सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

सूरजपुर जिले के पर्यटन स्थल - Surajpur tourist places

सूरजपुर जिला के दर्शनीय स्थल - Place to visit in Surajpur Chhattisgarh / सूरजपुर के आसपास घूमने वाली प्रमुख जगह


सूरजपुर छत्तीसगढ़ का एक मुख्य जिला है। सूरजपुर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 341 किलोमीटर दूर है। सूरजपुर की सीमा मध्य प्रदेश के सिंगरौली जिले को छूती है। सूरजपुर की मुख्य नदी रेहर और महान नदी है। यहां पर आपको प्राकृतिक सौंदर्य देखने के लिए मिलता है। सूरजपुर पहले सरगुजा जिले का हिस्सा था। बाद में यह अलग होकर सूरजपुर जिले के रूप में अस्तित्व में आया। सूरजपुर में घूमने के लिए बहुत सारी जगह है। चलिए जानते हैं, सूरजपुर में घूमने वाली कौन-कौन सी जगह है। 


सूरजपुर में घूमने की जगह
Surajpur mein ghumne ki jagah


कुदरगढ़ी देवी मंदिर सूरजपुर - Kudargarhi Devi Temple Surajpur

कुदरगढ़ी देवी मंदिर सूरजपुर का एक प्रसिद्ध धार्मिक स्थल है। यह मंदिर बागेश्वरी माता को समर्पित है। बागेश्वरी माता को कुदरगढ़ी देवी के नाम से भी जाना जाता है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर को लेकर लोगों की बहुत सारी मान्यताएं हैं। यहां पर पशुओं की बलि दी जाती है। यहां पर बकरियों की बलि दी जाती है। यहां पर एक टैंक है, जिनमें उनका रक्त एकत्र किया जाता है। 

कुदरगढ़ एक सुंदर जगह है। कुदरगढ़ चारों तरफ से पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यह मंदिर कुदरगढ़ में एक ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। पहाड़ी पर जाने के लिए सीढ़ियां है। यहां पर करीब 1000 से भी ज्यादा सीढ़ियां है, जिसको चढ़कर आप मंदिर तक पहुंच सकते हैं। रास्ते में आपको एक सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है। यह झरना बहुत सुंदर है और ऊंची पहाड़ियों से गिरता है। यहां पर विजय कुंड है, जिसका पानी स्वच्छ है। इस पानी को आप पी सकते हैं और अपने साथ भरकर घर भी लेकर जा सकते हैं। यहां पर आपको एक छोटी सी गुफा भी देखने के लिए मिलती है।  

आप मंदिर के पास पहुंचते हैं, तो मंदिर के गर्भ गृह में आपको माता बागेश्वरी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। माता की मूर्ति धातु की है। मूर्ति फूल और वस्त्रों से सजी हुई है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। मंदिर से आपको चारों तरफ का सुंदर दृश्य भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। नवरात्रि के समय यहां पर बहुत भीड़ लगती है। यह पर मेला लगता है। यहां पर आपको चारों तरफ की सुंदर पहाड़ियां और हरियाली  देखने के लिए मिलती है। यहां पर आपको राजा का महल और जंगल का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिल जाता है। यह सूरजपुर में घूमने लायक जगह है। 


बैंक पिकनिक स्पॉट सूरजपुर - Bank Picnic Spot Surajpur

बैंक पिकनिक स्पॉट सूरजपुर जिले का एक दर्शनीय स्थल है। यह रेहर नदी पर बना हुआ छोटा सा झरना है, जो बहुत सुंदर है। यह सूरजपुर जिले में ओदगी से थोड़ा आगे बैंक नाम के गांव में स्थित है। इसलिए इसे बैंक पिकनिक स्पॉट के नाम से जाना जाता है। यह सूरजपुर से 52 किलोमीटर दूर है। यह फॉरेस्ट गेस्ट हाउस के पीछे बना हुआ है। यहां पर घना जंगल है और आपको प्राकृतिक सुंदरता देखने के लिए मिलती है। यहां पर बहुत सारे लोग पिकनिक मनाने के लिए आते हैं। आप यहां पर आकर अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। 


लाफ्री सूरजपुर - Lafree Surajpur

लाफ्री सूरजपुर के पास स्थित एक प्राकृतिक स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है। यह झरना रेहर नदी पर बना हुआ है। यह झरना बहुत सुंदर है। यहां पर चट्टाने हैं, जो बहुत ही खूबसूरत लगती हैं और इन्हीं चट्टानों के बीच से यह झरना बहता है। आप यहां पर बरसात के समय और ठंड के समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यह झरना चारों तरफ से घने जंगलों से घिरा हुआ है और यहां पर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर आप पिकनिक बना सकते हैं। लाफ्री सूरजपुर में  ओदागी से आगे स्थित है। यह ओदागी से 20 किलोमीटर दूर है। अगर आप यहां पर पिकनिक मनाने के लिए आते हैं, तो अपने साथ सभी प्रकार का सामान लेकर आइए, क्योंकि यहां पर किसी भी तरह की कोई दुकान नहीं है। 


