सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

माँ शारदा मंदिर मैहर - Maa sharda temple maihar | Maihar sharda mata mandir

शारदा मंदिर मैहर - Sharda mandir maihar |  मैहर 

माँ शारदा मंदिर मैहर - Maa sharda temple maihar | Maihar sharda mata mandir

मैहर शारदा माता मंदिर

मैहर का शारदा माता का मंदिर पूरे मध्यप्रदेश में प्रसिद्ध है। यह 1 शक्तिपीठ है और यहां पर हजारों की संख्या में भक्त शारदा माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। शारदा माता का मंदिर सतना जिले के मैहर में स्थित है। मैहर में शारदा माता का मंदिर त्रिकूट पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। इस पहाड़ी तक जाने के लिए सीढ़ियां बनाई गई है। आप चाहे तो कार में भी जा सकते हैं और यहां पर आप रोपवे की मदद से भी जा सकते हैं। 

उदल की कहानी - Udal ki kahani


मैहर का शारदा माता का मंदिर एक चमत्कारिक मंदिर है। कहा जाता है कि यहां पर हर दिन आल्हा और उदल आकर पहली पूजा करते हैं। आल्हा और उदल मां शारदा के परम भक्त थे और मां शारदा ने उन्हें अमर होने का वरदान दिया था। इसलिए सबसे पहले पूजा आकर आल्हा और उदल के द्वारा की जाती है। पंडित जी जब सुबह मंदिर के द्वार खोलते है, तो उन्हें फूल एवं जल चढ़ा हुआ मिलता है। यह चमत्कार शारदा माता के मंदिर में रोज होता है।

मैहर मंदिर कैसे पहुँचें - how to reach maihar temple


आप मैहर के शारदा मंदिर घूमने के लिए आना चाहते हैं, तो यहां आना बहुत ही आसान है। मैहर में रेलवे स्टेशन मौजूद है। रेलवे स्टेशन से मैहर का शारदा मंदिर करीब 5 या 6 किलोमीटर दूर होगा। रेलवे स्टेशन से आपको ऑटो मिल जाता है, जिसमें आपका किराया  ₹20 लगता है और आप मंदिर तक पहुंच जाते हैं। अगर आप सड़क से आते हैं, तो नेशनल हाईवे 30 मैहर से होते हुए गुजरता है। तो आप सड़क माध्यम से भी मैहर पहुंच सकते हैं। 

