सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

महोबा जिले के पर्यटन स्थल - Mahoba Tourist Place

महोबा जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Mahoba / महोबा जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह



महोबा उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख जिला है। महोबा उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा पर स्थित है। यह जिला ऐतिहासिक शहरों के बहुत करीब है। इस जिले से छतरपुर, खजुराहो, ओरछा, झांसी यह सभी शहर बहुत करीब हैं। महोबा उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से करीब 230 किलोमीटर दूर है। महोबा एक प्राचीन शहर है। इस शहर में प्राचीन समय में चंदेल राजाओं ने राज किया है। यहां पर उनके द्वारा बहुत सारे मंदिर और तालाब बनाए गए हैं, जो आप यहां पर आकर देख सकते हैं। महोबा जिला आल्हा और उदल के लिए भी प्रसिद्ध है। आल्हा और उदल नाम के दो प्रसिद्ध योद्धा थे और वह मां शारदा माता के भक्त भी थे। महोबा में घूमने के लिए बहुत सारी जगह हैं, जिनके बारे में मैंने इस पोस्ट में जानकारी दिया है। तो चलिए जानते हैं - महोबा जिले में कौन-कौन सी जगह में घूमने के लिए जाया जा सकता है।


महोबा में घूमने की जगह - Mahoba me ghumne ki jagah


बड़ी चंद्रिका देवी मंदिर महोबा - Badi Chandrika Devi Temple Mahoba

चंद्रिका देवी मंदिर महोबा जिले का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर चंद्रिका देवी या चंडी माता को समर्पित है। मंदिर में चंडी माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर में और भी बहुत सारे देवी देवता की प्रतिमा विराजमान है। यहां पर नौ देवियों की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। शिव जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। संतोषी माता, काली माता और गणेश जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर पंचमुखी हनुमान जी की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ लगती है। लोग यहां पर माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। नवरात्रि में यहां पर मेला लगता है, जिसमें आसपास के बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। 

चंद्रिका देवी मंदिर बहुत प्राचीन है। यह मंदिर करीब 1000 साल पुराना है। देवी चंद्रिका आल्हा और उदल दो प्रसिद्ध नायकों की कुलदेवी थी। आल्हा और उदल के बारे में कहा जाता है, कि माता उनकी आराध्य देवी थी और वह माता के प्रतिदिन दर्शन करने के लिए आया करते थे। गर्भ ग्रह में माता की बहुत सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जिसमें माता राक्षसों का संहार कर रही है। आप यहां आकर माता रानी के दर्शन कर सकते हैं। यह मंदिर महोबा में मदन सागर तालाब के पास में स्थित है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


छोटी चंद्रिका माता मंदिर महोबा - Choti Chandrika Mata Mandir Mahoba

छोटी चंद्रिका माता मंदिर मदन सागर तालाब के पास ही में स्थित एक सुंदर मंदिर है। यह महोबा शहर का प्रमुख धार्मिक स्थल है। आप जब भी बड़ी चंद्रिका माता मंदिर घूमने के लिए आते हैं, तो छोटी चंद्रिका माता मंदिर भी आ सकते हैं। यहां पर माता की बहुत सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर शिव मंदिर भी है, जहां पर आप शिवलिंग के दर्शन कर सकते हैं। मंदिर के पीछे पहाड़ी है। यहां पर आकर आपको अच्छा लगेगा। 


खखरामठ महोबा - Khakharmath Mahoba

खखरामठ महोबा का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक प्राचीन स्मारक है। यह स्मारक मदन सागर के बीच में बनी हुई है। यह स्मारक अब पूरी तरह खंडहर में बदल गई है। मगर आप यहां पर आकर इस इमारत की खूबसूरती को देख सकते हैं। यह स्मारक मदन सागर के बीच में बनी है, जिससे यह बहुत ही सुंदर लगती है। इस स्मारक का ज्यादातर भाग खंडहर अवस्था में बदल गया है। इसकी दीवारों पर बहुत ही सुंदर नक्काशी बनी हुई है। इस स्मारक तक जाने के लिए पुल बना हुआ है। मदन सागर का दृश्य शानदार रहता है। 

