सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रतलाम पर्यटन स्थल - Ratlam tourist place | Tourist places near Ratlam

रतलाम दर्शनीय स्थल - Places to visit in Ratlam | Ratlam famous places | Ratlam picnic spot | Ratlam sightseeing


रतलाम में घूमने की जगहें


धोलावाड़ बांध रतलाम - Dholawad dam Ratlam

धोलावाड़ बांध रतलाम के पास स्थित एक मुख्य आकर्षण स्थल है। धोलावाड़ रतलाम शहर में स्थित एक जलाशय है और रतलाम शहर में पीने के पानी के लिए धोलावाड़ जलाशय से पानी का उपयोग किया जाता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां का नजारा बहुत खूबसूरत रहता है। चारों तरफ हरियाली रहती है। अगर आप बरसात के समय आते हैं, तो आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। बरसात के समय धोलावाड़ बांध में पानी बढ़ जाता है, जिससे पानी ओवरफ्लो होता है, जो बहुत ही खूबसूरत दिखता है। आप यहां पर बरसात के समय घूमने के लिए आ सकते हैं और आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। 


धोलावाड़ इको टूरिज्म पार्क रतलाम - Dholawad eco tourism park Ratlam

धोलावाड़ इको टूरिज्म पार्क में आप बहुत सारी पानी में होने वाली गतिविधियों का मजा ले सकते हैं। धोलावाड़ बांध बहुत खूबसूरत है और आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। घूमने के साथ-साथ आप इस बांध में होने वाली विभिन्न प्रकार की गतिविधियों का मजा ले सकते हैं। आप यहां पर वाटर स्कूटर का मजा ले सकते हैं। हॉट एयर बैलून का मजा ले सकते हैं। बोट राइड और बनाना राइड का मजा ले सकते हैं। माउंटेन बाइकिंग कर सकते हैं। तीरंदाजी कर सकते हैं। कैमल हॉर्स राइड का मजा ले सकते हैं। आपको इन सब गतिविधियां करने में बहुत मजा आएगा। यहां पर पैरासेलिंग भी होती है। आप यहां पर कैंपिंग का भी मजा ले सकते हैं। इन सभी के प्राइस अलग-अलग रहते हैं और आपको यह सभी गतिविधियां करके बहुत अच्छा लगेगा। यह 1 दिन की पिकनिक के लिए बहुत अच्छा स्थान है और आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आकर बहुत मजे कर सकते हैं।

 

महालक्ष्मी मंदिर रतलाम - Mahalaxmi mandir Ratlam

महालक्ष्मी मंदिर रतलाम शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। महालक्ष्मी मंदिर मुख्य रतलाम शहर में स्थित है। आप इस मंदिर में आसानी से पहुंच सकते है। आप इस मंदिर में साल में कभी भी घूमने के लिए आ सकते हैं। मगर आप दीपावली के समय आते हैं, तो मंदिर में बहुत ही खूबसूरत सजावट की जाती है। दीपावली के समय सोना चांदी और रुपए से इस मंदिर को सजाया जाता है। लाखों करोड़ों रुपए से इस मंदिर को सजाया जाता है। रतलाम शहर के बड़े-बड़े व्यापारी इस मंदिर में नगदी, सोने, चांदी जमा करते हैं और उसी नगदी और सोने चांदी से मंदिर को सजाया जाता है। दीपावली 2 दिन तक मंदिरों को इसी तरह से सजा के रखा जाता है। उसके बाद व्यापारी अपने नकदी और सोने-चांदी वापस लेकर जाते हैं। आपको इस समय मंदिर में आकर बहुत अच्छा लगेगा और अगर आप दीपावली के समय रतलाम में है, तो दीपावली के समय इस मंदिर में आप जरूर जाएं और मां लक्ष्मी जी के दर्शन करें। 


कालिका माता मंदिर रतलाम - Kalika mata mandir Ratlam

कालिका माता मंदिर रतलाम शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मुख्य रतलाम शहर में स्थित है। आप इस मंदिर में आसानी से आ सकते हैं। यह मंदिर बहुत प्राचीन है और कहा जाता है कि इस मंदिर का संबंध राजघराने से रहा है। इस मंदिर में नवरात्रि के समय 10 दिन का मेला आयोजित किया जाता है, जिसमें शहर के लोग आते हैं। नवरात्रि में यहां पर गरबे का आयोजन होता हैए जिसमें बहुत सारे लोग भाग लेते हैं। आपको यहां पर तालाब देखने के लिए मिलता है, जिसे झाली तालाब कहते हैं। तालाब में फव्वारा लगा हुआ है। तालाब के पास ही में गार्डन भी बना हुआ है, जहां पर आप शांति से बैठ कर अपना समय बिता सकते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको यहां आकर बहुत अच्छा लगेगा। इस मंदिर के पास ही में एक पार्क स्थित है। पार्क में बच्चों के लिए बहुत से झूले लगे हुए हैं।


