सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

तापी (व्यारा) जिले के पर्यटन स्थल - Tapi (Vyara) tourist places

तापी (व्यारा) जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Tapi (Vyara) district / तापी (व्यारा) जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


तापी गुजरात का एक मुख्य जिला है। तापी गुजरात की राजधानी गांधीनगर से करीब 328 किलोमीटर दूर है। तापी जिले का मुख्यालय व्यारा है। तापी जिला पहले सूरत जिले का एक भाग हुआ करता था। इसे 2007 में सूरत जिले से अलग करके, एक नए जिले के रूप में स्थापित किया गया। तापी जिले में मुख्य नदी ताप्ती है। तापी जिले का नाम ताप्ती नदी के नाम पर रखा गया है। तापी जिले में ताप्ती नदी पर बहुत बड़ा बांध बना हुआ है। यह बांध गुजरात का दूसरा सबसे बड़ा बांध है। तापी की मुख्य नदी ताप्ती और पूर्णा है। तापी जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - तापी जिले में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


तापी (व्यारा) में घूमने की जगह - Tapi (Vyara) mein ghumne ki jagah


श्री राम तालाब व्यारा - Shri Ram Talab Vyara

श्री राम तालाब व्यारा का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह तालाब व्यारा में रेलवे स्टेशन के पास स्थित है। यह तालाब बहुत सुंदर है। यहां पर आप को बहुत बड़ा तालाब देखने के लिए मिलता है। तालाब के बीच में गार्डन बना हुआ है, जिसे जल वाटिका गार्डन के नाम से जाना जाता है। 

तालाब में आपको शंकर जी की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर सुबह के समय बहुत सारे मॉर्निंग वॉक वाले लोग आते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। तालाब में बहुत सारे कमल के फूल भी है, जो बहुत ही सुंदर लगते हैं। यहां पर चारों तरफ आपको पेड़ पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यह पार्क नगर निगम के द्वारा प्रबंधित किया जाता है। पार्क में फव्वारा भी लगा हुआ है। पार्क में सेल्फी प्वाइंट भी है, जहां पर आप तस्वीरें ले सकते हैं। पार्क में आपको बदक भी घूमते हुए देखने के लिए मिल जाते हैं। यह व्यारा में घूमने लायक मुख्य जगह है। 


व्यारा का किला - Vyara Fort

व्यारा का किला व्यारा शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक किला है। यह किला प्राचीन है और पूरा किला बहुत सुंदर है। यह किला चारों तरफ से दीवारों से घिरा हुआ है। बीच में आपको एक गोलाकार स्मारक देखने के लिए मिलता है। किले में कोने में बुर्ज बने हुए हैं, जो बहुत सुंदर लगते हैं। यह किला मुख्य शहर में स्थित है और आप यहां पर घूमने के लिए जा सकते हैं। इस किले का रखरखाव अच्छी तरह से नहीं किया जा रहा है, जिससे यह किला धीरे-धीरे खंडहर में बदलते जा रहा है। 


गणेश मंदिर व्यारा - Ganesh Mandir Vyara

गणेश मंदिर व्यारा का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर व्यारा जिले में वालोद तहसील में स्थित है। यह गणेश जी का प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में गणेश जी की प्राचीन प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही सुंदर है। इस प्रतिमा में गणेश जी की सूंड कुछ अलग प्रकार की है।

यह मंदिर प्राचीन है। प्राचीन समय में, यहां पर मुगल शासकों ने अटैक किया था। मंदिर से थोड़ी ही दूरी पर आपको पूर्णा नदी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको और भी बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको लक्ष्मी नारायण जी, हनुमान जी, शिव शंकर जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि इस मंदिर में आप आकर जो भी मनोकामना मांगते हैं। वह जरूर पूरी होती है। आप यहां पर आ सकते हैं और घूम सकते हैं। यह व्यारा की सबसे अच्छी जगह है। 


