सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

टीकमगढ़ जिले के पर्यटन स्थल - Tikamgarh Tourist Places

टीकमगढ़ जिले के दर्शनीय स्थल - Places to visit in Tikamgarh / टीकमगढ़ के आसपास घूमने वाली मुख्य जगह / टीकमगढ़ पर्यटन 


टीकमगढ़ मध्य प्रदेश का एक मुख्य जिला है। टीकमगढ़ मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से करीब 254 किलोमीटर दूर होगा। टीकमगढ़ में मुख्य पर्यटन स्थल ओरछा स्थित है। टीकमगढ़ में धसान और जामनी नदी बहती है। टीकमगढ़ अपने वैभवशाली इतिहास के लिए जाना जाता है। यहां पर वह सारे राजा ने राज्य किया है। टीकमगढ़ में बहुत सारी जगह है, जहां पर आप घूम  सकते हैं। चलिए जानते हैं, टीकमगढ़ में कौन-कौन सी जगह घूमने के लिए है। 


टीकमगढ़ में घूमने की जगह
Tikamgarh me ghumne ki jagah


टीकमगढ़ का किला - Tikamgarh Fort

टीकमगढ़ का किला टीकमगढ़ जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक प्राचीन किला है। मगर इस किले में पर्यटक घूमने नहीं आते हैं, क्योंकि यहां पर जाना माना है। यह किला सिर्फ दशहरे के समय खोला जाता है। उस समय ही पर्यटक यहां पर घूम सकते हैं। यह किला टीकमगढ़ जिले के बीचों-बीच स्थित है। यह एक पहाड़ी पर बना हुआ है और बहुत सुंदर है। आप अगर इस किले में घूमना चाहते हैं, तो आप यहां पर दशहरे के समय आ सकते हैं, और आप इस किले के अंदर जा सकते हैं। किले में आपको बहुत सारे प्राचीन मूर्तियां और सामान देखने के लिए मिल जाएंगे। 


महेंद्र तालाब टीकमगढ़ - Mahendra Talab Tikamgarh

महेंद्र तालाब टीकमगढ़ में देखने लायक एक सुंदर जगह है। यह तालाब बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। यह तालाब टीकमगढ़ का एक मुख्य दर्शनीय स्थल है। इस तालाब के किनारे बहुत सारे पार्क बने हुए हैं, जहां पर आप जाकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। इस तालाब में आपको प्राचीन इमारत भी देखने के लिए मिलती है, जो यहां के राजा, महाराजा के समय में बनाई गई होगी। यह इमारत भी बहुत सुंदर लगती है। तालाब के बीच में एक टापू है। इस टापू में भी एक प्राचीन इमारत बनी हुई है। महेंद्र तालाब के किनारे आपको बहुत सारे मंदिर भी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको हजरत गुलाब शाह बाबा दरगह, मंशापूर्ण हनुमान मंदिर, सिद्धेश्वरी माता मंदिर, हरदोल टेंपल,  देखने के लिए मिल जाते हैं। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं


ओरछा टीकमगढ़ - Orchha Tikamgarh

ओरछा टीकमगढ़ जिले के पास में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। ओरछा में बहुत सारी प्राचीन इमारतें देखने के लिए मिलती है। ओरछा पहले टीकमगढ़ जिले का ही एक हिस्सा हुआ करता था। मगर टीकमगढ़ जिले से निवाड़ी जिले को अलग कर दिया गया और ओरछा निवाड़ी जिले के अंतर्गत आने लगा। आप ओरछा में घूमने के लिए जा सकते हैं और यह टीकमगढ़ से करीब 71 किलोमीटर दूर है और यहां पर आपके घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। 

ओरछा में आपके घूमने के लिए - ओरछा का किला, ओरछा अभयारण्य, शाही छतरियां, रामराजा मंदिर, हरदोल वाटिका, बेतवा नदी का सुंदर दृश्य। यह सभी जगह ओरछा में है। आप इन सभी जगह में घूम सकते हैं। 


कुंडेश्वर धाम टीकमगढ़ - Kundeshwar dham tikamgarh

कुंडेश्वर धाम टीकमगढ़ जिले में स्थित एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह शिव भगवान जी का मंदिर है। इस मंदिर में शिव भगवान जी का शिवलिंग विराजमान है, जो बहुत ही अद्भुत लगता है। उत्सव के समय इस शिवलिंग को सजाया जाता है। जिससे शिवलिंग की शोभा और भी बढ़ जाती है। इस शिवलिंग के बारे में कहा जाता है, कि यह शिवलिंग यहां पर स्थित कुंड से प्राप्त किया गया है। इसलिए इस जगह को कुंडेश्वर नाम से जाना जाता है। 

