सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पोस्ट

Khajuraho लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

केन घड़ियाल अभयारण्य खजुराहो - Ken Gharial Sanctuary Khajuraho

केन घड़ियाल अभयारण्य - K en Ghadiyal Abhyaran Khajuraho केन घड़ियाल अभयारण्य खजुराहो नगर के पास में स्थित एक प्रसिद्ध जगह है। केन घड़ियाल अभयारण्य को केन वन्यजीव अभयारण्य, केन अभयारण्य, केंद्र सेंचुरी, केन घड़ियाल सेंचुरी के नाम से भी जाना जाता है। केन घड़ियाल अभयारण्य पन्ना टाइगर रिजर्व का ही एक हिस्सा है। यहां पर आपको घड़ियाल देखने के लिए मिल जाते हैं और मगरमच्छ देखने के लिए मिल जाते हैं। घड़ियाल का मुंह लंबा होता है और यह मगरमच्छ से छोटे रहते हैं। यह दोनों ही जानवर केन नदी पर देखने के लिए मिल जाते हैं। केन वन्य जीव अभ्यारण बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आप मगरमच्छ और घड़ियाल को देखने के अलावा भी अन्य वन्य प्राणी को भी देख सकते हैं। यहां पर आप मोर, चीतल, सियार, नीलगाय इन सभी जानवरों को देख सकते हैं।  यहां पर और जानवर रहते हैं, जो यहां पर शाम के समय आपको देखने के लिए मिल जाते हैं। दिन के समय जानवर आराम करते हैं इसलिए वह शाम के समय घूमने निकलते हैं।  हम लोग रानेह जलप्रपात घूम कर मगरमच्छ देखने के लिए केन घड़ियाल अभयारण्य में आगे बढ़े। हम लोगों को यहां पर कैंटीन वाले भैया ने ब

रानेह जलप्रपात खजुराहो - Raneh Falls Khajuraho

रानेह झरना खजुराहो -  Raneh waterfall Khajuraho रानेह झरना खजुराहो नगर के पास में स्थित एक प्रसिद्ध जगह है। यह एक सुंदर जलप्रपात है। रानेह जलप्रपात खजुराहो से 19 किलोमीटर दूर है। हम लोग इस जलप्रपात में अपनी स्कूटी से आए थे। रानेह जलप्रपात में कार एवं ऑटो वगैरह से भी आराम से पहुंचा जा सकता है।  रानेह जलप्रपात  केन नदी पर बना बनता है और बहुत ही आकर्षक लगता है। यहां पर जो चट्टाने हैं। वह कुछ अलग प्रकार की है। यहां पर आपको अलग-अलग रंगों की चट्टाने देखने के लिए मिल जाती हैं। हम लोगों को यहां पर लाल, काले, पीले, सफेद रंग की चट्टाने देखने के लिए मिली थी। रानेह जलप्रपात पन्ना टाइगर रिजर्व का एक हिस्सा है।  हम लोग रानेह जलप्रपात जब गए थे। तब यहां गर्मी का समय था और झरना नहीं बह रहा था। मगर हम लोग खजुराहो गए थे। इसलिए हम लोग रानेह जलप्रपात भी घूमने के लिए चले गए थे। यहां पर सबसे पहले रानेह जलप्रपात में पहुंचकर टिकट लेना पड़ता है। उसके बाद मुख्य गेट से प्रवेश करते हैं और अंदर आपकी टिकट चेक होती है। उसके बाद हम मुख्य जंगल में प्रवेश करते हैं। रानेह जलप्रपात टिकट काउंटर से करीब  3 किलोमीटर दूर ह

वामन मंदिर खजुराहो - Vamana Temple Khajuraho

खजुराहो का वामन मंदिर -  Vamana Mandir khajuraho वामन मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। यह मंदिर ब्रह्मा मंदिर के आगे स्थित है। इस मंदिर में आपको विष्णु भगवान जी के वामन अवतार के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर भी एक ऊंचे मंडप पर बना हुआ है और बहुत खूबसूरत लगता है। ब्रह्मा मंदिर, जवारी मंदिर  और वामन मंदिर यह तीनों मंदिर आसपास में ही स्थित है और आप जब कभी भी खजुराहो घूमने जाते हैं, तो इन तीनों मंदिर में घूम सकते हैं।  खजुराहो के वामन मंदिर की वास्तुकला -  Architecture of Vamana Temple of Khajuraho खजुराहो का वामन मंदिर बहुत ही सुंदर है। यह मंदिर निरंधार शैली में बना हुआ है। इस मंदिर के अंदरूनी भाग को देखने पर 4 भाग आपको देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको मंडप, महा मंडप, अंतराल और गर्भ ग्रह देखने के लिए मिलता है। यहां पर प्रदक्षिणा पथ नहीं बनाया गया है। इस मंदिर के गर्भ गृह में चतुर्भुजी वामन की प्रतिमा स्थापित की हुई है, जिनके बाएं ओर चक्रपुरुष एवं दाये ओर शंख पुष्प का अंकन है। मंदिर के गर्भ गृह के प्रवेश द्वार सप्तशाखाओं से अलंक

