सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

बीजापुर जिले के पर्यटन स्थल - Bijapur Tourist Places

बीजापुर जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Bijapur / बीजापुर जिले के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


बीजापुर जिला छत्तीसगढ़ का एक मुख्य जिला है बीजापुर जिला छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 417 किलोमीटर दूर है। यह जिला हरे-भरे जंगलों पहाड़ों से घिरा हुआ है। इस जिले का सबसे ऊंचा शिखर बैलाडीला है, जिसे बैल का कूबड़ के नाम से भी जानते हैं। बीजापुर जिले में इंद्रावती नदी बहती है। बीजापुर जिले से महाराष्ट्र और तेलंगाना की बॉर्डर लगती है। इस जिले मे पहाड़ियां देखने के लिए मिलती है और आप बीजापुर जिला घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर जंगली जानवर भी बहुत सारे हैं। बीजापुर जिला मे घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं, बीजापुर जिले में कौन-कौन सी जगह घूमने के लिए है। 


बीजापुर में घूमने की जगह - Bijapur mein ghumne ki jagah


इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान बीजापुर - Indravati National Park Bijapur

इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान छत्तीसगढ़ का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में स्थित है। यह उद्यान बीजापुर, नारायणपुर और जगदलपुर के क्षेत्रों में फैला हुआ है। यह राष्ट्रीय उद्यान मुख्य रूप से जंगली भैंसे के लिए प्रसिद्ध है। यहां पर जंगली भैंसे का संरक्षण किया जाता है। इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान में आपको बहुत सारे जंगली जानवर और वन्य दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको बाघ, जंगली भैंसा, बारहसिंघा, तेंदुआ, सांभर, जंगली सूअर, हिरण, हायना देखने के लिए मिल जाएगा। यहां पर चिड़ियों की भी बहुत सारी प्रजातियां देखने के लिए मिलती है। यहां पर सरीसृप भी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर सरीसृप में भारतीय अजगर, कीरत, पाइथन, इंडियन कोबरा जैसे बहुत सारे सरीसृप देखने के लिए मिल जाते हैं। 

आप इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान में आकर सफारी का मजा ले सकते हैं। इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान का नाम, राष्ट्रीय उद्यान के बीच में बहने वाली इंद्रावती नदी के नाम पर रखा गया है। यह नदी इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान के बीचो बीच बहती है। इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान 1258 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। इस राष्ट्रीय उद्यान की स्थापना 1978 में की गई थी और 1982 में इसे टाइगर रिजर्व घोषित किया गया। इंद्रावती टाइगर रिजर्व तीसरा सबसे बड़ा टाइगर रिजर्व है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं और आपको इस जगह में आकर बहुत ही अच्छा अनुभव मिलेगा। 


भैरमगढ़ वन्यजीव अभयारण्य बीजापुर - Bhairamgarh Wildlife Sanctuary Bijapur

भैरमगढ़ वन्यजीव अभयारण्य बीजापुर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह वन्यजीव अभ्यारण है। इस अभ्यारण की स्थापना 1983 में की गई थी। यह अभ्यारण इंद्रावती वन्य जीव अभ्यारण का ही एक भाग है। यहां पर जंगली भैंसे का संरक्षण किया जाता है। इस अभ्यारण में आप आकर घूम सकते हैं। आपको यहां पर बहुत मजा आएगा। यहां पर और भी धार्मिक जगह मौजूद है, जो बहुत सुंदर है। भैरमगढ़ वन्य जीव अभ्यारण में आपको जंगली जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं और यहां पर आपको जंगल का सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिलता है। 


भैरमबाबा का मंदिर बीजापुर - Bhairambaba Temple Bijapur

भैरमबाबा का मंदिर बीजापुर जिले का एक धार्मिक स्थल है। भैरमबाबा का मंदिर बीजापुर जिले में भैरमगढ़ में स्थित है। यहां पर शिव जी का प्राचीन मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। शिव जी के प्राचीन मंदिर में बहुत सारी प्राचीन प्रतिमाओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं, जिसमें गणेश जी, विष्णु भगवान जी की बहुत सारी प्रतिमाएं हैं। कुछ प्रतिमाएं खंडित हो गई है और कुछ प्रतिमाएं अच्छी अवस्था में देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर शिवलिंग के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह जगह प्राचीन समय में नागों की राजधानी रहा करती थी। यहां पर बहुत सारे प्राचीन मंदिर के अवशेष और महलों के अवशेष देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है, जिसमें बहुत सारी प्राचीन मूर्तियां देखने के लिए मिलती है। इन मूर्तियों की नक्काशी बहुत ही सुंदर है। 