कुंडेश्वर के पास बैरीघर नामक एक पिकनिक स्थल है। यहां पर आपको एक जलप्रपात देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर लगता है। यहां पर कुंड में लोग नहाने का मजा लेते हैं। यहां पर आपको एक कुंड देखने के लिए मिलता है। इस कुंड में सभी लोग स्नान कर सकते हैं। यहां पर बरसात के समय बहुत अच्छा लगता है। यहां पर हरियाली रहती है। कुंडेश्वर धाम में मकर संक्रांति के समय और बसंत पंचमी के समय बहुत विशाल मेला लगता है, जिसमें दूर दूर से लोग मेले में घूमने के लिए आते हैं। यहां पर बहुत सारी दुकाने रहती हैं। यहां पर आप मेले में इंजॉय कर सकते हैं। कुंडेश्वर धाम टीकमगढ़ जिले से करीब 7 किलोमीटर दूर होगा। आप यहां पर आकर शिव भगवान जी के दर्शन कर सकते हैं। 


मोहनगढ़ का किला टीकमगढ़ - Mohangarh Fort Tikamgarh

मोहनगढ़ का किला टीकमगढ़ जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक प्राचीन किला है। यह किला टीकमगढ़ से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर मोहनगढ़ खास में स्थित है। यह किला एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह किला चारों तरफ से पहाड़ियों और पेड़-पौधों से घिरा हुआ है। वैसे अभी किला खंडहर में बदलता जा रहा है, क्योंकि इस किले की सही देखभाल नहीं की जा रही है। मगर आप यहां घूमने आ सकते हैं और इस किले  के प्राचीन अवशेष देख सकते हैं। इस किले के पास में आपको एक तालाब भी देखने के लिए मिलेगा। यह तालाब और यह किला दोनों ही मोहनगढ़ में प्रसिद्ध है। 


विष्णु मंदिर टीकमगढ़ - Vishnu Temple Tikamgarh

विष्णु मंदिर टीकमगढ़ में स्थित एक प्राचीन मंदिर है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर टीकमगढ़ जिले में मोहनगढ़ खास गांव में स्थित है। इस मंदिर में विष्णु भगवान जी की काले पत्थर की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। इस मंदिर में लक्ष्मी माता की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। यह दोनों ही प्रतिमाएं बहुत सुंदर है। आप जब भी टीकमगढ़ आते हैं, तो मोहनगढ़ गांव घूमने के लिए आ सकते हैं और यहां पर किला और मंदिर दोनों ही घूम सकते हैं और यहां पर तालाब भी है। वह भी देख सकते हैं। 


बंधा जी जैन मंदिर टीकमगढ़ - Bandha Ji Jain Temple Tikamgarh

बंधा जी जैन मंदिर टीकमगढ़ जिले का एक प्रमुख जैन मंदिर है। यह जैन धर्म वालों के लिए एक तीर्थ स्थल है। यहां पर जैन धर्म के दूसरे तीर्थकर श्री अजीत नाथ जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर भी बहुत खूबसूरती से बना हुआ है। आप इस मंदिर में आकर भगवान के दर्शन कर सकते हैं और यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। आप यहां सुबह समय आएंगे, तो अच्छा रहता है और आपको दर्शन मिल जाते हैं। 


बल्देवगढ़ का किला टीकमगढ़ - Baldevgarh Fort Tikamgarh

बल्देवगढ़ का किला टीकमगढ़ का एक प्राचीन किला है। यह टीकमगढ़ शहर का एक प्रमुख दर्शनीय स्थल है। यह किला टीकमगढ़ में बल्देवगढ़ में स्थित है। बलदेवगढ़ टीकमगढ़ से 25 किलोमीटर दूर टीकमगढ़ छतरपुर रोड में स्थित है। यह  किला बहुत ही सुंदर है। यह किला पहाड़ी पर बना हुआ है। इस किले के किनारे एक विशाल तालाब है। इस तालाब को ग्वाल तालाब या बल्देवगढ़ झील के नाम से जाना जाता है। किले के ऊपरी सिरे से बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है - तालाब का और पहाड़ियों का। यहां पर आकर फैमिली और दोस्तों के साथ बहुत अच्छा समय बिताया जा सकता है। 

बल्देवगढ़ किले का निर्माण महाराजा विक्रमजीत सिंह ने किया था। महाराजा विक्रमजीत सिंह बुंदेला ने मराठों के आतंक से भयभीत होकर 1783 ईस्वी में अपनी राजधानी ओरछा से टीकमगढ़ स्थानांतरित कर लिया था और यहां पर उन्होंने सैन्य स्थिति को सुधारने और युद्ध सामग्री को इकट्ठा करने के लिए यहां पर किले का निर्माण किया था। यह किला 18वीं सदी में बनाया गया था। इस किले के बुर्ज में तोप रखी गई थी, जो बहुत प्रसिद्ध है और इन तोपों में गर्भ गिरावन और भवानी शंकर तोप  बहुत प्रसिद्ध है। इस किले के तीनों तरफ पहाड़ियां हैं और एक तरफ आपको तालाब देखने के लिए मिलता है। यह दुर्ग बुंदेला स्थापत्य का सुंदर नमूना है। आप टीकमगढ़ घूमने के लिए आते हैं, तो इस किले में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 


