सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

जयपुर पर्यटन स्थल - Jaipur Tourist Places / जयपुर घूमने की जगह

जयपुर के आसपास घूमने की जगह - जयपुर के दर्शनीय स्थल / जयपुर आकर्षक स्थल / जयपुर में घूमने लायक जगह


जयपुर शहर के बारे में

जयपुर शहर राजस्थान राज्य की राजधानी है। जयपुर शहर को पिंक सिटी या गुलाबी शहर भी कहा जाता है। जयपुर शहर को पिंक सिटी इसलिए कहा जाता है, क्योंकि यहां पर जो घर बने हुए हैं। वह पुराने तरीके से बने हुए हैं और इन घरों में गुलाबी कलर पोता हुआ है, जिससे आप ऊपर से देखते हैं, तो यहां पर चारों तरफ गुलाबी कलर ही देखने के लिए मिलता है। इसलिए जयपुर शहर को पिंक सिटी कहा जाता है। जयपुर शहर में प्राचीन किले, मंदिर, म्यूजियम, गार्डन, चिड़ियाघर, बाजार, देखने के लिए मिलते हैं। 


जयपुर में घूमने की जगह

Jaipur mein ghumne wali jagah


नाहरगढ़ का किला जयपुर - Nahargarh Fort Jaipur

नाहरगढ़ का किला जयपुर शहर का एक प्रसिद्ध किला है। नाहरगढ़ किला जयपुर में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। नाहरगढ़ का किला नाहरगढ़ की पहाड़ी पर बना हुआ है। यह किला बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस किले में बहुत सारी जगह है, जहां पर घुमा जा सकता है। इस किले में प्राचीन बावड़ी देखने के लिए मिलती है। इन बावड़ी में बरसात का पानी इकट्ठा होता था। यह बावड़ी बहुत ही सुंदर तरीके से बनी हुई है। यहां पर किले के बाहर और किले के अंदर दो बावड़ी  हैं, जो बहुत ही सुंदर लगती हैं। किले में मोम संग्रहालय देखने के लिए मिलता है। यह संग्रहालय किले के मुख्य प्रवेश द्वार के पास ही में है। इस संग्रहालय में एंट्री का प्रवेश शुल्क लिया जाता है। इस संग्रहालय में मोम से बनी हुई प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती हैं और शीश महल देखने के लिए मिलता है। यहां पर कठपुतलियों का खेल और जादूगर का खेल भी देखने के लिए मिलता है। आगे जाने पर नाहरगढ़ दुर्ग देखने के लिए मिलता है। 

नाहरगढ़ दुर्ग बहुत सुंदर और बहुत बड़ा है। इस दुर्ग में बहुत सारी प्राचीन वस्तुओं को संभाल कर रखा गया है। नाहरगढ़ दुर्ग के ऊपर से जयपुर का दृश्य देख सकते हैं। नाहरगढ़ दुर्ग के सामने बावली स्थित है। नाहरगढ़ दुर्ग के पीछे की तरफ नाहर सिंह भूमिया का मंदिर देखने के लिए मिलता है। आगे जाने पर यहां पर रेस्टोरेंट भी देखने के लिए मिलता है, जहां से आप खाने पीने के लिए आर्डर दे सकते हैं। नाहरगढ़ किले के बाहर ही पार्किंग की व्यवस्था भी है। नाहरगढ़ किले में प्रवेश के लिए शुल्क लगता है। नाहरगढ़ किले से जयपुर शहर का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है और यहां से सूर्योदय और सूर्यास्त का भी दृश्य देखने के लिए मिलता है। 


जयगढ़ का किला - Jaigarh Fort

जयगढ़ का किला जयपुर शहर का एक प्रसिद्ध किला है। यह किला ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह किला मुख्य तौर से यहां पर स्थित एक विशाल तोप के कारण प्रसिद्ध है। इस तोप को जयबाण तोप के नाम से जाना जाता है। यह तोप जयगढ़ किले के ऊंचे शिखर पर रखी हुई है। जयबाण तोप विश्व की सबसे बड़ी तोप है। यह तोप 31 फुट लंबी है। इसका वजन 50 टन है। 

जयबाण तोप देखने में बहुत ही गजब की लगती है। इस तोप के चारों तरफ बाउंड्री वॉल बना दी गई है। ताकि कोई भी तोप को नुकसान ना पहुंचाएं। तोप के ऊपर शेड लगा हुआ है, ताकि इसे बारिश और धूप से नुकसान ना हो। यह तोप एक ही बार चलाई गई है। यहां पर व्यूप्वाइंट भी बना हुआ है, जहां से जयपुर शहर का सुंदर नजारा देखने के लिए मिलता है। यहां से जल महल का सुंदर दृश्य देखा जा सकता है। तोप के बाजू में ही एक बड़ी सी बावली देखने के लिए मिलती है। इस तोप से एक बार में 35 किलोमीटर तक की दूरी तक गोला दागा जा सकता था। इसमें 100 किलो का गन पाउडर लगता था।

जयगढ़ किले को राजा जयसिंह द्वितीय ने बनवाया था। यह किला 1726 में बनवाया गया था। जयगढ़ किले में तोप के अलावा जयगढ़ किला देखने लायक है।  यह किला भी बहुत सुंदर है। यहां पर हाथियों की सवारी आप कर सकते हैं। यहां पर म्यूजियम में जहां पर बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह करके रखा गया है। यहां पर सुरंग भी देखने के लिए मिलती है, जिससे राजा महाराजा प्राचीन समय में एक जगह से दूसरी जगह जाया करते थे। आप यहां पर गाइड करेंगे, तो गाइड आप को बहुत अच्छी तरह से समझा सकता है। यहां पर आपको एक कुआं देखने के लिए मिलेगा। यहां पर आपको रेन वाटर हार्वेस्टिंग भी देखने के लिए मिलेगी, जो बहुत ही नायाब है। जयगढ़ किले के अंदर मंदिर भी देखने के लिए मिलेंगे और रेस्टोरेंट भी देखने के लिए मिलते हैं, जहां पर आप खाना खा सकते हैं। 

वैसे अगर आप आमेर फोर्ट से जयगढ़ किला आना चाहते हैं, तो आप पैदल भी आ सकते हैं। मगर इसके लिए आपको बहुत ज्यादा चलना पड़ेगा। 


आमेर का किला जयपुर - Amer Fort Jaipur 

आमेर का किला जयपुर का सबसे सुंदर किला है। आमेर का किला जयपुर का प्रमुख आकर्षण स्थल है। आमेर का किला बहुत बड़ा है। आमेर का किला जयपुर के सभी किलों में से सबसे सुंदर किला है। आमेर का किला में बहुत सारे स्थल देखने लायक हैं। आमेर किले के सामने ही बड़ी सी झील देखने के लिए मिलती है, जिसे मवाठा झील कहते हैं। इस झील के किनारे ही एक बगीचा बना हुआ है, जिसे केसर क्यारी कहते हैं। प्राचीन समय में राजाओं ने यहां पर केसर उगाने की कोशिश की थी, जिसके कारण इसका नाम केसर क्यारी रख दिया गया।  

आमेर किले में आप हाथी की सवारी का मजा ले सकते हैं। यहां पर उसका अलग चार्ज लिया जाता है। आमेर किले तक जाने के लिए दो रास्ते हैं। एक तो आप पैदल ही जा सकते हैं और एक आप गाड़ी से आमेर किले तक जा सकते हैं। यहां पार्किंग के लिए अच्छी जगह है। मगर यहां पर बहुत ज्यादा भीड़ भी रहती है। 

