सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नरसिंहपुर पर्यटन स्थल - Narsinghpur tourist place | Narsinghpur tourism

नरसिंहपुर के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Narsinghpur | Tourist places near Narsinghpur | Narsinghpur District


नरसिंहपुर में घूमने की जगह

बरमान घाट नरसिंहपुर - Barman ghat narsinghpur

बरमान घाट नरसिंहपुर जिले का एक प्रसिद्ध जगह है। बरमान घाट नर्मदा नदी के किनारे स्थित एक बहुत ही खूबसूरत घाट है। यह एक पवित्र स्थल हैं। साल भर लाखों लोग नर्मदा में स्नान करने आते हैं। इस जगह पर नर्मदा नदी सात धाराओं में बहती है। यहां पर आपको बहुत सारे प्रसिद्ध मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आप ब्रह्मा जी की यज्ञ स्थली, रानी दुर्गावती का मंदिर और भगवान विष्णु का वराह अवतार की प्रतिमा देख सकते हैं। यहां पर मकर संक्रांति और नर्मदा जयंती के समय बहुत बड़े मेले का आयोजन होता है, जिसमें लाखों की संख्या में लोग आते हैं। बरमान घाट नरसिंहपुर में बरमान नगर में स्थित है। यहां पर आप गाड़ी से आ सकते हैं। यह घाट सागर नरसिंहपुर हाईवे रोड पर स्थित है। बरमान घाट का नजदीकी रेलवे स्टेशन  करेली है। आप यहां पर ट्रेन के माध्यम से भी आ सकते हैं। यहां पर दोस्त और परिवार के साथ जा सकता है। बरमान घाट के दूसरी तरफ जाने के लिए नर्मदा नदी में पुल बनाया गया है। इस पुल से आप बरमान घाट के दूसरी तरफ जाकर नर्मदा जी के मंदिर घूम सकते हैं। इस्कॉन मंदिर घूम सकते हैं। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। 

सूरजकुंड बरमान घाट नरसिंहपुर - Suraj Kund Barman ghat Narsinghpur

सूरजकुंड नरसिंहपुर में बरमान घाट के पास स्थित एक प्रसिद्ध  कुंड है। यह एक पवित्र कुंड है और जो भी यहां पर आता है। वह इस कुंड में डुबकी जरुर लगाता है। यह कुंड नर्मदा नदी के किनारे बना हुआ है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 

सतधारा बरमान घाट नरसिंहपुर - Satdhara Barman Ghat Narsinghpur

सतधारा नरसिंहपुर में बरमान घाट के पास स्थित एक प्रसिद्ध स्थान है। इस जगह पर आपको नर्मदा नदी सात धाराओं में विभक्त देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको नर्मदा नदी का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर नर्मदा नदी पर एक पुराना पुल भी बना है, जो आप देख सकते हैं। उसके बाजू में ही नया पुल बना हुआ है। 

दीपेश्वर मंदिर बरमान घाट नरसिंहपुर - Deepeshwar Temple Barman Ghat Narsinghpur

दीपेश्वर मंदिर नरसिंहपुर में स्थित एक धार्मिक जगह है। इस  जगह का ऐतिहासिक महत्व है। यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। दीपेश्वर मंदिर बरमान घाट के पास स्थित है। यह  मंदिर नर्मदा नदी पर एक टापू पर स्थित है। कहा जाता है कि  बरमान घाट को ब्रह्मा जी की यज्ञ स्थली के रूप में जाना जाता है। ब्रह्मा जी ने यहां पर भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए तपस्या की थी और शिवलिंग की स्थापना की थी। यह शिवलिंग बहुत प्राचीन है। यहां पर बहुत सारे लोग सूरज कुंड में स्नान करके शिवलिंग पर जल चढ़ाने के लिए सूरजकुंड से जल लेकर आते हैं और अपनी मनोकामना की पूर्ति हेतु प्रार्थना करते हैं। 

रानीदहारा शिव पार्वती मंदिर नरसिंहपुर - Ranidahara Shiva Parvati Temple Narsinghpur

रानीदहारा नरसिंहपुर में स्थित एक प्राकृतिक स्थल है। यह जगह पहाड़ों के बीच में स्थित है। आजू बाजू पहाड़ों का दृश्य बहुत ही मनोरम होता है। यहां पर आपको एक नदी देखने के लिए मिलती है। नदी के किनारे मंदिर बना हुआ है। यह मंदिर शिव और पार्वती माता जी को समर्पित है। यहां पर आप आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। प्रकृति के बीच आप आते हैं, तो आपको बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर नदी का पानी साफ और स्वच्छ है। रानीदहारा नरसिंहपुर के गाडरवारा के पास स्थित है। यहां पर आप अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। यह पिकनिक के लिए बहुत अच्छी जगह है। 

