। इन घाटों में आप स्नान कर सकते हैं। कहा जाता है कि पुष्कर झील का पानी अमृत के समान रहता है। इससे सभी प्रकार के रोग नष्ट हो जाते हैं। पुष्कर झील पुष्कर नगर के बीचो बीच स्थित है। इस झील के किनारे ही पूरा नगर बसा हुआ है। पुष्कर झील के किनारे पर बहुत सारे घाट बने हुए हैं। पुष्कर झील में 52 घाट बने हुए हैंए जिनमें से प्रमुख घाट है। जयपुर घाट, वराह घाट, शीतला माता घाट, ब्रह्मा घाट, सीकर घाट, यज्ञ घाट, गऊघाट। यह सभी घाट पुष्कर झील में बने घाट है और प्रसिद्ध हैं। इन सभी घाटों में आप नहाने का मजा ले सकते हैं। पुष्कर घाट में महिलाओं के लिए अलग घाट बने हुए हैं और पुरुषों के लिए अलग घाट बने हुए हैं। पुष्कर में इन घाटों में सामने की तरफ छोटा सा कुंड बना हुआ है, जिनमें आप नहा सकते हैं। पुष्कर झील में आप नहाने नहीं जा सकते हैं, क्योंकि यह झील बहुत गहरी है। इसलिए पुष्कर झील से अलग करके कुंड बनाए गए हैं, जिनमें आप नहा सकते हैं। आपको हर घाट में यह कुंड देखने के लिए मिल जाते हैं, जिनमें आप नहा सकते हैं। यहां पर घाट के किनारे बहुत सारे मंदिर भी देखने के लिए मिल जाएंगे। यह सभी मंदिर प्राचीन है। पुष्कर झील के किनारे करीब 100 से भी ज्यादा मंदिर आपको देखने के लिए मिल जाते हैं। 


ब्रह्मा मंदिर पुष्कर - Brahma Temple Pushkar

ब्रह्मा मंदिर पुष्कर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। ब्रह्मा मंदिर पुष्कर का इकलौता मंदिर है, जो ब्रह्मा जी को समर्पित है। बाकी आपको कहीं भी ब्रह्मा जी का मंदिर देखने के लिए नहीं मिलेगा। ब्रह्मा जी का मंदिर पुष्कर झील से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। यह मंदिर भीड़भाड़ वाले इलाके में स्थित है। यहां पर आपको बहुत सारी दुकान देखने के लिए मिलती हैं। यह प्रसाद की दुकान है। आप प्रसाद यहां से खरीद सकते हैं और ब्रह्मा जी को अर्पण कर सकते हैं। ब्रह्मा जी का मंदिर बहुत सुंदर है। ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की है। मगर ब्रह्मा जी का मंदिर आपको कहीं भी देखने के लिए नहीं मिलता है, क्योंकि ब्रह्मा जी को श्राप मिला है। इसलिए आप पुष्कर में ही आकर ब्रह्मा जी के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर पुष्कर झील में स्नान करके ब्रह्मा जी के दर्शन किए जाते हैं। ब्रह्मा जी के मंदिर में आपको ब्रह्मा जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती हैं। यह मंदिर लाल रंग का है। 


सावित्री माता मंदिर पुष्कर - Savitri Mata Temple Pushkar

सावित्री माता मंदिर पुष्कर शहर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है।  यह मंदिर सावित्री माता को समर्पित है। सावित्री माता ब्रह्मा जी की पत्नी है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। इस मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियों मिल जाती हैं। आप यहां पर रोपवे से भी जा सकते हैं। यहां पर आकर बहुत मजा आता है। यहां से आप चारों तरफ का दृश्य देख सकते हैं। यहां पर सूर्यास्त का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। सावित्री माता के मंदिर में बहुत सारे विदेशी लोग भी घूमने के लिए आते हैं। 


