सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

अलीराजपुर जिले के पर्यटन स्थल - Alirajpur Tourist Places

अलीराजपुर जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Alirajpur / अलीराजपुर जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह 


अलीराजपुर मध्यप्रदेश का एक मुख्य जिला है। अलीराजपुर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से करीब 390 किलोमीटर दूर है। अलीराजपुर मध्यप्रदेश और गुजरात की सीमा में स्थित है। अलीराजपुर 2008 में झाबुआ जिले से अलग होकर एक नए जिले के रूप में बना है। पहले यह झाबुआ जिले का ही एक भाग हुआ करता था। अलीराजपुर में पहाड़ियां बहुत ज्यादा देखने के लिए मिलती है। यह पहाड़िया नर्मदा नदी के आस पास बहुत ज्यादा है और बहुत सुंदर लगती हैं। यहां पर आदिवासी लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है। अलीराजपुर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। आप यहां पर आकर बहुत सारी जगह में घूम सकते हैं और बहुत अच्छा वक्त बिता सकते हैं। चलिए जानते हैं - अलीराजपुर में घूमने के लिए कौन-कौन सी जगह है


अलीराजपुर में घूमने की जगह - Alirajpur mein ghumne ki jagah


शिव मंदिर मलवाई अलीराजपुर - Shiv Mandir Malwai Alirajpur

शिव मंदिर मलवाई अलीराजपुर जिले का एक प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर में शिव भगवान जी की बहुत ही अद्भुत शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर अलीराजपुर में परमार शासकों के द्वारा बनवाया गया था। यह मंदिर 10वीं से 13वीं शताब्दी के बीच में बनवाया गया है। यह शिव मंदिर एक ऊंचे चबूतरे के ऊपर बना हुआ है। इस मंदिर का शिखर बहुत ही सुंदर है। 

यह मंदिर अलीराजपुर से करीब 4 किलोमीटर दूर मलवाई नाम के गांव में स्थित है। आप यहां पर बाइक या कार से घूमने के लिए आ सकते हैं। इस मंदिर में विराजमान शिवलिंग की आकृति अलग है। यहां पर आपको 5 लिंगी शिवलिंग देखने के लिए मिलता है, जो बहुत अद्भुत है। मंदिर के प्रवेश द्वार में भी सुंदर नक्काशी की गई है। मंदिर के प्रवेश द्वार के ऊपर गणेश जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है और प्रवेश द्वार के आजू-बाजू सुंदर मूर्तियां देखने के लिए मिलती हैं। मंदिर के अंदर और भी मूर्तियों के दर्शन किए जा सकते हैं। यहां पर शिवरात्रि के समय लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए आते हैं। आप यहां पर कभी भी घूमने के लिए जा सकते हैं। यह अलीराजपुर में घूमने लायक जगह है। 


चामुंडा माता मंदिर अलीराजपुर - Chamunda Mata Temple Alirajpur

चामुंडा माता मंदिर अलीराजपुर जिले का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर चामुंडा माता को समर्पित है। यह मंदिर अलीराजपुर में मलवाई ग्राम में स्थित है। यहां पर चामुंडा माता की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर में आप नवरात्रि के समय आएंगे, तो आपको बहुत ज्यादा भीड़ देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर में आप कार या बाइक से पहुंच सकते हैं। मंदिर तक आने के लिए अच्छी सड़क व्यवस्था है। 


श्री शिव गंगा हनुमान मंदिर अलीराजपुर - Shri Shiv Ganga Hanuman Mandir Alirajpur

श्री शिव गंगा हनुमान मंदिर अलीराजपुर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर में शिवलिंग देखने के लिए मिलता है, जिनका अभिषेक, यहां पर गोमुख से जल बहता रहता है, होता रहता है। यहां पर गोमुख बना दिया गया है, जिससे 24 घंटे शिव भगवान जी का ऊपर जल बहता रहता है। यह जगह बहुत सुंदर है। चारों तरफ घना जंगल देखने के लिए मिलता है। यहां पर हनुमान जी के दर्शन करने के लिए भी मिलते हैं। हनुमान जी की बहुत सुंदर प्रतिमा के यहां पर दर्शन किए जा सकते हैं। यह जगह अलीराजपुर से उमराली जाने वाली सड़क पर भोरण नाम के गांव में स्थित है। यह अलीराजपुर की सबसे अच्छी जगह है। 


मां मनोकामनेश्वरी माता मंदिर अलीराजपुर - Maa Manokamneswari Mata Mandir Alirajpur

