सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Deogaon Sangam Ghat Mandir - देवगांव संगम घाट मंदिर

Deogaon Sangam Ghat Mandir Mandla

देवगांव संगम घाट मंदिर

देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir) एक ऐसी जगह है। जहां पर आप नर्मदा नदी का किनारा देख सकते हैं। नर्मदा नदी का इस स्थल पर एक अन्य नदी से संगम होता है। आप दोनों नदियों का संगम देख सकते हैं। इस संगम में स्थल पर आपको मंदिर भी देखने मिलता है। यहां का जो नजारा है वह बहुत ही शांत और खूबसूरत है। यह जगह बहुत ही प्यारी है आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा।

देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir) नर्मदा नदी और बुढनेर नदी का संगम स्थल है। इस स्थल पर यह दोनों नदियां मिलती हैं। इसलिए इस जगह को संगम स्थल कहा जाता है। इस स्थल का नजारा बहुत ही सुंदर है। 

Deogaon Sangam Ghat Mandir - देवगांव संगम घाट मंदिर

Deogaon Sangam Ghat Mandir  


देवगांव संगम मंदिर कहां स्थित है
Where is Devgaon Sangam Temple located


देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir) मंडला शहर में स्थित है। यह स्थल देवगांव नाम के गांव में स्थित है। मंडला मध्यप्रदेश का एक जिला है। देवगांव संगम स्थल मंडला शहर से करीब 30 से 35 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस जगह पर आप अपनी गाड़ी से आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आने के लिए आपको अच्छी रोड मिल जाती है। इस स्थल पर आपको आकर बहुत अच्छा लगता है। 

देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir) रामनगर से करीब 20 किलोमीटर दूर पर होगा। रामनगर मंडला जिले का एक प्रसिद्ध गांव है। हम लोगों को रामनगर से ही अपना सफर शुरू करना था। 

देवगांव संगम घाट मंदिर कैसे पहुंच सकते हैं
How to reach Devgaon Sangam Sthal Temple


आपको अगर देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir) में पहुंचना है, तो आपको मंडला से डिंडोरी वाली हाईवे रोड पर चलना होता है। आपको यहां पर देवगांव नाम का एक गांव मिलता है। मेन रोड में ही आपको बोर्ड देखने मिलता है। उसमें देवगांव तीर्थ स्थल का नाम लिखा रहता है और आपको डारेक्शन दिया होता है। आपको इस बोर्ड से करीब एक से 2 किलोमीटर गांव की तरफ अंदर जाना पड़ता है। मेन रोड से आप इस तीर्थ स्थल तक पहुंच सकते हैं। आपको इस तीर्थ स्थल में मंदिर देखने मिलते हैं। नर्मदा नदी का बहुत ही खूबसूरत व्यू देखने मिलता है। इसके अलावा आप यहां से बुढनेर नदी को भी देख सकते हैं। हम लोग गलत साइड चले गए थे। तो हम लोगों को यह सब मंदिर देखने नहीं मिला था। मगर आप अगर जाते हैं तो आप सही साइड से जाइएगा। आपको गांव मिलेगा देवगांव उसके बाद आप बोर्ड को देखकर सही डायरेक्शन में जाइएगा। ताकि आप इस जगह का अच्छी तरह से एंजॉय कर सकें।

देवगांव संगम घाट मंदिर  का सफर
Travel to Deogaon Sangam Ghat Mandir


राय भगत की कोठी घूमने के बाद हम लोग अपने अगले डेस्टिनेशन की तरफ निकल गए थे। हम लोग राय भगत की कोठी से निकल कर एक दुकान पर  हम लोगों ने चाय पिया, क्योकि इसकें बाद हम लोग कहीं रूकना नहीं चाहते थे। उसके बाद हम लोग आगे बढ़ गई। 

अगर अपने मेरे सारे ब्लाॅग पढे होगें तो आपको पता होगा कि हम लोग सुबह से निकले हैं और सुबह से हम लोग पहले सहस्त्रधारा गए, उसके बाद रपटा घाट और उसके बाद मोती महल और राय भगत की कोठी इतनी सारी जगह घूमने के बाद हम लोग देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir) गए। 

अपनी अगली मंजिल के जाने वाले रास्ते में हमको बहुत सारी अच्छी अच्छी वस्तुओं के दर्शन करते हुए। हम अपने सफर में चले जा रहे थे। यहां पर उंचे उंचे पहाड, कहीं कहीं पर नदी, कहीं कही पर खेत देखने मिलते है। अपनी गाडी में सफर का मजा ही कुछ और होता है। आपको इस रोड कई गांव भी देखने मिलते है। हम लोग जिस रास्ते में जा रहे थे, वहां मंडला जिले से डिंडोरी जिले की तरफ जाता है। हम लोग हाईवे रोड पर चल रहे थे। 
इस जगह के पास पहुॅचकर हम लोगों ने गांव वालो से इस जगह में जाने का रास्ता पूछा। गांव वालों ने हम लोगों का रास्ता बताया। मगर हम लोगों गलत रास्तें में चलकर नर्मदा नदी के गलत साइड में पहुॅच गए। हम लोग इस साइड से सिर्फ नर्मदा जी के दर्शन कर सकते थे। दूसरी नदी आई थी उसके दर्शन कर सकते थे। यहां पर हम लोग अपनी गाड़ी खड़ी कर दिया। हम लोग को नीचे उतर के जाना था। 