कैक्टस गार्डन सैलाना रतलाम - Cactus garden sailana Ratlam

कैक्टस गार्डन रतलाम शहर का एक प्रमुख आकर्षण है। यहां पर आपको कैक्टस की अनेकों प्रजातियां देखने के लिए मिलती हैं। यह गार्डन रतलाम शहर से करीब 22 किलोमीटर दूर होगा।आप यहां पर अपनी गाड़ी से आ सकते हैं। यह गार्डन रतलाम शहर में सैलाना में स्थित है। आप इस गार्डन में आ सकते हैं। इस गार्डन में एंट्री का चार्ज लिया जाता है। इस गार्डन में आपको कैक्टस की विभिन्न प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। यह गार्डन एशिया का सबसे बड़ा कैक्टस गार्डन है। आपको यहां पर एक राज महल भी देखने के लिए मिलता है। इस गार्डन में कैक्टस के जो प्लांट लगे हैं, उन्हें बाहर से लाया गया है। इनमें से कुछ प्रजाति भारतीय है। यह कैक्टस गार्डन बहुत प्राचीन है और इस कैक्टस गार्डन की स्थापना यहां के राजा दिग्विजय सिंह द्वारा की गई थी। आपको कैक्टस गार्डन में एक राज महल भी देखने के लिए मिलता है, जिसमें यहां के राजा निवास करते थे। यह राज महल अब बंद है। आप इस राज महल को बाहर से देख सकते हैं। इस गार्डन में बैठने के लिए चेयर बने हुए हैं। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आ सकते हैं। आपको यहां आकर अच्छा लगेगा। 


कीर्ति स्तंभ सैलाना रतलाम - Kirti stambh Sailana Ratlam

कीर्ति स्तंभ रतलाम के सेलिना में स्थित एक प्राचीन इमारत है। इस स्तंभ का निर्माण तत्कालीन नरेश जसवंत सिंह द्वारा कराया गया था। इस स्तंभ का निर्माण 1859 से 1919 के बीच करवाया गया था। यह कीर्ति स्तंभ पत्थर व चूना से बना हुआ है। इस स्तंभ का निर्माण ब्रिटिश शासन के 100 वर्ष पूर्ण होने पर स्मारक स्तंभ के रूप में किया गया था। इस स्तंभ में ऊपर जाने के लिए सीढ़ियां बनाई गई हैं। आप इस स्तंभ के ऊपर जा सकते हैं और चारों तरफ का खूबसूरत व्यू देखने के लिए मिलता है। 


श्री केदारेश्वर महादेव मंदिर रतलाम - Kedareshwar temple Ratlam

श्री केदारेश्वर महादेव रतलाम शहर का एक दर्शनीय स्थल है। केदारेश्वर मंदिर मंदिर रतलाम जिले में सैलाना में स्थित है। यह सैलाना से करीब 6 किलोमीटर दूर होगा। आप यहां पर अपनी गाड़ी से आ सकते हैं। यहां पर शिव भगवान जी का मंदिर है। यह मंदिर चारों तरफ से खूबसूरत पहाड़ियों से घिरा हुआ है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर अगर आप बरसात के समय आते हैं, तो बरसात के समय आपको यहां पर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है और जलप्रपात एक कुंड पर गिरता है। यह कुंड गहरा है। केदारेश्वर मंदिर में जलप्रपात के नीचे चट्टानों को काटकर गुफा बनाई गई है। यह गुफा मानव निर्मित है और यहीं पर शिवलिंग विराजमान है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यह जगह चारों तरफ ऊंची ऊंची पहाड़ियों से घिरी हुई है। यहां पर बरसात के समय चारों तरफ हरियाली रहती है। यहां पर सावन सोमवार के समय और महाशिवरात्रि के समय मेले का भी आयोजन होता है और लाखों की संख्या में लोग यहां पर आते हैं। 


