सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नडियाद (खेड़ा) जिले के पर्यटन स्थल - Nadiad (Kheda) Tourist Places

नडियाद (खेड़ा) जिले के दर्शनीय स्थल - Major places to visit in Nadiad (Kheda) District / नडियाद (खेड़ा) जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


नडियाद (खेड़ा) गुजरात राज्य का एक मुख्य जिला है। नाडियाड (खेड़ा) गुजरात राज्य की राजधानी गांधीनगर से करीब 75 किलोमीटर दूर है। नाडियाड (खेड़ा) जिला सरदार वल्लभ भाई पटेल की जन्मस्थली भी है। नाडियाड जिले में बहुत सारी नदियां बहती है। यहां पर महीसागर नदी, साबरमती नदी, वत्रक नदी बहती है। साबरमती नदी नाडियाड जिले में, पश्चिम में बहती है और महीसागर नदी पूर्व में बहती है। नाडियाड, नाडियाड जिले का मुख्यालय है। पहले नाडियाड जिले का मुख्यालय खेड़ा हुआ करता था, मगर बाद में इसे स्थानांतरित करके नाडियाड कर दिया गया। नडियाद में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - कि नडियाद में घूमने लायक कौन कौन सी जगह है। 


नडियाद (खेड़ा) में घूमने की जगह  - Nadiad (Kheda) mein ghumne ki Pramukh jagah


श्री संतराम मंदिर नडियाद - Shri Santram Mandir Nadiad

श्री संतराम मंदिर नाडियाड जिले का एक प्रमुख मंदिर है। यह मंदिर मुख्य शहर में स्थित है। यह मंदिर श्री संतराम सद्गुरु जी को समर्पित है। संतराम जी एक संत थे। यहां पर आपको आकर बहुत अच्छा लगेगा। यह मंदिर 5 मंजिला है और बहुत सुंदर है। मंदिर का परिसर बहुत अच्छी तरह से बनाया गया है। मंदिर परिसर में बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। मंदिर में ज्यादातर लोग पूर्णिमा के दिन आते हैं। यहां पर 24 घंटे राम धुन चलती रहती है। 

श्री संतराम मंदिर में मेडिकल सुविधाएं भी उपलब्ध है, जो चैरिटी के द्वारा चलाई जाती है। यहां पर अगर कोई व्यक्ति को किसी भी तरह की मेडिकल सुविधा चाहिए, तो वह यहां आकर इन सुविधाओं का लाभ उठा सकता है। 


श्री छंगेश्वर महादेव मंदिर नडियाद - Shri Chhangeshwar Mahadev Temple Nadiad

श्री छंगेश्वर महादेव मंदिर नाडियाड जिले में घूमने वाली मुख्य जगह है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग विराजमान है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। मंदिर के पास आपको झील भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर सावन सोमवार और महाशिवरात्रि के समय बहुत सारे लोग आते हैं। मंदिर में आपको गणपति जी के भी दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। मंदिर से थोड़ी ही दूर में आपको गीता मंदिर भी देखने के लिए मिलेगा। यह मंदिर भी बहुत सुंदर है। 


राजराजेश्वरी मां मेलडी मंदिर नाडियाड - Rajarajeshwari Maa Meldi Temple Nadiad

राजराजेश्वरी मां मेलडी मंदिर नाडियाड में घूमने लायक एक मुख्य जगह है। यह मंदिर नाडियाड जिले मरीडा गांव में स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर के गर्भगृह में मेलडी माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर भव्य मंदिर बना हुआ है। मेलडी माता की मूर्ति सफेद संगमरमर से बनी हुई है। यहां पर उनके वाहन बकरी की भी प्रतिमा देखने के लिए मिल जाती है। 


