सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आप हमारी मदद करना चाहते हैं, तो नीचे दिए लिंक से शॉपिंग कीजिए।

धार जिले के पर्यटन स्थल - Dhar Tourist Places

धार जिले के दर्शनीय स्थल -  Places to visit in dhar / Dhar picnic spot / Dhar attraction place


धार में घूमने की जगह 
Dhar mein ghumne wali jagah


धार का किला - Dhar Fort

धार का किला धार जिले का एक मुख्य पर्यटन स्थल है। धार का किला एक ऐतिहासिक किला है। धार शहर राजा भोज की नगरी थी। धार का किला धार जिले में बीचो-बीच स्थित है। यह किला ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यह किला ऊंचाई पर बना होने के कारण धार शहर का सुंदर दृश्य इस किले से देखने के लिए मिलता है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। किले के अंदर म्यूजियम भी देखने के लिए मिलता है। इस म्यूजियम में बहुत सारे वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलता है। धार का किला बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। धार किला का निर्माण मोहब्बत तुगलक ने 13वीं शताब्दी में करवाया था। इस किले में मराठा सम्राट बाजीराव द्वितीय का जन्म हुआ था। धार का किला लाल पत्थरों से बना हुआ है। हिंदू, मुगल और अफगान वास्तुकला का मिश्रण इस किले में देखने के लिए मिलता है। 

धार किले के अंदर देखने के लिए बहुत सारी जगह है। यहां पर आपको खरबूजा महल और शीश महल देखने के लिए मिलता है। यहां पर पुरातत्व संग्रहालय भी देखने के लिए मिलता है। धार किले के अंदर बहुत सारे जलाशय भी है, जो प्राचीन है। धार किले में खरबूजा महल बहुत प्रसिद्ध है। इस महल का आकार पूर्व में खरबूजे की तरह था। इसलिए इस महल का नाम खरबूजा महल पड़ा। यह दो मंजिला महल है और यह महल बहुत सुंदर है। खरबूजा महल में पेशवा माधवराव प्रथम की पत्नी आनंदीबाई ने यहां पर 24 जनवरी सन 1974 को एक शिशु को जन्म दिया, जो बाद में पेशवा बाजीराव द्वितीय के नाम से प्रसिद्ध हुआ था। आप जब भी धार जिले में आते हैं, तो आप धार का किला घूमने जरूर आना चाहिए। 


मांडव या मांडू - Mandav or Mandu

मांडव या मांडू के नाम से प्रसिद्ध यह जगह धार जिले का एक प्रमुख पर्यटन आकर्षण स्थल है। मांडू शहर को जॉय सिटी के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर प्राचीन इमारतें देखने के लिए मिलती है। यह पहाड़ी क्षेत्र है और यहां पर बहुत सारी प्राचीन इमारतें देखने के लिए मिलती है। यहां पर झरने, गुफाएं, मंदिर, कब्र, संग्रहालय देखने के लिए मिलते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर घूमने के लिए आपको 1 दिन का समय चाहिए। तब आप इन सभी जगह को घूम सकते हैं। यहां पर आप रूपमती मंडप, बाज बहादुर का महल, जाली महल, नीलकंठ महादेव मंदिर, दरिया खान का मकबरा, 56 महल, मांडवगढ़ सुपार्श्वनाथ मंदिर, गधा शाह का महल, हिंडोला महल, जहाज महल, गढ़ी दरवाजा, भंगी दरवाजा, महादेव मंदिर देखने के लिए मिलेगा। इसके अलावा भी और जगह यहां पर है, जो आप देख सकते हैं। 


श्री सिद्धिविनायक बड़ा गणपति मंदिर नौगांव धार - Shri Siddhivinayak Bada Ganpati Temple Naogaon Dhar

श्री सिद्धिविनायक बड़ा गणपति मंदिर धार जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यहां पर गणपति जी का मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर गणपति जी की बहुत ही सुंदर प्रतिमा विराजमान है। यह मंदिर झील के किनारे स्थित है। झील का दृश्य भी यहां पर बहुत शानदार रहता है। शाम के समय यहां पर बहुत सारे लोग गणपति जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर अन्य मंदिर भी देखने के लिए मिलते हैं। 


