सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

डांग (आहवा) जिले के पर्यटन स्थल - Dang (Ahwa) Tourist Places

डांग (आहवा) जिले के दर्शनीय स्थल - Major places to visit in Dang (Ahwa) District / डांग (आहवा) जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


डांग गुजरात का एक मुख्य जिला है। डांग गुजरात की राजधानी गांधीनगर से करीब 344 किलोमीटर दूर है। डांग जिले का मुख्यालय आहवा है। डांग जिले पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां पर घना जंगल है। यहां पर अधिकतर आदिवासी जनजातियां रहती है। यह जिला प्राकृतिक सुंदरता से भरा हुआ है। यह जिला गुजरात में, गुजरात महाराष्ट्र सीमा पर स्थित है। यहां पर आपको हिल स्टेशन सापुतारा भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर आप को अधिकतम जलप्रपात देखने के लिए मिल जाते हैं। डांग जिला में बहने वाली मुख्य नदी पूर्णा है। डांग जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - डांग जिले में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


डांग (आहवा) में घूमने की जगह - Dang (Ahwa) mein ghumne ki Pramukh jagah


आहवा सनसेट पॉइंट डांग - Ahwa Sunset Point Dang

आहवा सनसेट पॉइंट डांग जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह जगह डांग जिले के आहवा में स्थित है। यहां पर सूर्योदय और सूर्यास्त का बहुत अच्छा दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर एक छोटा सा चिल्ड्रन पार्क भी बना हुआ है, जहां पर झूला लगे हुए हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। बरसात में इस जगह में चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। आप अपना बहुत अच्छा समय यहां पर बिता सकते हैं। 


शिव घाट डांग - Shiv Ghat Dang

शिव घाट डांग जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर झरना है। यहां पर शिव और पार्वती जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको सुंदर घाटी देखने के लिए मिलती है। चारों तरफ प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह झरना आहवा से पिंपरी जाने वाली सड़क पर स्थित है। आप यहां पर बरसात के समय आएंगे, तो आपको बहुत मजा आएगा। यहां पर बहुत सारे बंदर भी हैं। 


माया देवी मंदिर डांग - Maya Devi Temple Dang

माया देवी मंदिर डांग जिले का एक प्रमुख जगह है। माया देवी मंदिर डांग जिले में पूर्णा नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पूर्णा नदी पर एक छोटा सा चेक डैम बना हुआ है, जो बरसात में ओवरफ्लो होकर बहता है, जिसका दृश्य बहुत ही जबरदस्त रहता है। यह डैम से थोड़ी ही दूरी पर, यह मंदिर बना हुआ है। यह मंदिर माया देवी को समर्पित है। मंदिर में माया देवी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आ कर आपको बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर आपको प्राकृतिक सौंदर्य भी देखने के लिए मिलेगा और माता का भव्य मंदिर भी देखने के लिए मिल जाता है। यह जगह भेंस्कात्री के पास स्थित है। 


कदम डूंगरी देवस्थान - Kadam Dungri Devasthan

कदम डूंगरी देवस्थान डांग जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह डांग जिले का हिली एरिया है। यहां पर आपको सभी तरफ पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको एक ऊंची पहाड़ी पर मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो स्थानीय देवता का है। यहां पर बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यह जगह वाघई तहसील के अंतर्गत आती है। यह जगह अम्सारवाला गांव में स्थित है। यह जगह वाघई से 20 किलोमीटर दूर है। 

यहां पर पहाड़ी के ऊपर मंदिर है। पहाड़ी के ऊपर जाने के लिए सीढ़ियां है। यहां पर चारों तरफ हरियाली और पहाड़ों का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर वॉच टावर भी बने हुए हैं, जहां पर आप बैठ सकते हैं और इस जगह का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर सूर्योदय और सूर्यास्त का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। 


गीरा जलप्रपात डांग - Gira Falls Dang

गीरा जलप्रपात डांग जिले का मुख्य पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात गुजरात का सबसे बड़ा जलप्रपात है। यह जलप्रपात अंबिका नदी पर बना हुआ है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यह जलप्रपात डांग जिले में वाघई तहसील में स्थित है। यहां पर बरसात के समय जलप्रपात का दृश्य बहुत ही सुंदर रहता है। यहां चारों तरफ आपको प्राकृतिक वातावरण देखने के लिए मिल जाएगा। आप यहां पर मानसून के समय आएंगे, तो आपको बहुत अच्छा लगेगा, क्योंकि मानसून में यहां पर चारों तरफ हरियाली रहती है और जलप्रपात में भी बहुत ज्यादा पानी रहता है। इस जलप्रपात को गीरा धोढ नाम से जाना जाता है। इस जलप्रपात के पास आपको बहुत सारी दुकानें भी देखने के लिए मिल जाती है, जहां पर आपको कई प्रकार का सामान मिलता है। 


