सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कन्नौज जिले के पर्यटन स्थल - Kannauj Tourist Places

कन्नौज जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Kannauj district / कन्नौज जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


कन्नौज उत्तर प्रदेश का एक मुख्य जिला है। कन्नौज उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 123 किलोमीटर दूर है। कन्नौज जिले को इत्र और इसके इतिहास के लिए जाना जाता है। कन्नौज जिले में काली नदी बहती है। कन्नौज को 1997 में पूर्वी फरुखाबाद को अलग करके बनाया गया था। यह 1 नए जिले के रूप में स्थापित हुआ। कन्नौज का इतिहास बहुत पुराना है। कन्नौज में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं - कन्नौज शहर में कौन-कौन सी जगह घूमने लायक है। 


कन्नौज में घूमने वाली जगह - Kannauj mein ghumne ki jagah


प्राचीन किला कन्नौज - Ancient Fort Kannauj

प्राचीन किला कन्नौज शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको प्राचीन किले के अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको एक बड़ा सा टीला देखने के लिए मिलता है।  इस किले को राजा जयचंद्र किले के नाम से भी जाना जाता है। राजा जयचंद्र 10वीं शताब्दी के एक महान राजा थे।यहां पर राजा जयचंद्र की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर ही आपको जयचंद्र किले के अवशेष देखने के लिए मिल जाते हैं। यह जगह पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के द्वारा संरक्षित की गई है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। इस किले से चारों तरफ का सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिलता है। 


बालापीर मुगल किला कन्नौज - Balapir Mughal Fort Kannauj

बालापीर मुगल किला कन्नौज शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको एक ऊंचे मंडप पर दो गुंबददार स्मारक देखने के लिए मिलती है। यह स्मारक बहुत ही सुंदर है। यह स्मारक लाल बलुआ पत्थर से बनी हुई है। इस स्मारक को बालापीर के बेटे कासिम सुलेमान ने बनवाया था। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको कब्र भी देखने के लिए मिलती है। इसे बाला पीर साहेब की कब्र के नाम से भी जाना जाता है। 


गौरी शंकर मंदिर कन्नौज - Gauri Shankar Temple Kannauj

गौरी शंकर मंदिर कन्नौज शहर का एक सुंदर मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर के मुख्य प्रवेश द्वार के बाहर ही शिव भगवान जी की बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के अंदर शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है और सुव्यवस्थित तरीके से बनाया गया है। मंदिर को महाशिवरात्रि और सावन सोमवार के समय सजाया जाता है, जिससे यह मंदिर और भी आकर्षक लगता है। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। यह कन्नौज में घूमने लायक जगह है। 


मखदूम जहानिया कन्नौज - Makhdoom Jahania Kannauj

मखदूम जहानिया कन्नौज शहर में स्थित एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक प्राचीन मस्जिद है। यह मस्जिद सूफी संत मखदूम जहानिया को समर्पित है। इस मस्जिद में आपको खूबसूरत स्मारक देखने के लिए मिलती है। यहां पर बहुत बड़ा गुंबद बना हुआ है, जो बहुत आकर्षक लगता है। यहां पर हर शुक्रवार को नमाज अदा की जाती है। यह मुस्लिम लोगों का धार्मिक स्थल है। आप यहां पर आकर इस जगह को देख सकते हैं। 


सिद्धपीठ मां फूलमती देवी मंदिर कन्नौज - Siddhpeeth Maa Phulmati Devi Temple Kannauj

सिद्धपीठ मां फूलमती देवी मंदिर कन्नौज शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर मां फूलमती देवी को समर्पित है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर में मां फूलमती की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यह मंदिर एक सिद्ध पीठ है। यहां पर आपको और भी बहुत सारे देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर राधा कृष्ण जी, शंकर भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर बहुत सारे बंदर भी हैं। 

कहा जाता है, कि माता अपने भक्तों की हर मनोकामना को पूरा करती है। यह मंदिर कन्नौज शहर का सबसे पुराना मंदिर है। यह मंदिर मुख्य कन्नौज शहर में स्थित है और कन्नौज रेलवे स्टेशन से करीब 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह कन्नौज की सबसे अच्छी जगह है। 


सिद्धनाथ मंदिर कन्नौज - Siddhanth Temple Kannauj

सिद्धनाथ मंदिर कन्नौज शहर का धार्मिक स्थल है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग विराजमान है और नंदी भगवान जी की प्रतिमा के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर कन्नौज शहर में कुतलूपुर में स्थित है। यह मंदिर कन्नौज रेलवे स्टेशन के बहुत करीब है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको हनुमान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर का शिखर बहुत ही सुंदर है। यह मंदिर करीब 100 वर्ष पुराना है। 


