सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

सीधी जिले के पर्यटन स्थल - Sidhi tourist places

सीधी के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Sidhi / Sidhi picnic spot


सीधी में घूमने वाली जगह 
Sidhi mein ghumne ki jagah


संजय नेशनल पार्क सीधी - Sanjay National Park Sidhi

संजय नेशनल पार्क सीधी जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह सीधी में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। यह पार्क मध्यप्रदेश में बहुत प्रसिद्ध है। यह पार्क सीधी जिले में स्थित है। यह पार्क सीधी और सिंगरौली जिले में फैला हुआ है। यह पार्क मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में फैला हुआ है। छत्तीसगढ़ में इस पार्क को गुरु घासीदास नेशनल पार्क के नाम से जाना जाता है। 

संजय नेशनल पार्क में आपको घास के मैदान, घना जंगल, पहाड़िया, नदी और जंगली जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। अगर आप मध्य प्रदेश में सबसे कम भीड़ भाड़ वाले राष्ट्रीय उद्यान में घूमना चाहते हैं, तो आप संजय नेशनल पार्क में आ सकते हैं, क्योंकि इस पार्क में ज्यादा लोग नहीं आते हैं और यहां पर आप शांति से घूमने का मजा ले सकते हैं। वन्य जीवन के दर्शन कर सकते हैं। यहां पर विभिन्न तरह के पेड़ पौधों की प्रजातियां पाई जाती है। 

संजय नेशनल पार्क एवं संजय दुबरी वन्य जीव अभ्यारण दोनों मिलकर 810 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र में फैले हुए हैं। संजय नेशनल पार्क में आपको वनस्पतियां में मुख्य रूप से सागौन, साल और बांस के पेड़ देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर मिश्रित पर्णपाती वन क्षेत्र है। यहां पर आपको वन्य जीवन में बाघ, तेंदुआ, चीतल, नीलगाय, चिंकारा, सियार, सांभर, जंगली बिल्ली, भौंकने वाले हिरण, साही, बायसन, लकड़बग्घा, भालू, जंगली कुत्ते देखने के लिए मिल जाते हैं। यह प्रवासी पक्षियों को देखने के लिए एक अच्छी जगह है। यहां पर प्रवासी पक्षी आपको ठंड के समय देखने के लिए मिल जाएंगे। आप यहां पर सफारी का मजा ले सकते हैं। यहां पर आपको ट्रीहाउस भी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ भी देखने के लिए मिलेगा। इसलिए अगर आप सीधी जाते हैं, तो आपको यहां पर भी घूमना जरूर जाना चाहिए।  


बैनाकुंड मंदिर सीधी - Bainakund Temple Sidhi

बैनाकुंड मंदिर सीधी शहर में स्थित एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर प्राकृतिक सुंदरता से घिरा हुआ है। इस मंदिर के एक तरफ पहाड़ी और मंदिर के दूसरे तरफ नदी देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर में माता की भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा बहुत ही प्राचीन है। मंदिर से गोपाद नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप चाहे तो गोपाद नदी में नहाने का आनंद भी ले सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है और शांति मिलती है। 


भंवरसेन संगम स्थल सीधी - Bhanwarsen Sangam site Sidhi

भंवरसेन संगम स्थल सीधी शहर में स्थित एक प्रसिद्ध जगह है। यहां पर मध्य प्रदेश की प्रसिद्ध नदी सोन और बनास नदी का संगम हुआ है। यह दोनों नदी का संगम स्थल बहुत ही सुंदर है। यह जगह चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरी हुई है और यहां पर रेत का मैदान भी देखने के लिए मिलता है। आप इस जगह को देख कर कह सकते हैं, कि यह एक मिनी गोवा है और यहां पर आपको बहुत मजा आएगा। आप यहां पर नहाने का मजा भी ले सकते हैं। यहां पर हर साल मकर संक्रांति के समय मेले का आयोजन होता है, जिसमें दूर दूर से लोग इस मेले में शामिल होने के लिए आते हैं। इस मेले में भंवरसेन ब्रिज के दोनों तरफ बहुत सारी दुकानें लगती हैं। ब्रिज में भी बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। यहां पर आसपास के गांव वाले लोग आते हैं। यह जगह सीधी जिले में शिकारगग में स्थित है। यहां पर पहाड़ी के ऊपर एक शिव मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। इस मंदिर से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर इस सुंदर दृश्य का मजा ले सकते हैं और मेले के समय तो यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। 