वघई बॉटनिकल गार्डन डांग - Waghai Botanical Garden Dang

वघई बॉटनिकल गार्डन डांग जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह डांग जिले की वघई तहसील में स्थित है। इस पार्क में आपको प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको विभिन्न प्रकार के पेड़ पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको बांस की विभिन्न तरह की प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। इसके अलावा आपको यहां पर फूलों की, मेडिकल प्लांट की भी प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। यहां पर बच्चों के खेलने के लिए अलग से एरिया बना हुआ है। 

वघई बॉटनिकल पार्क में एंट्री के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर वयस्क व्यक्ति का 20 रुपए लिया जाता है और बच्चों का 10 लिया जाता है। पार्क को बहुत ही क्रिएटिव तरीके से बनाया गया है। पार्क में आपको बहुत सारे आश्चर्यजनक चीजें देखने के लिए मिलेगी। आप वघई आएंगे, तो आपको बॉटनिकल गार्डन  पर जरूर आना चाहिए। वघई के आसपास और भी बहुत सारी जगह है, जहां पर आप घूम सकते हैं। पार्क के पास में ही वंसदा नेशनल पार्क है, जहां पर आप घूम सकते हैं। यह पार्क 24 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला हुआ है और यहां पर 1400 से भी ज्यादा पेड़ पौधों की प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। 


भृगु जलप्रपात डांग - Bhrigu Falls Dang

भृगु जलप्रपात डांग जिले का एक मुख्य दर्शनीय स्थल है। यह जलप्रपात घने जंगल के अंदर स्थित है। यह जलप्रपात डांग जिले के वघई तहसील में स्थित है। यह जलप्रपात कुसमल घाटी में स्थित है। यहां पर आपको चारों तरफ सुंदर पहाड़ी का दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर प्राकृतिक वातावरण में इंजॉय कर सकते हैं। इस वाटरफॉल के पास में एक व्यूप्वाइंट बना हुआ है, जहां से आप इस वाटरफॉल का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। वाटरफॉल तक जाने के लिए आपको ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यह वाटरफॉल को कुसमल गांव के पास में स्थित है। वाटरफॉल में पहुंचकर आप बहुत इंजॉय कर सकते हैं।  आप यहां पर नहाने का मजा ले सकते हैं। यह डांग जिले का पिकनिक स्पॉट है। 


कालीबेल जलप्रपात डांग - Kalibel Falls Dang

कालीबेल जलप्रपात डांग जिले में कालीबेल में स्थित है। यह जलप्रपात छोटा है। मगर बहुत सुंदर है। आप यहां पर आ कर इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर चारों तरफ जंगल का दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। बरसात के समय यह जलप्रपात बहुत ही जबरदस्त रखता है। इस जलप्रपात से कुछ ही दूरी पर आपको पूर्णा नदी देखने के लिए मिल जाती है, जो बहुत सुंदर लगती है ,इस नदी में चेक डैम बना हुआ है, जिस का दृश्य भी बहुत सुंदर रहता है , यहां पर चारों तरफ जंगल का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है।   


महल इको टूरिज्म कैंपसाइट डांग - Mahal Eco Tourism Campsite Dang 

महल इको टूरिज्म कैंपसाइट डांग जिले का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। महल इको टूरिज्म स्पॉट डांग जिले में महल तहसील में स्थित है। यहां पर आपको जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको घना जंगल, नदी का किनारा देखने के लिए मिलता है। इस इको पर्यटन स्थल पर हट टाइप के घर  बनाए गए हैं, जहां पर आप ठहर सकते हैं। यहां पर नाइट स्टे आप कर सकते हैं। इसके लिए अलग चार्ज लिया जाता है। आप यहां आकर जंगल में विभिन्न प्रकार के पशु पक्षी देख सकते हैं। यहां पर पेड़ों की भी विभिन्न प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। 

महल इको टूरिज्म पर, जो घर बनाए हैं, वह पूरी तरह से पारंपरिक गांव वाले घर बनाए गए हैं, जो बहुत ही सुंदर लगते हैं। यहां पर ट्रीहाउस भी देखने के लिए मिल जाता है, जो बहुत ही जबरदस्त रहता है। यहां पर खाने पीने के लिए भी व्यवस्था की गई है। यहां पर आपको पूर्णा नदी का किनारा देखने के लिए मिलता है, जहां पर आप इंजॉय कर सकते हैं। यह डांग जिले में घूमने वाली एक मुख्य जगह है। आप यहां पर आने के लिए ऑनलाइन बुकिंग करके आ सकते हैं। 


