सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Haunted Place of India - भारत की भूतिया जगह

भारत की भूतिया जगह है जहां पर लोग जाने से डरते हैं रात में

Haunted place of India


भारत में बहुत सी जगह है। जहां पर भूत होने के दावे किया जाते है। आज के लेख में मैं आपको भारत की भूतिया जगहों की जानकारी दूगी। इन जगहों पर पर रात में लोगों के जाने में मनाही है। चलिये जानते है इन जगहों के बारें में

Haunted Place of India - भारत की भूतिया जगह


1. भानगढ़ का किला , राजस्थान 


राजस्थान के अलवर जिले का भानगढ़ भारत के सबसे ज्यादा डरावनी जगहों में से एक है। भानगढ़ का किला भूतिया किले के रूप में जाना जाता है। भानगढ एक रहस्यमय जगह है। भानगढ़ का किला को सत्रहवीं शताव्दी में राजा माधो सिंह ने बनवाया था। लोगों का कहना है कि इस महल में आत्माओं का वास है। सरकार ने यह चेतावनी लगाकर रखा है कि यहां अंधेरा होने पर इस किले में रूकने की मनाही है। लोगों के कहने के अनुसार 16वीं शताब्दी में इसी शहर में एक तंत्रिक रहता था। उस तंत्रिक को भानगढ़ की राजकुमारी रत्नावती के साथ प्यार हो गया। राजकुमारी को अपने वश में करने के लिए तंत्रिक ने काला जादू कर दिया। लेकिन इस सब बातों की जानकारी राजकुमारी को पता चल गया था और तंत्रिक में ही इस काला जादू का असर हो गया। तंत्रिक की मृत्यु हो गई। तंत्रिक ने मरते समय भानगढ़ के किले को श्राप दिया कि इस किले का विनाश हो जाएगा। उस श्राप के बाद यह किला एक ही रात में बर्बाद हो गया। इस किले में रहने वाले सभी लोगों की मृत्यु होने लगी और इस किले में आत्माओं का वास हो गया। यह किला खंडहर में तब्दील हो गया।

2. रामूजी फिल्म सिटी, हैदराबाद 


रामूजी फिल्म सिटी तेलंगाना राज्य का हैदराबाद जिलें में स्थित है। यह फिल्म सिटी बहुत बड़ी है। यह गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के अनुसार यह सबसे बड़ी फिल्म शूटिंग की जगह है। यह पर बहुत सी आलौकिक गतिविधियों हो चुकी है। लोगों का मनना है कि यह पर आत्माओं का निवास है। यहां पर कई लाइटमैन गिर गए है। जिनको गहरी चोटों भी आई है।

3. जीपी ब्लॉक, मेरठ


जीपी ब्लाॅक उप्र राज्य के मेरठ जिले में स्थित है। यह भारत की डरावनी जगहों में से एक है। हर कोई यहां के बारे में जानता है। आपको यह पर एक इमारत है। जिसमें कई प्रेत आत्माएं का वास हैं। इस इमारत में लोगों ने  अक्सर चार लोगों को बैठकर ड्रिंक करते हुए देखा गया है और यहां के स्थानीय लोगों को अक्सर यह पर लाल ड्रेस में कोई लड़की भी घर से बाहर निकलती है। 

4. शानिवारवाड़ा किला, पुणे


यह किला महाराष्ट्र राज्य का सबसे बड़ा किला है। यह किला महाराष्ट्र राज्य के पुणे जिले में है। इस किले के बारें में कहा जाता है कि यह किला रहस्यमयी है। इस किले का निर्माण मराठा साम्राज्य के बाजीराव पेशवा ने 1746 ई. में किया था। इस किले का बारे में कहा जाता है कि सत्ता के लालच में 18 साल की उम्र में नारायण राव की हत्या इस महल में कर दी गई थी। इस महल में 1828 ई मे रहस्यमय तरीक से आग लग गई थी और महल नष्ट हो गया था। कहा जाता है कि यहां पर राजकुमार की आत्मा वहां हर पूर्णिमा को मौत का बदला लेने आती है। इस किले में कोई भी सूर्यास्त के बाद नहीं जाता है।