चौरागढ़ का किला नरसिंहपुर - Chauragarh Fort Narsinghpur

Or
चौगान का किला नरसिंहपुर - Chaugan Fort Narsinghpur

चैरागढ़ का किला नरसिंहपुर के गाडरवारा के पास में स्थित है। चैरागढ़ का किला एक ऐतिहासिक किला है। यह किला घने जंगलों के बीच में स्थित है। यह किला खंडहर अवस्था में है। चैरागढ़ किले को चैगान का किला भी कहा जाता है। चौरागढ़ का किला सतपुड़ा की पहाड़ियों पर बना हुआ है। यह  किला पत्थर और चूने पत्थर से निर्मित है। किले के पास में एक तालाब बना हुआ हैए जिसे रेवा कुंड कहा जाता है। यह कुंड खूबसूरत है। यहां पर आपको एक मंदिर भी देखने के लिए मिलता हैए जो प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर नरसिंह भगवान को समर्पित है। आप यहां पर आ कर प्राकृतिक दृश्य का मजा ले सकते हैं। इस जगह में आप अपने दोस्तों और फैमिली वालों के साथ आकर बहुत मजे कर सकते हैं। यह अच्छा पिकनिक स्पॉट है। चौरागढ़ किले का निर्माण गोंड शासक संग्राम शाह ने 15 वीं शताब्दी में कराया था। यह किला गाडरवारा रेलवे स्टेशन से लगभग 19 किलोमीटर दूर है। आपको यहां से पहाड़ों का दृश्य देखने के लिए मिलेगाए जो बहुत ही अद्भुत रहता है। 

मिनी धुआँधार वॉटरफॉल नरसिंहपुर - Mini Dhuandhar Waterfall Narsinghpur

मिनी धुआंधार जलप्रपात नरसिंहपुर में स्थित एक बहुत ही अच्छी जगह है। यह नर्मदा नदी के किनारे बना हुआ है। आप यहां पर पिकनिक मनाने आ सकते हैं। यहां पर किसी भी प्रकार की बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध नहीं है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर ज्यादा भीड़ नहीं रहती है। यह जलप्रपात ज्यादा बड़ा नहीं है, मगर अच्छा लगता है। धुआंधार में आपको संगमरमर की चट्टानें देखने मिलती है, मगर यहां पर आपको काली चट्टानें देखने मिलेगी। इसलिए इस जलप्रपात को मिनी धुआंधार जलप्रपात कहा जाता है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। मिनी धुआंधार जलप्रपात नरसिंहपुर से करीब 20 किलोमीटर दूर है। आप यहां गाड़ी से जा सकते हैं। 

गोंड राज महल नरसिंहपुर या पठेहरा किला नरसिंहपुर - Gond Raj Mahal Narsinghpur or Pathehra Fort Narsinghpur

पठेहरा किला नरसिंहपुर जिले का एक प्राचीन स्थल है। यह एक प्राचीन किला है, जो नर्मदा नदी के किनारे बना हुआ है। यह किला अब खंडहर अवस्था में मौजूद है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। इस महल का निर्माण गोंड शासक राजा बलवंत सिंह ने 16वीं या 17 वी सदी ईसवी में कराया था। यह महल 3 मंजिल रहा होगा। अब यह मलबे में तब्दील हो गया है। इस महल का निर्माण में ईट एवं अनगढ़ पत्थरों के मिश्रण से हुआ है। आप यहां पर फैमिली और दोस्तों के साथ आकर घूम सकते हैं। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 

प्राचीन गरुण मंदिर नरसिंहपुर - Ancient Garun Temple Narsinghpur

प्राचीन गरुण मंदिर नरसिंहपुर में स्थित एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर नर्मदा नदी के किनारे स्थित है। यह मंदिर गरुण भगवान जी को समर्पित है। आप यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह जगह बरसात के समय और भी खूबसूरत लगती है, चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है। नर्मदा नदी का नजारा बहुत ही खूबसूरत रहता है। इस मंदिर में आप अपनी गाड़ी से आ सकते हैं। यह मंदिर नरसिंहपुर के गररु गांव के पास स्थित है। इस मंदिर का निर्माण 17वीं शताब्दी में किया गया था। यह मंदिर गोंड राजा बलवंत सिंह द्वारा बनाया गया था। यह मंदिर पंचायतन शैली में निर्मित किया गया है। गर्भ ग्रह के चारों ओर परिक्रमा पथ बना हुआ है। 