जवारी मंदिर खजुराहो - Javari Temple Khajuraho

खजुराहो का जवारी मंदिर -  Javari Mandir Khajuraho जवारी मंदिर खजुराहो में स्थित प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। जवारी  मंदिर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यहां पर विष्णु भगवान की जो प्रतिमा स्थापित है, वह प्रतिमा खंडित अवस्था में है और उस प्रतिमा का सर आपको देखने के लिए नहीं मिलेगा। आप जब भी खजुराहो घूमने के लिए आते हैं, तो इस मंदिर में भी घूमने के लिए आ सकते हैं ,यह मंदिर ब्रह्मा मंदिर के आगे स्थित है। इस मंदिर में खूबसूरत गार्डन बना हुआ है और गार्डन के बीच में जवारी  मंदिर बना हुआ है, जो बहुत सुंदर लगता है।  खजुराहो के जवारी मंदिर की मूर्ति कला - Statue of Javari Temple of Khajuraho खजुराहो जवारी  मंदिर की मूर्ति कला बहुत ही अद्भुत है। जवारी मंदिर की बाहरी दीवार मूर्ति कला से सुसज्जित है। जब आप इस मंदिर में जाते हैं, तो आपको मंदिर के प्रवेश द्वार पर तोरण देखने के लिए मिलता है। इसे मकर तोरण कहते हैं। यह एक ही पत्थर का बना हुआ है और बहुत ही खूबसूरत लगता है। आप मंदिर के अंदर जाते हैं, तो मंदिर के अंदर आपको मंदिर के गर्भ गृह के प्रवेश द्वार में खूबसूरत मू

खजुराहो के मंदिर में कामुक मूर्तियां क्यों बनाई गई ?

खजुराहो की मिथुन मूर्तियाँ -  Erotic sculptures of Khajuraho temple खजुराहो के मंदिर अपनी मूर्ति कला के लिए विश्व प्रसिद्ध हैं। इन मंदिरों में आपको बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं और यह मूर्तियां आपको उस युग के बारे में बताती हैं। इन मंदिरों में आपको कामुक मूर्तियां भी देखने के लिए मिलती हैं।  खजुराहो के मंदिर में इस तरह की मूर्तियां होना एक आश्चर्य वाली बात है और बहुत सारे लोग इस तरह की मूर्तियों को देखकर अलग-अलग मत देते आए हैं। बहुत सारे विद्वान इन मूर्तियों को देखकर अपने अलग-अलग मत लोगों से साझा किए हैं। वैसे यह मूर्तियां इन मंदिरों में इस तरह से बनाई गई हैं कि लोगों का ध्यान आकर्षित होता ही है।  खजुराहो की कामुक मूर्तियों के बारे में कुछ विद्वानों का मानना है, कि उस समय कुछ विशेष समुदाय के लोग रहते थे, जो योग की तरह भोग को भी मानते थे। अर्थात योग की तरह भोग भी मोक्ष पाने का एक मार्ग मानते थे। वह पूजा अनुष्ठान की तरह भोग भी किया करते थे। इसलिए उन्होंने इन दृश्यों को मंदिरों में बनवाया, क्योंकि वह इन्हें मोक्ष का एक मार्ग मानते थे।  खजुराहो के कामुक मूर्तियों को देखकर यह