मां मनोकामनेश्वरी माता मंदिर अलीराजपुर का एक धार्मिक स्थल है। यह अलीराजपुर में प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर अलीराजपुर से करीब 1 से डेढ़ किलोमीटर दूर होगा।  यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर सुंदर बगीचा बना हुआ है, जहां पर आप बैठ सकते हैं। यहां पर एक झील भी है, जिसका सुंदर दृश्य आप देख सकते हैं। यहां पर आकर बहुत शांति मिलती है। यहां पर माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 


कट्ठीवाड़ा जलप्रपात अलीराजपुर - Kathivada Falls Alirajpur

कट्ठीवाड़ा जलप्रपात अलीराजपुर का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यहां पर एक सुंदर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। कट्ठीवाड़ा अलीराजपुर की एक सुंदर जगह है। यहां पर चारों तरफ पहाड़ियां और जंगल का दृश्य देखने के लिए मिलता है। कट्ठीवाड़ा अलीराजपुर की एक तहसील है। यहां पर बरसात के समय एक सुंदर जलप्रपात पहाड़ियों से बहता है। कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में मध्य प्रदेश में सबसे ज्यादा बरसात भी होती है। यह जगह अपनी प्राकृतिक खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध है। यह अलीराजपुर का पिकनिक स्पॉट है। 

कट्ठीवाड़ा तहसील मध्यप्रदेश और गुजरात की सीमा पर अलीराजपुर में स्थित है। यहां पर चारों तरफ पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। कट्ठीवाड़ा जलप्रपात बरसात के समय बहता है। यह जलप्रपात घने जंगल के अंदर स्थित है और यहां तक पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यहां पर जलप्रपात ऊंची नीची चट्टानों से बहता है और यहां का दृश्य बहुत ही अद्भुत रहता है। इस जलप्रपात तक बाइक और कार से पहुंचा जा सकता है। मुख्य सड़क से जलप्रपात करीब 2 किलोमीटर दूर है। यहां पर आप शांति से अपना समय बिता सकते हैं। हॉलिडे के दिन यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। बहुत सारे लोग यहां पर घूमने के लिए आते हैं। 


डूंगरी माता मंदिर कट्ठीवाड़ा अलीराजपुर - Dungri Mata Temple Katthiwada Alirajpur

डूंगरी माता मंदिर अलीराजपुर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर अलीराजपुर में कट्ठीवाड़ा में स्थित है। इस मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। यह मंदिर डूंगरी माता को समर्पित है। यहां पर शंकर भगवान जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। 

डूंगरी माता मंदिर कट्ठीवाड़ा तहसील में ही स्थित है। यहां पर राम जानकी मंदिर भी बना हुआ है। राम जानकी मंदिर में हनुमान जी, श्री राम जी, माता सीता जी के दर्शन किए जा सकते हैं। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। 


बाबा ईश्वर मंदिर अलीराजपुर - Baba Ishwar Mandir Alirajpur

बाबा ईश्वर मंदिर अलीराजपुर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर जंगल के अंदर स्थित है। यह मंदिर प्राचीन है। यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। इस मंदिर में आपको एक प्राचीन शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इस शिवलिंग के ऊपर जलधारा बहती रहती है। यहां पर 24 घंटे यह जलधारा शिवलिंग के ऊपर बहती रहती है और शिवलिंग का जलाभिषेक करती रहती है। यह मंदिर अलीराजपुर में सोरवा में स्थित है। आप यहां पर आकर इस मंदिर के दर्शन कर सकते हैं। 


जलसंधि अलीराजपुर - Jalsandhi Alirajpur

जलसंधि अलीराजपुर की एक सुंदर जगह है। यह जगह नर्मदा नदी के किनारे स्थित एक पर्वतीय स्थल है। यहां पर आपको सुंदर पर्वतीय सुंदरता देखने के लिए मिलती है। यहां पर ऊंचे ऊंचे पर्वत है, जो बहुत ही सुंदर लगते हैं। साथ में, यहां पर नर्मदा नदी का किनारा भी देखा जा सकता है। यहां पर व्यूप्वाइंट है, जहां से आप इन पर्वतों का दृश्य देख सकते हैं। यहां पर वैसे उतनी ज्यादा सुविधा नहीं है। मगर आप एडवेंचर लवर हैं, तो आपको यह जगह जरूर पसंद आएगी।

 

खंबा जलप्रपात अलीराजपुर - Khamba Falls Alirajpur

खंबा जलप्रपात अलीराजपुर का एक प्राकृतिक स्थल है। खंबा अलीराजपुर में स्थित एक सुंदर गांव है। यह गांव पर्वतीय श्रृंखलाओं से घिरा हुआ है और यहां पर आपको खंबा जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको सुंदर पर्वत भी देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह नर्मदा नदी के किनारे स्थित है और यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा, क्योंकि यह जगह बहुत सुंदर है। 


