सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Haunted Place of India - भारत की भूतिया जगह

भारत की भूतिया जगह है जहां पर लोग जाने से डरते हैं रात में

Haunted place of India


भारत में बहुत सी जगह है। जहां पर भूत होने के दावे किया जाते है। आज के लेख में मैं आपको भारत की भूतिया जगहों की जानकारी दूगी। इन जगहों पर पर रात में लोगों के जाने में मनाही है। चलिये जानते है इन जगहों के बारें में

Haunted Place of India - भारत की भूतिया जगह


1. भानगढ़ का किला , राजस्थान 


राजस्थान के अलवर जिले का भानगढ़ भारत के सबसे ज्यादा डरावनी जगहों में से एक है। भानगढ़ का किला भूतिया किले के रूप में जाना जाता है। भानगढ एक रहस्यमय जगह है। भानगढ़ का किला को सत्रहवीं शताव्दी में राजा माधो सिंह ने बनवाया था। लोगों का कहना है कि इस महल में आत्माओं का वास है। सरकार ने यह चेतावनी लगाकर रखा है कि यहां अंधेरा होने पर इस किले में रूकने की मनाही है। लोगों के कहने के अनुसार 16वीं शताब्दी में इसी शहर में एक तंत्रिक रहता था। उस तंत्रिक को भानगढ़ की राजकुमारी रत्नावती के साथ प्यार हो गया। राजकुमारी को अपने वश में करने के लिए तंत्रिक ने काला जादू कर दिया। लेकिन इस सब बातों की जानकारी राजकुमारी को पता चल गया था और तंत्रिक में ही इस काला जादू का असर हो गया। तंत्रिक की मृत्यु हो गई। तंत्रिक ने मरते समय भानगढ़ के किले को श्राप दिया कि इस किले का विनाश हो जाएगा। उस श्राप के बाद यह किला एक ही रात में बर्बाद हो गया। इस किले में रहने वाले सभी लोगों की मृत्यु होने लगी और इस किले में आत्माओं का वास हो गया। यह किला खंडहर में तब्दील हो गया।

2. रामूजी फिल्म सिटी, हैदराबाद 


रामूजी फिल्म सिटी तेलंगाना राज्य का हैदराबाद जिलें में स्थित है। यह फिल्म सिटी बहुत बड़ी है। यह गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के अनुसार यह सबसे बड़ी फिल्म शूटिंग की जगह है। यह पर बहुत सी आलौकिक गतिविधियों हो चुकी है। लोगों का मनना है कि यह पर आत्माओं का निवास है। यहां पर कई लाइटमैन गिर गए है। जिनको गहरी चोटों भी आई है।

3. जीपी ब्लॉक, मेरठ


जीपी ब्लाॅक उप्र राज्य के मेरठ जिले में स्थित है। यह भारत की डरावनी जगहों में से एक है। हर कोई यहां के बारे में जानता है। आपको यह पर एक इमारत है। जिसमें कई प्रेत आत्माएं का वास हैं। इस इमारत में लोगों ने  अक्सर चार लोगों को बैठकर ड्रिंक करते हुए देखा गया है और यहां के स्थानीय लोगों को अक्सर यह पर लाल ड्रेस में कोई लड़की भी घर से बाहर निकलती है। 

4. शानिवारवाड़ा किला, पुणे


यह किला महाराष्ट्र राज्य का सबसे बड़ा किला है। यह किला महाराष्ट्र राज्य के पुणे जिले में है। इस किले के बारें में कहा जाता है कि यह किला रहस्यमयी है। इस किले का निर्माण मराठा साम्राज्य के बाजीराव पेशवा ने 1746 ई. में किया था। इस किले का बारे में कहा जाता है कि सत्ता के लालच में 18 साल की उम्र में नारायण राव की हत्या इस महल में कर दी गई थी। इस महल में 1828 ई मे रहस्यमय तरीक से आग लग गई थी और महल नष्ट हो गया था। कहा जाता है कि यहां पर राजकुमार की आत्मा वहां हर पूर्णिमा को मौत का बदला लेने आती है। इस किले में कोई भी सूर्यास्त के बाद नहीं जाता है।

