सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सीहोर के पर्यटन स्थल - Sehore tourist places / Famous places in Sehore

सीहोर के दर्शनीय स्थल - Best places to visit in Sehore / Sehore Attractions / Sehore Picnic Spot


सीहोर में घूमने की जगह - Places to visit in sehore


श्री चिंतामन सिद्ध गणेश मंदिर सीहोर - Shree Chintaman Siddha Ganesh Mandir Sehore

श्री चिंतामन सिद्ध गणेश मंदिर मध्य प्रदेश का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पूरे मध्यप्रदेश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर की प्रसिद्धि का कारण यह है, कि इस मंदिर में मांगी गई हर इच्छाएं पूरी होती है। यह मंदिर मध्यप्रदेश के सीहोर जिले में स्थित है। यह मंदिर सीहोर जिले से करीब 3 किलोमीटर दूर गोपालपुर गांव में स्थित है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इस मंदिर की स्थापना विक्रमादित्य के द्वारा की गई थी। मंदिर में आपको गणेश जी की भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। गणेश जी की यह प्रतिमा पृथ्वी से स्वयं उत्पन्न हुई है। इसे विराजमान नहीं किया गया है। लोग यहां पर आकर गणेश जी के दर्शन करते हैं। यहां पर लोग आकर मंदिर के पीछे की तरफ दीवार पर स्वास्तिक की आकृति बनाते हैं और अपनी इच्छा मांगते हैं।  जब लोगों की इच्छाएं पूरी हो जाती है। तो वह दोबारा आकर स्वास्तिक बनाते हैं। यहां पर बड़ी दूर दूर से लोग गणेश जी से आशीर्वाद लेने आते हैं।

 

भूतेश्वर मंदिर सीहोर - Bhuteshwar Temple Sehore

भूतेश्वर मंदिर सीहोर शहर का एक प्रमुख मंदिर है। यह एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर में आपको शिव भगवान जी का शिवलिंग और नंदी भगवान जी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर प्रकृति की गोद में बना हुआ है। यह मंदिर सीहोर शहर के बाहरी क्षेत्र में स्थित है। आप यहां पर अपने वाहन से या ऑटो वगैरह से घूमने के लिए आ सकते हैं। इस मंदिर के बाजू से ही सिवान नदी बहती है, जिसका दृश्य भी बहुत सुंदर रहता है। आप यहां पर आ कर घूम सकते हैं। यहां पर आपको बहुत अच्छा लगेगा। भूतेश्वर मंदिर के पास ही में हनुमान जी का भी एक मंदिर बना हुआ है। यहां पर आपको हनुमान जी की प्रतिमा देखने के लिए मिलेगी। यहां पर भी आप सिवान नदी के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। 


चैन सिंह की छतरी सीहोर - Chain Singh ki Chhatri Sehore

चैन सिंह की छतरी सीहोर में स्थित एक मुख्य दर्शनीय स्थल है। चैन सिंह मध्य प्रदेश के पहले स्वतंत्रता सेनानी हुए थे, जिन्होंने अंग्रेजों से लड़ाई कर अपने आप को देश के लिए कुर्बान किया था। चैन सिंह की समाधि मध्यप्रदेश के सीहोर जिले में स्थित है। यहां पर बहुत सारे देश भक्त उनकी समाधि पर घूमने के लिए आते हैं। चैन सिंह नरसिंहगढ़ रियासत के राजकुवर थे। 


हनुमान फाटक मंदिर सीहोर - Hanuman Phatak Mandir Sehore

हनुमान फाटक मंदिर सीहोर शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यहां पर आपको हनुमान जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा अनोखी है। हनुमान फाटक मंदिर सीहोर जिले में सिवान नदी के किनारे बना हुआ है। यहां से सिवान नदी का दृश्य भी बहुत सुंदर दिखाई देता है। यहां पर आप आकर हनुमान जी के दर्शन कर सकते हैं और शांति से बैठ सकते हैं। यहां पर आ कर आपको बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर आप बहुत आसानी से पहुंच सकते हैं। आप यहां अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं। 