आमेर किले में एंट्री गेट तक जाने वाले रास्ते में बहुत सारी दुकानें देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर तरह-तरह के समान मिलते हैं। आमेर किले के अंदर सूरजपोल और चांदपोल गेट देखने के लिए मिलता है। आमेर किले के अंदर बहुत बड़ा आंगन बना हुआ है, जिसमें तरह-तरह के बच्चों के खिलौने रहते हैं, जिसमें बच्चे लोग बहुत एंजॉय करते हैं। इसके अलावा यहां पर खाने पीने के लिए बहुत सारी दुकाने रहती हैं, जहां से आप पेट पूजा कर सकते हैं। 

आमेर किले में प्रवेश के लिए भारतीय व्यक्तियों का 100 रूपए लगता है। यहां पर दीवान आम और दीवान खास देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही जबरदस्त लगता है। इसके बाद गणेश पोल गेट देखने के लिए मिलता है। इस गेट में बहुत ही सुंदर नक्काशी की गई है। आमेर किले के अंदर शीश महल देखने के लिए मिलता है और एक छोटा सा बगीचा देखने के लिए मिलता है, जो अलग-अलग तरीके से बनाया गया है। आमेर किले में म्यूजियम भी है, जो बहुत सुंदर है। यहां पर अलग-अलग तरह की पेंटिंग देखने के लिए मिलती है। इसके अलावा यहां पर प्राचीन समय में उपयोग किए जाने वाले बर्तन और बहुत सारी चीजें देख सकते हैं। 


जामा मस्जिद जयपुर - Jama Masjid Jaipur

जामा मस्जिद जयपुर शहर का एक धार्मिक स्थल है। इस मस्जिद को अकबरी मस्जिद भी कहते हैं। यह मस्जिद प्राचीन है। इस मस्जिद का निर्माण राजा भारमल के द्वारा 1569 ईस्वी में मुगल शासक अकबर के आदेश पर करवाया गया था। यह मस्जिद बहुत सुंदर है। मस्जिद में हर शुक्रवार को नमाज अदा की जाती है। मस्जिद के सामने एक छोटा सा जलकुंड है, जो मस्जिद की शोभा बढ़ाता है। यह मस्जिद जयपुर में आमेर में स्थित है। आप जब भी आमेर का किला घूमने के लिए आते हैं, तो इस मस्जिद में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 


लक्ष्मी नारायण मंदिर जयपुर - Laxmi Narayan Mandir Jaipur

लक्ष्मी नारायण मंदिर जयपुर शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह मंदिर बिहारी मंदिर के नाम से भी प्रसिद्ध है। यह मंदिर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण सोलवी शताब्दी के पूर्व में करवाया गया था। इस मंदिर का निर्माण कछवाहा शासक पृथ्वीराज की पत्नी बाला बाई ने करवाया था। यह मंदिर एक ऊंचे चबूतरे पर बना हुआ है। यह मंदिर बलुआ पत्थर से निर्मित है। मंदिर के नीचे विभिन्न कक्ष बने हुए हैं। इस मंदिर में शिखर, गर्भ ग्रह, अंतराल, मंडप, अर्धमंडप, गुंबद आदि से यह मंदिर सुसज्जित है। यह मंदिर विष्णु भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर जयपुर में आमेर किले के पास में स्थित है। जब भी आप आमेर किले में घूमने के लिए जाते हैं। तब आप इस मंदिर में भी घूमने के लिए जा सकते हैं। यह मंदिर बहुत सुंदर है और इस मंदिर की दीवारों में सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है, जो लाजवाब है। 


पन्ना मीणा का कुंड जयपुर - Panna Meena Ka Kund Jaipur

पन्ना मीणा का कुंड जयपुर शहर में स्थित एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक प्राचीन स्मारक है। यहां पर एक प्राचीन कुंड देखने के लिए मिलता है या इसे एक बावली भी कहा जा सकता है। यह बावली बहुत सुंदर है। इस बबली के चारों तरफ सीढ़ियां बनी हुई है और इस बबली के एक तरफ इमारत बनी हुई है।  यह पानी का एक प्राकृतिक जल स्त्रोत है। यह बावली आमेर किले के तरफ जाने वाले रास्ते में स्थित है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। 


श्री अंबिकेश्वर महादेव मंदिर जयपुर - Shri Ambikeshwar Mahadev Temple Jaipur

श्री अंबिकेश्वर महादेव मंदिर जयपुर का पर्यटन स्थल है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर शिव भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इस मंदिर में विराजमान शिवलिंग करीब 5000 साल पुराना है और यह मंदिर करीब 1000 साल पुराना है। मंदिर में सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही लाजवाब है। यह मंदिर आमेर किले में जाने वाले मार्ग में पड़ता है। 


जगत शिरोमणि मंदिर जयपुर - Jagat Shiromani Mandir Jaipur

जगत शिरोमणि मंदिर जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह धार्मिक स्थल है। यह मंदिर श्री कृष्णा और मीराबाई को समर्पित है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर के प्रवेश द्वार में हाथियों की प्रतिमा देखने के लिए मिलती है, जो बहुत ही लाजवाब है। इस मंदिर की बाहरी दीवारों में सुंदर मूर्तिकला देखने के लिए मिलती है। मंदिर के गर्भ गृह में श्री कृष्ण और मीरा जी की बहुत ही आकर्षक मूर्तियां है। 

जगत शिरोमणि मंदिर का निर्माण रानी कनकवती ने करवाया था, जो महाराजा सवाई मानसिंह प्रथम की पत्नी थी। उन्होंने इस मंदिर का निर्माण अपने पुत्र जगत सिंह की याद में करवाया था। इस मंदिर का निर्माण 1599 ईस्वी में हुआ था। आप जब भी जयपुर में आमेर किला घूमने के लिए आते हैं, तो इस मंदिर में भी आप घूमने के लिए आ सकते हैं। 


अनोखी म्यूजियम जयपुर - Anokhi Museum Jaipur

अनोखी म्यूजियम जयपुर का पर्यटन स्थल है। अनोखी म्यूजियम में आपको टेक्सटाइल से संबंधित बहुत सारी वस्तुएं देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर ब्लॉक प्रिंटिंग की हिस्ट्री देखने के लिए आपको मिल जाएगी। यहां पर आप सामान खरीद भी सकते हैं। यहां पर प्राकृतिक रंगों से बने हुए कपड़े मिलेंगे और उनके बारे में आपको जानकारी भी मिलेगी। आमेर किले की तरफ जाने वाले रास्ते में यह संग्रहालय आपको देखने के लिए मिल जाएगा।


सागर झील जयपुर - Sagar Lake Jaipur

सागर झील जयपुर का प्रमुख पर्यटन स्थल है। सागर झील जयपुर में घूमने की जगह है। सागर झील आमेर किले के पीछे स्थित है। यह झील बहुत बड़ी क्षेत्र में फैली हुई है। यह झील अरावली पर्वत श्रेणियों के बीच में स्थित है। यहां पर आपको कालिका माता मंदिर के दर्शन करने के लिए मिल जाते हैं। यहां पर बहुत सारे बंदर भी है। यह जगह शांतिपूर्ण है और यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यह झील जयपुर के आमेर में स्थित है। 


