सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बोटाद जिले के पर्यटन स्थल - Botad Tourist Places

बोटाद जिले के दर्शनीय स्थल - Major places to visit in Botad District / बोटाद जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह



बोटाद गुजरात राज्य का एक मुख्य जिला है। बोटाद जिला गुजरात की राजधानी गांधीनगर से 176 किलोमीटर दूर है। बोटाद गुजरात राज्य में सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित एक जिला है। बोटाद जिले का निर्माण अहमदाबाद और भावनगर जिले के कुछ भाग को लेकर किया गया है। इस जिले की स्थापना 2013 में की गई थी। बोटाद जिले में बहुत सारी नदियां बहती है। यहां कालूभर, सुखभद्र, घेलो, उतावली, खेरी आदि नदियां बहती है। इस जिले का प्रशासनिक मुख्यालय बोटाद है। उतावली नदी बोटाद जिले के बीचो-बीच से बहती है। बोटाद जिले में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - बोटाद जिले में घूमने लायक कौन कौन सी जगह है। 


बोटाद में घूमने की जगह - Botad mein ghumne ki jagah


कृष्णासागर झील बोटाद - Krishnasagar Lake Botad

कृष्णा सागर झील बोटाद शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह झील मुख्य शहर में स्थित है। यह झील बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हुई है। झील में बहुत सारी मछलिया देखने के लिए मिलती हैं। झील के पास गार्डन भी बना हुआ है। गार्डन में तरह-तरह के पेड़ लगे हुए हैं। यहां पर फूल वाले पौधे भी लगे हुए हैं। 

गार्डन में मंदिर बना हुआ है, जहां पर आप भगवान के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर शाम के समय सूर्यास्त का दृश्य देखना बहुत अच्छा लगता है। यहां पर बरसात के समय आपको बहुत अच्छा दृश्य देखने के लिए मिलता है, क्योंकि बरसात के समय झील का पानी ओवरफ्लो होकर बहता है, जिससे एक सुंदर झरना बनता है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


कालूभार बांध बाटोद - kalubhar dam batod

कालूभार बांध बाटोद जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह बांध गढली गांव में स्थित है। यह बांध कालूभार रिवर में बना हुआ है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह बांध बहुत सुंदर है। बांध जब ओवरफ्लो होता है। तब इसका दृश्य देखने लायक रहता है। यह बांध बरसात के समय बहुत सुंदर लगता है। आप यहां पर अपने दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। 


गंगासती पानबाई आश्रम बोटाद - Gangasati Panbai Ashram Botad

गंगासती पानबाई आश्रम बाटोद शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह स्थल धार्मिक है। यह जगह समधियाला गांव में स्थित है। यहां पर कालूभार नदी के किनारे गंगासती पानबाई आश्रम देखने के लिए मिलता है। आश्रम में आपको गंगासती पानबाई की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। यह जगह बहुत ही शांत है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। 

यहां पर आपको गंगासती पानबाई की समाधि देखने के लिए मिलती है और उनकी प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको शंकर भगवान जी, राम जी, सीता जी और लक्ष्मण जी की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर कालूभार नदी पर एक छोटा सा चेक डैम भी बना हुआ है, जो बहुत सुंदर लगता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


स्वामीनारायण मंदिर बोटाद - Swaminarayan Mandir Botad

स्वामीनारायण मंदिर बोटाद जिले का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बोटाद जिले में गढडा में स्थित है। यह मंदिर घेलो नदी के किनारे बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर है और पूरा मंदिर सफेद संगमरमर से बना हुआ है। मंदिर में आपको सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर स्वामीनारायण संप्रदाय के द्वारा बनवाया गया है। मंदिर में आपको खूबसूरत प्रवेश द्वार देखने के लिए मिलता है। मंदिर में प्रवेश करेंगे, तो आपको बगीचा देखने के लिए मिलेगा और उसके बाद संगमरमर से बना हुआ मंदिर देखने के लिए मिलेगा। 

यह मंदिर स्वामीनारायण भगवान जी, गुणातीतानंद स्वामी जी, गोपालानंद स्वामी, राधा कृष्ण जी, हरिकृष्ण स्वामी जी को समर्पित है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और यहां पर सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। यहां पर आपको रहने के लिए धर्मशाला मिल जाती है और भोजन के लिए, भोजशाला उपलब्ध हो जाती है। यहां पर एक गिफ्ट शॉप है। यहां पर पार्किंग के लिए अच्छी जगह है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


