सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सुकमा जिले के पर्यटन स्थल - Sukma tourist places

सुकमा जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in sukma (Chhattisgarh) / सुकमा जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह 


सुकमा जिला छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख जिला है। सुकमा जिला आदिवासी बहुल क्षेत्र है। यहां पर आदिवासी लोगों की बहुत बड़ी जनसंख्या निवास करती है। सुकमा जिला जंगलों से घिरा हुआ है। सुकमा जिला में बहने वाली मुख्य नदी शबरी नदी है। यह जिला छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 400 किलोमीटर दूर है। सुकमा जिला छत्तीसगढ़ की राज्य की सीमा पर स्थित है। यह छत्तीसगढ़ और उड़ीसा बॉर्डर पर स्थित है। सुकमा जिले की सीमा और उड़ीसा जिले की सीमा में शबरी नदी बहती है और शबरी नदी इन दोनों राज्यों की सीमा बनाती है। सुकमा जिला में सड़क माध्यम के द्वारा पहुंचा जा सकता है। सुकमा जिला बहुत सुंदर है। यह जिला नक्सली प्रभावित क्षेत्र है। इसलिए पर्यटन के हिसाब से यह जिला लोगों में प्रसिद्ध नहीं है। मगर इस जिले में भी बहुत सारी जगह है, जहां पर घूमने जाया जा सकता है। चलिए जानते हैं सुकमा जिले में घूमने वाली जगह के बारे में -


सुकमा में घूमने की जगह 
Sukma mein ghumne ki jagah


तुंगल जैव विविधता पार्क और तुंगल बांध सुकमा - Tungal Biodiversity Park and Tungal Dam Sukma

तुंगल जैव विविधता पार्क और तुंगल बांध सुकमा जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह सुकमा की सबसे अच्छी जगह है। इस जगह को इको पर्यटन स्थल के रूप में भी विकसित किया गया है। यह जगह पर्यटकों को आकर्षित करती है। यहां पर आपको जंगली जानवर और जंगल का खूबसूरत नजारा देखने के लिए मिलता है। यहां पर हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर आकर अच्छा समय बिताया जा सकता है। यह जगह सुकमा जिले में पिकनिक मनाने के लिए एक अच्छी जगह है। यहां पर कार और बाइक से पहुंचा जा सकता है। 

तुंगल जैव विविधता पार्क के अंदर तुंगल बांध बनाया हुआ है। तुंगल बांध को सुकमा बांध के नाम से भी जाना जाता है। यह बांध बहुत ही सुंदर है और बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। इस बांध के पास में ही बच्चों के खेलने के लिए चिल्ड्रन पार्क बना हुआ है। जहां पर बच्चे के लिए बहुत सारे झूले लगाए गए हैं। जहां पर बच्चे लोग काफी इंजॉय कर सकते हैं। इस बांध में बोटिंग की व्यवस्था भी उपलब्ध है। यहां पर पेडलबोट एवं अन्य बोट का मजा लिया जा सकता है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। बांध का दृश्य बहुत ही आकर्षक रहता है। बरसात में इस जगह की खूबसूरती में चार चांद लग जाते हैं। चारों तरफ हरियाली रहती है और बांध में पानी ओवरफ्लो होता है, जिसका दृश्य भी शानदार रहता है। यह सुकमा जिले में घूमने लायक जगह है। 


दुधमा जलप्रपात सुकमा - Dudhma Falls Sukma

दुधमा जलप्रपात सुकमा जिले का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यह जलप्रपात चट्टानों के बीच से बहता है। यहां पर आकर नहाने का मजा लिया जा सकता है। यह जलप्रपात जंगल के अंदर स्थित है। यह जलप्रपात मुख्य सुकमा शहर से करीब 20 किलोमीटर दूर है। यहां पर आकर पिकनिक मनाया जा सकता है। जलप्रपात के पास में शिव भगवान जी का छोटा सा मंदिर भी बना हुआ है। 

दुधमा जलप्रपात को धुरमा जलप्रपात भी कहा जाता है। यह जलप्रपात चट्टानों के बीच से बहता है और बहुत ही शानदार लगता है। सुकमा शहर में घूमने वाली यह एक बहुत अच्छी जगह है। यहां पर दोस्तों और परिवार वालों के साथ पिकनिक मनाने के लिए आया जा सकता है। बरसात में इस जलप्रपात का दृश्य बहुत शानदार रहता है, क्योंकि बरसात में पानी की बहुत अधिक मात्रा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आकर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। यह जलप्रपात चिपुर्पल नाम के गांव के पास में स्थित है। इस जलप्रपात में पहुंचने के लिए सड़क मार्ग उपलब्ध है। यहां पर आपको आकर बहुत अच्छा लगेगा।  


चिटमिट्टीन माता मंदिर रामाराम सुकमा - Chitmittin Mata Temple Ramaram Sukma

चिटमिट्टीन माता मंदिर सुकमा जिले का प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर चिटमिट्टीन माता को समर्पित है। यहां पर बहुत सुंदर मंदिर देखने के लिए मिलता है, जिसमें चिटमिट्टीन माता की प्रतिमा विराजमान है। यह मंदिर बहुत महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि यहां पर श्री राम जी ने अपने वनवास काल के दौरान यात्रा किया था। यहां पर राम जी के द्वारा जितनी भी जगह पर उन्होंने यात्रा किया था। उन सभी जगहों के बारे में मानचित्र में दिखाया गया है। यहां पर राम भगवान जी की बहुत ही सुंदर मूर्ति के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर हनुमान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 

