सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

फ़रवरी, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद - ISKCON Temple Allahabad / Allahabad Tourism

इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद (प्रयागराज) - ISKCON mandir Allahabad (prayagraj) / इलाहाबाद यात्रा   इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी और राधा रानी को समर्पित है। इस्कॉन मंदिर इलाहाबाद शहर में यमुना नदी के किनारे बलुआ घाट के पास में स्थित है। इस मंदिर में आप बहुत ही आसानी से पहुंच सकते हैं। आप इस मंदिर में पैदल भी आ सकते हैं और  ऑटो से भी आ सकते हैं। इस मंदिर में आपको श्री कृष्ण जी की और राधा रानी जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के बाहर आपको गरुड़ भगवान जी के दर्शन करने मिल जाते हैं। मंदिर में बगीचा भी है, जिसमें सुंदर-सुंदर पुष्प खिले रहते हैं, जिनको देखकर मन खुश हो जाता है। मंदिर में गौशाला भी देखने के लिए मिल जाती है, जहां पर गायों की सेवा की जाती है। मंदिर में आपको एक छोटी सी शॉप भी देखने के लिए मिल जाती है, जहां से आप धार्मिक चीजें खरीद सकते हैं। मंदिर में आकर बहुत ही अच्छा लगता है।     हम लोग इस्कॉन मंदिर में पैदल ही आए थे। हम लोग ओल्ड नैनी ब्रिज से घूमते हुए आए थे। हम लोग को रास्ते में ओम नमः शिवाय मंदिर भी देखन

श्रीलंका मंदिर कौशांबी - Sri Lanka Temple Kaushambi / Kaushambi tourism

श्रीलंका मंदिर कौशांबी - Sri Lanka Temple Kaushambi / धम्म मित्र बुद्ध विहार कौशांबी - Dhamma Mitra Buddha Vihar Kaushambi   श्रीलंका मंदिर कौशांबी में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर श्रीलंका देश की मदद से कौशांबी में बनाया गया है। इसलिए इस मंदिर को श्रीलंका मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरती से बना हुआ है। हम लोग मंदिर के अंदर नहीं जा पाए थे, इसलिए हम लोगों ने मंदिर को बाहर से ही देखा। बाहर से ही मंदिर की बनावट बहुत ही खूबसूरत है।    हम लोग कौशांबी में जितने भी मंदिर घूमे हैं या जितने भी प्राचीन स्थल घूमे हैं। वह सभी पैदल ही घूमे हैं। हम लोग अशोक स्तंभ स्थल और गोष्ट राम बिहार स्थल में पैदल घूम कर कौशांबी की तरफ आ गए। कौशांबी थाने से श्रीलंका टेंपल करीब 500 से 600 मीटर दूर होगा। हम लोग पैदल ही श्रीलंका टेंपल की तरफ चल दिए। हम लोग टेंपल पहुंच गए। टेंपल बाहर से बंद था। हम लोगों ने टेंपल के भीतर बैठे कर्मचारियों से पूछा कि टेंपल में हम लोग दर्शन कर सकते हैं, तो उन्होंने बोला कि अभी कोविड-19 कारण आप लोग मंदिर के अंदर नहीं आ सकते हैं। मंदिर को बाहर से ही देख सक

जवाहर तारामंडल इलाहाबाद (प्रयागराज) - Jawahar Planetarium Allahabad (Prayagraj)

Jawahar Taramandal Allahabad - जवाहर तारामंडल इलाहाबाद ( प्रयागराज) / Taramandal Allahabad   प्रयागराज का जवाहर तारामंडल घूमने के लिए एक प्रमुख जगह है। अगर आप विज्ञान प्रेमी है, तो आपको यहां पर जरूर घूमने आना चाहिए, क्योंकि यहां पर विज्ञान से संबंधित बहुत सारी वस्तुएं आपको देखने के लिए मिल जाएगी। यहां पर आपको हमारा सौरमंडल देखने के लिए मिल जाएगा, जो यहां का महत्वपूर्ण आकर्षण है। जवाहर तारामंडल में स्काई शो होता है। इस कार्यक्रम में आप को खगोल अंतरिक्ष विज्ञान से संबंधित जानकारियां मिलेगी और इसमें डिजिटल त्रिआयामी आकाशीय कार्यक्रम भी होता है, जो बहुत मनोरंजक होता है और बच्चों के लिए ज्ञानवर्धक होता है। इस शो में प्रसिद्ध एस्ट्रोनॉट के बारे में जानकारी दी जाती है। आप यहां पर अपने बच्चों के साथ आ सकते हैं। यह शो अलग-अलग समय पर होता है और यह शो 1 घंटे का रहता है। आप इस शो को देखने के लिए टिकट लेकर जा सकते हैं और इसमें बच्चों को मनोरंजन के साथ-साथ ज्ञान भी प्राप्त होता है।    जवाहर तारामंडल में आपको 3D शो देखने के अलावा भी बहुत सारी वस्तुएं देखने लायक है। यहां पर आपको रॉकेट का मॉडल दे