5. टनल नंबर 103, शिमला


यह टनल हिमाचल प्रदेश के शिमला-कालका रोड पर स्थित है। इस टनल में  घनघोर अंधेरा होता है। इस टनल का निर्माण एक अंग्रेज इंजीनियर ने करवाया था। इस टनल को बनाने में अंग्रेज इंजीनियर ने एक भूल कर दी थी। उन्होनें एक ही बार में दोनों ओर से सुरंग बनाने का कार्य शुरू कर दिया। इस भूल के कारण सुरंग के दोनों छोर मिल नहीं पाए और अंग्रेज इंजीनियर को जर्माना चुकाना पडा। इस भूल के चलते अंग्रेज इंजीनियर बहुत दुखी हो गए और  आत्महत्या कर ली। इस टनल में अंग्रेज इंजीनियर की आत्मा भटकती है। इस टनल के बारे में लोगों का कहना है कि यहां पर आत्माएं रहती हैं। कई बार लोगों ने यहां औरत की आत्मा को टहलते हुए देखा है। इस टनल में जाने से रोकने के लिए सरकार के द्वारा बोर्ड लगाया है।

6.  डुमास बीच, सूरत 


गुजरात राज्य में स्थित डुमास बीच एक डरावनी जगहों में से एक है। डुमास बीच सूरत शहर से करीब 21 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह बीच अरब सागर के किनारे स्थित एक खूबसूरत बीच है। डुमास बीच अपनी काली बालू एवं भूतिया घटनाओ के लिए प्रसिद्ध है। इस बीच में दिन में पर्यटक आते है मगर शाम को यहां पर सन्नाटा पसरा होता है। इस बीच के बारें में लोगों का कहना है कि यहां पर तरह-तरह की आवाजे सुनाई देती है लेकिन कोई दिखाई नहीं देता। लोगों को जो आवाज आती है, उसमें कहा जाता है कि जहाँ से आये हो वही लौट जाओ। इस बीच में जो लोग रात में घूमने गए है वो कभी लौट के नहीं आये। यहां पर किसी के रोनें की आवाजें भी आती है। इस बीच में बहुत से लोग की जान भी चली गई है। 

7.  साऊथ पार्क सिमेट्री , कोलकाता


कोलकाता शहर का यह पार्क एक भूतिया जगह है। इस जगह के भूतिया होने का दावा किया जाता है। यह पार्क प्राचीन समय में सबसे बडा ईसाई कब्रिस्तान हुआ करता था। इस कब्रिस्तान में कुछ ऐतिहासिक कब्र भी मौजूद है, जिन्हें एडो इस्लामिक और गोथिक शैलियों से डिजाइन किया गया है। इस कब्रिस्तान के बारें लोगों का कहना है कि इस कब्रिस्तान पर घूमने पर किसी और का साथ होना महसूस होता है। कि आपके साथ कोई चल रहा हो। दोस्तों के एक समूह यहाँ पर घूमना आया हुआ था और उन्होनें यहां पर कुछ तस्वीर ली थी। तब से उनके साथ अजीब घटनाए होनी लगी थी। उनमें से एक की मृत्यु दमा से हुई थी जबकि उसे दमे की कोई समस्या नहीं थी।

8. लोथियन कब्रिस्तान, दिल्ली


यह कब्रिस्तान पुरानी दिल्ली में कश्मीरी गेट के पास स्थित है। यह कब्रिस्तान कश्मीरी गेट से 5 मिनट की दूरी पर स्थित है। यह कब्रिस्ताजन 200 साल से अधिक पुराना है। इस कब्रिस्तान का निर्माण अग्रेजों ने किया था। यह कब्रिस्तान अग्रेजों का मुख्य कब्रिस्तान हुआ करता था। इस कब्रिस्तान में ब्रिटिश सेनानायक निकोलस की आत्मा भटकती है। कहा जाता है कि एक अंग्रेज सेनानायक सर निकोलस एक भारतीय महिला से प्रेम करता था। लेकिन महिला को सर निकोलस में कोई रूचि नहीं थी। सर निकोलस ने अपने प्यार का इजहार महिला से किया। मगर महिला ने उनके प्यार को ठुकरा दिया। जिसके कारण सर निकोलस ने आत्माहत्या कर ली। तब से सर निकोलस की आत्मा इस कब्रिस्तान में भटकती है। उनकी सर कटी आत्मा घोडे के उपर बैठकर कब्रिस्तान में घूमती है।  