रामगढ़ का किला टीकमगढ़ - Ramgarh Fort Tikamgarh

रामगढ़ का किला टीकमगढ़ में स्थित एक प्राचीन किला है। यह किला टीकमगढ़ जिले में रामगढ़ गांव में स्थित है। यह किला एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। इस किले से आपको रामगढ़ गांव का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर अधिकांश भाग अब नष्ट हो चुका है। मगर किले के कुछ भाग अच्छे हैं और आप उन्हें घूम सकते हैं। 


मांची झरना टीकमगढ़ - Manchi Waterfall Tikamgarh

मांची झरना टीकमगढ़ का एक सुंदर झरना है। यह झरना टीकमगढ़ में मांची गांव के पास स्थित है। इसलिए झरने को मांची झरने के नाम से जाना जाता हैं। यह झरना पहाड़ी के ऊपर से गिरता है। यहां पर आप झरने के नीचे नहाने का भी आनंद ले सकते हैं। यह झरना मुख्य रूप से बरसात के समय ही देखने के लिए मिलता है। यहां पर चारों तरफ पहाड़ियों का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है और हरियाली देखने के लिए मिलती है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


खरगापुर का किला टीकमगढ़ - Khargapur Fort Tikamgarh

खरगापुर का किला टीकमगढ़ का एक ऐतिहासिक स्थल है। यह एक प्राचीन किला है। यह किला बहुत ही सुंदर है। यह किला निर्भे तालाब के किनारे बना हुआ है। यह किला बहुत ही आकर्षक लगता है। यह किला ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। किले से चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह किला बुंदेला स्टाइल में बना हुआ है। आप जब भी टीकमगढ़ आते हैं, तो इस किले को देख सकते हैं। इस किले के ऊपरी सिरे से निर्भे झील का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 


धौरीगढ़ किला टीकमगढ़ - Dhaurigarh Fort Tikamgarh

धौरीगढ़ किला टीकमगढ़ का एक मुख्य किला है। यह एक ऐतिहासिक किला है। यह किला टीकमगढ़ में बड़ागांव में स्थित है। यह किला टीकमगढ़ से करीब 30 किलोमीटर दूर होगा। यह किला बहुत पुराना है और इस किले के किनारे एक प्राचीन मंदिर है, जो बहुत सुंदर लगता है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह पूरा मंदिर पत्थर का बना हुआ है और इस मंदिर में नक्काशी की गई है, जो बहुत ही बढ़िया लगती है। इस किले में आप घूमने के लिए आ सकते हैं और साथ ही मंदिर भी घूम सकते हैं। 


बान सुजारा बांध टीकमगढ़ - Ban Sujara Dam Tikamgarh

बान सुजारा बांध टीकमगढ़ जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह बांध धसान नदी पर बना हुआ है। यह बांध बहुत सुंदर है।  आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर पिकनिक बनाया जा सकता है। खास तौर पर बांध पर बरसात के समय घूमने के लिए आया जा सकता है, क्योंकि बरसात के समय बांध ओवरफ्लो होकर बहता है, जिसका दृश्य बहुत ही आकर्षक रहता है। बांध में करीब 10 गेट है। यहां पर आप अपनी फैमिली और दोस्तों के साथ आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। यह बांध टीकमगढ़ जिले में बान सुजारा गांव के पास में स्थित है। 


पपौरा जैन मंदिर टीकमगढ़ - Papura Jain Temple Tikamgarh

पिपौरा जैन मंदिर टीकमगढ़ जिले में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह जैन धार्मिक स्थल है। यह प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर टीकमगढ़ जिले से 5 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। यहां पर आपको 108 जैन मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत बड़ा एरिया है, जहां पर गार्डन बना हुआ है। यहां पर जैन लोगों के लिए रुकने के लिए धर्मशाला बनाई गई है, जिसमें एसी और नॉन एसी रूम मिल जाते हैं। इसके अलावा यहां पर भोजशाला भी है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। 


टीकमगढ़ जिले के प्रमुख आकर्षण स्थल एवं पिकनिक स्पॉट - Major attractions and picnic spots of Tikamgarh district


दिगौरा का किला टीकमगढ़ 
लिधौरा खास का किला टीकमगढ़ 
सप्रार बांध टीकमगढ़ 
बम्होरी कालन का किला टीकमगढ़ 
जतारा झील टीकमगढ़
महाराजा कीरत सिंह जूदेव किला टीकमगढ़
नवागढ़ जैन मंदिर मंदिर टीकमगढ़
नंदनवार झील टीकमगढ़
मदन सागर अहर टीकमगढ़ 
सुधा सागर टीकमगढ़ 
ग्वाल सागर झील टीकमगढ़ 
बिंद्राबन झील टीकमगढ़
राजमहल टीकमगढ़
नगदा सागर टीकमगढ़ 
जमरार बांध टीकमगढ़



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का