महादेव घाट बीजापुर - Mahadev Ghat Bijapur

महादेव घाट बीजापुर का एक सुंदर स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर घाट देखने के लिए मिलता है। यह घाट घुमावदार है। महादेव घाट से बीजापुर से भोपालपटनम में जाने के लिए सड़क जाती है। इस सड़क के दोनों तरफ बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर पहाड़ और जंगल का दृश्य बहुत अद्भुत रहता है। घाट में शिव भगवान जी का मंदिर भी बना हुआ है। यह मंदिर भी बहुत सुंदर है और जो भी लोग घाट में आते हैं। वह इस मंदिर में दर्शन करते हैं। 


सकल नारायण गुफा बीजापुर - Sakal Narayan Cave Bijapur

सकल नारायण गुफा बीजापुर जिले का एक धार्मिक स्थल है। यह गुफा विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यह गुफा घने जंगल के अंदर पहाड़ी में स्थित है। इस गुफा के बारे में ज्यादा लोगों को जानकारी नहीं है। इस गुफा तक जाने का रास्ता बहुत ही कठिन है। यह गुफा बीजापुर से भोपालपटनम रोड में चेरापाली नाम के गांव में स्थित है। यहां पर गाड़ी या बाइक से घूमने के लिए आया जा सकता है और उसके बाद ट्रैकिंग करके इस गुफा में पहुंचा जा सकता है। यहां पर जंगलों और पहाड़ों का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल सकता है। आप अगर एडवेंचर लवर है, तो आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


सोमनूर संगम बीजापुर - Somanur Sangam Bijapur

सोमनूर संगम बीजापुर जिले का एक सुंदर स्थल है। यहां पर भारत की दो प्रमुख नदियां इंद्रावती नदी और गोदावरी नदी का संगम हुआ है। यह संगम स्थल बहुत सुंदर है। इस जगह को गोदावरी इंद्रावती संगम स्थल के नाम से भी जाना जाता है। यह जगह चारों तरफ से जंगलों, पहाड़ों से घिरी हुई है। यहां पर नदी की तेज बहती हुई धारा बहुत ही सुंदर लगती है। यहां पर नदी चट्टानों के ऊपर से बहती है और उसकी आवाज बहुत अच्छे लगते हैं। यहां पर एक बात और खास है, कि इस जगह पर छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र और तेलंगाना राज्य की तीनों राज्य की बॉर्डर भी मिलती है। यहां पर आकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं और प्राकृतिक दृश्यों का आनंद ले सकते हैं। 

गोदावरी और इंद्रावती नदी का संगम स्थल बीजापुर जिले में भोपालपटनम नगर के करीब में स्थित है और आप यहां पर बाइक या कार से घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आ कर आपको अच्छा लगेगा। 


भद्रकाली मंदिर बीजापुर - Bhadrakali Temple Bijapur

भद्रकाली मंदिर बीजापुर जिले का एक धार्मिक स्थल है। यह  मंदिर भद्रकाली का प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर घने जंगल के अंदर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर बीजापुर जिले के भोपालपटनम तहसील से करीब 18 किलोमीटर दूर है। यहां मंदिर भोपालपटनम तारलागुड़ा रोड पर थोड़ा अंदर जाकर देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर में भद्रकाली जी की प्राचीन प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। भद्रकाली मंदिर से थोड़ी ही दूरी पर सोमनूर संगम स्थल भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर बसंत पंचमी के समय मेला लगता है और बहुत सारे लोग इस मेले में शामिल होने के लिए आते हैं। आप भी यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और अच्छा समय बिता सकते हैं। यह जगह बहुत सुंदर है और हरियाली से घिरी हुई है।


इंचमपल्ली बांध बीजापुर - Inchampally Dam Bijapur

इंचमपल्ली बांध बीजापुर का एक सुंदर स्थल है। यह बांध गोदावरी नदी पर बना हुआ है। यहां पर गोदावरी नदी का बहुत सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह बांध घने जंगल के अंदर स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए जा सकते हैं। यहां पर चारों तरफ प्राकृतिक दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह बांध बीजापुर जिले में ताड़लागुड़ा क्षेत्र में स्थित है। 


नीलम सरई जलप्रपात बीजापुर - Neelam Sarai Falls Bijapur

नीलम सरई जलप्रपात बीजापुर जिले का सबसे सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात घने जंगल के अंदर स्थित है। यह जलप्रपात ऊंची पहाड़ी से नीचे गिरता है और बहुत ही सुंदर लगता है। इस जलप्रपात तक पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करनी पड़ती है और यह ट्रैकिंग घने जंगल के बीच से होती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा अनुभव मिलता है, क्योंकि यहां पर ऊंचे ऊंचे पहाड़ और जंगल का दृश्य देखने के लिए मिलता है। 