बरदीपाड़ा सरोवर डांग - Bardipada Sarovar Dang

बरदीपाड़ा सरोवर डांग जिले में घूमने वाली एक मुख्य जगह है। यह एक मुख्य प्राकृतिक स्थल है। यह सरोवर महल तहसील में स्थित है। यह बरदीपाड़ा से महल तहसील जाने वाले रोड पर बना हुआ है। यह मुख्य सड़क पर बना हुआ है। यहां पर सुंदर सरोवर बना हुआ है और सरोवर से थोड़ी ही दूरी पर आपको झर ना देखने के लिए मिलता है। यह झरना छोटा सा है। मगर बहुत ही सुंदर है और आप यहां पर आ कर इंजॉय कर सकते हैं। 


पूर्णा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी डांग - Purna Wildlife Century Dang

पूर्णा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी डांग जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। पूर्णा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी गुजरात और महाराष्ट्र की सीमा पर फैली हुई है। इस सेंचुरी में आपको विभिन्न प्रकार के वन्यजीव देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर विभिन्न प्रकार की पेड़ पौधों की प्रजातियां भी देखने के लिए मिलती है। यह सेंचुरी प्राकृतिक रूप से बहुत ही सुंदर है। यह सेंचरी गुजरात में डांग और व्यारा जिले में फैली हुई है। यहां पर आपको बहुत सारे जलप्रपात और घाटियों का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। 

इस सेंचुरी का नाम सेंचुरी में बहने वाली पूर्णा नदी के नाम पर रखा गया है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और बहुत इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर आप बरसात के समय आएंगे, तो आपको बहुत ज्यादा मजा आएगा। यह सेंचुरी 160 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैली हुई है और इस सेंचुरी के 1990 में स्थापित किया गया था। यहां पर पक्षियों की बहुत ज्यादा प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। 


गिरमल जलप्रपात डांग - Girmal Falls Dang

गिरमल जलप्रपात डांग जिले की सबसे अच्छी जगह है। यह एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात चारों तरफ से जंगल से घिरा हुआ है। यह जलप्रपात बहुत ही जबरदस्त दिखाई देता है। जलप्रपात का पानी ऊंची चट्टान से नीचे कुंड में गिरता है, जो देखने में बहुत ही आकर्षक लगता है। यहां पर एक व्यूप्वाइंट बना हुआ है, जहां से आप इस जलप्रपात के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। यह जलप्रपात डांग जिले में गिरमल गांव के पास स्थित है। 

गिरमल जलप्रपात पूर्णा वन्य जीव अभ्यारण के अंदर स्थित है। आप यहां पर आ कर इंजॉय कर सकते हैं और इस जलप्रपात के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। यहां बरसात में जलप्रपात का दृश्य बहुत ही जबरदस्त रहता है। यहां पर जलप्रपात के आसपास आपको खाने पीने के लिए चाय और नाश्ता के ठेले देखने के लिए मिलते हैं, जो यहां के लोकल लोगों के द्वारा ही लगाए जाते हैं। यहां पर बैठने के लिए भी स्थान बनाया गया है, जहां से आप जलप्रपात की सुंदर दृश्य को देख सकते हैं और प्राकृतिक वातावरण को इंजॉय कर सकते हैं। 


यू टर्न पॉइंट डांग - U turn point dang

यू टर्न पॉइंट डांग जिले में पूर्णा वन्य जीव अभ्यारण में स्थित एक मुख्य पॉइंट है। यहां पर आपको अंबिका नदी का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है, जहां पर अंबिका नदी घुमावदार आकार में बहती है और बहुत ही जबरदस्त दिखती है। यहां पर एक छोटा सा स्टॉप डैम भी बना हुआ है। यहां पर अंबिका नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप यहां बरसात के समय आएंगे, तो आपको और भी अच्छा लगेगा। 