9.  कुलधारा, राजस्थान


कुलधरा राजस्थान राज्य के जैसेलमेर जिलें में स्थित है। कुलधरा जैसेलमेर जिले से 18 से 20 किलोमीटर दूर होगा। कुलधरा गांव के बारे में लोगों का कहना है कि यहां पर रात में आत्माएं भटकती हैं। यहां पर आत्माओं का वास है। यहां पर दिन में पर्यटक घूमने आते हैं। भारत सरकार के द्वारा इस जगह को एक पर्यटक स्थल घोषित किया गया है। मगर रात में यहां पर लोगों की आने की मनाही है। इस जगह के बारे में कहा जाता है कि यहां पर एक जुल्मी मंत्री सलीम सिंह था। जो लोगों पर अत्याचार करता था। उसे कुलधरा गांव की  एक ब्राहमण लड़की पसंद आ गई थी। वह उस लड़की से शादी करना चाहता था। गांव वालों के सामने सलीम सिंह ने प्रस्ताव रखा कि वह लड़की शादी करना चाहता है। मगर गांव वालों को यह पसंद नहीं था। मंत्री गांव वालों पर दबाव बना रहा था। जिसके कारण कुलधरा गांव के लोगों ने इस गांव को एक ही दिन में छोड़ने का फैसला किया और वह इस गांव को खाली करके चले गए। गांव वालों ने जाते समय श्राप दिया कि यह गांव कभी नहीं बसेगा। तब से कुलधरा गांव विराना और सुनसान है। यहां पर आत्माएं भटकती हैं।

Haunted Place of India - भारत की भूतिया जगह


10. अग्रसेन की बावड़ी, दिल्ली


अग्रसेन की बावली दिल्ली में स्थित एक पुरातात्विक जगह है। यह बाबली नई दिल्ली में कनॉट प्लेस के पास स्थित है। इस बावड़ी में सीढ़ीनुमा कुएं में करीब 105 सीढ़ीयां हैं। इस बाबडी का निर्माण 14वीं शताब्दी में महाराजा अग्रसेन ने किया था। यह बाबडी बहुत खूबसूरत है। इस बाबडी के बारें में कहा जाता है कि इस बाबडी में भरा काला पानी लोगों को सम्मेहित करता है कि वो आत्मा हत्या करें। यहां पर कई जान भी गई है। 

11. कोटा का ब्रिज राज भवन महल 


यह भवन राजस्थान के कोटा शहर में स्थित है। इस महल को भी भूतिया माना जाता है। यह महल 178 वर्ष पुराना है। इस महल में ब्रिटिश सेना का मेजर बुर्टोन का भूत रहता है। 1857 की क्रांति में भारतीय लोगों ने अग्रेजों अफसर और उनके बेटों को मार दिया था। जिसके कारण अग्रेजों अफसर की आत्मा यहां पर भटकती है। यहां पर आत्मा किसी को नुकसान नहीं पहुचती है। मगर आत्मा अपने होने का अहसास जरूर कराती है। मेजर बुर्टोन को इस महल से बहुत प्यार था और वह इस महल को छोडना नहीं चाहते है। 


अगर यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो आप इसे आगे भी शेयर कर सकते हैं, अगर आप इन जगह पर गए हो तो अपने विचार हमसे जरूर सांझा करें।

आपने अपना बहुमूल्य समय दिया उसके लिए धन्यवाद

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन
मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )  में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी। 



मठघोघरा झरना एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात (Math Ghogra Waterfall ) तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )तक पहुॅचने के लिए आपको पक्की रोड मिल जाती है। आपको इस जगह तक पहुॅचने के लिए पहले लखनादौन पहुॅचना पडता है। आपको इस जगह प…