सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

हाथी पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad | Elephant park allahabad

हाथी पार्क इलाहाबाद या महाकवि सुमित्रानंदन पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad or Mahakavi Sumitranandan Park Allahabad


हाथी पार्क को महाकवि सुमित्रानंदन पार्क के नाम से भी जाना जाता है और पार्क के बाहर ही आपको महाकवि सुमित्रानंदन पंत की मूर्ति देखने के लिए मिलती है, जो पत्थर की बनी हुई है। हाथी पार्क इलाहाबाद में स्थित एक प्रमुख उद्यान है। यहां पर मुख्य आकर्षण है। यहां पर स्थित हाथी की मूर्ति, जिसके अंदर से बच्चों के लिए फिसल पट्टी बनी हुई है। यह बच्चों का मुख्य आकर्षण है और इसलिए शायद इस पार्क को हाथी पार्क के नाम से जाना जाता है। 

हाथी पार्क इलाहाबाद में चंद्रशेखर आजाद पार्क के गेट नंबर 3 के सामने ही पड़ता है। आप यहां पर चंद्रशेखर आजाद पार्क से पैदल ही घूमने के लिए जा सकते हैं। जैसे हम लोग गए थे। 

पार्क में प्रवेश का आपका ₹10 का टिकट लगता है। ₹10 का टिकट हम लोगों ने भी लिया था और उसके बाद हम लोगों ने पार्क में प्रवेश किया। हाथी पार्क में प्रवेश करते ही हमें सबसे पहले पुस्तकालय देखने के लिए मिला। इस पुस्तकालय में जाकर आप तरह-तरह की पुस्तकें पढ़ सकते हैं। मगर हमने पुस्तके नहीं पढ़ी। आगे जाकर हमको एक बहुत ही अलग तरीके से प्रयागराज शहर का नाम देखने के लिए मिला, जो अच्छा लगा। उसके बाद थोड़ा आगे बढ़े तो यहां पर हमें झील देखने के लिए मिली। हम लोग झील के करीब जाकर बहुत सारी फोटो खींच आए और फोटो भी बहुत मस्त आ रही थी। इस झील में पानी नहीं था और झील में ब्लू कलर की टाइल्स लगी थी, जिससे फोटो बहुत ही मस्त आ रही थी। इसलिए हम लोग ने बहुत सारी फोटो खींच लिया। यहां पर हम लोगों को एक बोर्ड भी देखने के लिए मिला। जिसमें लिखा था, कि झील में पानी गहरा है। अत एवं सुरक्षा की दृष्टि से बच्चों की निगरानी स्वयं करें तथा किसी प्रकार का खतरा ना उठाएं। मगर जब हम लोग गए थे तब पानी नहीं था, तो यहां पर उतना मजा नहीं आया।  अगर यहां पर पानी रहता है, तो आप जरूर इस गाइडलाइन को फॉलो कीजिए। 

फिर हम झील के दूसरे तरफ आ गए। झील के दूसरे तरफ हम लोग आए, तो हम लोगों को एक गाय का स्टेचू देखने के लिए मिला। यह स्टेचू देखने में रियल लग रहा था। यह स्टेचू एक लोहे के पिंजड़े में बना हुआ था। स्टेचू बहुत ही मस्त बना था और अच्छा लग रहा था। उसके आगे एक और स्टेचू बना था, जो जेब्रा का था। जेब्रा का स्टेचू भी बहुत अच्छा बना था।  जिराफ का स्टेच्यू भी यहां पर बना हुआ था। वैसे यह स्टैचू बहुत अच्छे दिख रहे थे। इसके बाद हम लोग आगे बढ़े, तो हम लोगों को यहां पर बहुत सारे पक्षी देखने के लिए मिले, जो पिंजरे में बंद थे। यहां पर बदक थी, जो चिल्ला रही थी, शायद उन्हें भूख लगी हो। मगर हम क्या कर सकते हैं। हम और आगे बढ़े, तो हम लोगों को यहां पर खरगोश भी देखने के लिए मिले और आगे बढ़े, तो हम लोगों को यहां पर मिट्ठू देखने मिला। आगे बढ़ने पर हमें मिट्ठू की प्रजाति का दूसरा मिट्ठू देखने के लिए मिला। यहां पर आपको चूहे की प्रजाति का एक अन्य जानवर भी देखने के लिए मिल जाएगा। यहां पर करीब 6 से 7 जानवर थे, जो पिंजरे में बंद है। उसके बाद हम लोग आगे बढ़े, तो हम लोगों को यहां पर झूले देखने के लिए मिले, जो बच्चे लोगों को बहुत पसंद आएंगे। यहां पर बहुत सारे झूले थे। कुछ झूले को झूलने में पैसा भी लगेगा और कुछ झूलों को आप फ्री में झूल सकते हैं। यहां पर हेलीकॉप्टर वाला एक झूला था, जिसमें आप को चार्ज देना पड़ता। यह झूला बच्चों के लिए था। इसके अलावा यहां पर जंपिंग जैक भी था, जिसमें बच्चे लोग कूदने का मजा लेते हैं। यहां पर मुख्य आकर्षण यहां पर स्थित हाथी का स्टेच्यू था, जिसके अंदर से फिसल पट्टी बनाई गई है, जो बहुत ही मस्त दिखता है। शायद इसलिए इस पार्क को हाथी पार्क कहा जाता है। यहां पर और भी बहुत सारे झूले थे, जिनके मजे बच्चे लोग ले सकते थे। बड़े लोगों के लिए यहां पर झूले नहीं थे। 


हाथी पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad
भगवान गौतम बुद्ध की संगमरमर की मूर्ति  




हाथी पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad
हाथी पार्क में स्थित आकर्षक हाथी की प्रतिमा 



हाथी पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad
हाथी पार्क में स्थित आकर्षक हाथी की प्रतिमा


हाथी पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad
महाकवि सुमित्रानंदन की प्रतिमा 




हाथी पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad
हाथी पार्क में स्थित झील



हाथी पार्क इलाहाबाद - Hathi park Allahabad
हाथी पार्क में स्थित झूले



हाथी पार्क में आपको कैफिटेरिया देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको चाय, कॉफी और खाने के लिए हल्का फुल्का नाश्ता भी मिल जाता है। मगर हम लोगों ने यहां पर कुछ नहीं लिया, क्योंकि हम लोग खा पीकर आए थे। उसके बाद हम लोग झील के किनारे से घूमते हुए वापस आ गए। झील के किनारे हमें एक चीज और देखने के लिए मिली। यहां पर गौतम बुद्ध की संगमरमर की एक प्रतिमा विराजमान थी,  जो बहुत ही खूबसूरत लग रही थी। यहां पर झील में कुछ काम चल रहा था। यहां पर वोटिंग भी होती है। मगर अभी काम होने के कारण यह सभी सुविधाएं यहां पर बंद थी। झील के बीच में आपको बदक का स्टेच्यू भी देखने के लिए मिल जाएगा। हाथी पार्क में घूमने का हमारा एक्सपीरियंस बहुत अच्छा था। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो, तो आप इसे अपने दोस्तों और फैमिली वालों के साथ शेयर कर सकते हैं और उन्हें भी इलाहाबाद के हाथी पार्क की जानकारी दे सकते हैं।


भारद्वाज आश्रम इलाहाबाद

इलाहाबाद संग्रहालय

प्रयागराज का किला

अक्षय वट इलाहाबाद


टिप्पणियां