घेलो नदी बोटाद - Dhela River Botad

घेलो नदी बोटाद जिले में बहती है। घेलो नदी बोटाद जिले की गढ़ड़ा तहसील में बहती है। यहां पर एक छोटा से चेक डैम बना हुआ है, जिस का दृश्य बहुत ही सुंदर रहता है। बरसात के समय यह बांध ओवरफ्लो होकर बहता है, जिससे उसका पानी झरने के समान लगता है और बहुत ही आकर्षक दिखता है। यहां पर बहुत सारे लोग इस टाइम आते हैं और इस नदी में नहाने का भी मजा लेते हैं। यहां पर नदी के पास में हनुमान जी का मंदिर बना हुआ है, जो बहुत सुंदर लगता है। यहां पर रामाघाट व्यू प्वाइंट बना हुआ है, जहां से आप नदी का सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। 


पुराना स्वामीनारायण मंदिर बोटाद - Old Swaminarayan Mandir Botad

पुराना स्वामीनारायण मंदिर बोटाद जिले का एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बोटाद जिले में गढ़ड़ा में स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यह मंदिर श्री स्वामी नारायण जी की देखरेख में बनवाया गया था। इस मंदिर को गोपीनाथ जी मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर में आपको गोपीनाथ स्वामी, हरीकृष्ण स्वामी जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको रेवती बलदेव जी, श्री कृष्ण जी राधा जी, की सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिल जाती मिलती है। यहां पर ठहरने के लिए भी सुविधा है। यहां पर ठहरने के लिए धर्मशाला बनाई गई है। इस मंदिर में सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। 


लक्ष्मीवाड़ी बोटाद - Laxmiwadi Botad

लक्ष्मीवाड़ी बोटाद में स्थित एक मुख्य धार्मिक स्थल है। इस स्थल में स्वामीनारायण जी ने अपना अंतिम समय बिताया था।  यहां पर उनका अंतिम संस्कार किया गया था। अंतिम संस्कार करने के बाद, उनके अवशेष को संभाल कर रखा गया है और यहां पर उनकी समाधि बनाई गई है। यहां पर आपको स्वामीनारायण जी की बहुत सारी वस्तुएं देखने के लिए मिलती है और उनके अनुभूति आपको यहां पर करने के लिए मिल जाती है। लक्ष्मीवाड़ी बोटाद जिले में गढ़ड़ा तहसील में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


श्री राधावाव बोटाद - Shri Radha Vav Botad

श्री राधा वाव बोटाद में स्थित एक मुख्य धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर कुआं देखने के लिए मिलता है। यह कुआं पूरा पत्थर से बना हुआ है और बहुत सुंदर लगता है। यह कुआं प्राचीन है। इस कुएं का धार्मिक महत्व है। यहां पर श्री स्वामीनारायण भगवान और उनके भक्त लोगों ने स्नान किया था। यह जगह बहुत पवित्र है। यहां पर आपको हनुमान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। हनुमान जी की प्रतिमा बहुत ही सुंदर है। यह जगह बोटाद जिले में गढ़ड़ा में स्थित है। 


श्री कष्टभंजन हनुमान मंदिर बोटाद - Shri Kashtbhanjan Hanuman Mandir Botad

श्री कष्टभंजन हनुमान मंदिर बोटाद का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। यहां पर हनुमानजी, कष्टभंजन हनुमान जी के रूप में विराजमान है। यहां पर हनुमान जी आपके दुख और पीड़ा को दूर कर देते हैं। यहां पर हनुमान जी की प्रतिमा बहुत सुंदर है। यह मंदिर स्वामीनारायण संप्रदाय के द्वारा बनाया गया है और यहां पर आपको हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर बोटाद में सारंगपुर में स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर बना हुआ है। मंदिर में आपको सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। 

मंदिर की दीवारों और छतों में नक्काशी की गई है। यहां पर आपको ठहरने के लिए भी सुविधा मिल जाती है। यहां पर धर्मशाला बनाई गई है, जहां पर आप लोग ठहर सकते हैं और यहां पर भोजशाला भी है। यहां पर गौशाला देखने के लिए मिलती है, जहां पर अच्छी किसम की गायों को रखा गया है।  मंदिर के बाहर आप को बहुत बड़ा गार्डन देखने के लिए मिलता है। इस गार्डन में आपको बहुत सारे देवी देवताओं की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर मंदिर के सामने आपको फव्वारा भी देखने के लिए मिलता है। 


नारायण कुंड बोटाद - Narayan Kund Botad

नारायण कुंड बोटाद जिले में स्थित एक मुख्य स्थल है। यह स्थल बोटाद में सारंगपुर में उतावली नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर आपको एक कुंड देखने के लिए मिलता है। यह कुंड बहुत सुंदर है। कुंड के चारों तरफ नक्काशी देखने के लिए मिलती है, जो बहुत सुंदर लगती है। इसके अलावा यहां पर और भी सुंदर सुंदर स्मारक देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर गार्डन भी बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 



बनासकांठा के पर्यटन स्थल
छोटा उदेपुर के पर्यटन स्थल
दाहोद के पर्यटन स्थल
नाडियाड के पर्यटन स्थल
मेहसाणा के पर्यटन स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।