माँ गढ़ कालिका मंदिर धार - Maa Garh Kalika Temple Dhar

गढ़ कालिका मंदिर धार जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर काली माता को समर्पित है। यह मंदिर पहाड़ी पर बना हुआ है। मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। यह मंदिर मुख्य हाईवे सड़क पर स्थित है। इस मंदिर पर पहुंचना बहुत ही आसान है। यहां पर गाड़ी से या कार से आराम से पहुंचा जा सकता है। यहां पर काली माता की बहुत ही भव्य प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यहां पर एक प्राचीन दीपस्तंभ भी देखने के लिए मिलता है। काली माता मंदिर से धार जिले का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर झील का सुंदर दृश्य दिखाई देता है। 


भोजशाला धार - Bhojshala Dhar

भोजशाला धार शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह एक ऐतिहासिक स्थल है। यहां पर एक प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। इस इमारत में प्रवेश के लिए शुल्क लगता है और वह शुल्क बहुत कम है। यहां पर मंगलवार के दिन निशुल्क प्रवेश किया जा सकता है और यहां पर जुम्मा की नमाज भी हर शुक्रवार को की जाती है। यह स्थल प्राचीन काल में सरस्वती माता का मंदिर था और यहां पर सरस्वती जी की पूजा की जाती थी। यहां पर बहुत सारी शिक्षाएं दी जाती थी। यहां पर राजा भोज का शासन हुआ करता था। तब यहां पर सभी प्रकार की शिक्षाएं विद्यार्थी प्राप्त करते थे। मुसलमानों के शासन के समय इसे एक दरगाह में तब्दील कर दिया गया और तब से यहां पर नमाज अदा करने करी जाने लगी। भोजशाला सूर्योदय से सूर्यास्त तक खुली रहती है। यहां पर आपको नक्काशीदार दीवार एवं खंबे देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर प्राचीन मूर्तियां भी देखने के लिए मिलती हैं, जिन्हें संभाल कर रखा गया है। यहां पर मुसलमानों के धार्मिक गुरु की कब्र भी देखने के लिए मिलती है। 


मानतंगगिरी दिगंबर जैन मंदिर धार - Mantangagiri Digambar Jain Temple Dhar

मानतंगगिरी मंदिर एक प्रसिद्ध जैन मंदिर है। यह धार जिले का प्रमुख धार्मिक स्थल है। इस मंदिर में भगवान आदिनाथ के खड़गासन प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह प्रतिमा पहाड़ी पर स्थित है। पहाड़ी पर जाने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। पहाड़ी के ऊपर वॉच टावर भी बना हुआ है, जहां से आप चारों तरफ का सुंदर दृश्य देखने के लिए मिलता है। यहां पर पहाड़ी के नीचे मंदिर बना हुआ है, जहां पर आदिनाथ भगवान एवं पार्शवनाथ भगवान की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यहां पर ध्यान केंद्र भी है। यहां पर रहने और खाने की व्यवस्था भी उपलब्ध है। यहां पर जैन लोग ठहर सकते हैं। इसके अलावा जो अन्य पर्यटक आते हैं। वह यहां पर घूम सकते हैं और यहां पर सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध है। 


भक्तांबर आदिनाथ श्वेतांबर जैन तीर्थ धार - Bhaktambar Adinath Shwetambar Jain Tirth Dhar

भक्तांबर आदिनाथ जैन तीर्थ धार जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह जैन धार्मिक स्थल है। भक्तांबर तीर्थ को अभ्युदय तीर्थ के नाम से भी जाना जाता है। यहां पर भगवान आदिनाथ का बहुत ही सुंदर मंदिर देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर नक्काशीदार है। गर्भ गृह में आदिनाथ भगवान की बहुत ही सुंदर प्रतिमा के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर मुख्य हाईवे सड़क पर स्थित है। इस मंदिर में आसानी से पहुंचा जा सकता है। यहां पर जैन लोगों के लिए रहने और खाने की व्यवस्था उपलब्ध है। यहां पर और भी मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। मंदिर का प्रवेश द्वार सफेद संगमरमर से बना हुआ है। यहां पर श्री भक्तामर स्त्रोत आराधना विधि भी लिखी गई है और यहां पर मंत्र भी लिखे गए हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। आपको यहां पर बहुत अच्छा लगेगा।

 