परियों का बाग जयपुर - Pariyon ka bagh jaipur

परियों का बाग जयपुर का पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर बगीचा है। इस बगीचे को परियों का बाग या श्याम बाग के नाम से भी जाना जाता है। इस बगीचे को राजा मानसिंह प्रथम के पुत्र श्याम सिंह द्वारा लगवाया गया था, जिसके कारण इसे श्याम बाग भी कहा जाता है। इस बाग में घने पेड़ पौधे छायादार वृक्ष एवं झाड़ी हैं और फूलों की लताएं भी हैं। इसलिए यह बाग बहुत सुंदर लगता है। यह बाग आमेर किले के पास में  है। आमेर किले में जाने वाले रास्ते में यह बाघ देखने के लिए मिलता है। 


कनक घाटी गार्डन जयपुर - Kanak Ghati Garden Jaipur

कनक घाटी गार्डन जयपुर शहर का एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यह गार्डन जयपुर में आमेर रोड में स्थित है। यह गार्डन बहुत सुंदर है। इस गार्डन में तरह-तरह के स्टेचू देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर श्री कृष्ण जी के बहुत सारे स्टेचू बने हुए हैं। यहां पर श्री कृष्ण जी कालिया नाग पर सवार और गोपियों के कपड़े चुराते हुए देखने के लिए मिलते हैं और रासलीला रचाते हुए भी देखने के लिए मिलते हैं।  इसके अलावा यहां पर चारों तरफ पहाड़ियां और झरने देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर हरियाली है, जो बहुत अच्छी लगती है। यहां पर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर एंट्री फीस एक व्यक्ति की 35 रूपए है। अगर आप जयपुर में आमेर किले घूमने के लिए जा रहे हैं, तो कनक घाटी भी जा सकते हैं। यहां पर पार्किंग का भी अलग शुल्क लगता है।


कनक वृंदावन पार्क जयपुर - Kanaka Vrindavan Park Jaipur

कनक वृंदावन पार्क जयपुर शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। कनक वृंदावन पार्क जयपुर शहर में आमेर किले की तरफ जाने वाली सड़क में स्थित है। यह पार्क अरावली पर्वत श्रेणियों से घिरा हुआ है। इस पार्क में बच्चों के लिए झूले मिलते हैं,  जिसमें बच्चे इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर झरना और जानवरों के स्टेचू देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यहां राधा माधव जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। कनक बाग चारों तरफ पहाड़ियों से घिरा हुआ है और यहां पर सुंदर बगीचा भी है। इस पार्क में प्रवेश शुल्क 25 रूपए लगता है। यह पार्क 17 ईसवी में महाराजा सवाई जय सिंह के द्वारा बनवाया गया था। इस पार्क में आप जन्मदिन और शादी विवाह की पार्टी के लिए बुक कर सकते हैं। यह पार्क बिरला फाउंडेशन के द्वारा मैनेज किया जाता है। 


जल महल जयपुर - Jal Mahal Jaipur

जल महल जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक किला है। यह किला झील के बीच में बना है। इस झील को मान सागर झील कहा जाता है। यह झील अरावली पर्वत श्रेणी से घिरी हुई है। यह झील बहुत बड़े क्षेत्र में फैली हुई है। मानसागर झील के बीच में जल महल बना हुआ है। शाम के समय जलमहल में लाइट चालू होती है, जिससे जल महल और भी सुंदर लगता है। जल महल के सामने बड़ी सी सड़क बनी हुई है। इस सड़क के बाजू में बहुत सारी दुकानें लगती है। शाम के समय यहां पर आप घूमने को आएंगे, तो आपको बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर दिन के समय भी आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर दिन के समय आपको बहुत सारे प्रवासी पक्षी देखने के लिए मिल जाते हैं। यह महल आमेर किले की तरफ जाने वाले रास्ते में स्थित है। 


महारानियों की छतरियां जयपुर - Maharaniyon ki chhatriya jaipur

महारानियों की छतरियां जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर प्राचीन छतरियां देखने के लिए मिलती हैं, जो बहुत ही सुंदर है। यहां पर महारानी जादौन, जो कि महाराजा सवाई माधोसिंह द्वितीय की महारानी थी, कि 5 छतरियां देखने के लिए मिलती है। यह छतरियां गुंबद युक्त है। छतरियां के चारों कोने में गुमटिया भी बनी हुई है। छतरियां के स्तंभों पर फूल पत्तियां और वाद्य यंत्रों की नक्काशी को उकेरा गया है, जो बहुत ही सुंदर लगती है।  

इसके अतिरिक्त यहां पर बुआ भतीजी, जोधा रानी, महारानी चंदवत, महारानी झाली आदि विभिन्न महारानीयों की छतरियां भी देखने लायक है। इन छतरियां के स्तंभों में वाद्य यंत्रों की नक्काशी देखने के लिए मिलती है, जिससे यह पता चलता है, कि तत्कालीन राजा और रानी संगीत के विशेष प्रेमी थे। आप जयपुर जब भी आते हैं, तब यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


गायत्री शक्ति पीठ जयपुर - Gayatri Shakti Peeth Jaipur

गायत्री शक्तिपीठ जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक धार्मिक स्थल है। इस मंदिर में गायत्री माता की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर तालकटोरा झील के पास ही में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। तीज त्योहारों एवं उत्सवों में इस मंदिर को बहुत सुंदर तरीके से सजाया जाता है। यहां पर आप आकर माता के दर्शन कर सकते हैं। 


तालकटोरा झील जयपुर - Talkatora Lake Jaipur

तालकटोरा जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर झील है और जयपुर शहर के बीचो बीच में स्थित है। यह एक आर्टिफिशियल झील है। इस झील को राजामल तालाब भी कहते हैं। यह झील सवाई जयसिंह द्वितीय के द्वारा बनाई गई थी। इस झील को एलीगेटर तालाब भी कहते हैं, क्योंकि इस झील में प्राचीन समय में मगरमच्छ पाले जाते थे। इस झील के बीच में एक सुंदर फव्वारा देखने के लिए मिलता है। यह झील बहुत सुंदर है और आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


ठिकाना - श्री गोविंद देव जी मंदिर जयपुर - Thikana - shri govind dev ji mandir Jaipur

श्री गोविंद देव जी मंदिर जयपुर का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर श्री कृष्ण जी और राधा रानी को समर्पित है। यह मंदिर जयपुर में हवा महल के पास ही में स्थित है। श्री गोविंद मंदिर सिटी पैलेस के परिसर में ही स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर के चारों तरफ बहुत सारी जगह है, जहां पर घुमा जा सकता है। इस मंदिर के नाम पर दो गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड देखने के लिए मिलते हैं। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर बहुत सारे लोग श्री कृष्ण जी और राधा जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। श्री गोविंद मंदिर के पास जय निवास गार्डन देखने के लिए मिलता है। यहां पर बादल महल भी देखने के लिए मिलता है, जो बहुत सुंदर है। बादल महल 2 मंजिला इमारत है। आप यहां पर घूम सकते हैं। 


सिटी पैलेस जयपुर - City Palace Jaipur

सिटी पैलेस जयपुर शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर महल है। इस महल में बहुत सारी जगह है, जहां पर आप घूम सकते हैं। इस महल में आपको बहुत ही सुंदर इमारत देखने के लिए मिलती है। इस इमारत का प्रवेश द्वार बहुत ही सुंदर है। प्रवेश द्वार में सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। यहां पर कांच की भी सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। सिटी पैलेस में आपको संग्रहालय भी देखने के लिए मिलता है। इस संग्रहालय में राजसी वस्तुओं का संग्रह करके रखा गया है। यहां पर आपको बहुत सारी प्राचीन वस्तुएं देखने के लिए मिलती हैं। आपको म्यूजियम में विभिन्न तरह की पालकी देखने के लिए मिलती है, जो प्राचीन समय में उपयोग की जाती थी। इस म्यूजियम में बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह करके रखा गया है।