हाथीनाला झरना नरसिंहपुर - Hathinala Waterfall Narsinghpur

हाथीनाला जलप्रपात नरसिंहपुर का एक प्राकृतिक जलप्रपात है। यह जलप्रपात घने जंगलों के बीच में स्थित है। आपको इस जलप्रपात तक पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यह जलप्रपात 5 स्तरों में नीचे गिरता है, जो बहुत ही लुभावना होता है। आपको यह जलप्रपात बहुत पसंद आएगा। यह जलप्रपात हाईवे रोड से करीब 1 किलोमीटर दूर होगा। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आप ग्रुप के साथ आएंगे, तो अच्छा होगा, क्योंकि यह जगह सुनसान रहती है। यहां पर आप अच्छा समय बिता सकती हैं। यह जलप्रपात प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है। यह बिल्लाधा गाँव से 1 किमी की दूरी पर है। यहां पर किसी भी तरह की कोई भी दुकान उपलब्ध नहीं है। अगर आप यहां पर आते हैंए तो खाने पीने का सामान लेकर आए और यहां पर आकर आप मजे कर सकते हैं। 

जबरेश्वर महादेव मंदिर नरसिंहपुर - Jabreshwar Mahadev Temple Narsinghpur

जबरेश्वर महादेव मंदिर नरसिंहपुर का एक प्रसिध्द मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर नर्मदा नदी के किनारे स्थित है। मंदिर में एक शिवलिंग स्थापित है। शिवलिंग के बारे में कहा जाता है कि यह शिवलिंग हर साल बढ़ता है। यह शिवलिंग करीब 1 मीटर ऊंचा है। इस शिवलिंग की मोटाई इतनी है कि आप दोनों हाथों से भी इस शिवलिंग को पकड़ नहीं सकते है। आप यहां पर आकर नर्मदा नदी का बहुत ही मनोरम दृश्य देख सकते हैं। यहां पर नर्मदा नदी में स्नान कर सकते हैं। 

झोतेस्वर मंदिर नरसिंहपुर या राज राजेश्वरी त्रिपुर सुंदरी मंदिर नरसिंहपुर - Jhoteswar Temple Narsinghpur or Rajrajeshwari Tripur Sundari Temple Narsinghpur

झोतेश्वर मंदिर नरसिंहपुर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर नरसिंहपुर के गोटेगांव के पास स्थित है। यह मंदिर गोटेगांव से करीब 10 किलोमीटर दूर होगा। आप इस मंदिर तक अपनी गाड़ी से आ सकते हैं। यहां पर आपको भव्य मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही खूबसूरत है। मंदिर में माता राजराजेश्वरी की प्रतिमा विराजमान है। मंदिर की छत पर बहुत ही खूबसूरत कमल की नक्काशी की गई है, जो देखने में बहुत ही आकर्षक लगती हैं। यह मंदिर एक पहाड़ी के ऊपर बना हुआ है और मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। आप इस मंदिर में जाकर शांति के साथ बैठ सकते हैं और अपना समय बिता सकते हैं। मंदिर में आप जब भी जाते हैं, तो 12:00 बजे से पहले जाएंगे, तो आपको माता के दर्शन करने मिल जाते हैं। 12:00 बजे के बाद मंदिर के द्वार बंद कर दिए जाते हैं। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यह जगह बहुत ही अच्छी है। माता राज राजेश्वरी मंदिर के आजू.बाजू भी बहुत सारे मंदिर हैंए जिन्हें आप देख सकते हैं। 

हनुमान टेकरी झोतेश्वर - Hanuman Tekri Jhoteshwar

हनुमान टेकरी झोतेश्वर में पहाड़ी के ऊपर स्थित एक मंदिर है।  आपको इस मंदिर तक जाने के लिए सड़क मिलती है। इस मंदिर में हनुमान जी की बहुत ही भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर के आसपास आपको बहुत सारे बंदर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर पीने के पानी के लिए हेडफोन लगा हुआ है।  आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। 

विचार शिला झोतेश्वर - Vichar Shila jyoteshwar

विचार शिला झोतेश्वर में स्थित एक बहुत ही खूबसूरत धार्मिक स्थल है। यहां पर एक शिला है, जिसे विचार शीला के नाम से जाना जाता है। यहां पर खूबसूरत गार्डन भी बना हुआ है। इस गार्डन में रंग बिरंगे फूल लगे हुए हैं, जो बहुत ही खूबसूरत लगते हैं। 

राधा कृष्ण मंदिर झोतेश्वर - Radha Krishna Temple Jhoteshwar

राधा कृष्ण मंदिर झोतेश्वर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरत है और मंदिर में राधा कृष्ण जी की मूर्ति विराजमान है, जो देखने में बहुत ही भव्य लगती हैं। यहां पर आपको आकर बहुत अच्छा लगेगा।