श्री काल भैरव मंदिर धार - Shri Kaal Bhairav Temple Dhar

श्री काल भैरव मंदिर धार शहर का प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर काल भैरव जी को समर्पित है। मंदिर में काल भैरव जी की बहुत ही आकर्षक प्रतिमा देखने के लिए मिलती है। यह मंदिर प्राचीन है।  इस मंदिर के पास तालाब बना हुआ है। यहां पर चारों तरफ शांति भरा माहौल है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। यह मंदिर धार जिले के रत्नागरा में स्थित है। 


हजरत सय्यद शाह निजामुद्दीन कलंदर या नालछा शरीफ दरगाह धार - Hazrat Syed Shah Nizamuddin Qalandar or Nalchha Sharif Dargah Dhar

नालछा शरीफ दरगाह बहुत ही सुंदर है। यह दरगाह तालाब के किनारे बनी हुई है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है और शांति मिलती है। यह मुस्लिमों के लिए एक धार्मिक स्थल है। यहां पर घूमने के लिए आया जा सकता है। 


मान बांध या मान परियोजना धार - Maan Dam or Maan Project Dhar

मान बांध धार जिले में स्थित एक पर्यटन स्थल है। यह बांध मान नदी पर बना हुआ है। यह बांध जीराबाद गांव में स्थित है। यह बांध बहुत बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है। बांध की अधिकतम ऊंचाई 51 मीटर है। बांध की कुल लंबाई 644 मीटर है। यह बांध बहुत सुंदर है। यहां पर बरसात के समय चारों तरफ हरियाली देखने के लिए मिलती है और यहां पर बरसात के समय बहुत सारे लोग घूमने के लिए आते हैं। यहां पर बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध नहीं है। आप यहां पर आते हैं, तो अपनी व्यवस्थाएं करके आए। मान बांध में 9 गेट हैं। बरसात के समय यह गेट खोले जाते हैं, जिसका दृश्य बहुत ही मनोरम होता है। 


चंद्रशेखर आजाद सागर बांध - Chandrashekhar Azad Sagar Dam

चंद्रशेखर आजाद बांध या चंद्रशेखर आजाद परियोजना धार जिले के कुक्षी में स्थित है। यह बांध बहुत सुंदर है। यह बांध चारों तरफ पहाड़ियों से घिरा हुआ है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। बरसात के समय बांध की सुंदरता लाजवाब रहती है। इस बांध में सात गेट है। यह बांध धार और अलीराजपुर हाईवे सड़क से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए जा सकते हैं। 


श्री प्राचीन गंगा महादेव मंदिर धार - Shri Prachin Ganga Mahadev Temple Dhar

श्री प्राचीन गंगा महादेव मंदिर धार जिले का एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर धार्मिक और प्राकृतिक दोनों ही तरह से खूबसूरत है। यहां पर एक सुंदर झरना देखने के लिए मिलता है। झरने के नीचे एक गुफा देखने के लिए मिलती है। इस गुफा में ही मंदिर बना हुआ है। यहां पर यह सभी चीजें नेचुरल है और यहां पर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर बरसात के समय घूमने के लिए आया जा सकता है, क्योंकि झरना बरसात के समय ही देखने के लिए मिलता है। यहां पर बहुत सारे लोग भगवान शिव के दर्शन करने के लिए भी आते हैं। यह मंदिर धार जिले के मलगढ़ में स्थित है। 


अमका झमका मंदिर धार - Amka Jhamka Temple Dhar

अमका झमका मंदिर धार जिले में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह मंदिर प्रकृति की गोद में हरियाली में स्थित है। यह मंदिर धार जिले के कुंदनपुर अमझेरा में स्थित है। यह मंदिर प्राचीन है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां पर रुकमणी माता का हरण किया गया था। यहां पर बहुत सारे प्राकृतिक कुंड, जल स्त्रोत देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। मंदिर के बाहर प्राकृतिक स्थल देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर भैरव मंदिर भी है। यहां पर पहाड़ों के नीचे गुफा में मंदिर बना हुआ है। यहां झमका माता मंदिर देखने के लिए मिलता है। यहां पर भोलेनाथ का मंदिर भी देखने के लिए मिलता है। भोलेनाथ के मंदिर के गर्भ गृह में बैजनाथ शिवलिंग विराजमान है और मंदिर के सामने नंदी प्रतिमा विराजमान है। यहां पर आकर बहुत अच्छा लगता है। यहां पर बरसात के समय झरना भी देखने के लिए मिलता है। 


