सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जल महल, जयपुर की यात्रा

जल महल जयपुर


जल महल, जयपुर की यात्रा


जल महल (Jal Mahalजैसा कि आपको नाम से समझ आ रहा होगा कि जल में बना महल 

जलमहल (Jal Mahal) जयपुर शहर में एक झील के बीच में बना है। यह जयपुर शहर की एक शानदार जगह है। यह एक ऐतिहासिक इमारत है। आप इस महल को दूर से रोड से देख सकते है। मगर इस महल में जाने की मनाही है। 

जलमहल (Jal Mahal) मान सागर झील (Man Sagar Lake) के बीच में बना हुआ है। जलमहल (Jal Mahal) लाल बलुआ पत्थर से बना हुआ है। इस महल में पाँच मंजिला है, जिसमें से चार मंजिल पानी में ही डूबे रहते है और उपर का एक ही तल दिखाई देता है। 

जल महल (Jal Mahal) जयपुर जिले की शान है और यह महल देखने में बहुत ही बढ़िया लगता है। इसका मुख्य आकर्षण है कि यह महल झील के बीच में है और इस महल में आप जा नहीं सकते हैं। यह आपका बैड लक है, कि आप इस जगह जा नहीं सकते हैं। आप इसको दूर से ही देख सकते हैं। ठंड के समय में यहां पर विदेशी पक्षी आते हैं, जो झील के चारों तरफ घूमते रहते है और रोड के पास में महल में बैठे हुए आपको देखने मिल जाते है। यह बहुत खूबसूरत लगते हैं। मानसागर झील (Man Sagar Lake) पहाडों से घिर हुई है। झील के एक तरफ बाउंड्री बनी है, बाउंड्री के बाजू से एक गलियारा गया है जहां पर आप खडे होकर इस जल महल (Jal Mahal) को निहार सकते है। यह पर आपको बहुत सारे खाने पीने की दुकान नजर आ जायेगी और गलियारे में शाम के समय बाजार भी भरता है। इस गलियारे से आप झील का मनोरम व्यू देख सकते है।

जल महल, जयपुर की यात्रा


हम लोग सुबह नाहरगढ़ किला देखने जा रहे थे। तब इस महल के हमें दर्शन हुए थे। हम लोग तब इस महल में नहीं रूके थे। सुबह के समय हम लोगों को विदेशी पक्षी भी देखने मिले थे। नाहरगढ़, जयगढ़ और आमेर किले को देखने के बाद शाम को हम लोग वापस लौटे। तो फिर हम लोगों ने जल महल (Jal Mahal) में कुछ समय बिताया। 

जल महल (Jal Mahal) को शाम के समय लाइटों से सजाया जाता है और यह दूर से देखने में बहुत ज्यादा अदुभ्त लगता है। झील की बाउंड्री के बाजू में जो गलियारा बना हुआ है। वहां पर बहुत बड़ा मार्केट भरता है। शाम के टाइम तो आप मार्केट से बहुत सारे सामान ले सकते हैं। यहां पर आपको राजस्थानी जूतियां मिल जाती है। आपको यहां पर बारगेन करने की जरूरत रहती है। अगर आप कुछ लेते है, तो हम लोगों ने यहां पर कुछ नहीं लिया था। अगर आप बारगेन करते हैं, तो आपको वह सामान सस्ते में मिल सकता है। यहां पर आपको बहुत सारे लोग राजस्थानी ड्रेस किराए पर उपलब्ध कराते है, जिसे पहन कर आप फोटो खिचा सकते है। राजस्थानी ड्रेस के अलावा आपको पूरी ज्वेलरी उपलब्ध कराई जाती है। इन राजस्थानी ड्रेस का किराया 150 से 200 रू तक रहता है। 

मेरे हिसाब से झील में समय बिताने का सबसे अच्छा समय शाम का रहता है, क्योंकि यहां पर शाम को झील रोशनी से जगमगाता हुआ महल बहुत मनोरम लगता है।  आप झील के सामने बैठकर इस खूबसूरत नजारे को इंजॉय कर सकते हैं। आप यहां पर ठंड में दिन के समय भी झील के सामने बैठकर झील को देख सकते हैं। यहां पर आपको अच्छा लगेगा और आपका अच्छा समय बीतेगा।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो, तो आप इस लेख को शेयर जरूर कीजिएगा। अगर आपको जयपुर सिटी घूमने का अनुभव है, तो आप अपने अनुभव हम से शेयर करें। 

अपना अपने समय दिया इसके लिए धन्यवाद



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur || नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुर

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुरनर्मदा गौ कुंभ नर्मदा नदी के किनारे लगा हुआ है। नर्मदा कुंभ में देश के कोने-कोने से साधु-संत सम्मिलित हुए हैं। नर्मदा गौ कुंभ मेले में आपको बहुत सारी अनोखी चीजों के दर्शन करने मिल जाएंगे, नर्मदा गौ कुंभ का मेला कई सालों में आयोजित किया जाता है। इस बार यह कुंभ मेला फरवरी महीने की 23 तारीख से शुरू होकर 3 मार्च तक चला है। नर्मदा गौ कुंभ मेलें में शामिल होने के लिए दूर-दूर से लोग आए हैं।



नर्मदा गौ कुंभ मेले में अयोजन मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में ग्वारीघाट के गीताधाम मंदिर के सामने वाले मैदान में किया गया था। इस मेले में बहुत से मंदिर बनाये गये थें जहां पर मूर्तियां की स्थापना की गई थी। यहां पर मां दुर्गा, श्री राम चन्द्र, माता नर्मदा जी का मंदिर बनाये गए थे। 
ग्वारीघाट के नर्मदा कुंभ में आपको साधु संतो के दर्शन करने मिलेंगे, और इस कुंभ के मेले में ग्वारीघाट के नर्मदा नदी के घाटों पर हजारों लोग श्रद्धा की डुबकी लगने देश के कोने से लोग आये हुए थे। नर्मदा गौ कुंभ का आयोजन का मुख्य उद्देश्य नर्मदा नदी को स्वच्छ बनाए रखना और गौ माता की रक्…