Anand Bhawan Allahabad - आनंद भवन इलाहाबाद

Anand Bhavan Allahabad (Prayagraj) - आनंद भवन इलाहाबाद (प्रयागराज) / Allahabad Tourism   आनंद भवन संग्रहालय प्रयागराज में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। आप यहां पर भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर भी आपको नेहरू परिवार से संबंधित बहुत सारी वस्तुएं देखने के लिए मिलेंगी, जो यहां पर संभाल कर रखी गई है। आनंद भवन संग्रहालय मुख्य सड़क में ही स्थित है। यह संग्रहालय प्रयागराज जंक्शन से करीब 5 किलोमीटर दूर होगा। आप यहां पर पैदल भी आ सकते हैं और बैटरी रिक्शा से भी इस संग्रहालय में बहुत आसानी से पहुंच सकते हैं।    आनंद भवन इलाहाबाद टिकट की कीमत - Anand Bhawan Allahabad ticket price   आनंद भवन में प्रवेश का शुल्क लिया जाता है। आनंद भवन संग्रहालय में आपको 2 मंजिला इमारत देखने के लिए मिलेगी। यहां पर अगर आप नीचे वाली मंजिल में घूमते हैं, तो आपका ₹20 लगता है और अगर आप ऊपर वाली मंजिल में भी घूमना चाहते हैं, तो आपका कुल ₹70 लगेगा।      आनंद भवन संग्रहालय के बाहर आप को बहुत बड़ा बगीचा देखने के लिए मिलेगा। इस बगीचे में तरह तरह के फूल लगे हुए हैं। इस बगीचे में एक तो बड़ी सी शिलाखंड रखा हुआ है । शिलाखं

स्वराज भवन इलाहाबाद - Swaraj Bhawan Allahabad

स्वराज भवन इलाहाबाद ( प्रयागराज ) - Swaraj Bhawan Allahabad (Prayagraj) / Allahabad Tourism   स्वराज भवन एक प्राचीन इमारत है। यह इमारत प्रयागराज शहर में स्थित है। स्वराज भवन वर्तमान में एक संग्रहालय है और इस संग्रहालय में आपको नेहरू परिवार की बहुत सारी स्मृतियां देखने के लिए मिल जाएगी। स्वराज भवन प्रयागराज   शहर के बीचो बीच में स्थित है। आप स्वराज भवन में बैटरी रिक्शा से या पैदल भी पहुंच सकते हैं। स्वराज भवन प्रयागराज रेलवे जंक्शन से करीब 5 किलोमीटर दूर होगा। आप यहां पर पैदल पहुंच सकते हैं।    स्वराज भवन के पास ही में आपको आनंद भवन भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर तारामंडल भी  है, जहां पर आप जाकर 3डी इफेक्ट शो को देख सकते हैं। स्वराज भवन में आपको नेहरू परिवार की बहुत सारी वस्तु देखने के लिए मिल जाएगी, जो नेहरू परिवार के द्वारा उपयोग की जाती थी।    स्वराज भवन एक बहुत बड़ी इमारत है। इस इमारत में हमारी पहली प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी का जन्म हुआ था। यहां पर आपको श्रीमती इंदिरा गांधी की बहुत सारी पेंटिंग देखने के लिए मिल जाएगी। यहां पर आपको प्राचीन समय में इस्तेमाल की जाने वाली

54 feet high Hanuman ji temple Jhusi Allahabad - हनुमान मंदिर इलाहाबाद

54 फीट ऊंचे हनुमान जी का मंदिर झूसी इलाहाबाद (प्रयागराज) - 54 feet high Hanuman ji temple Jhusi Allahabad (Prayagraj) / इलाहाबाद यात्रा / Allahabad Tourism   54 फीट ऊंचे हनुमान जी का मंदिर इलाहाबाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। आप इलाहाबाद के झूसी एरिया में घूमने के लिए आते हैं, तो आपको यहां पर बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। इन मंदिरों में एक मंदिर और प्रसिद्ध है, जो हनुमान जी का मंदिर है। इस मंदिर में आपको हनुमान जी की 54 फीट ऊंची प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको 111 छोटे-छोटे शिवलिंग देखने के लिए मिलते हैं। यहां एक नर्वदेश्वर शिवलिंग स्थित है। नर्वदेश्वर शिवलिंग का मतलब है, कि यह शिवलिंग नर्मदा नदी से लाया गया होगा, क्योंकि नर्मदा नदी एक ऐसी नदी है, जिसके हर पत्थर में शिवलिंग है। इसलिए इसे नर्वदेश्वर शिवलिंग कहते हैं। यहां पर दुर्गा जी की विराट प्रतिमा आपको देखने के लिए मिल जाती है। माता सीता और राम जी की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। राधा और कृष्ण की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। श्री लक्ष्मी नारायण जी की भी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है और शंकर जी पार्वती

Khusro Bagh Allahabad (Prayagraj) - खुसरो बाग इलाहाबाद (प्रयागराज) / Allahabad tourism