खखरामठ का निर्माण चंदेल राजा मदन वर्मा ने 1129 से 1169  ईसवी के बीच करवाया था। यह एक मंदिर है और इस मंदिर को बड़े-बड़े पत्थर की शिला से बनाया गया है और यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है। यह मंदिर भी खजुराहो शैली में बना हुआ है। इस मंदिर में गर्भ गृह, अंतराल, मंडप, अर्धमंडप देखने के लिए मिलता है। इसके गर्भ गृह में विष्णु, लक्ष्मी, गणेश तथा सूर्य की मूर्तियां अलंकृत है। आप जब भी आप महोबा आते हैं, तो इस इमारत में घूमने के लिए जा सकते हैं। 


जैन रॉक कट गुफाएं - Jain Rock Cut Caves

जैन रॉक कट गुफाएं महोबा का एक प्राचीन स्थल है। यहां पर प्राचीन गुफाएं देखने के लिए मिलती हैं। यह गुफाएं जैन धर्म से संबंधित है। यहां पर जैन तीर्थकारों की मूर्तियां भी देखने के लिए मिलती है। यह मूर्तियां बड़ी-बड़ी चट्टानों में, चट्टानों को उकेरकर बनाई गई हैं, जो बहुत ही सुंदर लगती हैं। यह गुफाएं महोबा जिले में बड़ी चंद्रिका मंदिर के पास ही में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 

जैन रॉक कट गुफाएं चंद्रिका देवी मंदिर के पश्चिम में पहाड़ी पर स्थित है। इन जैन स्मारकों का निर्माण 1149 ईस्वी में करवाया गया था। यहां पर खूबसूरत स्तंभ एवं द्वारपालो तथा अप्सराओं की मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं। यह एक विशाल जैन मंदिर था। यहां पर एक बड़े से पत्थर में महावीर जी की प्रतिमा बनाई गई है। इस प्रतिमा में महावीर जी आसन मुद्रा में विराजमान है। इसके दोनों ओर तीर्थकार स्थानक मुद्रा में प्रदर्शित है। इसी प्रस्तर पटल पर 24 जैन तीर्थकार प्रतिमाओं को बनाया गया है। आप यहां पर आकर इस जगह की खूबसूरती को देख सकते हैं और अपना समय शांति से बिता सकते हैं। 


शिव तांडव मंदिर महोबा - Shiv Tandav Temple Mahoba

शिव तांडव मंदिर महोबा शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर महोबा शहर में कलेक्टर ऑफिस के पास में स्थित है। यह मंदिर गोखर पर्वत पर बना हुआ है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर में शिव भगवान जी की बहुत ही अद्भुत प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर में शिव भगवान जी तांडव करते हुई, प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा बहुत ही सुंदर लगती है। 

शिव तांडव मंदिर पर आकर शिव भगवान जी के दर्शन किए जा सकते हैं और शिवलिंग के दर्शन किए जा सकते हैं। यहां पर गोखर पर्वत का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह पर्वत कुछ अलग प्रकार का लगता है। बरसात में यह जगह बहुत खूबसूरत लगती है। यहां पर बहुत सारे लोग शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर काली जी का मंदिर भी बना हुआ है, जिनके दर्शन किए जा सकते हैं। 


विंध्यवासिनी मंदिर महोबा - Vindhyavasini Temple Mahoba

विंध्यवासिनी मंदिर महोबा शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर मुख्य महोबा जिले में ही स्थित है। मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर के गर्भ गृह में विंध्यवासिनी देवी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। 


कीरत सागर महोबा - Kirat Sagar Mahoba

कीरत सागर महोबा शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक बहुत बड़ी झील है। यह झील मुख्य महोबा शहर में स्थित है। यह झील बहुत सुंदर है। कीरत सागर झील के किनारे प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर शिव मंदिर बना हुआ है। कीरत झील का निर्माण चंदेल वंश के राजा कीर्ति वर्मन के द्वारा किया गया था। इस झील का निर्माण 1060 से 1100 ईसवी के मध्य करवाया गया है। यह झील करीब 2 किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई है। इस झील के किनारे सीढ़ियां और घाट बनाए गए हैं। इस झील के पास में ही पृथ्वीराज चौहान और परमार राजा का युद्ध हुआ था। यहां पर कजरी मेला लगता है, जिसमें बहुत सारे लोग आते हैं और यह मेला बहुत प्रसिद्ध है। 