अन्नपूर्णा मंदिर कन्नौज - Annapurna Temple Kannauj

अन्नपूर्णा मंदिर कन्नौज शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर कन्नौज शहर में तिर्वा तहसील में स्थित है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर में आपको बहुत सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर की दीवारों में बहुत ही सुंदर नक्काशी की गई है। यहां पर हाथियों की बहुत सुंदर प्रतिमाएं बनी हुई है। अन्नपूर्णा मंदिर अनाज की देवी अन्नपूर्णा माता को समर्पित है। इस मंदिर के गर्भ गृह में माता अन्नपूर्णा की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर जुलाई महीने में एक बहुत बड़ा मेला लगता है, जिसमें बहुत दूर-दूर से लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। 

अन्नपूर्णा मंदिर के पास मे आपको पंचवटी मंदिर देखने के लिए मिलता है। पंचवटी मंदिर तालाब के बीच में बना हुआ है और यहां पर पांच मंदिर बने हुए हैं। यह मंदिर भी प्राचीन है और यह मंदिर बहुत सुंदर लगते हैं। यह पांचों मंदिर सफेद कलर के हैं और इन मंदिरों का शिखर बहुत ही सुंदर है। आप यहां पर आकर इस मंदिर को देख सकते हैं। 


काली नदी और गंगा नदी संगम स्थल - Kali River and Ganges River Confluence Site

काली नदी और गंगा नदी का संगम स्थल कन्नौज शहर का एक मुख्य स्थल है। यह संगम स्थल बहुत ही सुंदर है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर घाट भी बना हुआ है। इस घाट को मेहंदी घाट के नाम से जानते हैं। यहां पर घाट में आप नहा सकते हैं। यहां पर मंदिर भी बने हुए हैं, जहां पर आप भगवान के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। बहुत शांति मिलती है। यह कन्नौज की सबसे अच्छी जगह है। 


श्री दौलेश्वर धाम कन्नौज - Shree Dauleshwar Dham Kannauj

श्री दौलेश्वर धाम मंदिर कन्नौज का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर कन्नौज शहर में तिर्वा तहसील में स्थित है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यहां पर गर्भ गृह में शिव भगवान जी की चांदी के शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह शिवलिंग बहुत ही सुंदर लगता है। मंदिर के चारों तरफ का वातावरण बहुत अच्छा है। यहां पर आकर शांति का अनुभव होता है। यहां पर परिसर में बरगद का पेड़ लगा हुआ है। यहां पर सावन सोमवार और महाशिवरात्रि के समय बहुत सारे भक्त भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यह कन्नौज की सबसे अच्छी जगह है। 


लाख बहोसी पक्षी विहार कन्नौज - Lakh Bahosi Bird Sanctuary Kannauj

लाख बहोशी पक्षी विहार कन्नौज शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको बहुत सारे देशी और विदेशी पक्षियों की प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। यह जगह कन्नौज शहर से 40 किलोमीटर की दूरी पर लाख और बहोसी गांव के पास में है। इस जगह में बहुत बड़ी झील बनी हुई है और यह झील छिछली है। यहां पर ठंड के समय बहुत सारे विदेशी पक्षियों की प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर घूमने के लिए आते हैं, तो दूरबीन साथ लेकर आएं। ताकि आप इन विदेशी पक्षियों को देख सकें। 

यहां देसी पक्षियों की भी बहुत सारी प्रजातियां देखने के लिए मिलती है।यहां पर देसी पक्षियों मे आपको सुर्खाब बदक, शिव हंस, सवन, छोटी मुर्गाबी, टेकरी, लालसर, तिदारी बदक, सिलेटी सवन, गुलगुला जैसे पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं। पक्षी विहार पर प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर पार्किंग का भी चार्ज होता है। यहां पर झील के बीच में बैठने के लिए छायादार स्थान बनाया गया है, जहां पर आप बैठ कर झील के चारों तरफ पक्षियों को देख सके। यहां पर आप पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। यह कन्नौज का पिकनिक स्पॉट है। आपको यहां पर आकर मजा आएगा। 


राजकीय पुरातत्व संग्रहालय कन्नौज - Government Archaeological Museum Kannauj

राजकीय पुरातत्व संग्रहालय कन्नौज का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको हर विषय के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी मिलती है। यहां पर मूर्तियों का बहुत अच्छा कलेक्शन देखने के लिए मिलता है। यहां पर राजा महाराजाओं की प्रतिमा है, जैसे वह पुराने समय में अपनी राज्यसभा में बैठते थे। उस तरह का पूरा रेखांकन किया गया है। यहां पर आपको और भी बहुत सारे प्राचीन समय के व्यक्तियों के बारे में पता चलता है। यह संग्रहालय कन्नौज में मुख्य सड़क पर स्थित है। आपको यहां आने में किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होगी। आप यहां पर आ कर गाड़ी पार्क में खड़ी कर सकते हैं और इस संग्रहालय में घूमने के लिए जा सकते हैं। संग्रहालय में प्रवेश के लिए शुल्क लगता है। संग्रहालय 10:30 बजे से 4 बजे तक खुला रहता है। यह कन्नौज में घूमने लायक जगह है। 


शामली के पर्यटन स्थल

चंदौली के पर्यटन स्थल

मिर्जापुर पर्यटन स्थल

मुजफ्फरनगर पर्यटन स्थल

मेरठ पर्यटन स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।