मरी माता नारायणी धाम सीहोर -  Mari Mata Narayani Dham Sehore

मरी माता नारायणी धाम सीहोर में स्थित एक धार्मिक स्थल है।  यहां पर मरी माता का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर इछावर तहसील में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। मरी माता नारायणी धाम एक प्रसिद्ध स्थल है। यहां पर लोग दूर.दूर से माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां के माहौल में शांति है। 


कोनाझिर बांध सीहोर - Konjhir Dam Sehore

कोनाझिर सीहोर शहर में स्थित एक सुंदर जगह है। यहां पर आपको एक खूबसूरत जलाशय देखने के लिए मिलता है। यह जलाशय बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यहां पर आपको एक रिसोर्ट भी देखने के लिए मिलता है। रिसोर्ट में एक छोटी सी झील है, जिसमें फव्वारा भी लगा हुआ है। आप यहां पर आकर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। कोनाझिर सीहोर जिले से करीब 10  किलोमीटर दूर है। यह बांध सीहोर शहर के कोनाझिर में स्थित है। यहां पर आप अपनी गाड़ी से या प्राइवेट टैक्सी से बहुत आसानी से आ सकते हैं। यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगेगा। 


काकरखेड़ा बांध सीहोर - Kakarkheda Dam Sehore

काकरखेड़ा बांध सीहोर में स्थित एक सुंदर जगह है। यह एक सुंदर जलाशय है। यह बांध मरी माता नारायणी धाम मंदिर के पीछे की तरफ स्थित है। इस बांध में आप घूमने के लिए आ सकते हैं। बरसात के समय यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। आप अपना यहां पर बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह  बांध सीहोर जिले में इछावर तहसील में स्थित है।


कालिया देव मंदिर सीहोर - Kalia Dev Temple Sehore

कालिया देव मंदिर सीहोर शहर का एक मुख्य दर्शनीय स्थल है। यहां पर आपको हनुमान जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है।  यह स्थान धार्मिक होने के साथ-साथ प्राकृतिक भी है। यहां पर आपको झरना भी देखने के लिए मिलता है। यह जगह बरसात के समय हरियाली से घिरी होती है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जगह सीहोर जिले में इछावर तहसील में अल्लीपुर गांव के पास में स्थित है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। आप यहां पर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। आप अपनी फैमिली के साथ या दोस्तों के साथ यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। 


कोलार बांध सीहोर - Kolar Dam Sehore

कोलार बांध सीहोर शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह बांध सीहोर जिले के लावाखेड़ी गांव में स्थित है। यहां पर आपको प्राकृतिक नजारा देखने के लिए मिलता है। यह बांध  चारों तरफ से सुंदर पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां आने के लिए जो रास्ता है। वह भी जंगल का है। यहां पर आकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। यह बांध जंगल से घिरा हुआ है। इसलिए आपको यहां पर जंगली जानवर भी देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर आपको प्राइवेट गेस्ट हाउस भी देखने के लिए मिल जाते हैं, जहां पर आप रात को ठहरने चाहते हैं, तो ठहर सकते हैं। यह पिकनिक मनाने के लिए एक अच्छी जगह है और भोपाल और सीहोर के लोग यहां पर घूमने के लिए आसानी से आ सकते हैं।

 

कहरी के महादेव सीहोर - Kehri ke Mahadev Sehore 

कहरी के महादेव सीहोर शहर में स्थित एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल है। यह जगह प्राकृतिक होने के साथ-साथ धार्मिक भी है। यहां पर शिव जी का प्राचीन मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह जगह रातापानी अभ्यारण के अंदर स्थित है। यहां पर आने का जो रास्ता है। वह कच्चा है। यहां पर आपको शिव भगवान जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं और एक जलप्रपात देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर शिवरात्रि के समय और सावन सोमवार के समय आ सकते हैं। यहां पर आकर आप प्रकृति का सुंदर नजारा देख सकते हैं। कोलार नदी घाटियों से बहती है। उसका नजारा बहुत ही अद्भुत रहता है। यहां पर आकर आपको अच्छा लगेगा। 


