सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

जौनपुर जिले के पर्यटन स्थल - Jaunpur tourist places

जौनपुर जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Jaunpur district / जौनपुर जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


जौनपुर उत्तर प्रदेश का एक मुख्य जिला है। जौनपुर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 230 किलोमीटर दूर है। जौनपुर में गोमती नदी बहती है। गोमती नदी जौनपुर की मुख्य नदी है। गोमती नदी के किनारे ऋषि जमदग्नि का आश्रम हुआ करता था। जौनपुर में बहुत सारे राजाओं का शासन हुआ है।  यहां पर शर्की शासकों द्वारा बनाई गई बहुत सारी महल मस्जिदें प्रसिद्ध है। जौनपुर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - जौनपुर में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


जौनपुर में घूमने वाली जगह - Jaunpur me ghumne ki jagah


जौनपुर का किला - Jaunpur Fort

जौनपुर का किला जौनपुर शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है।  यह एक प्राचीन किला है। यह किला जौनपुर जिले में गोमती नदी के उत्तरी किनारे में स्थित है। इस किले का निर्माण या पुनर्निर्माण फिरोजशाह तुगलक ने करवाया था। इस किले को किरारकोट किला के नाम से भी जाना जाता है। यह किला स्थापत्य की दृष्टि से चतुर्भुजी है। यह किला चारों तरफ से दीवारों से घिरा हुआ है। किले का मुख्य प्रवेश द्वार बहुत ही सुंदर लगता है। 

जौनपुर किले के अंदर आपको एक मस्जिद देखने के लिए मिलती है, जिसका निर्माण हिंदू कालीन पाषाण स्तंभों के द्वारा करवाया गया है। मुख्य द्वार पर अभिलेख युक्त पाषाण स्तंभ है, जिसकी तिथि 1776 ही बताई जाती है। यह किला बहुत ही अच्छी तरह से मैनेज करके रखा गया है। यहां पर किले के चारों तरफ बगीचा बनाया गया है, जहां पर आप घूम सकते हैं और इस किले से गोमती नदी का भी सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। जौनपुर के किले में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर भारतीय व्यक्ति का 25 रुपए का शुल्क लिया जाता है। आप जौनपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको इस किले मे भी घूमने के लिए आना चाहिए। 


बाबा श्री केरार वीर मंदिर जौनपुर - Baba Shree Kerar Veer Mandir Jaunpur

बाबा श्री केरार वीर मंदिर जौनपुर जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर गोमती नदी के किनारे जौनपुर किले के पास में बना हुआ है। यह मंदिर प्राचीन है और आप यहां पर आकर किरार बाबा के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर बहुत ही सुंदर हैं। 


जामा मस्जिद जौनपुर - Jama Masjid Jaunpur

जामा मस्जिद जौनपुर जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह मस्जिद धार्मिक स्थल है। यह मस्जिद प्राचीन है। यह मस्जिद जौनपुर शहर से करीब 2 किलोमीटर दूर उत्तर पूर्व की तरफ में स्थित है। इस मस्जिद को बड़ी मस्जिद, जुमा मस्जिद, जामा मस्जिद के नाम से जाना जाता है। इस मस्जिद का निर्माण 15 वी शताब्दी में हुसैन शाह शर्की ने करवाया था। इस मस्जिद की वास्तुकला जौनपुर की अटाला मस्जिद और दिल्ली के मुगल स्मारकों से काफी मिलती जुलती है। इस मस्जिद के बीच में एक बड़ा सा कुंड बना हुआ है, जिसमें पानी भरा रहता है। यहां पर हर शुक्रवार को नमाज अदा की जाती है। यह मस्जिद एक ऊंचे चबूतरे के ऊपर बनी हुई है। यहां पर आपको एक बड़ा सा गुंबद देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर लगता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