सिटी पैलेस में आपको दीवान ए आम देखने के लिए मिलेगा। यह बहुत सुंदर है। यहां पर बहुत ही सुंदर कारीगिरी देखने के लिए मिलती है। इसके अलावा सिटी पैलेस में बहुत सारे रेस्टोरेंट है, जहां पर आप जाकर खाना खा सकते हैं। यहां पर मंदिर भी देखने के लिए मिलेगा। यहां पर जो प्रवेश द्वार हैं। वह बहुत ही ज्यादा आकर्षक रहते हैं। आप जब भी जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो सिटी पैलेस में घूमने के लिए जा सकते हैं। 


जंतर मंतर जयपुर - Jantar Mantar Jaipur

जंतर मंतर जयपुर का प्रमुख पर्यटन स्थल है। जंतर मंतर सिटी पैलेस के सामने स्थित है। यहां पर इंडिया की सबसे बड़ी घड़ी देखने के लिए मिलती है। प्राचीन समय में इसका उपयोग करके समय का पता लगाया जाता था। यहां पर आकर आपको बहुत सारे यंत्र देखने के लिए मिलेंगे, जिसमें प्राचीन समय में समय का पता लगाया जाता था और ग्रहों की दिशाओं का भी पता लगाया जाता था।

जंतर मंतर यूनेस्को के वर्ल्ड हेरिटेज साइट में शामिल है। इसका निर्माण राजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने करवाया था। अगर आपको इस जगह के बारे में और अधिक जानकारी चाहिए है, तो आप यहां पर गाइड कर सकते हैं, जो आपको इस जगह के बारे में बहुत अच्छी तरह से समझा सकता है। जंतर मंतर परिसर में आपको एक छोटा सा मंदिर भी देखने के लिए मिलेगा। यह मंदिर भैरव बाबा को समर्पित है। 


हवा महल जयपुर - Hawa Mahal Jaipur

हवा महल जयपुर शहर की एक प्रसिद्ध इमारत है। हवा महल जयपुर में बड़ी चौपड़ के पास में स्थित है। यह इमारत बहुत ही सुंदर है। यह इमारत 5 मंजिला है। इस इमारत में बहुत सारी खिड़कियां बनाई गई है। इन खिड़कियों में रंगीन कांच लगा हुआ है। इस इमारत को बाहर से देखने में यह श्री कृष्ण जी के मुकुट के समान लगती है। इस इमारत को हवामहल इसलिए कहा जाता है, क्योंकि यहां पर प्राचीन समय खिड़कियों के द्वारा ठंडी हवा अंदर आया करते थे और कमरों को ठंडा रखाती थी। इसलिए इस इमारत को हवा महल कहा जाता है। 

हवा महल का उपयोग प्राचीन समय में जो राजघराने की रानियां रहती थी। उनके लिए किया जाता था। राजघराने की रानियों को पर्दे के पीछे रखा जाता था। इसलिए हवामहल का निर्माण किया। इसमें रानियां खिड़की के पास बैठकर रास्ते में निकलने वाले जुलूस या उत्सव को देख सकते थे। 

हवा महल में एंट्री के लिए टिकट लगता है। यहां पर आप आकर घूम सकते हैं। हवा महल में फव्वारा भी है, जो बहुत सुंदर लगता है। इसकी खिड़कियों की बनावट और रंगीन कांच बहुत ही जबरदस्त लगते हैं। हवा महल में एक छोटा शीश महल भी है, जो बहुत जबरदस्त लगता है। यह पूरा कांच से सजा हुआ है। हवा महल के बाहर आपको बहुत सारी दुकानें देखने के लिए मिलती है, जहां पर आप तरह-तरह के सामान खरीद सकते हैं।  आप जयपुर आते हैं, तो आपको हवा महल जरूर घूमने आना चाहिए। 


ईसरलाट जयपुर - Isarlat jaipur

ईसरलाट जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन आकर्षण स्थल है।  ईसरलाट को महाराजा ईश्वरी सिंह ने बनवाया था। ईसरलाट जयपुर शहर की सबसे ऊंची इमारत है। यह इमारत सात मंजिला है। इस इमारत का निर्माण महाराजा ईश्वरी ने अपने विजय स्वरूप करवाया था। 

जयपुर नगर के निर्माता महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय के जेष्ठ पुत्र सवाई ईश्वरी सिंह एवं द्वितीय पुत्र सवाई माधो सिंह प्रथम बीच जयपुर का महाराजा बनने के लिए 1745 में युद्ध हुआ। इसमें सवाई ईश्वरी सिंह की जीत हुई और उन्होंने अपनी जीत के स्वरूप में ईसरलाट का निर्माण करवाया था। 

ईसरलाट से आप जयपुर शहर का सुंदर नजारा देख सकते हैं। ईसरलाट जयपुर की वास्तुकला का एक अद्भुत नमूना है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा और आप जयपुर घूमने आते हैं, तो आपको यहां पर जरूर आना चाहिए। यह जयपुर की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। 


सेंट एंड्रयूज चर्च जयपुर - St. Andrews Church Jaipur

सेंट एंड्रयूज चर्च जयपुर शहर का एक पर्यटन स्थल है। यह एक चर्च है। यह चर्च ईसाइयों का प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह चर्च प्राचीन है। देखने में बहुत ही सुंदर लगता है। 

सेंट एंड्रयूज चर्च राजस्थानी स्टाइल में बना हुआ है। इस चर्च में यूरोपियन और गोथिक शैली भी देखने के लिए मिलती है। यह एक प्राचीन चर्च है। यह चर्च बहुत सुंदर है। चर्च के अंदर बहुत बड़ा एरिया है, जहां पर बैठकर आप प्रार्थना कर सकते हैं। यहां पर पार्किंग के लिए भी अच्छी जगह है। यहां पर आकर अच्छा लगता है। 


द्रव्यवती बर्ड पार्क जयपुर - Dravyavati Bird Park Jaipur

द्रव्यवती बर्ड पार्क जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। द्रव्यवती बर्ड पार्क एक बहुत सुंदर पार्क है। यहां पर आप प्रकृति का सुंदर नजारा देख सकते हैं। यहां पर पंप हाउस कैफे भी देखने के लिए मिलता है। यहां पर म्यूजियम है, जहां पर आप तरह-तरह की बर्ड्स के बारे में जान सकते हैं। यहां पर आप विदेशी पक्षियों की बहुत सारी प्रजातियां देख सकते हैं। यहां पर बच्चों के खेलने के लिए भी पार्क है। आप यहां पर आकर मॉर्निंग वॉक योगा और मेडिटेशन कर सकते हैं। 

द्रव्यवती पार्क में आपको बदक और मोर देखने के लिए मिलेगी, जो बहुत ही सुंदर लगती हैं। यह पार्क सुव्यवस्थित तरीके से बना हुआ है। यहां पर चारों तरफ हरियाली है और फूल के पौधे लगे हुए हैं, जो आपका माइंड फ्रेश कर देंगे। आप यहां पर आकर अच्छा समय बिता सकते हैं। यह जयपुर शहर की सबसे अच्छी घूमने वाली जगह है। 