माही उद्गम तीर्थ मिंडा धार - Mahi Origin Tirtha Minda Dhar

माही उद्गम तीर्थ धार जिले का एक मुख्य स्थान है। माही मध्य प्रदेश की एक मुख्य नदी है। माही नदी में बहुत सारी परियोजनाएं बनी हुई है, जिससे मध्यप्रदेश के बहुत सारे गांव एवं शहरों को लाभ मिल रहा है। माही नदी मध्य प्रदेश के धार जिले के मिंडा गांव से निकली है। यहां पर मंदिर देखने के लिए मिलता है, जो माही देवी को समर्पित है। यहां पर एक छोटा सा जलाशय है, जो माही नदी का उद्गम स्थल है। यहां पर आप घूमने के लिए आ सकते हैं। 


माही नदी बांध धार - Mahi River Dam Dhar

माही नदी बांध धार जिले का एक प्रमुख स्थल है। यह बांध माही नदी पर बना हुआ है और यह बांध बहुत सुंदर है। इस बांध में 6 गेट है। जब इस के गेट खोले जाते हैं। तब बांध का नजारा बहुत ही सुंदर रहता है। आप यहां बरसात के समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यह बांध धार जिले के बखतपुर में स्थित है। 


श्री शिव मंदिर कोटेश्वर धार - Shri Shiv Mandir Koteshwar Dhar

श्री शिव मंदिर कोटेश्वर धार जिले का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है। यह मंदिर चौदहवीं सदी ईसवी का है। यह मंदिर भूमिगत है। 16वीं 17वीं शताब्दी में इस मंदिर को पुनः निर्मित किया गया था। यह मंदिर धार जिले के नागझिरी में स्थित है। यह मंदिर बहुत सुंदर है। मंदिर में बरसात के समय झरना देखने के लिए मिलता है। यहां पर प्राकृतिक कुंड है। इस कुंड में स्नान किया जा सकता है। यहां पर बहुत सारे लोग स्नान करते हैं। यह मंदिर एक गुफा में बना हुआ है, जहां पर शंकर जी का शिवलिंग विराजमान है। यहां पर गणेश जी की प्रतिमा के दर्शन करने के लिए भी मिलते हैं। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। 


धार जिले के अन्य प्रसिद्ध आकर्षण स्थल - famous attractions of Dhar district


श्री शंकेश्वर जैन तीर्थ बदनावर धार
श्री एकवीरा माता जी का मंदिर बदनापुर धार 
नागेश्वर मंदिर बदनापुर धार 
श्री रणथंभौर गणेश मंदिर या तिरला धाम धार
राजा बख्तावर सिंह राठौर का किला अमझेरा धार 
पार्श्वनाथ भगवान का मंदिर अमझेरा धार
64 जोगनी मंदिर हिम्मतगढ़ धार
लाल बाग गार्डन धार



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

रामघाट चित्रकूट के पास धर्मशाला - Dharamshala near Ramghat Chitrakoot

चित्रकूट में धर्मशाला - Dharamshala in Chitrakoot /  रामघाट के पास धर्मशाला /  चित्रकूट में ठहरने की जगह रामघाट चित्रकूट में एक प्रसिद्ध जगह है। चित्रकूट में बहुत सारी धर्मशालाएं हैं। मगर चित्रकूट में रामघाट के पास जो धर्मशालाएं हैं। वहां पर समय बिताने में बहुत अच्छा लगता है। उन्हीं में से एक धर्मशाला में हम लोगों ने समय बिताया और हमें अच्छा लगा।  राम घाट के किनारे पर आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर बहुत सारी धर्मशालाएं भी है, जहां पर आप रुक सकते हैं। हम लोग भी राम घाट के किनारे पर इन्हीं धर्मशाला में रुके थे। धर्मशाला का किराया बहुत ही कम रहा। हमारा एक कमरे का किराया 250 था। जिसमें बाथरूम अटैच नहीं थी। अगर आप बाथरूम अटैच कमरा लेना चाहते हैं, तो उसका किराया यहां पर 400 था। हम जिस धर्मशाला में रुके थे। वह धर्मशाला मंदाकिनी आरती स्थल के सामने ही थी, जिससे हमें मंदाकिनी नदी का खूबसूरत नजारा भी देखने का आनंद मिल ही रहा था।  रामघाट के दोनों तरफ बहुत सारी धर्मशाला है, जिनमें आप जाकर रुक सकते हैं।  हम लोगों का रामघाट के किनारे पर बनी धर्मशाला में रुकने का