सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

Maihar लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ओयला मंदिर मैहर - Oila Temple Maihar

ओयला  मंदिर मैहर - Oila Mandir Maihar / मैहर के मन्दिर   ओयला मंदिर मैहर का एक पुराना मंदिर है। यह मंदिर मैहर में प्रसिद्ध है और जो भी मैहर की चार धाम यात्रा करता है। वह इस मंदिर में जरूर घूमने के लिए आता है। यह मंदिर मुख्य रूप से दुर्गा जी को समर्पित है। इस मंदिर में आपको दुर्गा जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिल जाएगी। मंदिर में आपको गणेश जी की प्रतिमा देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर शिव जी का शिवलिंग भी आपको देखने के लिए मिलता है।     ओयला मंदिर का प्रवेश द्वार बहुत ही आकर्षक है। इस मंदिर के प्रवेश द्वार में ऊपर आपको दुर्गा जी की प्रतिमा देखने के लिए मिल जाती है। बीच में दुर्गा जी की प्रतिमा बनी हुई है और आजू बाजू में गणेश जी की और शंकर जी की प्रतिमा बनी हुई है। मंदिर में आप अंदर प्रवेश करेंगे, तो आपको दुर्गा जी की आकर्षक मूर्ति देखने के लिए मिलती है, जो धातु की बनी हुई है। यहां पर गणेश जी की प्रतिमा आपको देखने के लिए मिल जाती है, जो धातु की बनी हुई है। अंदर एक कुआं भी है, जो आप देख सकते हैं। कुआं को कवर कर दिया गया है, ताकि कोई भी कुएं में गिर ना जाए। आपको यहां प

बाबा तालाब और शिव मंदिर मैहर - Baba Talab and Shiva Temple Maihar

बाबा तालाब और शिव मंदिर मैहर - Baba Talab and Shiva Mandir Maihar   बाबा तालाब मैहर में स्थित एक प्राचीन स्थल है। यहां पर आपको एक तालाब देखने के लिए मिलता है और तालाब के किनारे पर एक शिव मंदिर बना हुआ है। आप यहां पर जब भी मैहर में आकर चार धाम की यात्रा करते हैं, तो आप इस रास्ते से जरूर को निकलते हैं, क्योंकि यह रास्ता सतना हाईवे रोड में स्थित है।     इस रास्ते में ही आपको बड़ी खेरमाई मंदिर देखने के लिए मिलता है। आप इस मंदिर में भी आ सकते हैं। इस मंदिर में ज्यादा लोग नहीं आते हैं। यह मंदिर ज्यादा फेमस नहीं है। मगर यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर के इस मंदिर की बनावट भी बहुत खूबसूरत है और यह सफेद कलर से पोता हुआ है, तो बहुत खूबसूरत लगता है। इस मंदिर के पीछे आपको तालाब देखने के लिए मिल जाता है, जिसे बाबा तालाब के नाम से जाना जाता है।  यह तालाब जो है, बहुत प्राचीन है। इस तालाब के किनारे आपको बहुत सारी छतरियां देखने के लिए मिल जाती है।     मंदिर में एक पुजारी रहते हैं। जब हम लोग गए थे। तब वह पुजारी नहीं थे। मगर वह मंदिर में ही रहते हैं। उनका सामान आपको मंदिर में देखने के लिए मिल जाता है। हम

बड़ी खेरमाई मंदिर मैहर - Badi Khermai Temple Maihar

बड़ी खेरमाई मंदिर मैहर - Badi Khermai Mandir Maihar / मैहर के मंदिर   बड़ी खेरमाई मंदिर मैहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि बड़ी खेरमाई मैहर वाली शारदा माता की बड़ी बहन है और जो कोई भी मैहर वाली शारदा माता के दर्शन करने आता है। उन्हें इस मंदिर में बड़ी खेरमाई माता के दर्शन करने जरूर आना चाहिए। इस मंदिर में आपको बड़ी खेरमाई के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।     मैहर के बड़ी खेरमाई मंदिर में आपको एक बावली भी देखने के लिए मिलती है। यह बावड़ी देखने में बहुत ही पुरानी लगती है। इस बावड़ी को ऊपर से कवर कर दिया गया है, ताकि कोई व्यक्ति इस बावड़ी में गिरे ना। इस बावड़ी में नीचे जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। यह बावड़ी मंदिर के बहुत पास ही में स्थित है।     आप बड़ी खेरमाई मंदिर घूमने के लिए आते हैं, तो 12 बजे के पहले आ जाइए, क्योंकि 12 बजे के बाद बड़ी खेरमाई मंदिर के पट बंद हो जाता है, तो आपको माता के दर्शन करने नहीं मिलेंगे।     मैहर के बड़ी खेरमाई मंदिर हम लोग ऑटो से आए थे। ऑटो वाले ने हमें बड़ी खेरमाई मंदिर के गेट में ही छोड़ दिया था। यहां पर प्रसाद की दुकान आपको