उनाई माता मंदिर व्यारा - Unai Mata Temple Vyara

उनाई माता मंदिर व्यारा का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह व्यारा जिले में उनाई नाम के क्षेत्र में स्थित है। यह मंदिर उनाई माता को समर्पित है। मंदिर के गर्भ गृह में माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर में आपको एक और चमत्कार देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको गर्म पानी का कुंड देखने के लिए मिलता है। यहां पर लोग दूर-दूर से गरम पानी के कुंड में स्नान करने के लिए आते हैं, क्योंकि इस पानी से स्नान करने से सभी प्रकार के रोग दूर होते हैं। यह कुंड प्राकृतिक है और यहां से गर्म पानी निकलता रहता है। यहां पर नहाने और मुंडन की व्यवस्था की गई है। 

उनाई माता का मंदिर बहुत ही सुंदर तरीके से बना हुआ है। पूरा मंदिर पत्थर से बना हुआ है। मंदिर के बाहर आपको बहुत सारी दुकानें मिलती है, जहां पर खाने पीने का सामान मिल जाता है। यहां पर प्रसाद के लिए भी बहुत सारी दुकान है। यह मंदिर बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आपको धर्मशाला भी देखने के लिए मिलती है, जो पर्यटक दूर से आते हैं। वह यहां पर रुक सकते हैं। आप यहां पर आना चाहते, तो आ सकते हैं और मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। 


पदम डूंगरी इको टूरिज्म साइट तापी - Padam Dungri Eco Tourism Site Tapi

पदम डूंगरी इको टूरिज्म साइट तापी जिले में घूमने वाली एक मुख्य जगह है। पदमडूंगरी इको टूरिज्म कैंपसाइट तापी जिले के व्यारा तहसील से 30 किलोमीटर दूर है। यह उनाइ गांव से करीब 8 किलोमीटर दूर है। यहां पर आपको खूबसूरत जंगल देखने के लिए मिलता है। यहां पर सह्याद्री पर्वत श्रंखला देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही सुंदर है। यहां पर आपको अंबिका नदी देखने के लिए मिलती है, जिसका दृश्य बहुत सुंदर रहता है। आप यहां पर आकर ट्रैकिंग कर सकते हैं। यहां पर अगर आप नाइट स्टे का आनंद लेना चाहते हैं, तो आप यहां पर ऑनलाइन बुकिंग कर सकते हैं। ऑनलाइन बुकिंग के अनुसार आप अपनी सुविधा के अनुसार पैकेज बुक करवा सकते हैं और यहां पर ठहर सकते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। यहां पर अंबिका नदी बहती है, जिसमें आप राफ्टिंग और फ्लोटिंग का मजा ले सकते हैं। इसके अलावा यहां पर बहुत सारे गेम भी खिलाए जाते हैं, जो बहुत मजेदार रहते हैं। 

यहां पर आपको विभिन्न प्रकार के पेड़ पौधे देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर विभिन्न प्रकार के जानवर भी देखने के लिए मिल जाते हैं। पदमडूंगरी इको टूरिज्म में आपको और भी बहुत सारी जगह देखने के लिए मिलती है, जो धार्मिक और प्राकृतिक रूप से प्रसिद्ध है। यहां पर आपको चांद सूर्य मंदिर, गुस्माई माई मंदिर, वंसदा नेशनल पार्क, सरभंगेश्वर महादेव मंदिर, तापी वाघाई बोटैनिकल गार्डन, शबरी धाम देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर वॉच टावर है, जिसमें आप ऊपर से सारे पूरे जंगल का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। अगर आपको प्राकृतिक जगह देखने में रुचि है, तो आप यहां पर जरूर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह तापी जिले का पिकनिक स्पॉट है। 


वनस्पति उद्यान वाघाई  - Botanical Garden Waghai

वनस्पति उद्यान वाकई में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह उद्यान बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आपको विभिन्न प्रकार के पेड़ पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत बड़ा गार्डन है और इस गार्डन को बहुत अच्छी तरह से मेंटेन किया गया है। इस गार्डन में आपको कैक्टस हाउस देखने के लिए मिलता है, जहां पर विभिन्न प्रकार के कैक्टस को रखा गया है। यहां पर आपको फूल, सजावटी पौधे, मेडिकल प्लांट और भी बहुत सारे पेड़ पौधे देखने के लिए मिल जाते हैं। आप यहां पर अपना बहुत अच्छा वक्त व्यतीत कर सकते हैं। 