राम निवास गार्डन जयपुर - Ram Niwas Garden Jaipur

राम निवास गार्डन जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। राम निवास गार्डन एक ऐतिहासिक एवं प्राचीन गार्डन है। इस गार्डन का निर्माण राजा सवाई सिंह ने करवाया था। यह गार्डन जयपुर शहर के बीचो बीच बना हुआ है। यह गार्डन बहुत बड़े एरिया में फैला हुआ है। यह गार्डन करीब 78 एकड़ में फैला हुआ है। 

राम निवास गार्डन में देखने के लिए बहुत सारी जगह है। इस गार्डन में बहुत सारे सुंदर फव्वारे देखने के लिए मिलते हैं। इस गार्डन में रोज गार्डन बना हुआ है, जिसमें तरह तरह के गुलाब देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर छतरियां देखने के लिए मिलती हैं, जो प्राचीन है। यहां पर सावन भादो देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर है। यहां पर जोगिंग ट्रैक बना हुआ है। जहां पर आप सुबह के समय आकर घूमने का मजा ले सकते हैं। वैसे यहां पर किसी भी समय आ कर घूम सकते हैं। 

राम निवास गार्डन में प्रवेश के लिए टिकट लगता है। यहां पर 20 रूपए एक व्यक्ति का लगता है। आप यहां पर सुबह 9:30 बजे से रात के 8:30 बजे तक किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यह गार्डन अल्बर्ट हॉल म्यूजियम के पास में स्थित है। यह जयपुर शहर की सबसे अच्छी जगह है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


जयपुर जू - Jaipur Zoo

जयपुर जू जयपुर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। जयपुर जू को जयपुर चिड़ियाघर के नाम से भी जाना जाता है। जयपुर जू जयपुर शहर में अल्बर्ट हॉल म्यूजियम के पास स्थित है। यहां पर आपको विभिन्न तरह की चिड़िया एवं सरीसृप देखने के लिए मिल जाएंगे। यहां पर आप आकर इन जानवरों को बहुत ही नजदीक से देख सकते हैं। 

जयपुर चिड़ियाघर में आपको मगरमच्छ, ऑस्टरिच, मोर, कछुए, बदक, बंदर, हिरण और बहुत सारे प्रकार की चिड़िया देखने के लिए मिल जाएंगे। यहां पर पहले टाइगर और लायन भी देखने के लिए मिल जाते थे। मगर अभी इन्हें नाहरगढ़ वन्य जीव अभ्यारण में शिफ्ट कर दिया गया है। मगर आप यहां पर चिड़िया और सरीसृप की बहुत सारी प्रजातियां देख सकते हैं। 

जयपुर चिड़ियाघर में प्रवेश के लिए शुल्क लगता है। यहां पर एक भारतीय व्यक्ति का 22 रूपए लगता है और विदेशी व्यक्ति का 152 रुपए लगता है। कैमरा का एक्स्ट्रा चार्ज लिया जाता है। यहां पर गर्मियों के समय 8:30 बजे से 5:30 बजे तक खुला रहता है और ठंड के समय 9:00 से 5:00 बजे तक खुला रहता है। आप जब भी जयपुर घूमने के लिए आते हैं, जयपुर जू में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 


अल्बर्ट हॉल म्यूजियम जयपुर - Albert Hall Museum Jaipur

अल्बर्ट हॉल म्यूजियम जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह संग्रहालय जयपुर शहर के बीचोबीच स्थित है। यह संग्रहालय प्राचीन बिल्डिंग में स्थित है। यह बिल्डिंग का डिजाइन भी बहुत सुंदर है। यहां पर बाहर बहुत सारे कबूतर देखने के लिए मिलते हैं। इन कबूतरों को दाना दिया जाता है, जिससे यहां पर ढेर सारे कबूतर आते हैं और आप यहां पर बहुत ही मस्त फोटोग्राफी कर सकते हैं। यहां पर बहुत सारे फोटो शूट भी होते हैं। 

अल्बर्ट हॉल म्यूजियम की नींव महारानी विक्टोरिया के पुत्र "प्रिंस ऑफ वेल्स" अल्बर्ट एडवर्ड 1876 ईसवी में जयपुर आगमन के दौरान रखी गई थी। तब यह निर्धारित नहीं था, कि इस भवन का निर्माण किस लिए किया जाएगा। इस भवन का सांस्कृतिक और शैक्षणिक उपयोग करने या इसके हॉल जन उपयोग हेतु काम में लाने के कुछ सुझाव अवश्य थे। 

अल्बर्ट हॉल संग्रहालय में आपको विभिन्न तरह के हथियार, प्राचीन मूर्तियां, जमीन में बिछाने वाली कालीन, चीनी मिट्टी के बर्तन, तलवार, प्राचीन बर्तन, मूर्तियों, हिंदू देवी देवताओं की मूर्तियों, जैन मुनियों की मूर्तियों, प्राचीन ममी, गुलदस्ता बहुत सारी वस्तुओं का संग्रह देखने मिलेगा। आप जब भी जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो इस संग्रहालय में घूमने के लिए आ सकते हैं। 


नेहरू गार्डन जयपुर - Nehru Garden Jaipur

नेहरू गार्डन जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक सुंदर बगीचा है। यह बगीचा अल्बर्ट हॉल म्यूजियम के पीछे साइड स्थित है। यह बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। इस बगीचे का नाम पंडित जवाहरलाल नेहरू के नाम पर रखा गया है। वह हमारे देश के पहले प्राइम मिनिस्टर थे। 

नेहरू गार्डन में नेहरू जी की मूर्ति देखने के लिए मिलते हैं। नेहरू जी के मूर्ति के सामने ही रोज गार्डन बना हुआ है, जो बहुत सुंदर है। इस रोज गार्डन में विभिन्न तरह के रोज लगाए गए हैं। यहां पर आप गार्डन में घूम सकते हैं। यहां पर कसरत करने के लिए बहुत सारी मशीनें है। पार्किंग के लिए बहुत बड़ा स्पेस है और यहां पर कॉफी हाउस भी है, जहां पर आप चाय या कॉफी इंजॉय कर सकते हैं। यह जयपुर में घूमने की सबसे अच्छी जगह है। 


सेंट्रल पार्क जयपुर - Central Park Jaipur

सेंट्रल पार्क जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। सेंट्रल पार्क जयपुर शहर का सबसे बड़ा पार्क है। इस पार्क में जॉगिंग ट्रेक 4 किलोमीटर लंबा है। यहां पर आपको म्यूजिकल फाउंटेन भी देखने के लिए मिलता है। सेंट्रल पार्क में आपको पत्थर के स्टैचू देखने के लिए मिलते हैं। यह बहुत ही सुंदर है। सेंट्रल पार्क जयपुर डेवलपमेंट अथॉरिटी के द्वारा बनाया गया है। यह पार्क जयपुर शहर के बीचों-बीच स्थित है। इसलिए इस पार्क को सेंट्रल पार्क के नाम से जाना जाता है। यहां पर आप विभिन्न तरह की देसी विदेशी चिड़िया को देख सकते हैं। 

सेंट्रल पार्क में तिरंगा झंडा भी देखने के लिए मिलता है। यह तिरंगा झंडा बहुत ही बड़ा है। यह तिरंगा झंडा 206 फीट ऊंचा है। तिरंगा 28 फीट चौड़ा और 72 फीट लंबा है। यह तिरंगा पूरे भारत का सबसे बड़ा तिरंगा है। 