खजुराहो मंदिर की मूर्तियां - Khajuraho ki Murti

खजुराहो मंदिर की मूर्तियां का रहस्य -  The secret of Khajuraho temple sculptures खजुराहो मंदिर के बारे में खजुराहो मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। खजुराहो छतरपुर जिले में स्थित है। खजुराहो को विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है। खजुराहो के मंदिर की मूर्ति कला बहुत अद्भुत है। यह जो मंदिर है। यह मूर्तिकला के ही कारण प्रसिद्ध है। खजुराहो में 22 मंदिर हैं। इन 22 मंदिरों की दीवारों में आपको बहुत ही खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलती है। इन मंदिरों को बहुत ही खूबसूरत तरीके से बनाया भी गया है। इन मंदिरों में पश्चिमी मंदिर समूह के मंदिर बहुत ही भव्य बने हुए हैं। इन मंदिरों में आपको उस युग के सभी प्रकार की गतिविधियां देखने के लिए मिल जाती है।  खजुराहो के मंदिर की मूर्तियों के रहस्य  खजुराहो के मंदिर बहुत प्रसिद्ध है और इन मंदिरों की दीवारों पर बनी हुई मूर्तियां में बहुत सारे रहस्य छुपे हुए हैं। ऐसे रहस्य जो आप इन मूर्तियों को देखकर पता लगा सकते हैं। इन मूर्तियों को आप देखते हैं, तो आपको कुछ ना कुछ उस युग के बारे में पता चलता ही है। इस मंदिर में इतनी सारी मूर्तियां हैं, कि आपको एक मं

घंटाई मंदिर खजुराहो - Ghantai Temple Khajuraho

घंटाई मंदिर खजुराहो - G hantai Mandir Khajuraho घंटाई मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। वैसे यहां पर आपको मंदिर देखने के लिए नहीं मिलता है। यहां पर आपको स्तंभ देखने के लिए मिलते हैं। प्राचीन समय में शायद यहां पर मंदिर रहा होगा। मगर अभी यहां पर स्तंभ बस देखने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर को घंटाई मंदिर इसलिए कहा जाता है, क्योंकि इन स्तंभों में आपको घंटियों की खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलती है। इसलिए इस मंदिर को घंटाई मंदिर कहते हैं।  घंटाई मंदिर खजुराहो के पूर्वी मंदिर समूह का एक मंदिर है। यह मंदिर सुंदर है और इसमें जो नक्काशी की गई है। वह भी बहुत सुंदर है। हम लोग इस मंदिर में अपनी स्कूटी से आए थे। यह मंदिर गांव के भीतर स्थित है और इस मंदिर में जाने के लिए पतली सी सड़क मिलती है। हम लोग खजुराहो के जैन मंदिर घूमने के बाद इस मंदिर में गए थे। इस मंदिर में जाने के लिए आपको रास्ते में ही एक बड़ा सा बोर्ड देखने के लिए मिलता है। आप उस बोर्ड के दिशा निर्देश का पालन करते हुए, इस मंदिर तक पहुंच सकते हैं।  घंटाई मंदिर चारों तरफ से बाउंड्री वॉल से घिरा हुआ है। अंदर आपको स्तंभ देखने के लिए म

भगवान आदिनाथ मंदिर खजुराहो - Adinath Temple Khajuraho

खजुराहो का जैन मंदिर - आदिनाथ मंदिर खजुराहो, A dinath Mandir Khajuraho भगवान आदिनाथ का मंदिर खजुराहो का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। इस मंदिर में भगवान आदिनाथ की पत्थर के काले रंग की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही खूबसूरत लगती है। यह मंदिर जैन मंदिर समूह में स्थित है। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है। मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां हैं। इस मंदिर की बाहरी दीवार में आपको मूर्तियां देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है।  आदिनाथ मंदिर की मूर्ति कला -  Adinath temple sculpture आदिनाथ मंदिर की दीवार मूर्ति से सुसज्जित है। इसकी मूर्तिकला अद्भुत है। इन मूर्ति में आपको बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं, जो अलग-अलग मुद्राओं में यहां पर बनाई गई हैं। आदिनाथ मंदिर में नीचे की तरफ आपको बेल बूटे देखने के लिए मिलते हैं और ऊपर की तरफ बड़ी मूर्तियों की आपको तीन लाइन देखने के लिए मिलती है। इनमें आपको सुरसुंदरी या गंधर्व, देवी देवताओं की प्रतिमा देखने के लिए मिलती हैं। इनमें सुर सुंदरियां अलग-अलग मुद्राओं में देखने के लिए मिलती हैं कुछ