स्वामीनारायण मंदिर नाडियाड - Swaminarayan Mandir Nadiad

स्वामीनारायण मंदिर नाडियाड का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर नाडियाड में वड़ताल में स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यह मंदिर श्री स्वामीनारायण भगवान, श्री लक्ष्मी नरनारायण भगवान, राधा कृष्ण जी, श्री हरि कृष्ण महाराज जी को समर्पित है। मंदिर के  शिखर एवं गुंबद में रियल गोल्ड की परत चढ़ाई गई है, जिससे यह बहुत ही जबरदस्त दिखाई देते हैं। यह मंदिर बहुत ही भव्य है। मंदिर की दीवारों में नक्काशी देखने के लिए मिलती है। मंदिर की छत में भी नक्काशी की गई है। मंदिर में, जो गुंबद है, उसके अंदरूनी भाग पर सुंदर पेंटिंग देखने के लिए मिलती है। 

मंदिर का मुख्य आकर्षण शिक्षापत्री भवन है, जहां पर भगवान श्री स्वामी नारायण जी स्वयं अपने हाथों से शिक्षा पत्र लिख रहे हैं, जो स्वामीनारायण संप्रदाय की पवित्र किताब है। यहां पर आपको भोजनालय मिलता है, जहां पर आपको बहुत कम कीमत पर अच्छा खाना मिल जाता है और खाना सात्विक रहता है। यहां पर धर्मशाला है, जहां पर आप के ठहरने की सुविधा मिल जाती है। यहां पर लॉकर सुविधा भी उपलब्ध है। यहां पर गिफ्ट शॉप है, जहां से आप गिफ्ट ले सकते हैं। इसके अलावा यहां पर आपको छोटा सा बगीचा देखने के लिए मिलता है, जहां पर आप बैठकर मेडिटेशन कर सकते हैं। अगर आप नाडियाड घूमने के लिए आते हैं, तो आपको स्वामीनारायण मंदिर जरूर आना चाहिए। यहां पर सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। 


गोमती तालाब नाडियाड - Gomti Talab Nadiad

गोमती तालाब नाडियाड में स्थित सुंदर स्थल है। यह तालाब नाडियाड जिले में, वडताल में स्वामीनारायण मंदिर के पास में स्थित है। गोमती तालाब एक पवित्र तालाब है। यहां पर स्वामी नारायण जी और अनेक संतों और भक्तों ने स्नान किया था। यह तालाब स्वामी नारायण जी के द्वारा ही बनवाया गया था।  यह तालाब प्राचीन है। तालाब के चारों तरफ सीढ़ियां बनी है। तालाब के बीच में आपको एक छतरी नुमा स्मारक देखने के लिए मिलती है। इस स्मारक में जाने के लिए पुल बनाया गया है। इस स्मारक में नक्काशी भी की गई है। गोमती तालाब का धार्मिक महत्व है और आप यहां पर भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 


रघुवीर वाडी नाडियाड - Raghuveer Wadi Nadiad

रघुवीर वाडी नाडियाड जिले में वडताल में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह जगह आचार्य अजेंद्रप्रसाद जी का निवास स्थान था। आचार्य अजेंद्र प्रसाद महाराज जी स्वामीनारायण संप्रदाय के आचार्य थे। यह जगह करीब 200 साल पुराने हैं और आप यहां पर भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 


ज्ञान बाग नाडियाड - Gyan Bagh Nadiad

ज्ञानबाग नाडियाड में घूमने वाला एक पवित्र स्थल है। ज्ञानबाग नाडियाड में वड़ताल में स्थित है। यहां पर आपको स्वामीनारायण भगवान जी के द्वारा प्राचीन समय में इस्तेमाल किए गया, बहुत सारे सामान देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर स्वामी नारायण जी की बहुत सारी पेंटिंग भी देखने के लिए मिलती है। यह जगह एक तरह से म्यूजियम है, जिसमें स्वामी नारायण भगवान जी की जीवन से संबंधित बहुत सारी वस्तुओं को रखा गया है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और कलरफुल है। यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। 