बिरला मंदिर नागदा रतलाम - Birla mandir nagda Ratlam

बिरला मंदिर रतलाम के पास नागदा में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर बहुत ही भव्य है। यह मंदिर पत्थर से बना हुआ है। यह मंदिर बिरला फाउंडेशन के द्वारा बनाया गया है। आप यहां पर आकर इस विशाल मंदिर को देख सकते हैं। इस मंदिर की दीवारों पर खूबसूरत नक्काशी की गई है। बिरला मंदिर पिकनिक के लिए एक बहुत अच्छी जगह है। यहां पर आपको गार्डन भी देखने के लिए मिलता है, जिसमें तरह-तरह की फूल लगे हुए हैं। यह मंदिर श्री राधा कृष्ण जी को समर्पित है। आप यहां पर आते हैं, तो आपको राधा कृष्ण जी की भव्य मूर्ति देखने के लिए मिलती है।  नागदा रतलाम शहर से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। नागदा एक छोटा सा शहर है।  आप यहां पर गाड़ी से आ सकते हैं। आप यहां पर ट्रेन से भी आ सकते हैं। बिरला मंदिर रेलवे स्टेशन से बहुत करीब में स्थित है। आपको मंदिर के बाहर गार्डन में फव्वारे भी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर यहां का आसपास का दृश्य बहुत ही खूबसूरत रहता है। चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है। मंदिर के अंदर भी बहुत ही खूबसूरत कलाकृतियां बनाई गई हैंए जिन्हें आप देख सकते हैं। मंदिर की छत में खूबसूरत नक्काशी की गई है। 


कुंड वाली चामुंडा माता मंदिर रतलाम - Kund wali Chamunda Mata Temple Ratlam

चामुंडा माता मंदिर नागदा में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर चंबल नदी के बीच में स्थित है। बरसात के समय इस नदी में बाढ़ का पानी आ जाता है और मंदिर पूरी तरह पानी में डूब जाता है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको यहां पर बहुत अच्छा लगेगा। इस मंदिर में आपको चामुंडा माता की भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। गर्मी में यहां पर पानी सूख जाता है। आप यहां पर आकर माता के दर्शन कर सकते हैं और एक शांत वातावरण में बैठ सकते हैं। यहां पर नवरात्र के समय बहुत सारे लोग मां के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर नवरात्रि के समय दुकानें भी लगती हैं। आपको यहां पर अन्य छोटी.छोटी मंदिर और मूर्तियां देखने के लिए मिलती है। यहां का नजारा बहुत प्यारा रहता है। चंबल नदी का दृश्य अद्भुत दिखाई देता है। यहां पर नदी का पानी नहीं सूखता है। 


अष्टपद जैन तीर्थ रतलाम - Ashtapad Jain Tirtha Ratlam

अष्टापद जैन तीर्थ एक धार्मिक स्थल है। यह जैन समुदाय का धार्मिक स्थल है। आपको यहां पर आकर बहुत ही खूबसूरत मार्बल से बना हुआ मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर बहुत ही अद्भुत लगता है। यह मंदिर मेन हाईवे रोड में स्थित है। आप यहां पर आसानी से घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर ठहरने के लिए और भोजशाला उपलब्ध है। 


श्री नागेश्वर पार्श्वनाथ जैन मंदिर रतलाम - Nageshwar jain mandir Ratlam

श्री नागेश्वर पाश्र्वनाथ जैन मंदिर मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर मध्यप्रदेश और राजस्थान के बॉर्डर पर स्थित है। यह मंदिर बहुत खूबसूरत है और बहुत भव्य है। आपको यहां पर आकर बहुत शांति मिलेगी। यह जैन तीर्थ स्थल है। यहां पर 23 वें तीर्थंकर श्री पार्श्वनाथ भगवान की बहुत ही भव्य मूर्ति हैं। यह मूर्ति प्राचीन है। यहां मूर्ति लगभग 2800 साल पुरानी है। इस मंदिर में स्थापित मूर्ति लगभग 2800 साल पुरानी है। यह मंदिर सफेद संगमरमर से बना हुआ है और बहुत भव्य लगता है। मंदिर का प्रवेश द्वार भी बहुत खूबसूरत है। आप यहां पर आते हैं, तो यहां पर ठहरने की और भोजन की व्यवस्था है, जो बहुत ही कम कीमत पर उपलब्ध है। यहां पर आपको बहुत शांति मिलेगी। यहां पर और भी मंदिर आपको देखने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर अपने दोस्तों और फैमिली वालों के साथ आ सकते हैं। यह बहुत अच्छी जगह है। यहां पर आकर आपको शांति मिलेगी।

 