शबरी धाम डांग - Shabri Dham Dang

शबरीधाम डांग जिले का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर श्री राम जी, लक्ष्मण जी और माता शबरी जी को समर्पित है। इस मंदिर को लेकर प्राचीन कहानी है, जो रामायण में कहीं जाती है। प्राचीन समय में जब राम जी वनवास के समय सीता जी को ढूंढ रहे थे। तब रामजी दंडकारण्य वन में आए थे और यहां पर शबरी माता से मिले थे। शबरी माता जी ने राम जी को झूठे बेर खिलाए थे, क्योंकि शबरी माता बेर को चखकर देख रही थी, कि बेर मीठी है, कि नहीं और जो बेर मीठी रहती थी। वह वह अपनी टोकरी में श्री राम जी के लिए रख लेती थी। 

राम भगवान जी ने शबरी की भक्ति को देखकर, उनके झूटे बेर ग्रहण किए थे। यहां पर आपको श्री राम जी, माता शबरी जी और लक्ष्मण जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर बहुत ही अच्छी तरह से बना हुआ है। यहां पर और भी बहुत सारे देवी देवताओं की प्रतिमा देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर आपको शंकर भगवान जी, गणेश जी, हनुमान जी की प्रतिमा देखने के लिए मिल जाती है। शबरीधाम डांग जिले में सुबीर में स्थित है। यह मंदिर बहुत अच्छे तरीके से बनाया गया है। यह डांग में घूमने लायक एक मुख्य जगह है। 


पंपा सरोवर डांग - Pampa Sarovar Dang

पंपा सरोवर डांग जिले का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको पूर्णा नदी पर एक सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है और यहां पर छोटा सा चेक डैम भी बना हुआ है। इस जगह को पंपा सरोवर के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है, कि प्राचीन समय में रामायण काल में यहां पर शबरी जी स्नान किया करती थी और जब राम जी यहां पर शबरी जी से मिलने के लिए आए थे। तब राम जी और लक्ष्मण जी ने भी यहां पर स्नान किया था। 

यह जगह बहुत पवित्र है। यहां पर आपको प्राकृतिक सुंदरता के साथ-साथ धार्मिक अनुभव भी मिलता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां चेक डैम से पानी बहता है, तो बहुत सुंदर लगता है। चेक डैम से थोड़ी ही दूरी पर छोटा सा झरना देखने के लिए मिलता है। यहां पर जब पानी कम रहता है। तब बहुत सारे लोग यहां पर नहाते हैं और इंजॉय करते हैं। बरसात में यहां पर पानी की मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ जाती है और यह जगह बहुत सुंदर लगती है। पंपा सरोवर डांग जिले में सुबीर से करीब 10 किलोमीटर दूर है।  आप यहां पर गाड़ी से पहुत सकते हैं और इस जगह में घूम सकते हैं। इस जगह आने के लिए अच्छी सड़क बनी हुई है।  आपको यहां पर जंगल का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह डांग जिले की सबसे अच्छी जगह है और आपको यहां पर जरूर घूमने के लिए आना चाहिए। 


डॉन हिल डांग - don hill dang

डॉन हिल डांग जिले का एक आकर्षण स्थल है। यह एक प्राकृतिक स्थल है। यह जगह प्राकृतिक प्रेमियों के लिए बहुत ही अच्छी है। यहां पर सुंदर पहाड़ी एरिया देखने के लिए मिलता है।  यहां गुजरात राज्य की सबसे ऊंची पहाड़ी है। यह जगह आहवा तहसील से करीब 35 किलोमीटर दूर है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह गुजरात और महाराष्ट्र की सीमा पर स्थित है। यहां पर आने के लिए सड़क माध्यम उपलब्ध है। यहां पर आप घुमावदार सड़क से होते हुए पहुच सकते हैं। 

बरसात में यह जगह हरियाली की चादर ओढ़ लेती है। आप यहां पर आ कर नाइट स्टे कर सकते हैं। यहां पर आपको ठहरने के लिए टेंट की सुविधा मिल जाती है। यहां पर ठंडी हवा बहुत ही आनंद देती है। 


अंजनी कुंड गुफा एवं जलप्रपात डांग - Anjani Kund Cave and Waterfall Dang

अंजनी कुंड एवं जलप्रपात डांग जिले का एक मुख्य प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जगह डांग जिले में आहवा तहसील में अंजनी गांव के पास स्थित है। इस झरने और गुफा तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करके आना पड़ता है। इस झरने में आने वाले रास्ते में, आपको एक और छोटा सा झरना देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर लगता है। यहां आस-पास आपको जंगल का दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। 

जब आप इस झरने में पहुंचते हैं, तो आपको बहुत ऊंचा जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात ऊंचाई से नीचे एक कुंड में गिरता है। जलप्रपात के नीचे की तरफ चट्टानों में गुफा देखने के लिए मिलती है। यह गुफा अंजनी माता जी को समर्पित है। अंजनी माता, हनुमान जी की माता है। यहां पर अंजनी माता और हनुमान जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां का दृश्य बहुत ही लाजवाब रहता है। आप यहां पर आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 