ज्ञान बाग में, आपको प्राचीन कुआ देखने के लिए मिलेगा, जिसके जल का उपयोग स्वामी नारायण जी स्वयं किया करते थे। यहां पर एक झूला देखने के लिए मिलेगा, जिसमें बैठकर स्वामीनारायण जी झूलते थे। यहां पर आपको बहुत अच्छा लगेगा और मानसिक शांति मिलेगी। 


गल्तेश्वर महादेव मंदिर नाडियाड - Galteshwar Mahadev Temple Nadiad

गलतेश्वर महादेव मंदिर नाडियाड का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर नाडियाड जिले में ठसरा तहसील में सरनाल में स्थित है। यह मंदिर माही नदी के किनारे बना हुआ है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर बहुत सुंदर है और प्राचीन है। यह मंदिर डाकोर से करीब 12 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर आकर मंदिर को देख सकते हैं। 

यह निरधार प्रकार का सप्त रथ भूमिज शैली का मंदिर है। यह क्षेत्रोय प्रकार की एक शैली है, जिसकी विशेषता यह है कि एक केंद्रीय शंकुनुमा रेखा प्रसाद केंद्रीय शिखर के चारों ओर लघु शिखरो से अलंकृत रहती है। यह पूरा मंदिर बलुआ पत्थर से बना हुआ है। इस मंदिर में आपको गर्भ ग्रह और मंडप देखने के लिए मिलता है। इसके पूर्व की ओर द्वार मंडप है। इस मंदिर का शिखर क्षतिग्रस्त हो गया है। मंडप में 8 आंतरिक स्तंभों और 16 बाहरी छोटे स्तंभ द्वारा निर्मित है। इसके द्वार को अत्याधिक अलंकृत किया गया है, जबकि दीवारों में सामान्य चित्रण और सजावटी अलंकरण देखने के लिए मिलता है। शैलीगत रूप से यह गुजराती वास्तुकला की सोलंकी शैली में निर्मित मंदिर है और 12वीं शताब्दी में बनाया गया था। 2020 -21 में मंदिर का शिखर छतिग्रस्त हो गया था, जिसका पुनर्निर्माण किया गया था। 

गलतेश्वर महादेव मंदिर की दीवारों और छतों में सुंदर काम देखने के लिए मिल जाता है। गलतेश्वर महादेव मंदिर से थोड़ी ही दूरी पर माही नदी बहती है। माही नदी का दृश्य बहुत ही सुंदर रहता है। यहां पर माही नदी ज्यादा गहरी नहीं है। आप यहां पर नहा सकते हैं और इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर बहुत सारी दुकानें लगती है, जहां पर आपको खाने पीने का सामान मिल जाता है। माही नदी पर चट्टाने हैं। कहीं-कहीं पर माही नदी का दृश्य बहुत ही सुंदर रहता है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह नाडियाड जिले में घूमने लायक जगह है। 


श्री रणछोड़राय जी मंदिर नाडियाड - Shri Ranchhod Rai Ji Temple Nadiad

श्री रणछोड़राय जी मंदिर नाडियाड का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर नाडियाड जिले में डाकोर में स्थित है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत बड़ा और बहुत ही भव्य तरीके से बनाया गया है। मंदिर में आपको बहुत सारे सुंदर-सुंदर स्मारक देखने के लिए मिलते हैं। रणछोड़ का मतलब होता है - रणभूमि या युद्ध भूमि को छोड़कर भागने वाला। 

एक बार जब राक्षस से श्री कृष्ण जी का युद्ध हो रहा था। तब श्री कृष्ण जी युद्ध भूमि को छोड़कर भाग गए थे और एक गुफा में जाकर छुप गए थे। उस गुफा में एक ऋषि तपस्या कर रहे थे। जब राक्षस ऋषि के पास पहुंचा और उन्होंने ऋषि का अपमान किया। तब ऋषि की आंख खुली और ऋषि की आंखों से ज्वाला प्रवृत हुई और राक्षस का अंत हो गया। इस तरह से श्री कृष्ण जी का रणछोड़ का नाम दिया गया है। 