अटाला मस्जिद जौनपुर - Atala Masjid Jaunpur

अटाला मस्जिद जौनपुर में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक प्राचीन मस्जिद है। यह मस्जिद जौनपुर में सबसे बड़ी मस्जिद है। अटाला मस्जिद मुख्य जौनपुर शहर में स्थित है। यह शाही किले से कुछ दूरी पर ही बनी हुई है। इस मस्जिद की नींव 1376  ईसवी में फिरोजशाह तुगलक ने डाली थी। परंतु इसका निर्माण 1408 ईस्वी में इब्राहिम शाह शर्की ने करवाया था। इस मस्जिद शर्की निर्माण कला का प्रभाव देखने के लिए मिलता है। इस मस्जिद का केंद्रीय द्वार अत्यधिक सुंदर है। यह मस्जिद बहुत सुंदर है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


लाल दरवाजा मस्जिद जौनपुर - Lal Darwaza Masjid Jaunpur

लाल दरवाजा मस्जिद जौनपुर का एक ऐतिहासिक धार्मिक स्थल है। यह मुस्लिम धार्मिक स्थल है। यह मस्जिद प्राचीन है। यह मस्जिद 1447 ईस्वी में राजी बीवी के द्वारा बनवाई गई थी। राजी बीवी मोहम्मद शर्की की पत्नी थी। मोहम्मद शर्की जौनपुर के सुल्तान थे। यह मस्जिद सैयद अली दाउत कुतुबुद्दीन को समर्पित है। यह मस्जिद बहुत ही सुंदर है। मस्जिद में गार्डन, मदरसा, प्रार्थना हॉल बना हुआ है। इस मस्जिद में आम लोगों का प्रवेश वर्जित है। यह मस्जिद बहुत सुंदर है। 


झंझरी मस्जिद जौनपुर - Jhanjhari Masjid Jaunpur

झंझरी मस्जिद जौनपुर शहर की सबसे सुंदर मस्जिद है। यह मस्जिद जौनपुर का एक पर्यटन स्थल है। इस मस्जिद का निर्माण इब्राहिम शाह शरकी ने करवाया था। इस मस्जिद का निर्माण इब्राहिम शाह शरकी ने हजरत सैयद जहां अजमानी के जौनपुर आगमन पर उनके सम्मान पर करवाया था। यह मस्जिद बहुत सुंदर है। आप जौनपुर आते हैं, तो इस मस्जिद को देख सकते हैं। यह मस्जिद पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के द्वारा संरक्षित है। 


शाही ब्रिज जौनपुर - Shahi Bridge Jaunpur

शाही ब्रिज जौनपुर में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। यह ब्रिज गोमती नदी पर बना हुआ है। इस ब्रिज को मुगल ब्रिज, अखबारी ब्रिज या मुनीम खान ब्रिज के नाम से जाना जाता है। इस ब्रिज का निर्माण मुनीम खान ने मुगल सम्राट अकबर के समय करवाया था। इस ब्रिज का डिजाइन बहुत सुंदर है। इस ब्रिज में सुंदर छतरियां बनी हुई है, जो बहुत ही आकर्षक लगती हैं। 


मां शीतला माता मंदिर जौनपुर - Maa Sheetla Mata Mandir Jaunpur

मां शीतला माता मंदिर जौनपुर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर जौनपुर में चौकिया में स्थित है। यह मंदिर बहुत बड़ा और सुंदर है। इस मंदिर को चौकिया धाम के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर में आपको एक बड़ा सा तालाब देखने के लिए मिलता है, जिसके चारों तरफ सीढ़ियां बनी हुई है। यहां पर बहुत सारे लोग बोटिंग भी करते हैं। यहां पर मां शीतला माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर मां के दर्शन करने से बहुत अच्छा लगता है। यहां पर और भी बहुत सारे मंदिर है। यहां पर सत्यनारायण भगवान जी, शंकर जी और भी मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। 

नवरात्रि में यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे भक्त माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। कहा जाता है कि शीतला माता के दर्शन करने के बाद, विंध्यवासिनी माता के दर्शन करने से लोगों की इच्छाएं पूरी होती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। 