गायत्री देवी मंदिर पुष्कर - Gayatri Devi Temple Pushkar

गायत्री देवी मंदिर पुष्कर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर गायत्री माता को समर्पित है। गायत्री माता ब्रह्मा जी की दूसरी पत्नी थी। यह मंदिर भी एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। इस मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां हैं। इस मंदिर में जाकर आप गायत्री माता के दर्शन कर सकते हैं। इस मंदिर में गायत्री माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर से आप पुष्कर शहर का चारों तरफ का दृश्य देख सकते हैं। बरसात में यहां पर आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है। पुष्कर शहर अरावली पर्वत श्रेणी में स्थित है। यहां से आप पुष्कर के चारों तरफ स्थित अरावली पर्वत श्रेणी को देख सकते हैं। आपको यहां पर मजा आएगा। 


रंगजी मंदिर पुष्कर - Rangji Temple Pushkar

रंगजी मंदिर पुष्कर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यहां पर विष्णु भगवान जी रंगनाथस्वामी के नाम से पूजा जाता है। यह मंदिर बहुत पुराना है। इस मंदिर का निर्माण 1823 में हुआ था। इस मंदिर का निर्माण सेठ पूरणमल नाम से एक व्यापारी ने किया था, जो हैदराबाद के थे। इस मंदिर में आपको राजस्थानी, मुगल और राजपूताना वास्तुकला देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर पुष्कर झील के बहुत करीब है। आप इस मंदिर में घूमने के लिए जा सकते हैं। इस मंदिर का जो शिखर है। वह बहुत सुंदर लगता है और दक्षिण भारतीय स्टाइल में बना हुआ है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। 


श्री रामा वैकुंठ मंदिर पुष्कर - Sri Rama Vaikuntha Temple Pushkar

श्री रामा वैकुंठ मंदिर पुष्कर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर भी विष्णु भगवान को समर्पित है। इस मंदिर में भी विष्णु भगवान जी को रंगनाथस्वामी के रूप में पूजा जाता है। यह मंदिर भी दक्षिण भारतीय स्टाइल में बना हुआ है। इस मंदिर में आपको बहुत सुंदर सुंदर तस्वीरें देखने के लिए मिलती हैं, जिसमें विष्णु भगवान की लीलाओं को दिखाया गया है। इस मंदिर में आपको सुंदर शिखर देखने के लिए मिलता है, जो साउथ इंडियन स्टाइल में बना है। पुष्कर में दो रंग नाथ मंदिर आपको देखने के लिए मिलता है। एक बहुत पुराना है और एक अभी न्यू बनाया गया है। नए मंदिर को ही श्रीरामा बैकुंठ मंदिर कहा जाता है और यह मंदिर भी बहुत सुंदर है। यह मंदिर मुख्य पुष्कर शहर में स्थित है। यह मंदिर पुष्कर झील के पास ही में स्थित है। आप इस मंदिर में भी घूमने के लिए जा सकते हैं। इस मंदिर में आपको सुंदर मूर्तियां भी देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर एक स्तंभ भी देखने के लिए मिलता है, जिसे गरुड़ स्तंभ कहते हैं। 


गुरुद्वारा साहिब पुष्कर - Gurudwara sahib pushkar

गुरुद्वारा साहिब पुष्कर शहर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको गुरुद्वारा देखने के लिए मिलता है। यह गुरुद्वारा सफेद संगमरमर से बना हुआ है। यह गुरुद्वारा बहुत ही सुंदर लगता है। यह गुरुद्वारा पुष्कर शहर में मुख्य सड़क में स्थित है। आप गुरुद्वारे में घूमने के लिए जा सकते हैं। यह गुरुद्वारा नया रंगजी मंदिर के पास में ही स्थित है। आप अगर पुष्कर घूमने आते हैंए तो यहां पर आप ठहर भी सकते हैं। यहां पर ठहरने के लिए भी रूम मिल जाते हैं। यहां पर लंगर होता हैए तो आप लंगर में खाना खा सकते हैं। गुरुद्वारे में आप शांति के साथ बैठकर बात पाठ सुन सकते हैं। यहां पर अच्छा लगता है। 