Sharda mata mandir maihar
मैहर शारदा माता का मंदिर

शारदा माता के मंदिर में पहुंचकर आपको बहुत सारी प्रसाद की दुकान देखने के लिए मिलती है। आपको बहुत सारे लोग प्रसाद खरीदने के लिए बोलते हैं। आप यहां पर आप अपनी इच्छा अनुसार प्रसाद ले सकते है।  कुछ दुकानदार यहां पर 300 - 400 का प्रसाद बना देते हैं और और भी एक्स्ट्रा प्रसाद में जोड़ देते हैं, तो आप ऐसी दुकानों में सावधान रहे। जहां आपकी इच्छा अनुसार प्रसाद दे रहे हैं। आप  वहां से प्रसाद ले और दुकान में ही अपने जूते चप्पल उतार सकते हैं। उसके बाद आप आगे बढ़ सकते हैं। आप जैसे जैसे आगे बढ़ेंगे। आपको बहुत सारी दुकानें देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको मैहर माता की मूर्ति, मैहर माता के पोस्टर,  खूबसूरत कड़े, और भी बहुत सारी चीजें देखने के लिए मिलती है। आप चाहे तो इनकी भी शॉपिंग कर सकते हैं। धीरे धीरे चलते हुए आप शारदा माता मंदिर के गेट तक पहुंच जाते हैं। यहां पर आप जो नारियल लिए रहते हैं। वह जमा करने रहते हैं और आपको टोकन दिया जाता है। फिर आप आगे बढ़ते हैं, तो सीढ़ियां स्टार्ट होती है। आपको सीढ़ियां चढ़ना पड़ता है। अगर आप सीढ़ियां नहीं चढ़ना चाहते हैं, तो यहां पर रोपवे का भी ऑप्शन उपलब्ध है। आप चाहे तो रोपवे भी ले सकते हैं। इसमें आप का चार्ज लिया जाता है। हम लोग सीढ़ियां चढ़कर गए थे। यहां पर करीब 1000 से भी अधिक सीढ़ियां हैं। आप चाहे तो यहां पर कार से भी आ सकते हैं। कार से आने के लिए यहाँ पर रोड है। वैसे सीढ़ियां चढ़ने में बहुत ज्यादा रोमांचक लगता है। सीढ़ियों में जगह जगह पर आपके रुकने के लिए और बैठने के लिए चेयर बनाई गई है और यहां पर आपको पीने के पानी की व्यवस्था भी की गई है। आपको सीढ़ियों चढ़ने में करीब आधा घंटा लग सकता है। आप यहां पर मुख्य गेट पर पहुंचते है, तो यहां पर बहुत भीड़ रहती है। लोग लाइन लगाकर मंदिर के अंदर जाते हैं। मंदिर में सामने आपको दो शेर की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा मुख्य मंदिर के प्रवेश द्वार के आजू.बाजू स्थित है। कहा जाता है कि यह प्रतिमा बहुत प्राचीन है। यहां पर आपको मंदिर के सामने एक पेड़ देखने के लिए मिलता है। उसके नीचे  शिवलिंग विराजमान है। आप लाइन लगाते हुए अंदर जाते हैं।  आपको यहां पर मां शारदा जी के दर्शन करने मिलते हैं। यहां पर आपके पास जो प्रसाद बचा हुआ है। वहां आप पंडित जी को देते हैं और पंडित जी से प्रसाद लेकर आप आगे बढ़ते हैं। यहां पर मंदिर के पीछे की तरफ आते हैं, तो आपको पीछे की तरफ एक बड़ा सा आंगन देखने के लिए मिलता है। यहां पर आप  कुछ समय के लिए शांति से बैठ सकते हैं। यहां पर आप फोटो भी खिंचा सकते हैं। यहां पर और भी छोटे-छोटे मंदिर हैं, जहां पर आप प्रसाद वगैरह चढ़ा सकते हैं। यहां पर आपको फोटोग्राफर भी मिलता है, जो आपकी फोटो क्लिक करता है और तुरंत ही आपको फोटो निकाल कर दे देता है। मंदिर के पीछे के आंगन में चारों तरफ ग्रिल लगी हुई है और आप ग्रिल से चारों तरफ का दृश्य देख सकते हैं, जो बहुत ही मनोरम रहता है। बरसात के समय अगर आप यहां पर आते हैं तो चारों तरफ हरियाली रहती है और बहुत ही लुभावना लगता है। अगर आप बरसात में आएंगे तो आपको ऐसा लगेगा कि जैसे आप बादलों के बीच में खड़े हैं। यहां पर सभी तरह की व्यवस्था उपलब्ध है। यहां पर बाथरूम वगैरह भी उपलब्ध है। अगर आप अपने साथ खाना वगैरह लाते हैं, तो यहां पर बैठ कर खा सकते हैं। मगर गंदगी यहां पर ना करें। यहां पर डस्टबिन दिए हुए हैं, जो भी कचरा होता है। आप डस्टबिन में डालें। 

मंदिर के पीछे तरफ नीचे जाने के लिए सीढ़ियां दी गई है। आप मंदिर में घूम कर नीचे जा सकते हैं। अगर आप अपने साथ खाना नहीं लाए हैं, तो यहां पर मंदिर ट्रस्ट के द्वारा खाने की सुविधा भी उपलब्ध कराई गई है, जिसमें आप मंदिर के नीचे आते हैं, तो यहां पर 10 या ₹20 में बहुत अच्छा खाने की व्यवस्था है। अन्नपूर्णा ट्रस्ट के नाम से यह जगह है। आप यहां पर आकर खाना खा सकते हैं। आप मैहर के शारदा माता के मंदिर में अपने परिवार और दोस्तों के साथ जा सकते हैं और मां शारदा जी के दर्शन कर सकते हैं। यह जगह बहुत अच्छी है और यहां कर बहुत अच्छा लगता है। 

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar tourist place


मैहर में और भी जगह है। जहां आप घूम सकते हैं। यहां पर बड़ा अखाड़ा, आल्हा ऊदल का अखाड़ा, आल्हा ऊदल तालाब, नीलकंठेश्वर धाम या राधा कृष्ण मंदिर, गोला मठ मंदिर, पन्नी जलप्रपात में आप घूम सकते हैं। 



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन
मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )  में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी। 



मठघोघरा झरना एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात (Math Ghogra Waterfall ) तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )तक पहुॅचने के लिए आपको पक्की रोड मिल जाती है। आपको इस जगह तक पहुॅचने के लिए पहले लखनादौन पहुॅचना पडता है। आपको इस जगह प…

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katniकटनी जिले के बारे में जानकारी
Information about Katni district
कटनीमध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण,रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर, दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं। 



Katni places to visitकटनी में घूमने की जगहें
जागृति पार्क - Jagriti Park Katniजागृति पार्ककटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है। जागृति पार्क कटनी में माधव नगर में स्थित है। जागृति पार्क में आप आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। जागृति …