5. टनल नंबर 103, शिमला


यह टनल हिमाचल प्रदेश के शिमला-कालका रोड पर स्थित है। इस टनल में  घनघोर अंधेरा होता है। इस टनल का निर्माण एक अंग्रेज इंजीनियर ने करवाया था। इस टनल को बनाने में अंग्रेज इंजीनियर ने एक भूल कर दी थी। उन्होनें एक ही बार में दोनों ओर से सुरंग बनाने का कार्य शुरू कर दिया। इस भूल के कारण सुरंग के दोनों छोर मिल नहीं पाए और अंग्रेज इंजीनियर को जर्माना चुकाना पडा। इस भूल के चलते अंग्रेज इंजीनियर बहुत दुखी हो गए और  आत्महत्या कर ली। इस टनल में अंग्रेज इंजीनियर की आत्मा भटकती है। इस टनल के बारे में लोगों का कहना है कि यहां पर आत्माएं रहती हैं। कई बार लोगों ने यहां औरत की आत्मा को टहलते हुए देखा है। इस टनल में जाने से रोकने के लिए सरकार के द्वारा बोर्ड लगाया है।

6.  डुमास बीच, सूरत 


गुजरात राज्य में स्थित डुमास बीच एक डरावनी जगहों में से एक है। डुमास बीच सूरत शहर से करीब 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह बीच अरब सागर के किनारे स्थित एक खूबसूरत बीच है। डुमास बीच अपनी काली बालू एवं भूतिया घटनाओ के लिए प्रसिद्ध है। इस बीच में दिन में पर्यटक आते है मगर शाम को यहां पर सन्नाटा पसरा होता है। इस बीच के बारें में लोगों का कहना है कि यहां पर तरह-तरह की आवाजे सुनाई देती है लेकिन कोई दिखाई नहीं देता। लोगों को जो आवाज आती है, उसमें कहा जाता है कि जहाँ से आये हो वही लौट जाओ। इस बीच में जो लोग रात में घूमने गए है वो कभी लौट के नहीं आये। यहां पर किसी के रोनें की आवाजें भी आती है। इस बीच में बहुत से लोग की जान भी चली गई है। 

7.  साऊथ पार्क सिमेट्री , कोलकाता


कोलकाता शहर का यह पार्क एक भूतिया जगह है। इस जगह के भूतिया होने का दावा किया जाता है। यह पार्क प्राचीन समय में सबसे बडा ईसाई कब्रिस्तान हुआ करता था। इस कब्रिस्तान में कुछ ऐतिहासिक कब्र भी मौजूद है, जिन्हें एडो इस्लामिक और गोथिक शैलियों से डिजाइन किया गया है। इस कब्रिस्तान के बारें लोगों का कहना है कि इस कब्रिस्तान पर घूमने पर किसी और का साथ होना महसूस होता है। कि आपके साथ कोई चल रहा हो। दोस्तों के एक समूह यहाँ पर घूमना आया हुआ था और उन्होनें यहां पर कुछ तस्वीर ली थी। तब से उनके साथ अजीब घटनाए होनी लगी थी। उनमें से एक की मृत्यु दमा से हुई थी जबकि उसे दमे की कोई समस्या नहीं थी।