बड़ा अखाड़ा मैहर - Bada Akhada Maihar / श्री सर्व देव रामेश्वरम मंदिर

बड़ा अखाड़ा मंदिर मैहर - Bada Akhada Mandir Maihar   बड़ा अखाड़ा मैहर शहर का एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। बड़ा अखाड़ा मंदिर में आपको शिव भगवान जी का एक बहुत बड़ा शिवलिंग देखने के लिए मिलता है, जो मंदिर के ऊपर बना हुआ है। यहां पर आपको बहुत सारे शिवलिंग देखने के लिए मिलते हैं। शायद इन शिवलिंग  की संख्या 101 है। यहां पर आश्रम भी बना हुआ है, जहां पर ब्राह्मणों को शिक्षा दीक्षा दी जाती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है।     हम लोग भी बड़ा अखाड़ा ऑटो से घूमने गए थे। हम लोगों ने ऑटो बुक किया था। मैहर में चार धाम की यात्रा करने के लिए। मैहर में आपको चार प्रमुख मंदिर घूमने के लिए मिल जाते हैं और इन्हीं मंदिर को मैहर के चार धाम मंदिर कहा जाता है। हम लोग बड़ा अखाड़ा मंदिर पहुंचे, तो यहां पर हम लोगों को शिव मंदिर देखने को मिला। शिव मंदिर बहुत खूबसूरत था और मंदिर के ऊपर बहुत बड़ा शिवलिंग भी बना हुआ था। इस मंदिर को श्री सर्व देव रामेश्वरम मंदिर कहा जाता है। इस मंदिर के ऊपर यह नाम लिखा था। मंदिर के अंदर हम लोग गए, तो हम लोगों को यहां पर ढे

गोलामठ मंदिर मैहर - Golamath Temple Maihar / Maihar ke Mandir

गोलामठ मंदिर मैहर -   G olamath Mandir Maihar   गोला मठ मंदिर मैहर में स्थित एक प्राचीन मंदिर है। यह पूरा मंदिर पत्थर से बना हुआ है। गोला मठ मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। इस मंदिर में शिव भगवान जी का शिवलिंग विराजमान है। गोला मठ मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग विराजमान है और मंदिर के बाहर नंदी भगवान की पत्थर की प्रतिमा विराजमान है। इस मंदिर की दीवारों में आपको नक्काशी देखने के लिए मिलेगी, जो पत्थर पर उकेर कर की गई है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। यहां के लोगों का यह मानना है, कि यह मंदिर एक रात में तैयार किया गया है। आप यहां पर जाकर इस मंदिर की सुंदरता को देख सकते हैं।     गोला मठ मंदिर का इतिहास - History of Gola Math Temple गोला मठ के नाम से प्रसिद्ध मंदिर शिव को समर्पित है। नागर शैली में निर्मित पूर्वाभिमुख, पंचरथी मंदिर की लंबवत योजना में अधिष्ठान जंघा, शेखर एवं तल योजना में गर्भगृह, अंतराल एवं स्तंभों पर आधारित मुख्य मंडप प्रमुख अंग है। मंडप की छत शतदल कमल अलंकरण युक्त है। इसके स्तंभों का निचला भाग अष्टकोण एवं उपरी भाग षोडश कोणीय है। स्तंभ शीर्ष गोलाकार है, जिनके ऊपर भार वाहक क

शारदा माता मंदिर मैहर मध्य प्रदेश - Sharda Mata Mandir Maihar Madhya Pradesh

माँ शारदा मन्दिर मैहर -  Sharda Mata Mandir Maihar / मैहर माता का मंदिर / मैहर की शारदा माता मैहर का शारदा माता का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। हम लोग भी इस मंदिर में दर्शन करने के लिए जनवरी महीने में गए थे। मैहर के शारदा माता के मंदिर को शक्तिपीठ माना जाता है और कहा जाता है कि इस मंदिर में मांगी जाने वाली हर मनोकामना पूरी होती है। शारदा माता का मंदिर ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। इस पहाड़ी को त्रिकूट पहाड़ी के नाम से जाना जाता है। शारदा माता जी के मंदिर में आपको माता जी की भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मुख्य मंदिर के प्रवेश द्वार में आपको दो शेर की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मंदिर के अंदर आपको और भी प्रतिमाएं देखने के लिए मिल जाती हैं।    मैहर माता की कहानी - Story of maihar mata मैहर का शारदा माता का मंदिर एक महत्वपूर्ण शक्तिपीठ है।  कहा जाता है कि इस स्थल पर मां सती का हार गिरा था। इसलिए यह 1 शक्तिपीठ है। शारदा माता मंदिर के बारे में बहुत सारे रहस्यमई तथ्य है। जिसमें से एक तथ्य है, कि शारदा माता मंदिर में हर रोज सुब

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

माँ शारदा मंदिर मैहर - Maa sharda temple maihar | Maihar sharda mata mandir

शारदा मंदिर मैहर - Sharda mandir maihar |  मैहर  मैहर शारदा माता मंदिर मैहर का शारदा माता का मंदिर पूरे मध्यप्रदेश में प्रसिद्ध है। यह 1 शक्तिपीठ है और यहां पर हजारों की संख्या में भक्त शारदा माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। शारदा माता का मंदिर सतना जिले के मैहर में स्थित है। मैहर में शारदा माता का मंदिर त्रिकूट पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। इस पहाड़ी तक जाने के लिए सीढ़ियां बनाई गई है। आप चाहे तो कार में भी जा सकते हैं और यहां पर आप रोपवे की मदद से भी जा सकते हैं।  उदल की कहानी - Udal ki kahani मैहर का शारदा माता का मंदिर एक चमत्कारिक मंदिर है। कहा जाता है कि यहां पर हर दिन आल्हा और उदल आकर पहली पूजा करते हैं। आल्हा और उदल मां शारदा के परम भक्त थे और मां शारदा ने उन्हें अमर होने का वरदान दिया था। इसलिए सबसे पहले पूजा आकर आल्हा और उदल के द्वारा की जाती है। पंडित जी जब सुबह मंदिर के द्वार खोलते है, तो उन्हें फूल एवं जल चढ़ा हुआ मिलता है। यह चमत्कार शारदा माता के मंदिर में रोज होता है। मैहर मंदिर कैसे पहुँचें - how to reach maihar temple आप मैहर के शारदा मंदिर घू