कीरत झील के पास गार्डन बना हुआ है, जहां पर चेयर लगी हुई है। जहां पर आप बैठकर झील का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर आई लव महोबा का सेल्फी प्वाइंट पर बना हुआ है, जहां पर आप सेल्फी खिंचा सकते हैं। यहां पर आप अच्छा समय बिता सकते हैं। 


रहेलिया सूर्य मंदिर महोबा - Raheliya Sun Temple Mahoba

रहेलिया सूर्य मंदिर महोबा शहर का एक प्राचीन स्थल है। यह एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर सूर्य भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर तरीके से बना हुआ है। मंदिर की दीवारों में नक्काशी देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही सुंदर है। यह मंदिर महोबा जिले के रहेलिया क्षेत्र में बना हुआ है। आप यहां पर आकर इस मंदिर को देख सकते हैं। यह मंदिर महोबा में राहिल तालाब के किनारे बना हुआ है। यह मंदिर महोबा से करीब 3 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर बाइक और कार से घूमने के लिए आ सकते हैं। 

रहीलिया मंदिर का निर्माण चंदेल वंश के राजा नरेश राहिल देव बर्मन ने करवाया था। इस मंदिर का निर्माण 890 से 915 ईसवी में करवाया गया था। यह मंदिर ग्रेनाइट पत्थरों से बना हुआ है। इस मंदिर के गर्भ ग्रह में सूर्य भगवान की प्रतिमा विद्यमान है। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है। गर्भ ग्रह के ऊपर नागर शैली का रेखा शिखर निर्मित था। कहा जाता है कि 12 वीं शताब्दी में इस मंदिर को कुतुबुद्दीन ऐबक ने बहुत क्षति पहुंचाई थी। वैसे अभी भी यह मंदिर बहुत सुंदर लगता है। मंदिर का बहुत सारा हिस्सा टूट गया है। मंदिर में बहुत सारी प्राचीन मूर्तियों के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के पास में ही सूर्य कुंड देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर लगता है। इस कुंड के चारों तरफ सीढ़ियां बनी हुई है। यह भी प्राचीन कुंड है। आप यहां पर आकर, इस जगह को देख सकते हैं। 


विजय सागर महोबा - Vijay Sagar Mahoba

विजय सागर महोबा शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक बहुत बड़ा जलाशय देखने के लिए मिलता है। यहां पर गार्डन भी बना हुआ है। यह गार्डन भी बहुत अच्छी तरह से मेंटेन किया गया है। गार्डन में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। यहां पर आप आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह गार्डन हरियाली से भरा हुआ है। शाम के समय यहां पर सूर्यास्त का दृश्य देखना बहुत ही अच्छा लगता है। 

गार्डन में बहुत सारे झूले भी हैं, जिनका बच्चे लोग लुफ्त उठा सकते हैं। विजय सागर के पास में ही किला देखने के लिए मिलता है। यह किला बीजापुर किले के नाम से जाना जाता है। यह किला अब यहां पर खंडहर अवस्था में मौजूद है। आप यहां पर आकर अपना अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। 

मदारन देवी मंदिर महोबा - Madaran Devi Temple Mahoba

मदारन देवी मंदिर महोबा शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर में मदारन देवी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मदारन देवी की प्रतिमा एक ऊंचे चबूतरे पर बनी हुई है। यहां पर बहुत सारे भक्त माता रानी के दर्शन करने के लिए आते हैं। मंदिर से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर नाग पंचमी के समय बहुत विशाल मेला लगता है, जिसमें दूर दूर से लोग शामिल होने के लिए आते हैं। 

मदारन देवी मंदिर महोबा जिले में चरखारी में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए जा सकते हैं। आप यहां पर कार या बाइक से जा सकते हैं और मंदिर की चढ़ाई आप पैदल चल सकते हैं। 


तोला तालाब महोबा - Tola Talab Mahoba

तोला तालाब महोबा शहर का एक पर्यटन स्थल है। तोला तालाब को तोला तालाब वन पार्क के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर एक सुंदर बगीचा भी बना हुआ है। यह जगह जंगल के बीच में स्थित है और यहां पर आ कर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर एक तालाब बना हुआ है, जिसके चारों तरफ पेड़ पौधे लगे हुए हैं। यहां पर बच्चों के खेलने के लिए चिल्ड्रन पार्क भी बना हुआ है, जहां पर बहुत सारे झूले लगे हुए हैं, जिसमे बच्चे लोग काफी इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर आकर बहुत शांति मिलती है, क्योंकि यहां पर हरियाली है। यहां पर एक शिव मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। 

