सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बुरहानपुर के पर्यटन स्थल - Burhanpur tourist places / Burhanpur tourism

बुरहानपुर के दर्शनीय स्थल - Burhanpur picnic spot / Burhanpur famous place / Burhanpur attraction place 


बुरहानपुर में घूमने की जगह - Best place to visit in Burhanpur


असीरगढ़ का किला बुरहानपुर - Asirgarh Fort Burhanpur

असीरगढ़ का किला बुरहानपुर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह बुरहानपुर में घूमने वाली एक मुख्य जगह है। असीरगढ़ का किला एक प्राचीन किला है। यह किला बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यह किला एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। इस किले में आपको प्राचीन इमारतें देखने के लिए मिलती है, जो खंडहर में बदल गई है। इस किले में प्राचीन मंदिर, मस्जिद, तालाब और ब्रिटिश कॉलोनी आपको देखने के लिए मिलेगी। यह किला सतपुड़ा की वादियों में बना हुआ है। किले से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। इस किले में आपको प्राचीन महादेव का मंदिर देखने के लिए मिलता है, जिसके बारे में कहा जाता है, कि इस मंदिर का संबंध महाभारत काल के अश्वत्थामा से है और अश्वत्थामा यहां पर सुबह के समय आते हैं और भगवान शंकर जी के ऊपर जल और पुष्प चढ़ाकर जाते हैं। यहां पर आपको मस्जिद भी देखने के लिए मिलती है, जिसे असीरगढ़ मस्जिद कहते हैं। यहां पर ब्रिटिश छावनी भी आपको देखने के लिए मिलती है, जिसमें अनेक भवन, तलघर, और कब्रिस्तान बने हुए हैं। इन कक्ष में अंग्रेजों द्वारा पकड़े गए विद्रोहियों को कैद करके रखा जाता था। यहां से किसी भी कैदी के लिए भाग पाना असंभव था। यह किला बहुत सुंदर है और इस किले को दक्कन का दरवाजा कहा जाता था। इस किले में बहुत सारे आपको तालाब और बावड़ी देखने के लिए मिल जाते हैं, जो प्राचीन है और खूबसूरत है। आप इस किले में घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको यहां आकर बहुत मजा आएगा। असीरगढ़ का किला बुरहानपुर में घूमने लायक एक प्रमुख जगह है। 

आहूखाना बुरहानपुर - Ahukhana Burhanpur

आहूखाना बुरहानपुर शहर का एक मुख्य ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। यह जगह इस लिए प्रसिद्ध है, क्योंकि इस जगह पर मुमताज की मृत्यु के बाद उनके पार्थिव शरीर को यहां रखा गया था। इस जगह को हिरण बगीचे के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि यहां पर हिरणों को पाला जाता था। यह जगह कभी फव्वारे और हरे-भरे पेड़ों से सुसज्जित हुई करती थी। मगर आज यह जगह बेजान पड़ी हुई है। शाहजहां का इसी स्थान पर ताजमहल बनाने का इरादा था मगर किन्हीं कारणों की वजह से वह यहां पर ताजमहल नहीं बनाए। आहूखाना बुरहानपुर में ताप्ती नदी के दूसरी तरफ जैनाबाद में स्थित है। यहां पर आपको एक बड़ा सा मंडप या हॉल देखने के लिए मिलता है, जो मुगल शैली में बना हुआ है और इस मंडप  के दोनों तरफ आपको छोटे छोटे कमरे देखने के लिए मिलते हैं। इन कमरे के छत में गुंबद बनाए गए हैं, जो बहुत सुंदर लगते हैं। यह बुरहानपुर की सबसे अच्छी जगह है। आप आहूखाना में घूमने के लिए आ सकते हैं। 