झांखा पिकनिक स्पॉट सूरजपुर - Jhankha Picnic Spot Surajpur

झांखा पिकनिक स्पॉट सूरजपुर का एक प्रमुख दर्शनीय स्थल है। झांखा पिकनिक स्पॉट सूरजपुर में भैयाथन में स्थित है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर रेहर नदी बहती है और यहां पर बहुत बड़ी-बड़ी चट्टानें है, जिनके बीच से रेहर नदी बहती है। यहां पर बहुत सारे छोटे-छोटे झरने देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही सुंदर लगते हैं और यहां पर आने के लिए रोड अच्छी नहीं है। मगर आप यहां पर बाइक से आ सकते हैं और अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं। 


सरासोर शिव मंदिर सूरजपुर - Sarasor shiv mandir surajpur

सरासोर शिव मंदिर सूरजपुर का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह शिव मंदिर घने जंगल के अंदर महान नदी के बीच में बना हुआ है। महान नदी रिहंद नदी की सहायक नदी है। यह मंदिर एक बड़ी सी चट्टान के ऊपर नदी के बीच में बना हुआ है और यहां पर महान नदी का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर चारों तरफ हरियाली है। यहां पर महान नदी बहुत तीव्र गति से बहती है। इसलिए यहां पर संभल कर रहने की जरूरत रहती है। क्योंकि यहां पर बहुत सारे दुर्घटना हो चुकी है। 

सरासोर पर महाशिवरात्रि और सावन सोमवार के समय मेला भरता है। जिसमें बहुत सारे लोग यहां पर घूमने के लिए आते हैं। यह जगह प्राकृतिक रूप से बहुत सुंदर है और यहां पर आकर बहुत शांति मिलती है। यह मंदिर भैयाथान से करीब 25 किलोमीटर दूर है और सूरजपुर से करीब 5 किलोमीटर दूर है। आप यहां पर बाइक और कार से पहुंच सकते हैं। शिव मंदिर के पास में आपको और भी बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर राम वन गमन मार्ग भी है। यहां पर राम भगवान जी, सीता माता जी और लक्ष्मण जी की बहुत सारी मूर्तियां देखने के लिए मिलती है। यहां पर विष्णु भगवान जी की शेषनाग पर बैठी हुई प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। बरसात के समय यह जगह बहुत ही खतरनाक होती है। यहां पर आपको एक बोर्ड भी देखने के लिए मिल जाता है, जहां पर पानी के पास ना जाने की चेतावनी दी गई है। आप यहां पर अपने फैमिली और दोस्तों के साथ घूमने के लिए आ सकते हैं और अच्छा समय बिता सकते हैं। 


रकसगंडा जलप्रपात सूरजपुर - Rakasganda Falls Surajpur

रकसगंडा जलप्रपात सूरजपुर जिले का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह जलप्रपात बहुत सुंदर है। यहां पर जलप्रपात सकरी चट्टानों के बीच से बहता है, जिससे जलप्रपात का दृश्य बहुत ही आकर्षक रहता है। यह जलप्रपात रिहंद नदी पर बना हुआ है। रिहंद नदी छत्तीसगढ़ की मुख्य नदी है। यह जलप्रपात बहुत खतरनाक भी है। अगर आप यहां पर सावधानी से नहीं रहेंगे, तो जलप्रपात में बह सकते हैं। बरसात में यह जलप्रपात बहुत ही सुंदर रहता है। यह जलप्रपात घने जंगलों के बीच में स्थित है। यहां पर आकर आप अपना पिकनिक बना सकते हैं। यहां पर बरसात के समय बहुत अच्छा दृश्य देखने के लिए मिलता है। चारों तरफ यहां पर हरियाली रहती है। 

रकसगंडा जलप्रपात सूरजपुर में ओडगी तहसील के नवगई गांव में स्थित है। आप यहां पर गाड़ी से या कार से घूमने के लिए आ सकते हैं। यह जगह छत्तीसगढ़ पर्यटन के द्वारा विकसित की गई है और यहां पर आपको बहुत सारे वॉच टावर देखने के लिए मिल जाते हैं, जहां से आप इस जलप्रपात के सुंदर दृश्य को देख सकते हैं। आप इस जलप्रपात के पास भी जा सकते हैं। मगर जब पानी कम रहे, तभी आप इस जलप्रपात के पास जाएं। 