शिव मंदिर एवं विहार चंद्रेह - Shiv Mandir and Vihar Chandreh

शिव मंदिर एवं विहार चंद्रेह एक प्राचीन स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। मंदिर के गर्भ गृह में शिव भगवान जी का शिवलिंग विराजमान है। मंदिर की दीवारों पर सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यहां पर गार्डन बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है। मंदिर के बाजू में ही खंडहर देखने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर चेदि वंश के प्रारंभिक काल का है। यह प्रबोधशिव के गुरु द्वारा बनाया गया था। इस मंदिर के पास एक बिहार भी बनाया गया था। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है। इस मंदिर में गोलाकार गर्भगृह, अंतराल और मंडप है। मंदिर के सामने की तरफ सुंदर नक्काशी की गई है। मंदिर के ऊपर शेखर में एक बड़ा सा अम्लक देखने के लिए मिलता है। मंदिर की छत में भी सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। मंदिर में एक शिलालेख भी मिलता है, जिसे इस मंदिर के बारे में पता चलता है। यह मंदिर भंवर सेन ब्रिज के पास में स्थित है। यह मंदिर सीधी से करीब 60 किलोमीटर दूर है। 


सोन घड़ियाल अभ्यारण सीधी - Son Gharial Sanctuary Sidhi

सोन घड़ियाल अभ्यारण सीधी जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह अभयारण्य जोगदहा में स्थित है। इस अभ्यारण में प्रवेश के लिए शुल्क लिया जाता है। आप यहां पर पैदल या अपने बाइक, स्कूटी से घूम सकते हैं। यहां पर आपको मगरमच्छ, घड़ियाल और मछलियों की बहुत सारी प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती हैं। यहां पर आप मगरमच्छ को दूरबीन से देख सकते हैं, जिससे मगरमच्छ आपको साफ-साफ देखने के लिए मिल जाते हैं। इस अभ्यारण की स्थापना 1981 में की गई थी। यह बहुत सुंदर है और यहां पर सोन नदी का दृश्य बहुत ही आकर्षक लगता है। इस अभयारण्य में वॉच टावर बने हुए हैं। इन वॉच टावर से आप अभ्यारण के मगरमच्छ एवं घड़ियाल को देख सकते हैं। यहां पर  सोन नदी के पास नहीं आने दिया जाता है, क्योंकि मगरमच्छ हमला कर सकते हैं। इसलिए आप दूर से ही उनको देख सकते हैं। अगर आप नेचर लवर हैं, तो आपको यह जगह पसंद आएगी। 


गोपालदास बांध सीधी - Gopaldas Dam Sidhi

गोपालदास बांध सीधी शहर में स्थित एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। गोपालदास बांध बहुत सुंदर है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर शाम के समय बहुत अच्छा लगता है। 


सीधी बांध - Sidhi Bandh

सीधी बांध सीधी जिले में स्थित एक सुंदर जलाशय है। यह बांध रामगढ़ में स्थित है। यह बांध चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां पर आप अपना बहुत अच्छा समय बिताने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। बरसात के समय यहां पर चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। 


दुर्गा मंदिर सीधी - Durga Mandir Sidhi

दुर्गा मंदिर सीधी शहर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर सीधी जिले के बिजयपुर में स्थित है। इस मंदिर में पहुंचने के लिए ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि यहां से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर मां दुर्गा का छोटा सा मंदिर बना हुआ है और माता की प्रतिमा विराजमान है। यहां से चारों तरफ का दृश्य बहुत ही आकर्षक लगता है और इतनी दूर पहाड़ी चढ़कर आने का भी बहुत मजा आता है। 