शाही किला बुरहानपुर - Shahi Fort Burhanpur

शाही किला बुरहानपुर शहर का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह बुरहानपुर की सबसे अच्छी जगह है। यह एक प्राचीन किला है। इस किले का अधिकतर भाग खंडहर में बदल गया है। यह किला ताप्ती नदी के किनारे पर बना हुआ है। इस किले में देखने के लिए बहुत सारी जगह है। यहां पर आपको दीवान ए आम और दीवान ए खास देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको शाही हमाम देखने के लिए मिलता है, जो शाहजहां की पत्नी मुमताज के लिए बनाया गया था। यह हमाम बहुत ही सुंदर बनाया गया है। शाही हमाम में आपको सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। इसकी छत में सुंदर चित्रकारी भी की गई है। शाही हमाम मुमताज बेगम के लिए बनाया गया था। शाही महल को फारूखी शासकों ने बनाया था। शाही महल में प्रवेश के लिए प्रवेश शुल्क लिया जाता है। यहां पर आपको सुंदर गार्डन में देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 

अकबरी सराय बुरहानपुर - Akbari Sarai Burhanpur

अकबरी सराय बुरहानपुर में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक प्राचीन स्थल है। सराय का उपयोग प्राचीन समय में मेहमानों के ठहरने के लिए करा जाता था। यह सराय प्राचीन है और यहां पर आपको इस का प्रवेश द्वार देखने के लिए मिलता है, जो सुंदर है। यह सराय बुरहानपुर शहर के बीचोंबीच स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 

दरगाह ए हकीमी बुरहानपुर - Dargah e Hakimi Burhanpur

दरगाह ए हकीमी बुरहानपुर का एक धार्मिक स्थल है। यह स्थल बौहरा कम्युनिटी का तीर्थ स्थल है। यह जगह बहुत सुंदर है और यहां पर आकर आपको सकारात्मक ऊर्जा महसूस होती है। यहां पर आपको सुंदर गार्डन देखने के लिए मिलता है और यहां पर दरगाह भी देखने के लिए मिलती है। आपको यहां पर घूम कर अच्छा लगेगा। यहां पर आकर शांति मिलती है। यहां पर बोहरा कम्युनिटी के अलावा भी अन्य धर्म के लोग भी घूमने के लिए आ सकते हैं, उनके लिए कुछ निश्चित समय है।

काला ताजमहल बुरहानपुर -  black taj mahal burhanpur

काला ताजमहल बुरहानपुर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक प्राचीन इमारत है।  यह इमारत काला ताजमहल के नाम से प्रसिद्ध है। यह इमारत शाहनवाज खान की कब्र है। यह इमारत बहुत सुंदर है। इस इमारत के ऊपर आपको एक बड़ा सा गुंबद देखने के लिए मिलता है और चारों कोने पर छोटे-छोटे गुंबद देखने के लिए मिलते हैं। काला ताजमहल उतावली नदी के किनारे बना हुआ है, जो ताप्ती नदी की सहायक नदी है। काला ताजमहल शाहनवाज खान की कब्र है। शाहनवाज खान अब्दुल रहीम खान ए खाना के बड़े बेटे थे। उन्होंने सम्राट जहांगीर की दक्कन विजय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। काला ताजमहल के अंदर शाहनवाज खान की कब्र देखने के लिए मिलती है और यहां पर आपको सुंदर बगीचा देखने के लिए भी मिलता है। काला ताजमहल के बाजू में आपको एक महल और देखने के लिए मिलता है। यह इस महल को पानदान महल के नाम से जाना जाता है, क्योंकि इसका आकार पान दान के समान है और यह महल खंडहर अवस्था में यहां पर मौजूद है।  

खूनी भंडारा या कुंडी भंडारा बुरहानपुर - Khooni Bhandara or Kundi Bhandara Burhanpur

खूनी भंडारा या कुंडी भंडारा के नाम से मशहूर यह जगह बुरहानपुर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह बुरहानपुर में घूमने लायक जगह है। इस जगह में आपको भूमिगत पानी की नहर देखने के लिए मिलती है और आप इस नहर को जमीन के नीचे जाकर देख सकते हैं। यहां पर जाने के लिए लिफ्ट का प्रयोग किया जाता है। इन नहर का निर्माण 1615 में अब्दुल रहीम खान ए खाना ने करवाया था, जो उस समय बुरहानपुर के शासक थे और एक कवि थे। यहां पर आकर आप उस समय की पानी संग्रहण और सप्लाई की प्रणाली को देख सकते हैं, जो बहुत ही अद्भुत है, जो आज के मॉडर्न टेक्नोलॉजी से बहुत बेहतर है।  