प्राचीन सामल माता मंदिर रायपुरा सीहोर - Ancient Samal Mata Temple Raipura Sehore

प्राचीन सामल माता मंदिर सीहोर शहर का एक मुख्य मंदिर है। यह मंदिर सीहोर शहर के रायपुरा में स्थित है। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। इस पहाड़ी से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। यह मंदिर इंदौर शहर का सीहोर शहर का प्राचीन मंदिर है। इस मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। बरसात के समय इस मंदिर में बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि चारों तरफ का वातावरण हरा भरा रहता है। 


झोलियापुर जलाशय सीहोर - Jholiapur Reservoir Sehore

झोलियापुर जलाशय सीहोर जिला का एक मुख्य दर्शनीय स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर जलाशय देखने के लिए मिलता है, जो पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यह जलाशय रातापानी वन्य जीव अभ्यारण के अंदर स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। बरसात के समय यह जगह और भी ज्यादा सुंदर लगती है, क्योंकि यहां पर आपको हरियाली देखने के लिए मिलेगी। आप इस जगह पर आसानी से पहुंच सकते हैं। 


विजयासन देवी मंदिर सलकनपुर सीहोर - Vijayasan Devi Temple Salkanpur Sehore

विजयासन देवी मंदिर सलकनपुर सीहोर शहर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। इस मंदिर को सलकनपुर मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहां पर आपको विजयासन माता मंदिर का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर विंध्याचल पहाड़ियों पर स्थित है। यह मंदिर बहुत ही सुंदर है। इस मंदिर में जाने के लिए आपको सीढ़ियां, सड़क और रोपवे की सुविधा मिल जाते हैं। इस मंदिर में पहुंचकर आपको विजयासन देवी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। आप यहां से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देख सकते हैं। यहां पर बहुत सारे प्रसाद की दुकान भी देखने के लिए मिलती है, जहां पर आप माता को अर्पित करने के लिए प्रसाद ले सकते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। आप यहां पर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। अगर आप भोपाल, होशंगाबाद और सिहोरा से 1 दिन की पिकनिक का प्लान बनाना चाहते हैं, तो यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जगह सीहोर शहर की सबसे अच्छी जगह है और आप यहां पर आकर प्राकृतिक के साथ-साथ धार्मिकता का भी आनंद लेंगे। 


सरू मरू की गुफाएं सीहोर - Saru Maru Caves Sehore

सरू मरू की गुफाएं सीहोर जिले का एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर आपको प्राचीन गुफाएं और कुछ अभिलेख देखने के लिए मिलते हैं। यह जगह प्रकृति के बीच में स्थित है। इस जगह में पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करनी पड़ती है। यह जगह बहुत सुंदर है। चारों तरफ आपको हरियाली देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको चट्टानों में बनी गुफाएं देखने के लिए मिलती है। इन गुफाओं में प्राचीन समय में बौद्ध संत लोग रहते थे और तपस्या करते थे। यह जगह सीहोर जिले के बुधनी तहसील में स्थित है। आप यहां पर आकर घूम सकते हैं। यहां पर आपको स्तूप देखने के लिए मिलते हैं। यह स्तूप सम्राट अशोक के द्वारा बनवाए गए थे। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह सीहोर जिले में पिकनिक के लिए एक अच्छी जगह है। 


सीहोर जिले के अन्य प्रसिद्ध पर्यटन आकर्षण स्थल - Other Famous Tourist Attractions in Sehore District


टपकेश्वर महादेव मंदिर सीहोर
करुणाधाम आश्रम बुधनी तहसील सिहोरा 
आंवली घाटए नर्मदा नदीए सीहोर
जमोनिया बांध सीहोर 
जहांगीरपुरा बांध सीहोर
भगवानपुरा बांध सीहोर



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।