अंबापानी इको टूरिज्म स्पॉट तापी - Ambapani Eco Tourism Spot Tapi

अंबापानी इको टूरिज्म स्पॉट तापी का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर चारों तरफ आपको जंगल का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर पूर्णा नदी बहती है, जहां पर आप नाव की सवारी का मजा ले सकते हैं। यहां पर ट्रीहाउस बना हुआ है, जहां पर आप स्टे कर सकते हैं। इसके लिए आप बुक कर सकते हैं और यहां पर नाइट स्टे कर सकते हैं। यहां पर कैंटीन भी है, जहां पर आपको खाने के लिए बहुत सारी चीजें मिल जाती है। यहां पर बच्चों के लिए प्ले एरिया बना हुआ है, जहां पर बच्चे काफी इंजॉय कर सकते हैं। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको यहां पर बहुत मजा आएगा। 


राजा रानी जलप्रपात - Raja Rani Falls

राजा रानी जलप्रपात तापी जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह प्राकृतिक जगह है। यह जगह घने जंगल के अंदर स्थित है। यह जगह तापी जिले में व्यारा में साबरखाड़ी में स्थित है। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। झरने तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करके आना पड़ेगा। यहां पहुंच कर आपको बहुत अच्छा लगेगा। 


डोसवाड़ा बांध तापी - Doswada Dam Tapi

डोसवाड़ा डैम तापी जिले में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। यहां पर आपको एक बहुत बड़ा जलाशय देखने के लिए मिलता है। यह जलाशय मिंढोला नदी पर बना हुआ है। यह जलाशय बहुत खूबसूरत है। बरसात के समय जब जलाशय में पानी पूरी तरह भर जाता है और जलाशय ओवरफ्लो होता है, तो इसका दृश्य देखने लायक रहता है। यहां पर जलाशय का पानी जलप्रपात की तरह बहता है, जो बहुत ही जबरदस्त दिखता है। यहां पर बरसात के समय बहुत सारे लोग आते हैं। यहां पर आपको एक व्यूप्वाइंट भी देखने के लिए मिलता है, जहां से आपको पूरे जलाशय का दृश्य देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही आकर्षक रहता है। 

डोसवाड़ा बांध के पास ही में आपको गार्डन देखने के लिए मिलता है। यह गार्डन भी बहुत सुंदर है। इस बांध के पास में हीं आपको एक किले के खंडहर देखने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यह किला ऐतिहासिक है और गायकवाड शासकों के द्वारा बनवाया गया था। आप यहां पर आ कर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह बांध तापी जिले में सोनगढ़ में स्थित है। यह बांध व्यारा और सोनगढ़ हाईवे सड़क से करीब 2 किलोमीटर अंदर स्थित है। आप यहां पर आसानी से पहुंच सकते हैं और यहां पर इंजॉय कर सकते हैं। 


सोनगढ़ का किला तापी - Songadh Fort Tapi

सोनगढ़ का किला तापी जिले का एक मुख्य आकर्षण स्थल है। यह एक ऐतिहासिक किला है। सोनगढ़ नाम बहुत ही आकर्षक है। सोनगढ़ का मतलब होता है - सोन का अर्थ होता है - सोना या गोल्ड और गढ़ का मतलब होता है - किला। यह किला एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। किले तक पहुंचने के लिए सीढ़ियां है। सीढ़ियां से होते आप किले तक पहुंचते हैं। किले के चारों तरफ प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप किले में पहुंचेंगे, तो आपको किले के खंडहर अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। 

यह किला 16वीं शताब्दी में गायकवाड शासकों के द्वारा बनवाया गया था। इस किले मे आपको चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर बरसात के समय आ कर आपको बहुत अच्छा लगेगा, क्योंकि बरसात में यहां का दृश्य बहुत ही जबरदस्त रहता है। यहां पर आपको छोटा सा महाकाली जी का मंदिर और एक दरगाह देखने के लिए मिल जाती है। यह तापी में सोनगढ़ में स्थित है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको यहां पर अच्छा लगेगा। 