बारादरी बुरहानपुर - Baradari Burhanpur

बारादरी बुरहानपुर शहर का एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको प्राचीन इमारतों के खंडहर देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह बुरहानपुर में ताप्ती नदी के किनारे पर स्थित है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर सुंदर गार्डन भी बना हुआ है और आप यहां पर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 

रेणुका माता मंदिर बुरहानपुर - Renuka Mata Temple Burhanpur

रेणुका माता मंदिर बुरहानपुर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको रेणुका माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। यह मंदिर करीब 400 साल पुराना है। यह मंदिर बहुत सुंदर बना हुआ है और मंदिर के बाहर आपको गार्डन देखने के लिए मिलता है। गार्डन में बच्चों के खेलने के लिए झूले लगाए गए हैं। यहां पर आपको जानवरों के बहुत सारे स्टेचू भी देखने के लिए मिल जाते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 

मोहाना संगम बुरहानपुर - Mohana Sangam Burhanpur

मोहाना संगम बुरहानपुर का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यहां पर ताप्ती और मोहाना नदी का संगम हुआ है। यहां पर आपको दोनों नदियों का संगम स्थल देखने के लिए मिलता है। यहां पर शिव मंदिर भी बना हुआ है। यह शिव मंदिर भी बहुत सुंदर लगता है। यहां पर आपको शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और हनुमान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आपको नदी में एक मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो सुंदर लगता है। यह मंदिर प्राचीन है और इसकी बनावट भी अच्छी है। यह मंदिर बुरहानपुर में मोहोना नाम के गांव के पास स्थित है। 


राजा जयसिंह की छतरी बुरहानपुर - Raja jaisingh ki chhatri Burhanpur

राजा जयसिंह की छतरी बुरहानपुर का एक ऐतिहासिक स्थल है। राजा जयसिंह की छतरी बुरहानपुर में ताप्ती और मोहना  नदी के संगम स्थल के पास में स्थित है। यह छतरी बहुत ही सुंदर लगती है। यह छतरी मुगल और राजस्थानी वास्तुकला में बनी हुई है। उनके ऊपर आपको सुंदर गुंबद देखने के लिए मिलते हैं। यह छतरी बुरहानपुर के पास घूमने के लिए एक मुख्य स्थल है। यहां से ताप्ती नदी का सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिलता है, जो आकर्षक लगता है। आप यहां पर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। राजा जयसिंह औरंगजेब के सेना के मंत्री थे। औरंगजेब ने ही राजा जयसिंह की छतरी का निर्माण करवाया था। 

झांझर बांध बुरहानपुर - Jhanjhar Dam Burhanpur

झांझर बांध बुरहानपुर की एक सुंदर जगह है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जगह बुरहानपुर में झांझर नाम के गांव में स्थित है। यहां पर शाम के समय सूर्यास्त का दृश्य बहुत सुंदर रहता है। 

आशापूर्णा माता मंदिर असीरगढ़ बुरहानपुर - Ashapurna Mata Temple Asirgarh Burhanpur

आशापूर्णा माता का मंदिर बुरहानपुर का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बुरहानपुर में असीरगढ़ किले के पास में स्थित है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इस मंदिर में आपको आशापूर्णा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। इस मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। इस मंदिर की यह विशेषता है, कि इस मंदिर में मांगी गई हर मनोकामना पूरी होती है। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत सारे भक्त माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। यह बुरहानपुर के पास स्थित सबसे अच्छी जगहों में से एक है। 