इलाहाबाद का खुसरो बाग / खुसरो उद्यान / खुसरो बाग प्रयागराज - Khusro Bagh Prayagraj   खुसरो बाग या खुसरो उद्यान के नाम से मशहूर यह एक बहुत बड़ा उद्यान है। यह उद्यान इलाहाबाद का एक प्रसिद्ध उद्यान है। खुसरो बाग इलाहाबाद में प्रसिद्ध एक बहुत बड़ा गार्डन है। इस गार्डन में आपको देखने के लिए बहुत सारी चीजें मिलती है। इस बाग में आपके देखने के लिए प्राचीन इमारतें हैं। यहां पर खुसरो  की कब्र आपको देखने के लिए मिलती है। उसके साथ-साथ यहां पर आपको बगीचे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको बिही का बगीचा देखने के लिए मिलता है। आम का बगीचा देखने के लिए मिलता है। यहां पर नर्सरी भी बनाई गई है, जहां पर पौधे तैयार किए जाते हैं। इसके अलावा यहां पर आपको फव्वारा भी देखने के लिए मिलेगा, जो शायद शाम को चालू किया जाता है। हम लोग खुसरो बाग घूमने के लिए सुबह के समय गए थे। हम लोग सुबह 9 बजे के करीब इस बाग में पहुंच गए थे।    हम लोग इलाहाबाद जनवरी के समय घूमने के लिए गए थे। हम लोग माघ मेले में घूमने के लिए गए थे। जनवरी के समय आपको इलाहाबाद में बहुत ज्यादा कोहरा देखने के लिए मिलता है। हम लोग सुबह 9 बजे इस पार्क

जैन मंदिर कौशांबी - Jain Temple Kaushambi / कौशांबी की यात्रा

  श्री कौशांबी जी दिगम्बर जैन तीर्थ - Shri Kaushambi Ji Digambar Jain Tirtha / Kaushambi Travel जैन मंदिर कौशांबी में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह जैन धर्म के लिए एक महत्वपूर्ण स्थल है। यहां पर हम लोगों को भगवान बुद्ध की एक मूर्ति देखने के लिए मिली, जो सफेद संगमरमर की बनी थी। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि इस मंदिर में स्थापित मूर्ति यमुना नदी से प्राप्त हुई थी। इसलिए यह मंदिर प्रसिद्ध है और जो भी पर्यटक यहां पर घूमने आता है। वह इस मंदिर में जरूर घूमता है।    घोषिता राम विहार स्थल घूम कर अब हम लोगों को जैन मंदिर जाना था। घोषिता राम विहार स्थल से जैन मंदिर करीब 1 से डेढ़ किलोमीटर दूर होगा। हम लोग जैन मंदिर की तरफ चलने लगे और रास्ते में हमें घोड़े देखने के लिए मिले, काफी करीब से हम लोगों ने घोड़े को देखा। यहां पर घोड़ों के सामने वाले पैरों में रस्सी बांध देते हैं, ताकि वह कहीं दूर ना चले जाएं और उन्हें मैदानों में छोड़ देते हैं, तो वह घास चढ़ते रहते हैं। हम लोगों ने घोड़ों के साथ फोटो भी खींची और जैन मंदिर की तरफ बढ़ चले। जैन मंदिर में पहुंचकर हम लोगों को बहुत सारे बच्चे देखने के लिए

घोषिताराम विहार स्थल कौशांबी - Ghositaram Vihar sthal Kaushambi

घोषिताराम विहार स्थल कौशांबी - Ghositaram Vihar site Kaushambi / Kaushambi travel / Kaushambi Fort   घोषिताराम विहार स्थल कौशांबी एक प्राचीन स्थल है। यह एक भारतीय सर्वेक्षण स्थल है। यहां पर आपको प्राचीन अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह इसलिए प्रसिद्ध है, क्योंकि इस जगह भगवान बुद्ध अपने अनुयायियों के साथ आए थे और उन्होंने ने यहां पर प्रवचन दिया था। यहां पर बुद्ध भगवान काफी समय तक रहे थे। यह चैत्य एवं विहार दोनों था।   हम लोग अशोक स्तंभ स्थल घूमने के बाद, घोषिताराम विहार स्थल की तरफ जाने के लिए पैदल चल पड़े। घोषितराम विहार स्थल अशोक स्तंभ स्थल से करीब एक से डेढ़ किलोमीटर दूर होगा। पैदल रास्ता था और इस रास्ते में आपको ज्यादा भीड़ देखने के लिए नहीं मिलेगी। इक्का-दुक्का गाड़ी ही आपको यहां पर देखने के लिए मिल जाएगी। यहां पर हम लोगों को घोड़े देखने के लिए मिले, जो बड़े-बड़े मैदानों पर घास चर रहे थे। हम लोग पैदल पैदल घोषिताराम विहार स्थल पर पहुंचे। बाहर बोर्ड लगा हुआ था और बच्चे खेल रहे थे। हम लोग अंदर गए, तो अंदर हमें इस स्थल के बारे में जानकारी मिली। अंदर एक बोर्ड लगा था , जिसमे इस जगह के