सेंट्रल पार्क में रामबाग गोल्फ क्लब देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर गोल्फ का भी मजा ले सकते हैं। आपको सेंट्रल पार्क में प्रवेश करने के लिए बहुत सारे गेट मिल जाते हैं और गेट के पास में ही आपको पार्किंग की व्यवस्था मिल जाती है। पार्क में प्रवेश के लिए  टाइमिंग 5:00 बजे से 8:00 बजे तक है। आप जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको सेंट्रल पार्क जरूर आना चाहिए। यह जयपुर में घूमने लायक जगह है। 


दिगंबर जैन मंदिर - नासिया भट्टारक जी जयपुर - Digambar Jain Temple - Nasiya Bhattarak Ji Jaipur

नासिया भट्टारक जयपुर का एक पर्यटन स्थल है। यह एक जैन मंदिर है। यह आदिनाथ भगवान का मंदिर है। यहां पर आदिनाथ की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। इसके अलावा यहां पर जैन लोगों के ठहरने के लिए और खाने के लिए उत्तम व्यवस्था है। यहां पर भोजशाला भी है, जहां पर बहुत अच्छा भोजन मिलता है। यह भोजन सात्विक रहता है और स्वादिष्ट रहता है। 

यह जैन मंदिर जयपुर शहर के सेंट्रल पार्क के पास ही में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। इस मंदिर में पार्किंग की भी अच्छी व्यवस्था है। 


बीएम बिरला तारामंडल जयपुर - BM Birla Planetarium Jaipur

बीएम बिरला तारामंडल जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। बच्चों के घूमने के लिए एक बहुत ही बढ़िया जगह है। यहां पर ग्रहों एवं तारों के बारे में जानकारी मिलती है। हमारे मिसाइल और रॉकेट इन सभी के बारे में जानकारी मिलती है। आप यहां पर हमारे सौरमंडल के बारे में भी जान सकते हैं। यहां पर बच्चों को बहुत मजा आता है। यहां पर एक प्रोग्राम भी होता है, जिसमें हमारे सौरमंडल और ग्रहों के बारे में जानकारी दी जाती है। 

बिरला तारामंडल पर आपको बहुत सारे ग्रहों की तस्वीरें देखने के लिएमिलेगी, यहां आपको मंगल ग्रह की तस्वीर देखने मिलेगी, कि मंगल ग्रह की सतह किस तरह की है। यहां पर आप जाकर बहुत सारी जानकारी हासिल कर सकते हैं। यहां पर एंट्री फीस 60 रूपए है। यहां पर कैफिटेरिया भी है, जहां पर आपको खाने के बहुत सारे आइटम मिल जाते हैं। यहां पर आपको बीएम बिरला साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर और बिरला ऑडिटोरियम भी देखने के लिए मिलता है। आप यहां पर भी घूम सकते हैं। आप जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको यहां पर जरूर घूमने आना चाहिए। 


राजमंदिर जयपुर - Raj Mandir Jaipur

राजमंदिर जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक सिनेमाघर है। यह दुनिया का तीसरा सबसे मनोरंजक सिनेमाघर है। यह इंडिया का पहला मनोरंजक सिनेमाघर है। इस सिनेमा घर का डिजाइन भी कुछ अलग प्रकार का है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं और साथ में मूवी का मजा भी ले सकते हैं। यहां पर आपको बहुत सारी मूवी की जानकारी भी मिलेगी। यह सिनेमाघर सबसे पुराना है। 

राज मंदिर सिनेमा घर में बहुत बड़ी बड़ी हस्तियों आई है। श्री राज कपूर जी, एलके आडवाणी जी, गायत्री देवी जी, अमिताभ बच्चन जी, अशोक गहलोत जी, सुभाष घई जी, यश चोपड़ा जी जैसी महान हस्तियां आई है। यह सिनेमाघर पूरी दुनिया के 10 मनोरंजक सिनेमाघर में से एक है। यह जयपुर शहर की देखने लायक जगह है और आप जयपुर आते हैं, तो यहां पर आपको जरूर घूमने आना चाहिए। 


अमर ज्योति जवान जयपुर - Amar Jyoti Jawan Jaipur

अमर ज्योति जवान जयपुर शहर का एक पर्यटन स्थल है। अमर ज्योति जवान हमारे देश के लिए शहीद हुए वीर जवानों को याद करने के लिए बनाया गया है। यहां पर वीर जवानों को याद करते हुए अमर ज्योत जलाई गई है। यह जोत हमेशा जलती रहती है। यहां पर आपको बहुत ही सुंदर स्ट्रक्चर देखने के लिए मिलेगा, जो पिंक कलर के पत्थर से बना हुआ है। यह बहुत ही सुंदर लगता है। आप यहां पर आते हैं, तो देश भक्ति की भावना से भर जाएंगे। आप जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आप यहां पर जरूर आए। 


नेहरू बाल उद्यान जयपुर - Nehru Bal Udyan Jaipur

नेहरू बाल उद्यान जयपुर शहर का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। नेहरू बाल उद्यान में आपको रोज गार्डन, हर्बल प्लांट गार्डन, खुशबू वाले पौधों का गार्डन देखने के लिए मिलता है। यहां पर आपको डॉल्फिंन फव्वारा देखने के लिए मिलेगा। यहां पर बच्चों के लिए बहुत सारे झूले लगाए गए हैं, जिसमें बच्चे लोग बहुत एंजॉय करते हैं। यहां पर फूलों के भी बहुत सारे पौधे लगाए गए हैं, जिसे यहां का माहौल बहुत ही अच्छा लगता है। यह उद्यान जयपुर विकास प्राधिकरण के द्वारा बनाया गया है और इसे मैनेज भी जबलपुर विकास प्राधिकरण के द्वारा किया जाता है। 

नेहरू बाल उद्यान में आप टॉय ट्रेन का मजा ले सकते हैं। यह बच्चों के लिए बहुत ही मजेदार होता है। टॉय ट्रेन में घूमने का 10 रूपए और 15 रूपए लगता है। यहां पर बच्चों की हाइट के अनुसार पैसे लिए जाते हैं। इसके अलावा यहां पर बोटिंग की सुविधा उपलब्ध है, जहां पर आप वोट राइट का मजा ले सकते हैं। यहां पर तालाब में आपको बदक भी देखने के लिए मिलती है। बोट राइडिंग के लिए दो व्यक्ति जा सकते हैं। आप जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो नेहरू बाल उद्यान में भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यह एक यह जयपुर शहर की सबसे अच्छे जगहों में से एक है। 


कुलिश स्मृति वन जयपुर - Kulish smriti van jaipur

स्मृति वन जयपुर शहर का एक बायोडायवर्सिटी पार्क है। यह पार्क बहुत ही सुंदर है। चारों तरफ पेड़ पौधे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर सुबह के समय घूमने के लिए आया जा सकता है। वैसे आप यहां पर कभी भी घूमने के लिए आ सकते हैं। 

कुलिश स्मृति वन पार्क जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह कपूर चंद्र कुलिश की याद में बनाया गया है। पार्क में आपको मोर भी देखने के लिए मिल जाता है। यहां पर पौधशाला बनाई गई है। यहां पर चारों तरफ प्राकृतिक व्यू है। यहां पर सुबह के समय मॉर्निंग वॉक के लिए बहुत सारे लोग आते हैं। यहां का माहौल बहुत अच्छा है। यहां आकर बहुत अच्छा लगता है। 