मोठा देव आहवा - Motha Dev Ahwa

मोठा देव आहवा के पास स्थित एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह आदिवासी देव स्थान है। यह जगह मरखोल गांव के पास स्थित है। यहां पर आपको सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको शिव भगवान जी और गणेश जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर आदिवासी देवता भी विराजमान है। यहां पर आपको जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। आप यहां पर आ सकते हैं। 


पांडव गुफा डांग - Pandava Cave Dang

पांडव गुफा डांग जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यहां पर आपको प्राचीन गुफाएं और जलप्रपात देखने के लिए मिलती है। कहा जाता है, कि यहां पर पांडव अपने वनवास काल के दौरान रहा करते थे। यहां पर अलग अलग कक्ष बने हुए हैं। सबसे बड़े कक्ष में भीम रहा करते थे। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से घिरी हुई है। यह जगह घने जंगल के अंदर स्थित है। आपको यहां पर पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करके आना पड़ता है। आपको यहां पर आकर बहुत मजा आएगा। 

यहां पर बरसात के समय आपको एक सुंदर सा जलप्रपात भी देखने के लिए मिलता है। गुफा के अंदर आपको शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते थे। पांडव यहां पर शिव भगवान जी की पूजा अर्चना किया करते थे। यह गुफा डांग जिले में जावातला गांव के पास स्थित है। 


श्री राम अटाला धाम डांग - Shri Ram Atala Dham Dang

श्री राम अटाला धाम डांग जिले में स्थित धार्मिक जगह है। यहां पर आपको राम भगवान जी, सीता जी, हनुमान जी, परशुराम जी की मूर्तियों के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से घिरी हुई है। यह जगह अंजनी पर्वत पर है।  आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आपको पर्वतों का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। 

यहां पर आपको और भी बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं, जो देवी-देवताओं की है। यहां पर आपको श्री पृथ्वी लिंग देखने के लिए मिलता है। शिवलिंग और नंदी भगवान जी की बहुत बड़ी मूर्ति देखने के लिए मिलती है। हनुमान जी की बड़ी सी प्रतिमा देखने के लिए मिलते हैं। श्री विश्वनाथ भगवान के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको एक छोटा सा कुंड देखने के लिए मिलता है, जहां पर कमल के फूल खिले हुए हैं। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यह जगह अंजनी गांव के पास में स्थित है। 


सापुतारा हिल स्टेशन डांग - Saputara Hill Station Dang

सापुतारा हिल स्टेशन डांग जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह डांग जिले के अहवा तहसील से करीब 30 किलोमीटर दूर है। सापुतारा महाराष्ट्र और गुजरात की सीमा पर स्थित है। आपको यहां पर सुंदर पहाड़ी एरिया देखने के लिए मिलता है। यह जगह बहुत सुंदर है। आप यहां पर आकर ठहर सकते हैं। यहां पर बहुत सारी होटल और रिसॉर्ट है, जहां पर आप के रुकने की व्यवस्था हो जाती है। 

यहां पर आपको बहुत सारी जगह घूमने के लिए मिलती है। आपको यहां पर आकर सापुतारा झील देखने के लिए मिलती है, जहां पर आप बोट राइड का मजा ले सकते हैं। यहां पर आपको सनसेट पॉइंट देखने के लिए मिलता है, जहां पर सूर्यास्त का नजारा देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर नागेश्वर मंदिर, सापुतारा म्यूजियम, रोज गार्डन, जैन मंदिर, इको पॉइंट यह सभी जगह देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर कुछ संस्थानों के द्वारा कैंप भी आयोजित किया जाता है, जहां पर आप कैंप में भी ठहर सकते हैं। यह जगह बहुत खूबसूरत है और आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


डांग (आहवा) जिले के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल - Famous Tourist Places in Dang (Ahwa) District

बरदा जलप्रपात डांग
देवीनामाल कैंपसाइट डांग
भंवरकेड़ा जलप्रपात कोडमल गांव डांगी
मिलन वाटरफॉल कंटाल डांग
निलसाकिया झरना आहवा



तापी में घूमने की जगह
साबरकांठा (हिम्मतनगर) में घूमने वाली जगह
सुरेंद्रनगर में घूमने की जगह
नवसारी में घूमने की जगह
आनंद में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।