विरुपाक्ष मंदिर बिलपांक रतलाम - Virupaksha Temple Bilpank Ratlam

विरुपाक्ष महादेव मंदिर एक प्राचीन मंदिर है। यह रतलाम शहर में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक स्थल है। यह मंदिर शंकर भगवान जी को समर्पित है। मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग स्थापित है। यह मंदिर महाशिवरात्रि में होने वाले प्रसाद वितरण को लेकर प्रसिद्ध है। यह मंदिर 1000 साल पुराना है। मंदिर में आपको बहुत सारे स्तंभ देखने के लिए मिलते हैं। स्तंभों में आपको खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर बिलपांक ग्राम में स्थित है। यह मंदिर रतलाम से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आप यहां पर अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। यहां पर आने के लिए अच्छी सड़क है। इस मंदिर में लोग बच्चों के लिए मन्नत मांगने के लिए आते हैं, और कहा जाता है कि जो भी इस मंदिर में मन्नत मानता है। उसकी मन्नत पूरी होती है और वह यहां महाशिवरात्रि में वितरित होने वाले प्रसाद को ग्रहण करते हैं। कहा जाता है कि यहां पर खीर प्रसाद के रूप में बांटी जाती है और वह भी हफ्तों पुरानी खीर और लोग उसे प्रसाद के रूप में खाते हैं। जिससे उनकी बच्चों की मन्नत पूरी होती है। यहां पर सावन सोमवार पर कावड़ यात्रा निकाली जाती हैए जिसमें हजारों की संख्या में कावड़ यात्री भाग लेते हैं। 


मांगल्य मंदिर रतलाम - Mangalya mandir Ratlam

मांगल्य मंदिर रतलाम में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह बहुत खूबसूरत मंदिर है। आपको यहां पर बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं, जो बहुत अद्भुत लगती हैं। आपको यहां पर बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिल जाएंगे। यहां पर गार्डन भी है, जहां पर आप घूम सकते हैं। मंदिर में मोबाइल ले जाना की पाबंदी है। इस मंदिर को जे वी एल के नाम से जाना जाता है। 


गढ़ खंखाई माताजी रतलाम - Garh Khankhai Mataji Ratlam

गढ़ खंखाई माताजी मंदिर रतलाम शहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर माही नदी के किनारे स्थित है। इस मंदिर से माही नदी का मनोरम दृश्य देखने के लिए मिलता है। नवरात्रि के समय यहां पर मां के दर्शन करने के लिए लोगों की भीड़ जमा होती है। यहां पर चारों तरफ का दृश्य बहुत ही अद्भुत है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यह मंदिर रतलाम से करीब 38 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह बाजना रोड पर स्थित है। 


सैलाना वन्यजीव अभयारण्य रतलाम - Sailana Wildlife Sanctuary Ratlam

सैलाना वन्यजीव अभयारण्य रतलाम का एक प्रसिद्ध अभ्यारण है। यहां पर आपको बहुत सारे जानवर और पक्षियों की प्रजातियां देखने के लिए मिलती हैं। यह अभयारण्य रतलाम के सैलाना में  स्थित है। यह अभयारण्य 13 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। आप यहां पर अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आकर घूम सकते हैं। आपको यहां पर अच्छा लगेगा। 


माही बजाज सागर बांध रतलाम - Mahi bajaj sagar Pariyojana

माही बजाज सागर बांध रतलाम के पास स्थित एक खूबसूरत बांध है। यहाँ पर आपको बहुत सारे टापू देखने मिलते हैं। आप यहां पर एक दिन पिकनिक बनाने के लिए आ सकते हैं। यह जगह बहुत खूबसूरत है और बरसात के समय अगर आप यहां पर आते हैं, तो आपको यहां पर ज्यादा आनंद आएगा। यह जगह हरियाली से घिरी होती है।


रणजीत हनुमान मंदिर  रतलाम (Ranjit Hanuman Temple Ratlam)

करमदी जैन मंदिर  रतलाम (Karamadi Jain Temple Ratlam)


विदिशा के दर्शनीय स्थल

नरसिंहपुर पर्यटन स्थल

छिंदवाड़ा पर्यटन स्थल

अमरकंटक के दर्शनीय स्थल


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन
मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )  में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी। 



मठघोघरा झरना एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात (Math Ghogra Waterfall ) तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )तक पहुॅचने के लिए आपको पक्की रोड मिल जाती है। आपको इस जगह तक पहुॅचने के लिए पहले लखनादौन पहुॅचना पडता है। आपको इस जगह प…

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katniकटनी जिले के बारे में जानकारी
Information about Katni district
कटनीमध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण,रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर, दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं। 



Katni places to visitकटनी में घूमने की जगहें
जागृति पार्क - Jagriti Park Katniजागृति पार्ककटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है। जागृति पार्क कटनी में माधव नगर में स्थित है। जागृति पार्क में आप आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। जागृति …