जवाहर सर्कल पार्क जयपुर - Jawahar Circle Park Jaipur

जवाहर सर्कल पार्क जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह पार्क जयपुर शहर का सबसे भीड़भाड़ वाला पार्क है। यह पार्क सबसे बड़ा हाईवे सर्कुलर पार्क है। इस पार्क में बहुत सारे आकर्षण स्थल मौजूद है। यहां पर आपको म्यूजिकल फाउंटेन देखने के लिए मिल जाता है। रोज गार्डन देखने के लिए मिल जाता है। यह पर बहुत सारे झूले देखने के लिए मिलते हैं और यहां पर जोगिंग ट्रैक भी देखने के लिए मिलता है। पार्क में मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर राम भगवान और शिव भगवान जी को समर्पित है। 

जवाहर सर्कल पार्क जयपुर डेवलपमेंट अथॉरिटी के द्वारा बनाया गया है। यह पार्क बहुत सुंदर है और पत्रिका गेट के पास यहां पर इमारत का बहुत ही सुंदर स्ट्रक्चर देखने के लिए मिलता है। पत्रिका गेट के पास बहुत सारे खाने पीने के ठेले लगाए जाते हैं, जहां पर आप तरह-तरह के खाने को इंजॉय कर सकते हैं। यहां पर इमारत का जो स्ट्रक्चर बनाया गया है। वह भी शानदार है और इसमें बहुत ही सुंदर नक्काशी देखने के लिए मिलती है। रंग-बिरंगे कलर  से इस इमारत को सजाया गया है। आप जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको जवाहर सर्कल पार्क जरूर घूमने के लिए आना चाहिए। यह बहुत ही सुंदर है। 


नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क जयपुर - Nahargarh Biological Park Jaipur

नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको बहुत सारे जंगली जानवर देखने के लिए मिलेंगे। यह जंगली जानवर अपने प्राकृतिक आवास में रखे गए हैं। यहां पर आपको शेर, हिरण, बारहसिंघा, भालू, मगरमच्छ, शुतुरमुर्ग, हिप्पोपोटामस, बब्बर शेर, जंगली बिल्ली, लकड़बग्घा, बाघ, सफेद बाघ, काला हिरण, चीतल, जैसे जानवर देखने के लिए मिलेंगे। आप यहां पर जानवरों को करीब से देखेंगे, जो एक अलग एक्सपीरियंस रहता है। आपको यहां पर बहुत मजा आएगा। 

नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क के अंदर आपको कैंटीन में मिलेगी, जहां पर आपको चाय, कॉफी, कोल्ड कॉफी, समोसे कचोरी आदि खाने के लिए मिल जाएंगे। यहां पर टिकट का प्राइस 50 रूपए भारतीय व्यक्तियों का लगता है और विदेशी व्यक्तियों का 100 रूपए लगता है। यहां पर पार्किंग का चार्ज अलग है। आप अगर जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको यहां पर जरूर आना चाहिए। क्योंकि यहां पर आपको आकर बहुत सारे जानवर देखने के लिए मिलेंगे। 


हथनी कुंड जलप्रपात जयपुर - Hathni Kund Falls Jaipur

हथनी कुंड जलप्रपात जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक प्राकृतिक स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है। यह झरना घने जंगलों के बीच में स्थित है। इस झरने तक पहुंचने के लिए आपको ट्रैकिंग करके इस जगह पर आना पड़ता है ,यह जगह बहुत सुंदर है। चारों तरफ से हरियाली से घिरी हुई है। यहां पर पहाड़ियों से बहता हुआ झरना बहुत ही सुंदर लगता है। 

हथिनी कुंड के पास हनुमान मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। हनुमान मंदिर बहुत ही सुंदर लगता है। आप यहां पर बरसात के समय घूमने के लिए आ सकते हैं। आप हथनी कुंड जलप्रपात में नाहरगढ़ किले से या चरण मंदिर से ट्रैकिंग करते हुए पहुंच सकते हैं। रास्ते में आपको बहुत सारे जंगली जानवर भी देखने के लिए मिल सकते हैं। यहां पर बरसात के समय आप आ सकते हैं, क्योंकि बरसात के समय भी यहां पर आपको जलप्रपात देखने के लिए मिलेगा। यहां पर शंकर जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलेगा। यह जगह सुंदर है। अगर आप जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको यहां पर जरूर आना चाहिए। 


गैटोर की छतरियां जयपुर - Gaitor ki chhatris Jaipur

गैटोर की छतरियां जयपुर शहर की एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको सुंदर छतरियां देखने के लिए मिलती है। यह छतरियां कछवाहा और राजपूत राजाओं की समाधिया है। इन छतरियां का डिजाइन बहुत ही सुंदर है। यह छतरियां 18वीं शताब्दी में बनाई गई हैं। यहां पर आपको गुंबद आकर छतरियां देखने के लिए मिलेंगी, जो बहुत ही सुंदर दिखती हैं। यहां पर सुंदर गार्डन भी बना हुआ है, जो आप देख सकते हैं। यहां पर आकर आपको अच्छा लगेगा। यहां पर फोटो बहुत ही मस्त आती है। 


श्री गढ़ गणेश मंदिर जयपुर - Shri Garh Ganesh Mandir Jaipur

श्री गढ़ गणेश मंदिर जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह धार्मिक स्थल है। यह मंदिर गणेश जी को समर्पित है। मंदिर में गणेश जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा विराजमान है। यह  मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर में जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर में पहुंचकर चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। 

श्री गढ़ गणेश मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर की बनावट किसी महल जैसी लगती है। यहां से जल महल का और नाहरगढ़ फोर्ट का बहुत ही सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर महाराजा जयसिंह द्वितीय ने बनाया था। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको अच्छा लगेगा। यह जयपुर में घूमने लायक जगह है। 


बिरला मंदिर जयपुर - Birla Mandir Jaipur

बिरला मंदिर जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह मंदिर विष्णु भगवान को समर्पित है। मंदिर में विष्णु भगवान जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर पूरी तरह सफेद संगमरमर से बना हुआ है। मंदिर के बाहर गार्डन बना हुआ है। गार्डन में शंकर जी की मूर्ति देखने के लिए मिलती है। आप मंदिर में घूमने के लिए आते हैं, तो आप गार्डन में भी बैठ सकते हैं। 

बिरला मंदिर में आपको बिरला संग्रहालय भी देखने के लिए मिलता है, जिसमें बहुत सारी पुरानी वस्तुओं का संग्रह और बिरला फैमिली के बारे में जानकारी मिलती है। बिरला मंदिर के गर्भ गृह में विष्णु भगवान जी और लक्ष्मी माता की सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। आप मंदिर के अंदर बैठ सकते हैं। यहां पर बहुत अच्छा लगता है। बिरला मंदिर के बाहर सड़क में बहुत सारे खाने-पीने के ठेले देखने के लिए मिलते हैं, जहां से आप चाट फुलकी का आनंद ले सकते हैं। बिरला मंदिर में सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। यहां पर पार्किंग, पीने के लिए पानी, बाथरूम की सुविधा उपलब्ध है। 


मोती डूंगरी मंदिर जयपुर - Moti Dungri Temple Jaipur

मोती डूंगरी मंदिर जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। मगर यह मंदिर प्राइवेट प्रॉपर्टी है। यह मंदिर मोती डूंगरी पहाड़ी पर स्थित है। मोती डूंगरी किले के अंदर मोती डूंगरी मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर गणेश भगवान जी को समर्पित है। यह मंदिर बहुत प्राचीन है। इस मंदिर में आप साल में एक बार ही घूमने के लिए आ सकते हैं। यह मंदिर शिवरात्रि के समय आम लोगों के लिए खोला जाता है। 