यहां पर श्री कृष्ण जी की बहुत सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां का माहौल भक्तिमय है। यहां पर हरे कृष्णा के भजन चलते रहते हैं। रणछोड़ मंदिर के आसपास बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं, जिनके दर्शन आप कर सकते हैं। रणछोड़ मंदिर के बाहर, प्रसाद एवं खाने-पीने की बहुत सारी दुकान है, जहां पर आप खाना पीना खा सकते हैं। यहां पर ठहरने के लिए भी आश्रम एवं होटल है। 


गोमती झील डाकोर नाडियाड - Gomti Lake Dakor Nadiad

गोमती झील नाडियाड जिले में डाकोर में स्थित है। यह झील बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हुई है। इस झील के किनारे बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं। इस झील के किनारे सुंदर घाट भी बना हुआ है, जहां पर आप आकर बैठ सकते हैं। इस झील में बोटिंग की सुविधा उपलब्ध है। आप यहां पर बोट राइड का मजा ले सकते हैं। इस झील में एक गार्डन भी देखने के लिए मिलता है, जिसे बाला हनुमान गांधी बाग के नाम से जाना जाता है। झील के किनारे श्री नरसिंह टेकरी मंदिर, सत्यनारायण मंदिर, दंडी स्वामी आश्रम, रामेश्वरम मंदिर, शनिदेव मंदिर देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आ कर इन सभी मंदिरों में घूम सकते हैं। 


सिद्धिविनायक मंदिर नाडियाड - Siddhivinayak Temple Nadiad

सिद्धिविनायक मंदिर नाडियाड जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है यह मंदिर नाडियाड में महेमदावाद में स्थित है। यह मंदिर श्री गणपति जी को समर्पित है। यहां पर गणपति जी की बहुत सारी प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती हैं, जो अलग-अलग देशों में पूजी जाती है। यहां पर एक पहाड़ी बनाई गई है, जो गणेश जी के प्रतिरूप में बनाई गई है और यह आर्टिफिशियल है। यह पहाड़ी बहुत ही सुंदर दिखती है। इस पहाड़ी के अंदर ही बहुत सारी गणेश जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर आपको शंकर जी का भी बहुत बड़ा शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। 

यह जगह बहुत सुंदर है। यहां पर मंदिर के बाहर, हाथी की बहुत बड़ी प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। मंदिर के बाहर बहुत बड़ा गार्डन है, जहां पर आप घूम सकते हैं। यहां पर फूड कोर्ट है, जहां पर आपको खाने के लिए बहुत सारी चीजें मिल जाती हैं। यहां पर पार्किंग के लिए बहुत बड़ी जगह है। यहां पर मंदिर परिसर में ही प्रसाद घर है, जहां पर आप भगवान जी को प्रसाद चढ़ाने के लिए खरीद सकते हैं। यहां पर आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं और यहां पर आप को शांति मिलेगी। यह मंदिर अहमदाबाद रोड में बना हुआ है और आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं। यह नाडियाड की सबसे अच्छी जगह है। 


कुंड वाव नाडियाड - Kund vav nadiad

कुंड वाव नाडियाड का एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर एक प्राचीन बावड़ी देखने के लिए मिलती है। यह बावड़ी बहुत ही सुंदर है। मगर इस बावड़ी का रखरखाव नहीं किया जा रहा है। जिससे यह बावड़ी धीरे-धीरे नष्ट होती जा रही है। इस बावड़ी के पास में जैन मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर लगता है। 

इस बावड़ी के पास में आपको 32 कोठा बावड़ी देखने के लिए मिलती है। यहां एक सुंदर बावड़ी है। यह दो मंजिला बावड़ी है। इस बावड़ी का सही से रखरखाव नहीं किया जा रहा है और यह बावड़ी भी नष्ट होते जा रही है। यह बावड़ी नाडियाड जिले में कपड़वंज में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


