सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Jaipur Trip - Nahargarh Fort -- जयपुर का नाहरगढ़ किला

Nahargarh Fort Jaipur
नाहरगढ़ किला जयपुर



नाहरगढ़ किला जयपुर (Nahargarh Fort Jaipur) का एक प्रसिद्ध किला है। नाहरगढ़ किला (Nahargarh Fort ) पूरे राजस्थान में फेमस है। इस किले को देखने के लिए बहुत सारे पर्यटक आते हैं। नाहरगढ़ किला  (Nahargarh Fort की खूबसूरती निहारने के लिए फिल्मी हस्तियां भी आती है। नाहरगढ़ किला में बहुत सारी शूटिग भी हो चुकी है। नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort ) से आप पूरे शहर का खूबसूरत व्यू देख सकते हैं। नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort में आपके देखने के लिए बहुत सारी जगह है, जहां से आप इसके इतिहास को जान सकते हैं। नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort से आप खूबसूरत सनसेट का नजारा भी देखने मिलता है। 

Jaipur Trip - Nahargarh Fort -- जयपुर का नाहरगढ़ किला

Nahargarh Fort, Jaipur 


हम लोगों का जयपुर में 2 दिन रुकने का प्लान था। पहले दिन हम लोग जयपुर शहर के सभी किले घूमने वाले थे। सबसे पहले हम लोगों ने गाड़ी बुक किया था। गाडी हम लोगों की करीब 1600 रू. बुक किया गया था। हम लोग 6 लोग थे। हम लोगों की गाड़ी हम लोगों के होटल में आ गई। हम लोग नाहरगढ किले (Nahargarh Fort ) की ओर चल पडे। 

जलमहल जयपुर
Jal Mahal Jaipur


जब आप जयपुर से नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort) की तरफ जाते हैं, तो आपको खूबसूरत जल महल भी देखने मिलता है। आप ठंड के टाइम में यहां पर आते हैं, तो आपको यहां पर बहुत सारे प्रवासी पक्षी भी देखने मिलते हैं। जो यहां ठंड के समय आते हैं और यहां पक्षी  आपको दिन के समय देखने मिल जाएंगे। जो बहुत खूबसूरत लगते हैं। आप यहां दिन के समय आते हैं, तो यहां पर आपको एक भी भीड़ नहीं देखने मिलती है। बहुत कम लोग यहां पर रहते हैं। मगर यहां पर शाम के समय बाजार लगता है। जल महल में एक स्ट्रीट बनी हुई है। इस स्ट्रीट में बाजार लगता है, तो यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ होती है। शाम के समय में जल महल काफी अच्छा लगता है। क्योंकि इसमें लाइट जलती रहती है। यह महल जगमगाता रहता है। जल महल में जाने की मनाही है। जल महल को आप बाहर से देख सकते हैं। वहां पर जाने की इजाजत नहीं है। जल महल में बहुत खूबसूरत इमारत बनी हुई है। जो पानी में डूबी हुई है जिसको आप दूर से ही देख सकते हैं।

नाहरगढ़ किला पहुंचने का रास्ता
The way to reach Nahargarh Fort


जयपुर में हम लोग पहले नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort) गए। नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort) के रास्ते में आपको जो सड़क देखने मिलती है। वह पूरी घुमावदार सड़क रहती है और इस सड़क में आपको गाड़ी में चलाने में बहुत मजा आएगा।  आप यहां पर अपनी गाड़ी या स्कूटर लेकर भी जा सकते हैं। जयपुर में गाड़ी या स्कूटर आराम से रेन्ट में मिल जाती है। मगर इन  घुमावदार सडक में आपको गाड़ी संभाल कर चलाना होना होता है। यह पूरा पहाड़ी रास्ता है। इस पहाड़ी रास्ते में आपको बहुत सारे मोर देखने मिलते हैं। यहां पर मोर बहुत सारे हैं और नाहरगढ़ के पहाडी रास्ते में घूमते रहते हैं। मोर हमारा राष्ट्रीय पक्षी होता है और यहां पर पूरा समूह देख सकते है। आपको हर जगह यहां पर मोर देखने मिल जाते हैं और यहां पर मोर स्वतंत्रता से घूमते रहते हैं।

Jaipur Trip - Nahargarh Fort -- जयपुर का नाहरगढ़ किला

Nahargarh Fort, Jaipur 

नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort) के पहाड़ी रास्तें से आपको जयपुर शहर का बहुत खूबसूरत व्यू देखने मिलता है। आप इस पहाडी रास्ते से गुजरते हुए नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fortएंट्री गेट पहुॅचते है। एंट्री गेट के पहले आपको पर्किग का बहुत बडा स्पेस देखने मिलता है। हम लोग इस किले में जल्दी आ गये थे। इसलिए हम लोगों को यह पर एंट्री गेट के अंदर जाने मिल गया था, नहीं तो हम लोग को एंट्री गेट से पैदल चलना पडता। आपको एंट्री गेट से करीब 1 किमी चलना होता है। हम एंट्री गेट देखने मिल । एंट्री गेट से आप अंदर जाते हैं। एंट्री गेट में आपका गाडी ले जाने का अलग चार्ज लिया जाता है। शायद 100 रू लिया गया था। उसके बाद हम लोग अंदर गए। अंदर आपको गाडी के लिए पर्किग और एक एंट्री गेट और दिखाया देता है। 