मोती डूंगरी मंदिर में गणेश जी और शिव जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह जो महल है। वह महारानी गायत्री देवी का है। यह महल बहुत खूबसूरत है और यह महल बाहर से देखने में बहुत ही अच्छा दिखता है। मोती डूंगरी किले का कुछ भाग आपको बिरला मंदिर से देखने के लिए मिल जाता है। 


खोले के हनुमान जी का मंदिर जयपुर - Khole ke hanumanji ka mandir jaipur

खोले के हनुमान जी का मंदिर जयपुर शहर का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यह एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर हनुमान जी को समर्पित है। मंदिर में हनुमान जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर हनुमान जी की प्रतिमा हल्की सी टेढ़ी है। यहां पर बहुत सारे लोग प्रतिमा के दर्शन करने के लिए आते हैं। 

खोले के हनुमान मंदिर दिल्ली जयपुर हाईवे सड़क पर पड़ता है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यहां पर और भी मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर शंकर जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है और गणेश जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। शंकर जी और गणेश जी की प्रतिमा यहां पर बहुत सुंदर है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। जयपुर शहर में यह घूमने लायक जगह है। 


श्री गलता जी मंदिर जयपुर - Shri Galta Ji Mandir Jaipur

श्री गलता पीठ मंदिर जयपुर शहर का एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह जयपुर शहर का प्रमुख पर्यटन स्थल है। इस मंदिर को मंकी टेंपल के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि इस मंदिर में बहुत सारे बंदर हैं। यह मंदिर श्री राम जी, माता सीता जी और लक्ष्मण जी को समर्पित है। मंदिर के गर्भ गृह में श्री राम जी, माता सीता जी और लक्ष्मण जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर अरावली पर्वत श्रेणियों में स्थित है। पहाड़ियों के बीच में इस मंदिर को इस तरह बनाया गया है, कि यह मंदिर बहुत ही मनमोहक लगता है। 

श्री गलता पीठ मंदिर पर एक जलकुंड भी देखने के लिए मिलता है, जो बहुत ही सुंदर लगता है। यहां पर ढेर सारे बंदर है। यहां पर लोग बंदरों को केला एवं अन्य खाद्य सामग्री खिलाते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर प्रवेश का शुल्क लिया जाता है। यहां पर पार्किंग का भी शुल्क लिया जाता है। यहां पर गलताजी पार्क और हनुमान जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। आप जब भी जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। 


सिसोदिया रानी का बाग जयपुर - Sisodia Rani Ka Bagh Jaipur

सिसोदिया रानी का बाग जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यहां पर आपको एक सुंदर महल और बगीचा देखने के लिए मिलता है। यह महल और बगीचा महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय की पत्नी मानकुंवारी ने बनवाया था, जो उदयपुर की राजकुमारी थी। विवाह की शर्त के अनुसार उन्हें पटरानी प्रधान रानी को दर्जा प्राप्त था। कहते हैं कि इस महल में राज राजकुमार माधो सिंह का जन्म हुआ था, जो 1750 ईस्वी में जयपुर के राजा बने थे। 

सिसोदिया बाग में फव्वारे शाम के समय बहुत खूबसूरत लगते हैं। शाम के समय इन फव्वारे में कलरफुल लाइट जलती है। जिससे यह फव्वारे बहुत ही ज्यादा आकर्षक लगते हैं। यहां बगीचा अरावली पर्वत श्रेणियों से घिरा हुआ है। इस बगीचे में आपको सुंदर इमारतों और फव्वारे देखने के लिए मिलते हैं। सिसोदिया बाग में प्रवेश के लिए 50 रूपए का शुल्क लगता है। आप जयपुर जब भी घूमने आते हैं। तब यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


चूलगिरी जैन मंदिर जयपुर - chulgiri jain temple jaipur

चूलगिरी जैन मंदिर जयपुर शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह जैन धार्मिक स्थल है। यह मंदिर अरावली की पहाड़ियों पर स्थित है। यह मंदिर सफेद मार्बल से बना हुआ है। मंदिर बहुत सुंदर है। इस मंदिर में घूमने के लिए आप आ सकते हैं। यहां पर बरसात के समय बहुत अच्छा लगता है। चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है। अगर आप बरसात के समय जयपुर घूमने के लिए आते हैं, तो आपको यहां पर जरूर आना चाहिए। 



जयपुर में घूमने का सही समय - Best time to visit Jaipur

जयपुर में घूमने का सही समय सितंबर से मार्च तक रहता है, क्योंकि इस समय जयपुर शहर ठंडा रहता है और इस समय आप जयपुर शहर में आराम से घूम सकते हैं। वैसे आप जयपुर शहर में कभी भी घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर गर्मी के समय घूमना थोड़ा रिस्की हो जाता है, क्योंकि गर्मी में आप डिहाइड्रेशन के शिकार हो सकते हैं। मगर आप अगर बरसात में और ठंड के समय घूमेंगे, तो वह आपके लिए बढ़िया रहेगा और आप आराम से जयपुर की हर जगह में घूम सकते हैं। 


जयपुर में घूमने वाली जगह के नाम या जयपुर के पर्यटन स्थलों की सूची - Jaipur Tourist Place Name or Jaipur other Tourist Places List


श्री निवास के बालाजी जयपुर
कानोता बांध जयपुर
झालाना लेपर्ड सफारी पार्क जयपुर
संघी जी की नसियां खानियां जयपुर - श्री दिगंबर जैन नसियां मंदिर
गोलछा गार्डन जयपुर
नाहर सिंह बाबा मंदिर आमागढ़ जयपुर
विद्याधर बाग जयपुर
दरगाह हजरत दरबार अली शाह जयपुर
मद्रासी बाबा का आश्रम या बगीची जयपुर
कदंब कुंड जयपुर
तिलक पार्क जयपुर 
शिवाजी पार्क जयपुर
धनुषधारी हनुमान मंदिर जयपुर
भूतेश्वर नाथ मंदिर सिसयावास जयपुर
मां जी की बावड़ी जयपुर
इस्कॉन मंदिर जयपुर
लैंडस्केप पार्क और द्रव्यवती रिवर फ्रंट जयपुर
एलिस गर्ग राष्ट्रीय शंखालय जयपुर - भारत का एकमात्र शंखालय  
फन किंग्डम एम्यूजमेंट पार्क जयपुर
जवाहर कला केंद्र जयपुर
रत्न एवं आभूषण संग्रहालय जयपुर
सप्त शक्ति नेचर पार्क जयपुर
श्री राधा दामोदर मंदिर जयपुर
पॉन्ड्रिक पार्क जयपुर 
श्री संजय शर्मा संग्रहालय एवं शोध संस्थान जयपुर
श्री नटवर जी का मंदिर कनक घाटी जयपुर
झारखंडी महादेव मंदिर आमेर जयपुर
एलेफंटास्टिक सेंचुरी जयपुर 
चौहड़े के बालाजी आमेर जयपुर
कुंतलगढ़ का किला आमेर जयपुर
श्री नरसिंह देव जी मंदिर आमेर जयपुर
श्री दिगंबर जैन मंदिर आमेर जयपुर
सूर्य मंदिर आमेर जयपुर
श्री वाराही देवी मंदिर आमेर जयपुर




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का