मां महामाया मंदिर सूरजपुर - Maa Mahamaya Temple Surajpur

मां महामाया मंदिर सूरजपुर शहर का प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर मुख्य शहर से करीब 4 किलोमीटर दूर है। यह मंदिर प्राचीन है। मंदिर के गर्भ गृह में मां महामाया की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मां महामाया गहनों और वस्त्रों से सुसज्जित है। मां महामाया दुर्गा जी का अवतार है। यहां पर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ लगती है। बहुत सारे भक्त माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यह मंदिर एक पहाड़ी पर बना हुआ है। यहां पर जाने के लिए सीढ़ियां हैं। मंदिर के पास में एक तालाब भी है, जो बहुत सुंदर लगता है। यहां पर आपको और भी देवी देवताओं के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। 


कुमेली घाट सूरजपुर - Kumeli Ghat Surajpur

कुमेली घाट सूरजपुर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है। यह झरना ऊंची चट्टानों से नीचे कुंड में गिरता है। यहां पर आपको खड़ी चट्टाने देखने के लिए मिलती हैं, जो बहुत ही सुंदर लगती हैं। यह झरना जंगल के अंदर स्थित है। यह झरना सूरजपुर में रामानुजनगर में स्थित है। यहां पर आप पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। यहां पर एक छोटा सा मंदिर भी बना हुआ है। यहां पर मकर संक्रांति के समय मेला लगता है। बरसात के समय यहां का दृश्य बहुत ही अद्भुत रहता है। यह फैमिली वालों और दोस्तों के साथ घूमने के लिए एक बढ़िया जगह है। 


कर्क रेखा पॉइंट - Tropic of Cancer

कर्क रेखा पॉइंट सूरजपुर के प्रतापपुर में स्थित है। यहां पर कर्क रेखा गुजरती है। यह पूरे भारत का एकमात्र ऐसा स्थान है, जहां कर्क रेखा भारतीय मानक समय रेखा आपस में एक दूसरे को काटती है। यह स्थान सूरजपुर के प्रतापपुर में स्थित है। यहां पर आप को मानचित्र देखने के लिए मिलेगा। यह महान नदी के किनारे स्थित है। यहां पर सेल्फी प्वाइंट भी बना हुआ है, जहां पर आप सेल्फी ले सकते हैं। यह एक महत्वपूर्ण जगह है। 


तमोर पिंगला वन्यजीव अभयारण्य सूरजपुर - Tamor Pingla Wildlife Sanctuary Surajpur

तमोर पिंगला अभयारण्य सूरजपुर जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह अभयारण्य रामकोला गांव के पास पास स्थित है। यह रामकोला वन परिक्षेत्र के अंतर्गत आता है। यह अभ्यारण तमोर की पहाड़ियों में स्थित है और यहां पर पिंगला नाम की नदी बहती है। इसलिए इस अभयारण्य को तमोर पिंगला वन्य जीव अभ्यारण कहा जाता है। 

तमोर पिंगला अभयारण्य अंबिकापुर वाराणसी जाने वाली सड़क पर स्थित है। यहां पर आपको जंगली जानवरों की बहुत सारी प्रजातियां देखने के लिए मिल जाती है। यहां पर जंगली सूअर, जंगली भैंसा, सांभर, हाथी, जैसे जानवर देखने के लिए मिल जाते हैं। यहां पिंगला देवी का मंदिर भी आपको देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर आकर अपना बहुत अच्छा समय बिता सकते हैं।

 

झोज झरना - Jhoj Waterfall

झोज झरना सूरजपुर का एक प्रमुख स्थल है। यह सूरजपुर में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगह है। यह झरना घने जंगल के अंदर स्थित है। यह झरना पेंडारी घाट के पास चांदोरा गांव के पास है और आप यहां पर बरसात के समय घूमने आएंगे, तो आपको यहां पर बहुत अच्छा दृश्य देखने के लिए मिलेगा। यहां पर जंगल का दृश्य भी बहुत आकर्षक रहता है। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। 


सूरजपुर जिले के प्रमुख पिकनिक स्थल एवं आकर्षक स्थल - Major picnic places and attractive places of Surajpur district

देवी झरिया रामकोला गांव सूरजपुर
डुगडुगी पत्थर जमड़ी, भैयाथान तहसील सूरजपुर
प्राचीन शिव मंदिर जमदी भैयाथान सूरजपुर 
महाकाल भैरव मंदिर भैयाथान
खोपा देव धाम चिकनी
महान नदी पिकनिक स्पॉट चिकनी 
महान नदी बांध सूरजपुर
केनपारा झील बिश्रामपुर सूरजपुर 
मां समलेश्वरी महामाया मंदिर बिश्रामपुर सूरजपुर 
मां दक्षिणेश्वरी काली मंदिर केनपारा सूरजपुर


बलरामपुर पर्यटन स्थल

कोरिया पर्यटन स्थल

सरगुजा पर्यटन स्थल

राजनांदगांव पर्यटन स्थल

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का