भगवान पार्श्वनाथ मंदिर खजुराहो - Parshwanath Temple Khajuraho

खजुराहो जैन मंदिर -  पार्श्वनाथ मंदिर खजुराहो / P arshwanath Mandir Khajuraho भगवान पार्श्वनाथ का मंदिर खजुराहो का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर खजुराहो के पूर्वी मंदिर समूह में स्थित है। यह मंदिर जैन मंदिर समूह में बना हुआ है। यहां पर आपको और भी मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। खजुराहो के इस मंदिर की विशेषता यह है, कि इस मंदिर के गर्भ ग्रह के पीछे एक और लघु मंदिर बना हुआ है, जो आपको खजुराहो के अन्य मंदिर में देखने के लिए नहीं मिलता है। इस मंदिर की दीवार भी मूर्तियों से सुसज्जित है।  यह मंदिर भी बहुत सुंदर है। यह मंदिर 10 वीं शताब्दी में बना हुआ है।  खजुराहो का पार्श्व नाथ मंदिर का निर्माण -  Construction of Parshwanath temple Khajuraho पार्श्व नाथ मंदिर 10 वीं शताब्दी में बना था। इस मंदिर का निर्माण चंदेल राजा धंग के द्वारा करवाया गया था। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इसकी मूर्तिकला बहुत ही अद्भुत लगती है।  पार्श्वनाथ मंदिर की मूर्ति कला -  Parshwanath temple sculpture पार्श्वनाथ मंदिर की मूर्ति कला बहुत ही अद्भुत है। इस मंदिर की दीवारों में, जो मूर्ति बनाई गई हैं। उनमें आप मूर्तियों के भाव द

भगवान शांतिनाथ जैन मंदिर खजुराहो - Lord Shantinath Jain Temple Khajuraho

भगवान शांतिनाथ मंदिर खजुराहो - Shantinath temple khajuraho भगवान शांतिनाथ मंदिर खजुराहो का प्रसिद्ध मंदिर है। भगवान शांतिनाथ का मंदिर खजुराहो के पूर्वी मंदिर समूह में स्थित एक मंदिर है। खजुराहो में जैन मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर आपको शांतिनाथ भगवान का मंदिर देखने के लिए मिलता है। शांतिनाथ भगवान के मंदिर के अलावा भी यहां पर आपको पार्श्व नाथ मंदिर  और आदिनाथ का मंदिर देखने के लिए मिलता है। हम बात शांतिनाथ मंदिर के बारे में करेंगे। हम लोग यहां पर मुख्य प्रवेश द्वार से प्रवेश किए। यहां पर मंदिर बहुत ही सुंदर और साफ सुथरा है। यहां पर आपको मंदिर के अंदर चमड़े का कोई भी सामान ले जाने की अनुमति नहीं है। चप्पल बाहर उतरने के आदेश यहां पर एक बोर्ड पर लिखे हुए हैं। यह मंदिर बहुत ही खूबसूरत है। यह मंदिर  11वीं शताब्दी में बनाया गया था।  शांतिनाथ मंदिर के बाहर आपको चंदेल वंश के राष्ट्रीय चिन्ह की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा मंदिर के प्रवेश द्वार के दोनों तरफ देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा सिंह की है। आप मंदिर के अंदर जाते हैं, तो मंदिर में भगवान शांतिनाथ की खड़ी हुई मुद्र

जैन संग्रहालय खजुराहो - Jain Museum Khajuraho

जैन संग्रहालय खजुराहो - Jain sangrahalaya Khajuraho   जैन संग्रहालय खजुराहो में स्थित एक छोटा सा संग्रहालय है। छोटे से संग्रहालय में आपको बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं। यह संग्रहालय जैन मंदिर में ही बना हुआ है। यह संग्रहालय जैन मंदिर में बाहर की तरफ बना हुआ है। इस संग्रहालय और मंदिर में प्रवेश के लिए टिकट लिया जाता है और यह टिकट 10 रूपए का रहता है। एक इंसान के 10 रूपए लगते हैं।     हम लोग दूल्हा देव मंदिर के दर्शन करने के बाद जैन मंदिर गया। आपको यहां पर बड़े-बड़े बोर्ड रास्ते में देखने के लिए मिल जाते हैं, जिनको आप देख कर जैन मंदिर बहुत ही आराम से पहुंच सकते हैं। जैन मंदिर जैसे ही हम लोग पहुंचे। यहां पर बहुत सारे दुकानदार हम लोगों के पीछे पड़ गए, कि आप यह सामान ले लो। हम लोगों को यहां पर तीन-चार लोगों ने घेर लिया और हम लोगों से वह सामान लेने के लिए कहने लगे। यहां पर एक 15 से 16 साल का बच्चा था। वह हार बेच रहा था और बोल रहा था, कि यह हार यही का मैन्युफैक्चर है। आप ले लीजिए और बांस का बना हुआ है। यहां पर आपको बांस की बनी हुई साड़ियां जरूर देखने के लिए मिलती हैं। अब यह साड़ियां