8. लोथियन कब्रिस्तान, दिल्ली


यह कब्रिस्तान पुरानी दिल्ली में कश्मीरी गेट के पास स्थित है। यह कब्रिस्तान कश्मीरी गेट से 5 मिनट की दूरी पर स्थित है। यह कब्रिस्ताजन 200 साल से अधिक पुराना है। इस कब्रिस्तान का निर्माण अग्रेजों ने किया था। यह कब्रिस्तान अग्रेजों का मुख्य कब्रिस्तान हुआ करता था। इस कब्रिस्तान में ब्रिटिश सेनानायक निकोलस की आत्मा भटकती है। कहा जाता है कि एक अंग्रेज सेनानायक सर निकोलस एक भारतीय महिला से प्रेम करता था। लेकिन महिला को सर निकोलस में कोई रूचि नहीं थी। सर निकोलस ने अपने प्यार का इजहार महिला से किया। मगर महिला ने उनके प्यार को ठुकरा दिया। जिसके कारण सर निकोलस ने आत्माहत्या कर ली। तब से सर निकोलस की आत्मा इस कब्रिस्तान में भटकती है। उनकी सर कटी आत्मा घोडे के उपर बैठकर कब्रिस्तान में घूमती है।  

9.  कुलधारा, राजस्थान


कुलधरा राजस्थान राज्य के जैसेलमेर जिलें में स्थित है। कुलधरा जैसेलमेर जिले से 18 से 20 किलोमीटर दूर होगा। कुलधरा गांव के बारे में लोगों का कहना है कि यहां पर रात में आत्माएं भटकती हैं। यहां पर आत्माओं का वास है। यहां पर दिन में पर्यटक घूमने आते हैं। भारत सरकार के द्वारा इस जगह को एक पर्यटक स्थल घोषित किया गया है। मगर रात में यहां पर लोगों की आने की मनाही है। इस जगह के बारे में कहा जाता है कि यहां पर एक जुल्मी मंत्री सलीम सिंह था। जो लोगों पर अत्याचार करता था। उसे कुलधरा गांव की  एक ब्राहमण लड़की पसंद आ गई थी। वह उस लड़की से शादी करना चाहता था। गांव वालों के सामने सलीम सिंह ने प्रस्ताव रखा कि वह लड़की शादी करना चाहता है। मगर गांव वालों को यह पसंद नहीं था। मंत्री गांव वालों पर दबाव बना रहा था। जिसके कारण कुलधरा गांव के लोगों ने इस गांव को एक ही दिन में छोड़ने का फैसला किया और वह इस गांव को खाली करके चले गए। गांव वालों ने जाते समय श्राप दिया कि यह गांव कभी नहीं बसेगा। तब से कुलधरा गांव विराना और सुनसान है। यहां पर आत्माएं भटकती हैं।

Haunted Place of India - भारत की भूतिया जगह


10. अग्रसेन की बावड़ी, दिल्ली


अग्रसेन की बावली दिल्ली में स्थित एक पुरातात्विक जगह है। यह बाबली नई दिल्ली में कनॉट प्लेस के पास स्थित है। इस बावड़ी में सीढ़ीनुमा कुएं में करीब 105 सीढ़ीयां हैं। इस बाबडी का निर्माण 14वीं शताब्दी में महाराजा अग्रसेन ने किया था। यह बाबडी बहुत खूबसूरत है। इस बाबडी के बारें में कहा जाता है कि इस बाबडी में भरा काला पानी लोगों को सम्मेहित करता है कि वो आत्मा हत्या करें। यहां पर कई जान भी गई है। 

11. कोटा का ब्रिज राज भवन महल 


यह भवन राजस्थान के कोटा शहर में स्थित है। इस महल को भी भूतिया माना जाता है। यह महल 178 वर्ष पुराना है। इस महल में ब्रिटिश सेना का मेजर बुर्टोन का भूत रहता है। 1857 की क्रांति में भारतीय लोगों ने अग्रेजों अफसर और उनके बेटों को मार दिया था। जिसके कारण अग्रेजों अफसर की आत्मा यहां पर भटकती है। यहां पर आत्मा किसी को नुकसान नहीं पहुचती है। मगर आत्मा अपने होने का अहसास जरूर कराती है। मेजर बुर्टोन को इस महल से बहुत प्यार था और वह इस महल को छोडना नहीं चाहते है। 


अगर यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो आप इसे आगे भी शेयर कर सकते हैं, अगर आप इन जगह पर गए हो तो अपने विचार हमसे जरूर सांझा करें।

आपने अपना बहुमूल्य समय दिया उसके लिए धन्यवाद

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।