सर्वमंगला माता मंदिर नाडियाड - Sarvamangala Mata Temple Nadiad

सर्वमंगला माता मंदिर नाडियाड में कपड़वंज में स्थित है। यह  मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर की दीवारों में बहुत सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। मंदिर की छत में भी पेंटिंग देखने के लिए मिलती है। यहां पर गर्भ गृह में सर्वमंगला माता जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। 


गरम पानी कुंड नाडियाड - Hot water tank nadiad

गरम पानी कुंड नाडियाड का एक चमत्कारिक स्थल है। गरम पानी कुंड नाडियाड में कथलाल तालुका के लसुंदरा गांव में स्थित है। यहां पर आपको गर्म पानी के कुंड देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर गर्म पानी और ठंडा पानी का कुंड बना हुआ है। आप इस कुंड के पानी से नहाएंगे, तो आपकी सभी प्रकार के स्किन रोग दूर हो जाते हैं। यहां पर बहुत सारे लोग इन कुंडों के पानी से नहाते हैं। 

यहां पर आप इन कुंडों को देख सकते हैं। कुंड में आप पानी निकालते हैं, तो उसके लिए चार्ज देना पड़ता है। यहां पर पास ही में आपको शिव भगवान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर सीता राम जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह जगह बहुत सुंदर है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और इस चमत्कारी जगह को देख सकते हैं। यहां पर एक पार्क भी बना हुआ है। 


परीएज झील नाडियाड - Pariej Lake Nadiad

परीएज झील नाडियाड जिले की एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यह झील बहुत बड़े एरिया में फैली हुई है। यह झील बहुत खूबसूरत है। यह झील विभिन्न प्रकार के असंख्य पक्षियों का घर है। यहां पर ठंड के समय विदेशी पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको सारस, क्रेन, फ्लैमिंगो, पेलिकन, बदक, किंगफिशर बहुत सारे पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर छोटा सा पार्क बना हुआ है, जहां पर आप आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यह जगह इको टूरिज्म की तरह विकसित की जा रही है। यहां पर्यटकों के लिए सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। यहां पर आकर आप बोटिंग का मजा ले सकते हैं। 

यहां पर वॉच टावर बना हुआ है, जहां से आप इस झील का दूर-दूर तक का सुंदर दृश्य देख सकते हैं और पक्षियों को भी देख सकते हैं। आप यहां पर दूरबीन लेकर आइए और इन पक्षियों को देखिए। यह जगह नाडियाड जिले में तारापुर के पास स्थित है और आप यहां पर आसानी से आ सकते हैं। यह जगह खंभात की खाड़ी की तरफ जाने वाले रास्ते में स्थित है। यहां पर आने के लिए आपको पक्की सड़क मिल जाती है। यह जगह फारेस्ट डिपार्टमेंट के द्वारा विकसित की गई है। यहां पर झील का अद्भुत दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यह झील बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हुई है। यह नाडियाड का पिकनिक स्पॉट है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। 


केदारेश्वर महादेव मंदिर नाडियाड - Kedareshwar Mahadev Temple Nadiad

केदारेश्वर महादेव मंदिर नाडियाड के पास घूमने वाली एक प्रमुख जगह है। यह धार्मिक स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर नाडियाड में कपड़वंज में केदारेश्वर जंगल में बना हुआ है। यहां पर आपको समाधि मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर तेलनार ग्राम के पास स्थित है। यह मंदिर वत्रक नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर आकर आपको सुंदर मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर प्राचीन है। प्राचीन समय में यहां पर पांडवों ने निवास किया था और शिव भगवान जी की स्थापना की थी। आपको यहां पर शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिल जाएंगे। यहां पर छोटा सा आश्रम बना हुआ है। यहां पर आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर विष्णु भगवान जी और हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। 