श्री गौरी शंकर महादेव मंदिर जौनपुर - Shri Gauri Shankar Mahadev Temple Jaunpur

श्री गौरीशंकर महादेव मंदिर जौनपुर में स्थित एक सुंदर मंदिर है। यह मंदिर गोमती नदी के किनारे बना हुआ है। यहां पर आपको शंकर भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको सिद्धिदात्री नव दुर्गा मंदिर भी देखने के लिए मिलता है, जहां पर दुर्गा जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको रामदरबार भी देखने के लिए मिलता है, जहां पर श्री राम, माता जानकी, लक्ष्मण जी और हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर बड़े हनुमान जी का मंदिर भी बना हुआ है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आप गोमती नदी का सुंदर दृश्य भी देख सकते हैं। यहां आप शांति से अपना वक्त बिता सकते हैं। 


अजोशी महावीर धाम मंदिर जौनपुर - Ajoshi Mahavir Dham Temple Jaunpur 

अजोशी महावीर मंदिर जौनपुर जिले का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर जौनपुर जिले के अजोशी गांव में स्थित है। यह मंदिर बहुत ही प्राचीन है। कहा जाता है, कि हनुमान जी के दर्शन करने से और पूजा करने से मनोकामना पूरी होती है। यहां पर बहुत बड़ा मेला लगता है, जिसमें बहुत दूर-दूर से लोग घूमने के लिए आते हैं। इस मंदिर में हनुमान जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शनिवार और मंगलवार के दिन बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। यहां पर आपको गणेश जी, मां दुर्गा जी का, लक्ष्मी जी, राम लक्ष्मण सीता जी, राधे कृष्ण जी, शीतला माता जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। मंदिर के सामने ही एक तालाब भी है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। 


प्राचीन दियावा महादेव धाम जौनपुर - Pracheen diyawa mahadev dhaam Jaunpur

प्राचीन दियावा महादेव धाम जौनपुर का एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर जौनपुर के मछलीशहर तहसील में स्थित है। यहां पर शंकर जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह शंकर जी का प्राचीन मंदिर है। यहां गर्भ ग्रह में शिवलिंग विराजमान है और नंदी भगवान जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर सावन सोमवार में मेला लगता है, जिसमें तरह-तरह की दुकानें लगती हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर आपको और भी बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर मां दुर्गा जी का, गणेश जी का, लक्ष्मी जी का मंदिर बना हुआ है। 


श्री गोमतेश्वर महादेव मंदिर जौनपुर - Shri Gomateshwar Mahadev Temple Jaunpur

श्री गोमतेश्वर महादेव मंदिर जौनपुर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर जौनपुर जिले में केराकत तहसील में बना हुआ है। यह मंदिर गोमती नदी के किनारे बना हुआ है। मंदिर में शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और नंदी भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शिवलिंग का आकार बहुत बड़ा है। यहां पर सावन सोमवार और महाशिवरात्रि में बहुत सारे भक्त भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। 

गोमतेश्वर मंदिर से गोमती नदी का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर उत्सव के समय पर बहुत ज्यादा भीड़ लगती है। बहुत सारे लोग यहां पर भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं और गोमती नदी में स्नान भी करते हैं। यहां पर गोमती नदी के किनारे एक व्यूप्वाइंट भी बनाया गया है, जहां पर आप बैठकर गोमती नदी के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। यहां पर शादी विवाह का कार्य भी किया जाता है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। आप अपना बहुत अच्छा समय यहां पर बिता सकते हैं। 


बाबा कीनाराम की तपोस्थली जौनपुर - Baba Keenaram's Taposthali Jaunpur

बाबा कीनाराम की तपोस्थली जौनपुर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह स्थल गोमती नदी के किनारे स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर चारों तरफ प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए मिलता है और बाबा कीनाराम की तपोस्थली देखने के लिए मिलती है। यह जौनपुर में डोभी के पास में स्थित है। आप यहां पर आ कर अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। 


राजा साहब की हवेली जौनपुर 
शहीद स्मारक धनियामऊ जौनपुर 


कन्नौज में घूमने की जगह
शामली में घूमने की जगह
चंदौली में घूमने की जगह
मिर्जापुर में घूमने की जगह
मुजफ्फरनगर में घूमने वाली जगह
मेरठ में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।