लक्ष्मीनारायण मंदिर झोतेश्वर - Laxminarayan Temple Jhoteshwar

झोतेश्वर मंदिर के पास में ही लक्ष्मी नारायण मंदिर है। यह छोटा सा मंदिर है, मगर खूबसूरत मंदिर है। आपको यहां पर श्री कृष्ण जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 

श्री श्री बाबा जी धाम और श्री सत्य सरोवर नरसिंहपुर - Sri Sri Baba Ji Dham and Shri Satya Sarovar Narsinghpur

श्री श्री बाबा जी धाम झोतेश्वर जाने वाले के रास्ते में पड़ता है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है। इस मंदिर में बहुत बड़ा तालाब है। तालाब में आपको मछलियां देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर मछलियों को खाने के लिए दाना भी आप खरीद सकते हैं। इस तालाब के बीच में एक मंदिर बना हुआ है। इस तालाब के बीच में हम जा सकते हैं और आप मछलियों को दाना डाल सकते हैं और आपको अच्छा लगेगा। तालाब के किनारे यहां पर शिव भगवान जी का शिवलिंग विराजमान है। यहां पर आपको श्री कृष्ण भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर गार्डन भी बना हुआ है और गार्डन में आपको शंकर जी की बहुत ही भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको अच्छा लगेगा। यहां पर आप अपने  फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं। 

टोनघाट नरसिंहपुर - Ton ghat Narsinghpur

टोन घाट नरसिंहपुर में स्थित एक प्राकृतिक स्थल है। टोन घाट नरसिंहपुर के बेलखेड़ी में स्थित है। आप यहां पर आकर प्रकृति के नजारे देख सकते हैं। यहां घाट शेर नदी पर स्थित है। टोन घाट को छोटा धुआंधार भी कहा जाता है। यहां पर छोटा सा झरना है, जो बहुत ही खूबसूरत लगता है। यहां पर आप को  चट्टानों से बहता हुआ झरना देखने मिलता हैं, जो बहुत ही आकर्षक है। 

श्री दादा दरबार या दादा दूल्हा देव महाराज मंदिर नरसिंहपुर - Shri Dada Darbar or Dada Dulha Dev Maharaj Temple Narsinghpur

श्री दादा दरबार मंदिर नरसिंहपुर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर नरसिंहपुर हाईवे रोड में स्थित है। यह एक पवित्र है। इस मंदिर को दादा महाराज या दूल्हा देव के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर हाईवे रोड पर स्थित है। इस मंदिर में आप आसानी से आ सकते हैं। मंदिर परिसर बहुत खूबसूरत है और साफ सुथरा है। यह मंदिर नरसिंहपुर से 7 किमी की दूरी पर स्थित है। परिवार के साथ घूमने के लिए अच्छा स्थान है।

घोघरनाथ जल प्रपात नरसिंहपुर - Ghogarnath waterfall Narsinghpur

घोघरनाथ जलप्रपात नरसिंहपुर जिले के पास स्थित एक बहुत ही खूबसूरत जलप्रपात हैं। यह झरना घने जंगलों के बीच में स्थित है। यहां पर आप अपनी बाइक से आ सकते हैं। यह एक बरसाती जलप्रपात है। बरसात के समय आपको यह जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। गर्मी के समय यह जलप्रपात में पानी सूख जाता है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। आप यहां पर अपने दोस्तों और परिवार के लोगों के साथ आ सकते हैं।

डमरू घाटी नरसिंहपुर - Damru ghati Narsinghpur

डमरू घाटी नरसिंहपुर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। डमरू घाटी एक प्रसिद्ध मंदिर है और एक पवित्र जगह है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यहां पर आपको एक विशाल शिवलिंग एवं शिव मूर्ति देखने के लिए मिलती है। शिवलिंग का ऊंचाई करीब 19 फीट है। यह मध्य प्रदेश का सबसे ऊंचा शिवलिंग है। आपको हाईवे रोड से ही भगवान शिव की प्रतिमा देखने मिल जाएगी। यहां पर शिव भगवान जी की मूर्ति योग अवस्था में विराजमान है। यहां पर हनुमान जी की विशाल मूर्ति भी विराजमान है, जो खड़ी हुई अवस्था में है। आपको यहां पर नंदी भगवान जी की भी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो शिव भगवान जी के सामने स्थित है। यहां पर आप आते हैं, तो आपको बहुत अच्छा लगेगा। यह बहुत अच्छी जगह है। मंदिर के बाहर बहुत सारी दुकानें हैं, जहां से आप प्रसाद ले सकते हैं।  मंदिर के बाहर आपको चाय नाश्ते की दुकान भी मिल जाती है। यहां पर पार्किंग की अच्छी व्यवस्था है और पार्किंग का चार्ज लिया जाता है। यहां पर एक छोटा सा तालाब भी है। डमरू घाटी नरसिंहपुर में गाडरवारा के पास शक्कर नदी के पास स्थित है।  आप यहां पर अपनी गाड़ी से आराम से आ सकते हैं या किराए के वाहन से भी यहां पर पहुंच सकते हैं। 