गायत्री शक्तिपीठ मंदिर पुष्कर - Gayatri Shaktipeeth Temple Pushkar

गायत्री शक्तिपीठ मंदिर पुष्कर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर गायत्री माता को समर्पित है। मंदिर में गायत्री माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर पुष्कर शहर में मुख्य सड़क पर स्थित है। आप पुष्कर में एंट्री करते है , तो आपको यह मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर 1 शक्तिपीठ है और आप यहां पर गायत्री माता के दर्शन कर सकते हैं। 


वराह मंदिर पुष्कर - Varaha Temple Pushkar

वराह मंदिर पुष्कर शहर का एक धार्मिक मंदिर है। यह मंदिर विष्णु भगवान जी के वराह अवतार को समर्पित है। इस मंदिर में आपको वराह अवतार देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर बहुत पुराना है। यह मंदिर 10 वीं शताब्दी में बना हुआ है। यह मंदिर एक किले के आकार में बना हुआ है। मुगल शासक औरंगजेब ने इस मंदिर को नष्ट करने का बहुत प्रयास किया, मगर यह मंदिर नष्ट नहीं हो पाया। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। 


पंचकुंड तीर्थ पुष्कर - Panchkund Tirtha Pushkar

पंचकुंड तीर्थ पुष्कर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह एक मंदिर है। यह मंदिर पुष्कर शहर के बाहरी क्षेत्र में पहाड़ी के ऊपर बना हुआ है। आप यहां पर ट्रैकिंग करके पहुंच सकते हैं। इस मंदिर में आपको 5 कुंड देखने के लिए मिलते हैं, जो पांच पांडवों के नाम पर रखे गए हैं। इस जगह के बारे में कहा जाता है कि अपने अज्ञातवास के दौरान पांडव ने यहां पर निवास किया था।  आपको यहां पर उनके नाम के 5 कुंड देखने के लिए मिल जाते हैं। नाग कुंड युधिष्ठिर जी के नाम से है। सूर्य कुंड भीम जी के नाम से है। गंगा कुंड अर्जुन के नाम से है। पदम कुंड नकुल के नाम से है और चक्र कुंड सहदेव के नाम से है। नाग कुंड की महिमा बहुत है। इस कुंड के बारे में कहा जाता है, कि इस कुंड में नाग का कांटा हुआ भी जी उठता है। इस जगह में और भी बहुत सारी सुंदर जगह आपको देखने के लिए मिलती है। यहां पर महाकाली, महासरस्वती और महालक्ष्मी जी का मंदिर आपको देखने के लिए मिलता है, जो प्राचीन है और आपको यहां पर गौमुख देखने के लिए मिलेगा। अन्नपूर्णा मंदिर देखने के लिए मिलेगा। भीमा देवी मंदिर देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर नीलकंठ महादेव मंदिर भी आपको देखने के लिए मिलेगा। आप यहां पर आकर प्रकृति का मजा ले सकते हैं। 


श्री अगस्त्य मुनि गुफा पुष्कर - Shri Agastya Muni Cave Pushkar

श्री अगस्त्य मुनि की गुफा पुष्कर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह गुफा पहाड़ियों के बीच में स्थित है। इस गुफा तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। बरसात के समय यहां पर चारों तरफ हरियाली रहती है। यहां पर आपको गुफा देखने के लिए मिलती है और गुफा में अगस्त्य मुनि की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। यहां पर आप आते हैं, तो अपने साथ पानी की बोतल जरूर लाएं, क्योंकि यहां पर पीने के पानी के लिए किसी भी प्रकार का साधन नहीं है। यहां पर किसी प्रकार की सुविधा नहीं है। यह एरिया जंगल में है। इसलिए आप अपनी सुविधा के साथ यहां पर आए।  यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। 


पुष्कर डियर पार्क - Pushkar Deer Park

डियर पार्क पुष्कर में स्थित एक सुंदर जगह है। यहां पर आपको बहुत सारे हिरन देखने के लिए मिल जाते हैं। यह जगह जंगल के बीच में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हिरण को पाला गया है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। यहां पर बहुत सारी हिरण है।

 