हनुमान जी की बहुत बड़ी प्रतिमा को यहां पर एक बड़ी सी चट्टान में बनाया गया है, जो बहुत ही सुंदर लगती है। यहां पर चारों तरफ प्राकृतिक वातावरण देखने के लिए मिलता है। यहां पर थोड़ी दूरी पर एक व्यूप्वाइंट बना हुआ है, जहां से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह जगह प्राकृतिक और धार्मिक दोनों ही है। 

यहां पर फरवरी महीने पर रामाराम का मेला लगता है, जो बहुत ही शानदार रहता है। इस मेले में सुकमा जिले एवं आसपास के जिले के लोग घूमने के लिए आते हैं। यह मेला 4 या 5 दिनों तक लगता है और यहां पर बहुत सारी दुकानें लगती हैं, जहां पर तरह-तरह का सामान मिलता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। 


इंदुल झरना सुकमा - indul waterfall sukma

इंदुल झरना सुकमा जिले के पास में स्थित एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात घने जंगल के अंदर स्थित है। इस जलप्रपात को फूलपड़ जलप्रपात भी कहते हैं। यह जलप्रपात उची उची चट्टानों से नीचे गिरता है और बहुत ही आकर्षक लगता है। यह जलप्रपात दंतेवाड़ा जिले के अंतर्गत आता है। यह जलप्रपात फुलपड़ गांव से करीब 7 या 8 किलोमीटर दूर है। इस जलप्रपात तक पहुंचने का रास्ता कच्चा है। मगर इस जलप्रपात में आ कर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर गांव वालों की मदद से पहुंचा जा सकता है और घुमा जा सकता है। यहां पर बहुत अच्छा लगता है। यह जलप्रपात बहुत ऊंचाई से नीचे गिरता है। 

अगर आप सुकमा जिले से दूर पिकनिक मनाने का प्लान बना रहे हैं, तो आपको यहां पर आना चाहिए। यह जगह बहुत सुंदर है और यहां पर आप 1 दिन का प्लान बनाकर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान - Kanger Valley National Park

कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान सुकमा के पास घूमने के लिए एक सुंदर जगह है। यह एक राष्ट्रीय उद्यान है। यहां पर जंगल और जंगली जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। यह जगह सुकमा से करीब 50 किलोमीटर दूर है। कांगेर घाटी राष्ट्रीय उद्यान में बहुत सारी जगह है, जहां पर घुमा जा सकता है। यहां पर बहुत सारे झरने हैं, जो बहुत सुंदर है। यहां पर बहुत सारी गुफाएं हैं, जो देखी जा सकती है। यहां पर कैलाश गुफा, दंडक गुफा, कोटमसार गुफा देखने के लिए मिलती है। इसके अलावा यहां कांगेर धारा जलप्रपात देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर है। यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। यहां पर एक दिन पिकनिक का प्लान बनाकर सुकमा से घूमने के लिए आया जा सकता है। 


तेलावरती पिकनिक स्पॉट - Telavarti Picnic Spot

तेलावरती पिकनिक स्पॉट शबरी नदी पर बना हुआ एक सुंदर जगह है। तेलावरती पिकनिक स्पॉट घने जंगलों के बीच में बना हुआ है। यहां पर चट्टानों के बीच में पानी बहता है, जो बहुत ही सुंदर लगता है। यहां पर आकर पिकनिक मनाई जा सकती है। यह जगह प्राकृतिक है और यहां पर घूमने आया जा सकता है। 


तीरथगढ़ जलप्रपात - Tirathgarh Falls

तीरथगढ़ जलप्रपात सुकमा जिले के पास में स्थित एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात जगदलपुर जिले के अंदर अंतर्गत आता है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। इस जलप्रपात में कई स्तरों से पानी नीचे गिरता है, जो देखने में बहुत ही आकर्षक लगता है। यह बहुत बड़ा जलप्रपात है। यहां पर बरसात के समय आकर, इस जलप्रपात की खूबसूरती को देखा जा सकता है। यह सुकमा जिले से करीब 80 किलोमीटर दूर है और यहां पर घूमने के लिए आया जा सकता है। 


सतीगुड़ा बांध - Satiguda Dam

सतीगुड़ा बांध सुकमा जिले के पास में स्थित एक सुंदर जगह है। यह जगह प्राकृतिक है। यहां पर एक बहुत बड़ा जलाशय देखने के लिए मिलता है। सतीगुड़ा बांध मलकानगिरी में स्थित है। यहां पर इको टूरिज्म साइट बनी हुई है, जो बहुत ही सुंदर है। यहां पर पार्क बना हुआ है, जहां पर बहुत सारे स्टैचू देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह चारों तरफ से जंगल से घिरी हुई है। यहां पर खूबसूरत बांध देखने के लिए मिलता है, जिसमें बोट राइट का मजा लिया जा सकता है। इस जगह पर सुकमा जिले से आया जा सकता है। मलकानगिरी सुकमा जिले से करीब 30 किलोमीटर दूर है। यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। 


शबरी और सिलेरू नदी का संगम सुकमा - Confluence of Shabari and Sileru Rivers, Sukma

शबरी और सिलेरू नदी का संगम स्थल बहुत सुंदर है। यहां पर आपको 3 राज्यों की बॉर्डर भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर छत्तीसगढ़, उड़ीसा और तेलंगाना की बॉर्डर मिलती हैं। यहां पर इन दोनों नदियों का संगम स्थल बहुत सुंदर है और यह जगह सुकमा में कोंटा में स्थित है। यहां पर आकर आप घूम सकते हैं। यहां पर बोटिग का भी मजा लिया जा सकता है। 



दंतेवाड़ा में घूमने की जगह

कवर्धा में घूमने की जगह

जांजगीर-चांपा में घूमने की जगह

कांकेर में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।