भगवंत सागर बांध बुरहानपुर - Bhagwant Sagar Dam Burhanpur

भगवंत सागर बांध बुरहानपुर के पास में स्थित एक सुंदर जगह है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह जलाशय बहुत बड़े क्षेत्रफल में फैला हुआ है। यह जलाशय चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। आप यहां पर घूमने के लिए जा सकते हैं। यहां पर बरसात के समय बहुत मजा आता है। चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। 

श्री इच्छादेवी माता मंदिर बुरहानपुर - Shri Ichhadevi Mata Mandir Burhanpur

श्री इच्छादेवी माता मंदिर बुरहानपुर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यह मंदिर इच्छा देवी को समर्पित है। यह मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह मंदिर बुरहानपुर से करीब 30 किलोमीटर दूर स्थित है। मंदिर मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र की बॉर्डर में स्थित है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है, कि मंदिर में मांगी गई हर इच्छा पूरी होती है। यहां पर लोग अपनी इच्छा पूर्ति के लिए माता के दर्शन करने के लिए आते हैं।  मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर में चैत मास में बहुत विशाल मेले का आयोजन किया जाता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और मंदिर से आपको चारों तरफ का सुंदर  व्यू भी देखने के लिए मिलता है। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। 

जम्बुपनी गुफा और मंदिर बुरहानपुर - Jambupani Cave and Temple Burhanpur

जम्बुपनी बुरहानपुर का एक प्राकृतिक स्थल है। यह जगह प्राकृतिक स्थल होने के साथ-साथ धार्मिक स्थल भी है। यहां पर आपको हनुमान जी और जामवंत जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह दुनिया भर में इकलौता मंदिर है, जहां पर हनुमान जी के साथ जामवंत जी के भी दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह जगह प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है। यह जंगल के बीच में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर आपको बरसात के समय सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है, जिसमें आप नहाने का आनंद उठा सकते हैं। यहां पर बरसात के समय चारों तरफ हरियाली रहती है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। आप यहां आते हैं, तो ग्रुप के साथ आइए।  आपको बहुत मजा आएगा। यह जगह बुरहानपुर में जम्बुपनी नाम की जगह पर स्थित है। 

उबर देव गुफा बुरहानपुर - Uber Dev Cave Burhanpur

उबर देव गुफा बुरहानपुर शहर का एक मुख्य प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जगह धार्मिक भी है। यहां पर आपको गुफा देखने के लिए मिलती है, जिसमें आपको शंकर भगवान जी के शिवलिंग के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह जगह जंगल के बीच में स्थित है। यहां पर आपको अमरनाथ गुफा, पार्वती माता गुफा, उबर देव गुफा देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह बुरहानपुर में जम्बुपनी में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं और इस जगह का आनंद उठा सकते हैं। बरसात के समय यह जगह बहुत सुंदर लगती है। चारों तरफ हरियाली रहती है। यह बुरहानपुर में घूमने लायक जगह है। 

बादलखोरा जलप्रपात बुरहानपुर - Badalkhora Falls Burhanpur

बादलखोरा जलप्रपात बुरहानपुर में स्थित एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जगह घने जंगल के बीच में स्थित है। यहां पर पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यहां पर आपको एक सुंदर जलप्रपात देखने के लिए मिलता है, जो ऊंची चट्टानों से नीचे गिरता है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर लगता है। आप यहां पर बरसात के समय घूमने के लिए जा सकते हैं। आपको यहां पर शिव मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर जंगल के बीच बना हुआ है और अच्छा लगता है। आप यहां बरसात के समय आते हैं, तो यहां पर चारों तरफ हरियाली मिलती है। यह जगह बुरहानपुर में उसरानी के पास में स्थित है। 


बुरहानपुर जिले के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन आकर्षण स्थल - Other Famous Tourist Attractions in Burhanpur District

बसाली जलप्रपात बुरहानपुर 
ताप्ती नदी का घाट बुरहानपुर 
स्वामीनारायण मंदिर बुरहानपुर 
गुप्तेश्वर महादेव मंदिर बुरहानपुर 
बालाजी मंदिर बुरहानपुर 
काली मस्जिद बुरहानपुर 
जामा मस्जिद बुरहानपुर



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।