यहां पर आपको अपनी गाड़ी पार्क करना है। अगर आप जल्दी आते है तो यहां पर अपनी गाडी पार्क कर सकते है। हम लोगों ने भी यहां पर अपनी गाड़ी पार्क कि, यहां पर आपको खाने के लिए कुछ सामग्रियां मिल जाती है। जिन्हें आप खरीद सकते हैं। मगर यहां पर ये वस्तुए बहुत महंगा मिलता है, तो आप देख लीजिएगा। हम लोग ने यहां पर एक बीही लिया था। यहां पर एक बीही 50 रू. की थी। बीही बड़ी थी, मगर 50 रू. बहुत ज्यादा होता है। इसके अलावा यहां पर हम लोगों को चावल के पापड़ एवं मसाले वाले चने खाने मिले थे। 

आप नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort) में सुबह आते है, तो आपको भीड कम मिलती है। मगर यहां पर दोपहर का बहुत ज्यादा भीड हो जाती है। आप यहां पर दोपहर में आते है तो आपको गाडी पहले वाले एंट्री गेट से बाहर खडी करना होगा और वहां से पैदल आना होगा। 

Jaipur Trip - Nahargarh Fort -- जयपुर का नाहरगढ़ किला

Nahargarh Fort Entry gate 


नाहरगढ़ किले (Nahargarh Fort) पर जो एंट्री गेट देखने मिलता है। वह भी पुराने जमाने का  गेट है। जो बहुत शानदार लगता है। हम लोगों ने एंट्री गेट से टिकट लिया। यहां पर टिकट लेना पड़ता है। यहां से आप टिकट लेते हैं। करीब 50 या 30 रू. का टिकट मिलता है। मुझे अभी याद नहीं है। टिकट लेने के बाद आप अंदर प्रवेश करते हैं। आपको यहां पर बहुत सारी चीजें देखने मिलती है। सबसे पहले यहां पर आपको देखने मिलता है। मोम संग्रहालय, मोम संग्रहालय बहुत खूबसूरत संग्रहालय है। इसके बारे में मैं एक अलग लेख लिखूगी। उसके बाद आप अंदर जाते हैं तो यहां पर आपको बहुत ही खूबसूरत किला देखने मिलता है। यहां पर जो किला है वह नाहरगढ़ किले के नाम से प्रसिद्ध है और यहां पर किले से एक दीवार गुजरती है। यहां दीवार आपको पूरा अरावली पर्वत पर देखने मिल जाती है। यह दीवार नाहरगढ किला (Nahargarh Fort ), जयगढ किला (Jaigarh Fortऔर आमेर किले (Amer Fortका घेर हुई है। किले के सामने एक खूबसूरत बावड़ी है। वह भी आप देख सकते हैं। इसके अलावा यहां पर पानी एकत्र करने के लिए एक बड़ी सी कुआं बना है। उसको भी आप देख सकते हैं। इसके अलावा यहां पर और भी बहुत खूबसूरत व्यू  पॉइंट है। जिनकी खूबसूरती आप निहार सकते हैं। आप जब महल के उपरी सिरे में जाते है तो आपको पूरे जयपुर शहर का यह मनोरम दृश्य मिलता है।

Jaipur Trip - Nahargarh Fort -- जयपुर का नाहरगढ़ किला

Inside Nahargarh Fort 


नाहरगढ़ किला (Nahargarh Fort) बहुत ही खूबसूरत किला है। आप यहां पर आकर अपनी यात्रा का भरपूर आंनद ले सकते है। आप यहां पर अपने परिवार और दोस्तों के साथ आकर बहुत एजाॅय कर सकते है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो, तो आप इस लेख को शेयर जरूर करें। अगर आप जयपुर गए हो या आपको नाहरगढ़ किले का अनुभव हो। तो आप अपने विचार हमसे साझा जरूर करें। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur || नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुर

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुरनर्मदा गौ कुंभ नर्मदा नदी के किनारे लगा हुआ है। नर्मदा कुंभ में देश के कोने-कोने से साधु-संत सम्मिलित हुए हैं। नर्मदा गौ कुंभ मेले में आपको बहुत सारी अनोखी चीजों के दर्शन करने मिल जाएंगे, नर्मदा गौ कुंभ का मेला कई सालों में आयोजित किया जाता है। इस बार यह कुंभ मेला फरवरी महीने की 23 तारीख से शुरू होकर 3 मार्च तक चला है। नर्मदा गौ कुंभ मेलें में शामिल होने के लिए दूर-दूर से लोग आए हैं।



नर्मदा गौ कुंभ मेले में अयोजन मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में ग्वारीघाट के गीताधाम मंदिर के सामने वाले मैदान में किया गया था। इस मेले में बहुत से मंदिर बनाये गये थें जहां पर मूर्तियां की स्थापना की गई थी। यहां पर मां दुर्गा, श्री राम चन्द्र, माता नर्मदा जी का मंदिर बनाये गए थे। 
ग्वारीघाट के नर्मदा कुंभ में आपको साधु संतो के दर्शन करने मिलेंगे, और इस कुंभ के मेले में ग्वारीघाट के नर्मदा नदी के घाटों पर हजारों लोग श्रद्धा की डुबकी लगने देश के कोने से लोग आये हुए थे। नर्मदा गौ कुंभ का आयोजन का मुख्य उद्देश्य नर्मदा नदी को स्वच्छ बनाए रखना और गौ माता की रक्…