बरदी का किला - Bardi Fort

बरदी का किला सीधी शहर का एक प्राचीन स्थल है। यह एक प्राचीन किला है। यह किला सोन और गोपद नदी के संगम पर स्थल स्थित है। यह एक गढ़ी है। यह किला अभी भी अच्छी अवस्था में है। यह किला 18वीं शताब्दी में राजा मयूर शाह ने बर्दी को अपनी राजधानी बनाया। उसी समय इस गढ़ी का निर्माण किया था। स्थानीय मान्यताओं के अनुसार राजा मयूर सिंह चंदेल के वंशज थे। यह किला बहुत सुंदर है। इस गढ़ी के पूर्व एवं पश्चिम में प्रवेश द्वार बने हुए हैं। पूर्व का प्रवेश द्वार मुख्य प्रवेश द्वार है और इस प्रवेश द्वार में सुंदर पत्थरों की कारीगरी देखने के लिए मिलती है। इस गढ़ी में मुगल वास्तुकला देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह गढ़ी सीधी जिले के बर्दी नाम के गांव में स्थित है। 


अमिलिया जलप्रपात सीधी - Amilia Falls Sidhi

अमिलिया जलप्रपात सीधी शहर में स्थित एक सुंदर जलप्रपात है। इस जलप्रपात को त्रिगुण जलप्रपात के नाम से भी जाना जाता है। यह जलप्रपात सीधी अमिलिया रोड में बना हुआ है। यहां पर सुंदर पहाड़ियों का दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यहां पर चट्टाने देखने के लिए मिलती है। 


चंडी घोघरा देवी मंदिर सीधी - Chandi Ghoghra Devi Temple Sidhi

चंडी घोघरा मंदिर सीधी शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि यहां पर अकबर के नवरत्न में से एक बीरबल को ज्ञान प्राप्त हुआ था। इस जगह को बीरबल की जन्मस्थली माना जाता है। यह मंदिर में गांव के लोगों की बहुत ज्यादा आस्था है और यहां पर बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर मां चंडी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर माता की प्रतिमा बहुत ही सुंदर है। यह मंदिर सीधी शहर से करीब 25 किलोमीटर दूर है। यहां पर चारों तरफ प्राकृतिक वातावरण देखने के लिए मिलता है। 


गुलाब सागर बांध सीधी - Gulab Sagar Dam Sidhi

गुलाब सागर बांध सीधी शहर का एक सुंदर पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर बहुत अच्छा लगता है। बरसात के समय यहां पर हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर बरसात के समय डैम के गेट भी खोले जाते हैं, जिसका दृश्य आकर्षक रहता है। यह बांध सीधी जिले के खड्डी में स्थित है। गुलाब सागर बांध में 6 गेट हैं। इस बांध के सामने सड़क है, जिससे आप बांध के सामने का दृश्य देख सकते हैं। जब डैम के गेट खोले जाते हैं, उस समय के दृश्य को यहां पर देख सकते हैं। यहां पर पहाड़ियों का सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिलता है। 


तुर्रा जलप्रपात सीधी - Turra Falls Sidhi

तुर्रा जलप्रपात सीधी शहर का एक सुंदर जलप्रपात है। यह जलप्रपात बरसात के समय देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात सुंदर घाटियों के बीच में स्थित है। यहां पर पहाड़ियों का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है और यह जलप्रपात धुहा की घाटियों में स्थित है।

 

सीधी शहर के अन्य प्रसिद्ध स्थल - famous places in Sidhi City

लोहरौहा धाम 

सारो बांध सीधी 



खंडवा के पर्यटन स्थल

हरदा जिले के पर्यटन स्थल

बुरहानपुर के पर्यटन स्थल

शिवपुरी जिला पर्यटन स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का