प्राचीन शिव मंदिर अलीराजपुर - Ancient Shiv Temple Alirajpur

प्राचीन शिव मंदिर अलीराजपुर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह धार्मिक स्थल है। यहां मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर परमार कालीन है। इस मंदिर के गर्भ गृह में शिवलिंग विराजमान है और यह मंदिर बहुत ही सुंदर लगता है।  मंदिर की दीवारों में खूबसूरत नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर प्राचीन है। 

यह शिव मंदिर अलीराजपुर के कुलवट में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको सुंदर नजारे देखने के लिए मिलते हैं और यह मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर पुरातात्विक दृष्टि से 12 वीं शताब्दी में बनाया गया है। मंदिर के गर्भ गृह में शिव भगवान, चामुंडा देवी, गणेश एवं गौरी की प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर रोलागांव में स्थित है। यह मंदिर नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण के द्वारा पुनर्स्थापित किया गया है। आप यहां पर आकर इस मंदिर को देख सकते हैं। मंदिर में आले बने हुए हैं, जिसमें गणेश जी, काली जी, दुर्गा जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही आकर्षक लगती है। आप यहां पर आकर इस मंदिर की खूबसूरती को देख सकते हैं। 


नर्मदा और हथनी नदी का संगम स्थल - Confluence of Narmada and Hathni rivers

नर्मदा और हथनी नदी का संगम स्थल बहुत सुंदर है। संगम स्थल में बहुत सारे मंदिर बने हुए हैं और यहां पर आकर शांति से समय बिताना बहुत अच्छा लगता है। यहां पर ऊंचे ऊंचे पहाड़ है और नदियां है। यहां पर आकर शांति का अनुभव होता है। यहां पर नदी में एक ओर से दूसरे ओर जाने के लिए नावे भी चलती हैं। यहां पर प्राचीन मंदिर है, जो आप देख सकते हैं। यह जगह बहुत ही शांत है और यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। 


पंहल बांध अलीराजपुर - Panhal Dam Alirajpur

पंहल बांध अलीराजपुर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह बांध हथनी नदी पर बना हुआ है और यहां पर बहुत सारे पर्यटक घूमने के लिए आते हैं। यह पंहल गांव में बना हुआ है। यहां पर आकर लोग नहाने का मजा लेते हैं। बांध का पानी झरने के समान गिरता है, जिसका दृश्य बहुत सुंदर रहता है। यहां पर गर्मी के समय पानी नहीं रहता है। मगर बरसात और ठंड के समय यहां पर बहुत ज्यादा पानी रहता है। यहां पर बहुत मजा आता है और आप यहां पर फ्रेंड के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। 


लक्ष्मणी तीर्थ अलीराजपुर - Lakshmani Teerth Alirajpur

लक्ष्मणी तीर्थ अलीराजपुर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह अलीराजपुर से करीब 8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह जैन धर्म का एक पवित्र स्थल है। यहां पर जैन धर्म के अलावा भी बहुत सारे धर्मों के लोग दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर श्री पदम प्रभु जी की हजारों वर्ष पुरानी, प्राचीन, दुर्लभ प्रतिमा भूगर्भ से निकली है। यह प्रतिमा सफेद कलर की है और चमत्कारी है। इस प्रतिमा के दर्शन से मन को शांति मिलती है और मन में जो भी मनोकामना हो वह पूरी होती है। यह तीर्थ बहुत प्रसिद्ध है। यहां पर चैत पूर्णिमा और कार्तिक पूर्णिमा में बहुत सारे लोग श्री पदम प्रभु के दर्शन करने के लिए आते हैं। आप भी यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


शहीद चंद्रशेखर बांध अलीराजपुर - Shaheed Chandrashekhar Dam Alirajpur

शहीद चंद्रशेखर बांध अलीराजपुर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह बांध हथनी नदी पर बना हुआ है। यह बांध बहुत सुंदर है। बांध चारों तरफ से पहाड़ों से घिरा हुआ है। इस बांध को नानापुर फाटा बांध के नाम से भी जाना जाता है। यह बांध नानापुर में स्थित है। बांध का सुंदर नजारा बरसात में देखने के लिए मिलता है, क्योंकि बरसात में इसके गेट खोले जाते हैं। आप यहां पर आकर इस बांध को देख सकते हैं। 



नारायणपुर में घूमने की जगह

बीजापुर में घूमने की जगह

सीधी में घूमने की जगह

अनूपपुर में घूमने की जगह


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।