Deogaon Sangam Ghat Mandir - देवगांव संगम घाट मंदिर

Deogaon Sangam Ghat Mandir  


देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir पर आप एक गांव के माध्यम से और गांव में जो सड़क है। उसके माध्यम से इस जगह पर पहुंचते हैं। हम लोग गलत साइड आ गए थे। यहां पर एक बडा सा बरगद का पेड था और यहां पर एक छोटा सा शायद मंदिर था या किसी तरह का कार्यालय वगैरह था। हम लोगों ने अपनी गाड़ी वहीं खड़ी करी और हम सीढ़ियां नीचे गए, तो यहां पर आप नर्मदा नदी और बुढनेर नदी का संगम  देख सकते हैं। यहां पर नर्मदा नदी गहरी नहीं है, उथली है। आप आराम से नर्मदा नदी पार कर सकते हैं। मगर नर्मदा नदी का बहाव बहुत तेज है यहां पर। आप गर्मी के मौसम में इस नदी को पार कर सकते हैं। नदियों के आर पार जा सकते हैं। मगर बरसात के मौसम में आप नदियों के आर पार नहीं जा सकते हैं। क्योंकि बरसात के टाइम पर यहां पर बहुत ज्यादा पानी रहता है। इसलिए आप इस बात का ध्यान दीजिए अगर यहां पर ज्यादा बहाव रहे तो नदी को पार करने की कोशिश ना करें।

देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir पर बहुत बड़ा मैदान था। मैदान में बहुत से लड़के लोग थे। गांव वाले ही होंगे और वह यहां पर मछली पकड़ रहे थे। कुछ लोग बैठे हुए थे। इस जगह पर आप आकर अपनी पिकनिक प्लान कर सकते हैं। यहां पर आकर आप काफी इंजॉय कर सकते हैं।

देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir जो लोग आते है। नर्मदा नदी में स्नान करते हैं। नर्मदा मैया की पूजा करते हैं। यहां पर कक्कड़ और भरता बनाते हैं। उन्हें कंडे आस-पास के गांव में मिल जाते हैं। यहां पर कक्कड़ भर्ता बनाते हैं। कक्कड़ भर्ता भारत के गांव देहातों का एक मशहूर व्यंजन है। और यह खाने में बहुत अच्छा लगता है यहां पर आपको बहुत सी जगह राख के ढेर देखने मिल जाएंगे। यहां पर अपना अच्छा टाइम बिताते हैं। 

देवगांव संगम स्थल के मंदिर
Temple of Deogaon Sangam Ghat Mandir

देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir पर बहुत सारे मंदिर हैं। आप यहां पर बहुत सारे मंदिरों के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर जमदग्नि ऋषि आश्रम है। यहां जमदग्नि ऋषि का निवास स्थल है। यहां पर नर्मदा जी का मंदिर है। उनके दर्शन कर सकते हो। यह शिव मंदिर होग। नर्मदा तट के पास ही में एक मंदिर बना हुआ है। यहां पर आपको आकर बहुत अच्छा लगता है। एक तो यहां का  प्राकृतिक वातावरण और यहां का धार्मिक माहौल आपको बहुत अच्छा लगेगा।

देवगांव संगम स्थल पर लगने वाला मेला
Fair to be held at Deogaon Sangam Ghat Mandir


देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandir में 14 जनवरी में मकर संक्रांति के समय यहां पर मेले का आयोजन किया जाता है। यहां पर विशाल संख्या में लोग यहां पर आते हैं और स्नान करते है। मकर संक्रांति के बारे में कहा जाता है कि मकर संक्रांति  के दिन नदियों में स्नान करना शुभ माना जाता है। इसलिए लोग बड़ी संख्या में यहां पर आते हैं। नर्मदा जी में स्नान करते हैं। यहां पर इस समय तरह-तरह की दुकानें लगांई जाती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है।

आप देवगांव संगम घाट मंदिर (Deogaon Sangam Ghat Mandirपर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं। यहां पर बाथरूम वगैरह की सुविधा उपलब्ध नहीं है। तो इस बात का विशेष ध्यान   रखें। यहां पर आसपास चाय नाश्ते की दुकान में उपलब्ध नहीं है। इस बात का भी विशेष ध्यान दें। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसलिए को जरूर शेयर कीजिएगा और अगर आपने मंडला जिले की टूरिस्ट प्लेस के दर्शन किए हो तो अपने विचार हम से सांझा जरूर करें ।

आपने अपना बहुमूल्य समय दिया उसके लिए धन्यवाद



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन
मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )  में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी। 



मठघोघरा झरना एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात (Math Ghogra Waterfall ) तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )तक पहुॅचने के लिए आपको पक्की रोड मिल जाती है। आपको इस जगह तक पहुॅचने के लिए पहले लखनादौन पहुॅचना पडता है। आपको इस जगह प…