नीलम सरई जलप्रपात बीजापुर जिले के उसूर तहसील में प्रेमपल्ली गांव में स्थित है। आपको प्रेमपल्ली गांव से करीब 3 किलोमीटर पैदल चलना रहता है और यहां पर आप लोकल गाइड के साथ आ सकते हैं। अकेले इस जगह पर नहीं आये, क्योंकि इस जगह पर घना जंगल है और जंगली जानवर भी रहते हैं। आप लोकल गाइड के साथ आएंगे, तो गाइड आप को सुरक्षित यहां पर पहुंचा देगा। यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। 


दोबे बीजापुर - dobe bijapur

दोबे बीजापुर जिले का एक और प्राकृतिक पर्यटन स्थल है और यह स्थल भी प्रेमपल्ली गांव के पास स्थित है। दोबे नीलम सराय जलप्रपात से करीब 3 किलोमीटर दूर अंदर जंगल में स्थित है। यहां पर ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है और यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है। यहां पर आपको प्रकृति का एक अद्भुत नजारा देखने के लिए मिलता है। यहां पर जो चट्टान है। उनकी आकृति कुछ अलग प्रकार की है। यह चट्टाने बहुत दूर-दूर तक फैली हुई है। 


नंबी जलप्रपात बीजापुर - Nambi Falls Bijapur

नंबी जलप्रपात बीजापुर जिले का एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात घने जंगल के अंदर स्थित है। यह जलप्रपात बहुत ऊंचाई से गिरता है। इस जलप्रपात को बस्तर का सबसे ऊंचा जलप्रपात कहा जाता है। यह जलप्रपात बीजापुर के उसूर तहसील के नंबी गांव के पास स्थित है। नंबी जलप्रपात तक पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करके जाना पड़ता है। यह जलप्रपात गांव से करीब 3 किलोमीटर दूर है। जलप्रपात में पहुंचकर बहुत अच्छा लगता है। ट्रैकिंग का, जो रास्ता है। वह पूरा जंगल से भरा हुआ है और यहां पर पहुंचकर आप अपना कुछ समय शांति से बिता सकते हैं। 


तिमेड़ बीजापुर - Timer Bijapur

तिमेड़ बीजापुर जिले का एक सुंदर स्थान है। तिमेड़ बीजापुर जिले के भोपालपटनम तहसील का एक गांव है। यह गांव इंद्रावती नदी के किनारे बसा हुआ है। यहां पर इंद्रावती नदी का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इंद्रावती नदी यहां पर अपने पूरे जोर से बहती है और बहुत ही सुंदर लगती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। यहां पर एक शिव मंदिर भी देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर लगता है। आप इस जगह में घूमने के लिए आ सकते हैं। यह बीजापुर जिले का पिकनिक स्पॉट है। 


ब्रह्मा जी का मंदिर भैरमगढ़ - Brahma's temple Bhairamgarh

ब्रह्मा जी का मंदिर बीजापुर जिले का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बीजापुर जिले के भैरमगढ़ तहसील में स्थित है। यह मंदिर भैरमगढ़ तहसील के मिरतुर गांव में बना हुआ है। यहां पर  ब्रह्मा जी की प्राचीन प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी प्राचीन प्रतिमाएं खुले आसमान के नीचे रखी गई है। मंदिर के चारों तरफ जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। ब्रह्मा मंदिर से थोड़ी ही दूरी पर प्राचीन शिव मंदिर भी बना हुआ है, जिसे आप आकर घूम सकते हैं। 


सातधार जलप्रपात - Satadhar Falls

सातधार जलप्रपात बीजापुर जिले का एक पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात घने जंगल के अंदर इंद्रावती नदी पर बना हुआ है। यह जलप्रपात गीदम शहर से करीब 20 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर आकर, इस जलप्रपात को देख सकते हैं। यहां पर छोटी-छोटी धाराएं चट्टानों के बीच से बहती हैं, जो बहुत ही सुंदर लगता है। इस जलप्रपात में सालभर, आप कभी भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जलप्रपात बहुत सुंदर लगता है। जलप्रपात में पहुंचने के लिए थोड़ा सा ट्रैकिंग करनी पड़ती है। मगर यहां पर पहुंचकर बहुत अच्छा लगता है। 


कोंडागांव दर्शनीय स्थल

बलौदाबाजार दर्शनीय स्थल

महासमुंद दर्शनीय स्थल

मुंगेली दर्शनीय स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।