सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर इलाहाबाद - Dashashwamedh Ghat and Temple Allahabad

श्री ब्रह्मेश्वर मंदिर या दशाश्वमेध मंदिर इलाहाबाद - Shree Brahmeshwar Temple or Dashashwamedh Temple Allahabad

 
दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर इलाहाबाद शहर का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको भगवान शिव का मंदिर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर का धार्मिक महत्व है। यह मंदिर गंगा नदी के किनारे स्थित है। यहां पर घाट भी है। यहां पर लोग आकर स्नान करते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। हम लोग इस घाट में पैदल गए थे। यह घाट गंगा संगम घाट से करीब 3 किलोमीटर दूर होगा।  
 

श्री ब्रह्मेश्वर मंदिर या दशाश्वमेध मंदिर का कहानी एवं महत्व -  Shri Brahmeshwar Temple or Dashashwamedh Temple Story

दारागंज क्षेत्र में गंगा नदी के तट पर स्थित इस प्राचीन मंदिर के बारे में मान्यता है, कि यह ब्रह्मेश्वर जी द्वारा अश्वमेध यज्ञ किए गए थे। मंदिर में दो शिवलिंग स्थापित है, जो काले पत्थर के हैं, एक  दशाश्वमेध महादेव का और दूसरा ब्रह्मेश्वर महादेव का है। दोनों शिवलिंग के मध्य त्रिशूल स्थापित हैं। मंदिर में भगवान शिव के वाहक नंदी तथा शेषनाथ आदि की प्रतिमाएं भी है। इस मंदिर के निकट ही चैतन्य महाप्रभु की पीठ भी है।  
 
 
दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर हम लोग पैदल ही गए थे। हम लोग इलाहाबाद के गंगा नदी पर स्थित शास्त्री ब्रिज से होते हुए इस मंदिर तक पैदल गंगा नदी के किनारे घूमते हुए गए थे। इस मंदिर में जाते हुए हम लोगों को गणेश जी का प्राचीन मंदिर भी देखने के लिए मिला था। गणेश जी के प्राचीन मंदिर में गणेश जी की प्रतिमा बहुत ही भव्य लग रही थी। हम लोग इलाहाबाद माघ मेले के समय गए थे, तो यहां पर बहुत ज्यादा पुलिस भी लगी हुई थी।  
 
हम लोग गंगा नदी के किनारे से होते हुए इस मंदिर में पहुंचे। हमें मंदिर का प्रवेश द्वार देखने के लिए मिल। प्रवेश द्वार के ऊपर शिवजी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा बनी हुई है। यहां पर एक पीपल का पेड़ भी लगा हुआ है। सीड़ियों से ऊपर चढ़कर आपको मंदिर पहुंचना पड़ता है। मंदिर में आप पहुंचते हैं, तो  मंदिर परिसर के आंगन में पीपल का पेड़ लगा हुआ। पीपल के पेड़ के नीचे शिव जी की शिवलिंग की स्थापना की गई है।  
 
दशाश्वमेध मंदिर में प्रवेश करते हैं, तो आपको यहां पर शेषनाग की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो पत्थर की बनी हुई है और बहुत ही अद्भुत लगती है। इसके अलावा यहां पर माता पार्वती और शंकर जी की प्रतिमा भी विराजमान है। आपको मुख्य मंदिर में शंकर जी का शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर दो शिवलिंग देखने के लिए मिलते हैं और इनके बीच में त्रिशूल भी लगा हुआ है। यह शिवलिंग जहां रखे हुए हैं। वह पूरी जगह चांदी से कवर की गई है। यहां पर बहुत सारे लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं और यहां पर आकर बैठते हैं। यहां पर आकर बहुत शांति मिलती है। 
 

दशाश्वमेध घाट इलाहाबाद - Dashashwamedh Ghat Allahabad

आप दशाश्वमेध घाट में भी घूमने जा सकते हैं। दशाश्वमेध घाट में आप नहाने का मजा भी ले सकते हैं। गंगा नदी का दृश्य यहां पर बहुत खूबसूरत रहता है और जब हम लोग यहां गए थे। रात का समय था, तो रात के समय यहां पर कुछ दिख नहीं रहा था।  यहां पर पुलिस भी लगी हुई थी। मेले के समय यहां पर पीपों का पुल भी बनाया गया था। यहां पर आकर अच्छा लगता है और आप यहां अच्छा समय बिता सकते हैं। 
 

दशाश्वमेध घाट और दशाश्वमेध मंदिर इलाहाबाद की फोटो - Photo of Dashashwamedh Ghat and Dashashwamedh Temple Allahabad

 
दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर इलाहाबाद - Dashashwamedh Ghat and Temple Allahabad
प्राचीन गणेश जी का मंदिर इलाहाबाद

दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर इलाहाबाद - Dashashwamedh Ghat and Temple Allahabad
दशाश्वमेध घाट इलाहाबाद

दशाश्वमेध घाट एवं मंदिर इलाहाबाद - Dashashwamedh Ghat and Temple Allahabad
दशाश्वमेध मंदिर इलाहाबाद

अगर यह लेख आपको अच्छा लगा हो, तो आप इस लेख को शेयर जरूर करें। 
 
 


टिप्पणियां