केदारेश्वर मंदिर बहुत सुंदरता से बनाया गया है। मंदिर के गुंबद के अंदरूनी भाग पर आपको शिव भगवान जी की बहुत सुंदर सुंदर पेंटिंग देखने के लिए मिल जाती है। केदारेश्वर मंदिर का शिखर बहुत सुंदर है। यह नाडियाड में घूमने वाली मुख्य जगह है। आप यहां पर आ सकते हैं और भगवान शिव के दर्शन कर सकते हैं। यह सावन सोमवार और महाशिवरात्रि में बहुत सारे लोग आते हैं। 


उत्कंठेश्वर महादेव मंदिर नाडियाड - Utkantheshwar Mahadev Temple Nadiad

उत्कंठेश्वर महादेव मंदिर नाडियाड जिले के पास स्थित एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर नाडियाड जिले में कपड़वंज तहसील में स्थित है। यह मंदिर कपड़वंज से दहेगांव जाने वाले रास्ते में वत्रक नदी के किनारे बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं।  यह शिवलिंग देखने में अद्भुत है। यहां एक छोटा सा गड्ढा देखने के लिए मिलता है, जिसके अंदर 7 शिवलिंग विराजमान है। यह शिवलिंग प्राचीन है और कहा जाता है, कि इसे जवाली ऋषि के द्वारा स्थापित किया गया था। 

उत्कंठेश्वर महादेव मंदिर बहुत ही सुंदरता से बनाया गया है। मंदिर का मंडप और शिखर बहुत ही सुंदर है। मंडप के अंदरूनी भाग में आपको शिव भगवान जी और अन्य देवी देवताओं की बहुत ही सुंदर सुंदर पेंटिंग देखने के लिए मिलती है। यहां पर वत्रक नदी का दृश्य भी बहुत जबरदस्त रहता है। मंदिर के पास सावन सोमवार और महाशिवरात्रि को बहुत विशाल मेला आयोजित किया जाता है, जिसमें बहुत सारे लोग शामिल होते हैं। मंदिर के आसपास और भी बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं, जहां पर आप घूम सकते हैं। यहां आकर आप अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


रोजा रोजी दरगाह नाडियाड - Roja Roji Dargah Nadiad

रोजा रोजी दरगाह नाडियाड जिले का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यह दरगाह महमदाबाद में स्थित है। यह दरगाह वत्रक नदी के किनारे बनी हुई है। यह दरगाह प्राचीन है और देखने में बहुत ही सुंदर लगती है। यह दरगाह हजरत मुबारक सैयद को समर्पित है। इस दरगाह में आपको खूबसूरत गुंबद, पिलर देखने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यह दरगाह 15 वी शताब्दी में बनाई गई थी। कहा जाता है, कि इस दरगाह में आकर आप प्रार्थना करते हैं, तो आपकी जो भी मनोकामना रहती है वह पूरी होती है। 


नाडियाड (खेड़ा) जिले के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल - Famous Tourist Places In Nadiad (Kheda) District

फाटा तालाब और गार्डन महेमदावद नाडियाड
चांद सूरज का महल महेमदावद नाडियाड
विरेश्वर महादेव मंदिर सिहुंज गांव नाडियाड
श्री धार नाथ महादेव मंदिर वासो नाडियाड
राम सरोवर वासो नाडियाड
दाऊदी बौहरा दरगाह कपड़वंज नाडियाड
श्री स्वामीनारायण मंदिर डाकोर नाडियाड
राम तालाब एवं मंदिर वासो नाडियाड
घेला हनुमान मंदिर वड़ताल नाडियाड 
श्री केदारेश्वर महादेव मंदिर वड़ताल
श्री स्वामीनारायण मंदिर दभन नाडियाड 


मेहसाणा के दर्शनीय स्थल
आहवा के दर्शनीय स्थल
आनंद के दर्शनीय स्थल
तापी (व्यारा) के दर्शनीय स्थल
साबरकांठा के दर्शनीय स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।