उकाई बांध तापी - Ukai Dam Tapi

उकाई बांध तापी का एक प्रसिद्ध स्थल है। यह बांध ताप्ती नदी पर बना हुआ है। यह बांध गुजरात का दूसरा सबसे बड़ा बांध है। पहला बांध सरदार सरोवर बांध है। यह बांध बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस बांध को बल्लभ सागर बांध के नाम से भी जाना जाता है। इस बांध का निर्माण 1972 में किया गया था। इस बांध का उपयोग बिजली उत्पादन, सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण के लिए किया जाता है। 

इस बांध का भराव क्षेत्र बहुत बड़ा है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर व्यूप्वाइंट बना हुआ है, जहां से आप बांध का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आने का सबसे अच्छा समय बरसात का रहता है, क्यूकी बरसात के समय बांध पूरी तरह पानी से भर जाता है और उसके गेट खोले जाते हैं। जिसका दृश्य बहुत ही शानदार रहता है। आप यहां पर बोटिंग का भी मजा ले सकते हैं। यह तापी में पिकनिक मनाने के लिए एक अच्छी जगह है। आप यहां आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 


कंसारी माता मंदिर तापी - Kansari Mata Temple Tapi

कंसारी माता मंदिर तापी का एक प्रसिद्ध मंदिर है। कंसारी माता आदिवासी लोगों की देवी है। यहां पर आदिवासी लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। वैसे यहां पर सभी प्रकार के लोग घूमने के लिए आते हैं। यह मंदिर घने जंगल के अंदर स्थित है। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से घिरी हुई है। यह जगह सोनगढ़ के पास कवला नाम के गांव में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


चीमेर जलप्रपात तापी - Chimer Falls Tapi

चीमेर जलप्रपात तापी जिले के पास घूमने वाली एक मुख्य जगह है। यह जलप्रपात तापी जिले में चीमेर गांव के पास स्थित है। इस जलप्रपात को चीमेर घोघ के नाम से भी जाना जाता है। यह जलप्रपात चीमेर गांव से करीब 2 किलोमीटर दूर है। यहां पर आपको पहाड़ी एरिया देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात जंगल के अंदर स्थित है। यह जलप्रपात गुजरात का सबसे ऊंचा जलप्रपात है। यहां पर आप मानसून के समय घूमने के लिए आएंगे, तो आपको जलप्रपात का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। 

चीमेर जलप्रपात के पास जाने के लिए आपको ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है। यह जलप्रपात बहुत ऊंची चट्टानों से नीचे गिरता है। यहां पर एक व्यू प्वाइंट बना हुआ है, जहां से आप इस झरने का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। झरने के आसपास और भी बहुत सारे झरने देखने के लिए मिलते हैं। बरसात में यह जगह किसी जन्नत से कम नहीं रहती है। आप यहां पर आ कर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरी हुई है। 


मेढा जलप्रपात तापी - Medha Falls Tapi

मेढा जलप्रपात तापी जिले का एक मुख्य जलप्रपात है। यह जलप्रपात सोनगढ़ से करीब 18 किलोमीटर दूर है। यह जलप्रपात मेढा गांव के पास स्थित है। इस जलप्रपात तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यहां पर करीब आपको चार से 5 किलोमीटर पैदल ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यह जलप्रपात घने जंगल के अंदर स्थित है। जलप्रपात में पहुंचकर आपको बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात ऊंची चट्टानों से गिरता है, जो बहुत ही शानदार लगता है। आप यहां पर पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। 


तापी जिले के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन स्थल - Famous Tourist Places in Tapi District

एक्वा गोलन जलप्रपात तापी 
चाचरबुंडा व्यूप्वाइंट तापी
देवलिमड़ी मंदिर खरसी तापी
गिरा जलप्रपात वाघाई तापी 
कीलड कैंपसाइट वाघाई तापी 


साबरकांठा के दर्शनीय स्थल
सुरेंद्रनगर के दर्शनीय स्थल
नवसारी के पर्यटन स्थल
महीसागर के दर्शनीय स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।