नरसिंह मंदिर नरसिंहपुर - Narsingh Temple Narsinghpur

नरसिंह मंदिर नरसिंहपुर का प्रसिद्ध मंदिर है। नरसिंह मंदिर के नाम पर ही इस शहर को नरसिंहपुर कहा जाता है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। यह करीब 600 वर्ष पुराना है। मंदिर में आपको नरसिंह भगवान जी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर में मूर्ति की स्थापना इस प्रकार की गई है, कि आप मूर्ति को मंदिर के अंदर से देखे या मंदिर के किसी भी कोने से देखे या फिर आप मंदिर के बाहर रोड के उस पार से मूर्ति को देखे। मूर्ति आपको एक जैसी ही दिखाई देती है। इस मंदिर में एक भूमिगत सुरंग है, जो यहां के राजा के राजमहल तक जाती है। आप आकर इस मंदिर को देख सकते हैं। बहुत अच्छी जगह है। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आकर घूम सकते हैं। नरसिंह जयंती के समय यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। बहुत ज्यादा संख्या में लोग यहां पर आते हैं। नरसिंह मंदिर के पास ही नरसिंह तालाब स्थित है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। नरसिंह मंदिर मुख्य नरसिंहपुर शहर में ही स्थित है। आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। 

राम मंदिर नरसिंहपुर - Ram Temple Narsinghpur

राम मंदिर नरसिंहपुर में स्थित एक बहुत ही प्राचीन मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर आपको श्री राम जी, माता सीता जी और लक्ष्मण जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर मुख्य नरसिंहपुर में स्थित है। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। इस मंदिर में बहुत ही सुंदर सजावट की गई है। मंदिर की छत को झूमर से सजाया गया हैए जो आपको बहुत ही अच्छा लगेगा। यह मंदिर नरसिंहपुर शहर के बीचोबीच स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। 

सदर मढ़िया नरसिंहपुर - Sadar Madhiya Narsinghpur

सदर मढ़िया नरसिंहपुर शहर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर नरसिंहपुर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर दुर्गा जी को समर्पित है। इस मंदिर को सदर मड़िया के नाम से जाना जाता है। यहां पर आकर आपको अच्छा लगेगा। यह मंदिर मुख्य नरसिंहपुर शहर में स्थित है। आप इस मंदिर में आकर शांति का अनुभव कर सकते हैं। इस मंदिर में आकर आप दुर्गा जी के दर्शन कर सकते हैं। मंदिर परिसर में अन्य मंदिर भी हैं। यहां पर आप शारदा माता के दर्शन कर सकते हैं। भगवान शिव के दर्शन कर सकते हैं। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। यह एक अच्छी जगह है। 

गौरीशंकर दुबे पार्क नरसिंहपुर (Gaurishankar Dubey Park Narsinghpur)
माँ नर्मदा मंदिर बरमान नरसिंहपुर (Maa Narmada Temple Barman Narsinghpur)
घोघरा झरना नरसिंहपुर (Ghoghara waterfall Narsinghpur)
काकारा घाट नरसिंहपुर (Kakara Ghat Narsinghpur)
गणेश मंदिर नरसिंहपुर (Ganesh Temple Narsinghpur)
सिध्देश्वर दुर्गा मंदिर नरसिंहपुर (Sidheshwar Durga Temple Narsinghpur)



टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन
मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )  में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी। 



मठघोघरा झरना एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात (Math Ghogra Waterfall ) तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )तक पहुॅचने के लिए आपको पक्की रोड मिल जाती है। आपको इस जगह तक पहुॅचने के लिए पहले लखनादौन पहुॅचना पडता है। आपको इस जगह प…

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katniकटनी जिले के बारे में जानकारी
Information about Katni district
कटनीमध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण,रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर, दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं। 



Katni places to visitकटनी में घूमने की जगहें
जागृति पार्क - Jagriti Park Katniजागृति पार्ककटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है। जागृति पार्क कटनी में माधव नगर में स्थित है। जागृति पार्क में आप आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। जागृति …