पुष्कर का मेला - Pushkar fair

पुष्कर का मेला पूरे देश में बहुत प्रसिद्ध है। यह मेला विदेशों में भी बहुत प्रसिद्ध है। यह मेला कार्तिक पूर्णिमा में लगता है। यह मेला जानवरों का मेला है। इस मेले में जानवरों का खरीदना और बेचना होता है। इस मेले में अब बहुत सारे सांस्कृतिक आयोजन होने लगे हैं। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा और इस मेले में आप आकर अलग-अलग चीजों का आनंद ले सकते हैं। पुष्कर के मेले को ऊंट का मेला भी कहा जाता है, क्योंकि इस मेले में ऊंट का महत्व है। इस मेले में ऊंट को खरीदा और बेचा जाता है। पुष्कर में आपको बहुत सारे ऊंट देखने के लिए मिल जाते हैं। 


पुष्कर में आप क्या कर सकते हैं - Things to do in Pushkar 


कैमल सफारी पुष्कर 

पुष्कर में आप घूमने के लिए आते हैं, तो आप कैमल सफारी का मजा ले सकते हैं। कैमल सफारी में आप एक सजी-धजी हुई गाड़ी में घूमते हैं और ऊंट इस गाड़ी को चलाता है। यहां पर बहुत मजा आता है और आप जब यहां पर आएंगे, तो आपको बहुत सारे कैमल सफारी वाले देखने के लिए मिल जाते हैं। आप कैमल सफारी का जो चार्ज रहता है। वह हर जगह अलग-अलग रहता है। आप कहीं पर भी कैमल सफारी करके घूम सकते हैं। आप कैमल सफारी के द्वारा ही पुष्कर के बहुत सारे मंदिर घूम सकते हैं। कैमल सफारी का जो शुल्क रहता है। वह 1500 से 2000 के बीच रहता है। इसमें वह आपको अलग-अलग सुविधा प्रदान करते हैं। कैमल सफारी करने में बहुत मजा आता है, जो भी यहां पर नए लोग आते हैं। वह इस सफारी का मजा ले सकते हैं।


मस्तानी महल छतरपुर

सावित्री मंदिर पुष्कर

जैसलमेर का किला

जल महल जयपुर



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है। जागृति पार्क कटनी में माधव नगर में स्थित है। जागृति पार्क

बालाघाट दर्शनीय स्थल - Balaghat tourist place | Tourist places near Balaghat

बालाघाट पर्यटन स्थल - Picnic spot near Balaghat | Balaghat famous places | Balaghat Jila बालाघाट जिला Balaghat District बालाघाट मध्य प्रदेश का एक जिला है। बालाघाट छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की सीमा के पास स्थित है। बालाघाट में वैनगंगा नदी बहती है। बालाघाट में भारत की सबसे बड़ी कॉपर की खदान मौजूद है। बालाघाट का मलाजखंड क्षेत्र कॉपर का सबसे बड़ा उत्पादक क्षेत्र है। यहां खुली खदान मौजूद है। बालाघाट जबलपुर संभाग के अतंर्गत आता है। बालाघाट 10 तहसीलों में बटा हुआ है। यह तहसील है - बालाघाट, बैहर, बिरसा, परसवाडा ,कटंगी, वारासिवनी, लालबर्रा, खैरलांजी, लांजी, किरनापूर। बालाघाट जिलें में घूमने के लिए बहुत सारे प्राकृतिक एवं ऐतिहासिक स्थल मौजूद है, जहां पर जाकर आप आप अपना समय बिता सकते है। Places to visit in Balaghat बालाघाट में घूमने लायक जगहें बोटैनिकल गार्डन - Botanical Garden Balaghat वनस्पति उद्यान बालाघाट जिले में स्थित एक दर्शनीय जगह है। यह बालाघाट में घूमने के लिए अच्छी जगह है। यह उद्यान वैनगंगा नदी के किनारे स्थित है। यहां पर आपको विभिन्न तरह के वनस्पतियां

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city Betul jila बैतूल जिला बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है। यह भारत का पांचवा धाम है। ब