तोला तालाब महोबा जिले में चरखारी ब्लॉक में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। 


गुमान बिहारी मंदिर महोबा - Guman Bihari Temple Mahoba

गुमान बिहारी मंदिर महोबा शहर का धार्मिक स्थल है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत ही प्राचीन है। इस मंदिर के गर्भ गृह में श्री कृष्ण जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह प्रतिमा बहुत सुंदर लगती है। यह मंदिर महोबा में चरखारी ब्लॉक में स्थित है। इस मंदिर में बहुत सारे देवी देवता विराजमान है। इस मंदिर में शिव भगवान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है।  मंदिर में शिवलिंग विराजमान है। 

गुमान बिहारी मंदिर के पास में छोटा सा गार्डन बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है और यहां पर अच्छा समय बिताया जा सकता है। इसके अलावा मंदिर के पास में ही एक झील बनी हुई है। जिसका नजारा बहुत ही सुंदर रहता है। आप यहां पर आकर भगवान के दर्शन कर सकते हैं और शांति के साथ अपना समय व्यतीत कर सकते हैं। 


अर्जुन बांध महोबा - Arjun Dam Mahoba

अर्जुन बांध महोबा शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह बांध महोबा शहर में चरखारी ब्लॉक में स्थित है। इस बांध का निर्माण 1952 से 1955 के बीच में हुआ है। यह बांध बरसात के समय घूमने के लिए आया जा सकता है,  क्योंकि बरसात के समय यह बांध बहुत सुंदर लगता है। यहां पर बांध के, जो की गेट है। उनमें बरसात के समय पानी छोड़ा जाता है, जिससे पानी चट्टानों के बीच से बहता है और यहां का दृश्य बहुत ही सुंदर लगता है। बांध के पास में ही गोरखनाथ मंदिर है। वहां से भी बांध का दृश्य देखा जा सकता है, जो बहुत सुंदर लगता है और साथ में आप यहां पर मंदिर भी घूम सकते हैं। अर्जुन बांध में शाम के समय आकर घूमना बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि शाम के समय सूर्यास्त का नजारा देखने के लिए मिलता है। 


कुलपहाड़ का किला महोबा - Kulpahar Fort Mahoba

कुलपहाड़ का किला महोबा शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह महोबा जिले की कुलपहाड़ तहसील में स्थित है। यह किला अब यहां पर खंडहर अवस्था में देखने के लिए मिलता है।  इस किले मे एक बावड़ी देखने के लिए मिलती है। यह किला ऊंचाई पर बना हुआ है। किले तक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। किले से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस किले का अधिकतर भाग टूट कर गिर गया है। 


बड़ा तालाब महोबा - Bada talab mahoba

बड़ा तालाब महोबा शहर में कुलपहाड़ तहसील में बना हुआ है। यह तालाब बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस तालाब के किनारे बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं। आपको अगर यहां पर आने का मौका मिलता है, तो आप इस तालाब में आकर इसका सुंदर दृश्य देख सकते हैं। तालाब के किनारे गार्डन के बने हुए हैं। 


बेलाताल महोबा - Belatal Mahoba

बेलाताल महोबा जिले का एक मुख्य स्थल है। यहां पर आपको एक बहुत बड़ी झील देखने के लिए मिलती है। यह झील बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हुई है। झील के किनारे बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं। यहां पर अंजनी माता का मंदिर देखने के लिए मिलता है।  झील के किनारे व्यूप्वाइंट बना हुआ है, जहां से झील का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। यहां पर आकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह झील महोबा जिले में कुलपहाड़ तहसील में स्थित है। 


महोबा जिले के पिकनिक स्पॉट की सूची - List of Picnic Spots in Mahoba District

राम कुंड मंदिर महोबा 
शिव शक्ति धाम महोबा 
शिवहर बांध महोबा 
रतन सागर तालाब चरखारी ब्लॉक महोबा
चरखारी का किला 
पंडित दीनदयाल उपाध्याय पार्क 
गोवर्धन महाराज मंदिर
उर्मिल बांध महोबा
गोखर पर्वत का सुंदर दृश्य 





टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।