सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

छतरपुर पर्यटन स्थल - Chhatarpur tourist places

छतरपुर के दर्शनीय स्थल - Places to visit in chhatarpur | Chhatarpur tourism



छतरपुर में घूमने की जगह


खजुराहो  छतरपुर  - Khajuraho Chhatarpur

खजुराहो मध्य प्रदेश में स्थित एक विश्व प्रसिद्ध स्थल है। खजुराहो में आपको पुराने मंदिर देखने के लिए मिलते हैं, जो बहुत ही भव्य हैं। खजुराहो की मूर्तिकला भी बहुत ही अद्भुत है। खजुराहो मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है। खजुराहो में आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं, जो प्राचीन है। खुजराहो में 100 से भी ज्यादा पुराने मंदिर थे, जिसमें से अब कुछ ही मंदिर बचे हुए हैं, जो अच्छी अवस्था में है। यहां पर सबसे प्रसिद्ध मंदिर कंदरिया महादेव मंदिर है। इस मंदिर के गर्भ गृह में आपको महादेव का शिवलिंग देखने के लिए मिलता है। यह मंदिर खजुराहो में स्थित सबसे बड़े मंदिरों में से एक है। इसके अलावा भी खजुराहो में आपको बहुत सारे मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर आपको वाराह मंदिर, विश्वनाथ मंदिर चित्रगुप्त मंदिर जैसे अन्य प्रसिद्ध मंदिर भी देखने के लिए मिलते हैं। यहां पर चैसठ योगिनी माता का मंदिर भी है, जिसमें 64 मंदिर आपको देखने के लिए मिलते हैं। यह मंदिर भी खंडार अवस्था में यहां पर मौजूद है। इसके अलावा यहां पर आपको शिवसागर झील भी देखने के लिए मिलती है, जो प्राचीन समय की है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा और अपने इतिहास के बारे में जानकर आपको अच्छा महसूस होगा। खजुराहो में आपको संग्रहालय भी देखने के लिए मिलते हैं, जहां पर आपको प्राचीन वस्तुओं का संग्रह देखने के लिए मिलता है। 


रानेह जल प्रपात  छतरपुर  - Raneh waterfall Chhatarpur

रानेह जल प्रपात छतरपुर के पास में स्थित सबसे अच्छा स्थान है।  यहां पर आप अपना अच्छा समय बिता सकते हैं। यहां पर आपको चट्टानों की श्रंखला देखने के लिए मिलती है, जो करीब 5 किलोमीटर तक में फैली हुई है। यहां पर केन नदी बहती है, इसमें बहुत ही खूबसूरत जलप्रपात बनता है। इस जलप्रपात को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर जो चट्टाने है। वह बहुत ही खूबसूरत है। यह चट्टाने आपको गुलाबी, लाल रंग में देखने के लिए मिलती है। कहा जाता है कि यह चट्टानें ज्वालामुखी विस्फोट से बनी हुई है। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। रनेह जलप्रपात छतरपुर से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। रनेह जलप्रपात खुजराहो से करीब 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आप यहां पर गाड़ी से पहुंच सकते हैं। आपको जलप्रपात में अंदर जाने के लिए टिकट लेनी पड़ती है। 


कुटनी बांध  छतरपुर  - Kutni Dam Chhatarpur

कुटनी बांध छतरपुर के पास में स्थित एक अच्छी जगह है। यह एक अच्छा पिकनिक स्थल है। यह एक खूबसूरत जलाशय है। कुटनी बांध कुटनी नदी पर बना हुआ है। यहां पर एमपी टूरिज्म का एक गेस्ट हाउस में बना हुआ है, जहां पर आपको रुकने के लिए और खाने पीने की व्यवस्था है। यह बांध बहुत खूबसूरत है और आपको बहुत अच्छा लगेगा। यह बांध छतरपुर से करीब 50 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। आप गाड़ी से इस बांध तक पहुंच सकते हैं। 


बेनीसागर जलाशय  छतरपुर  - Benisagar reservoir Chhatarpur

बेनीसागर जलाशय छतरपुर के पास में स्थित एक अच्छी जगह है। आप जब भी खजुराहो घूमने के लिए जाते हैं, तो आप बेनीसागर जलाशय भी घूमने के लिए जा सकते हैं। आपको यहां से खूबसूरत सूर्यास्त का नजारा देखने के लिए मिलेगा। यहां पर आप अच्छी फोटो भी खींच सकते हैं। 


रंगुवान बांध  छतरपुर  - Ranguwan Dam Chhatarpur

रंगुवान बांध छतरपुर शहर में स्थित घूमने के लिए एक अच्छी जगह है।  यह एक बहुत बड़ा जलाशय है और यह बांध मुख्य तौर पर सिंचाई के उद्देश्य बनाया गया है। यह बांध 1957 में बनाया गया है। यह बांध छतरपुर जिले के रंगुवान गांव में स्थित है। यहां पर आप आकर अपना समय बिता सकते हैं। 


हनुमान टोरिया  छतरपुर  - Hanuman Toriya Chhatarpur

हनुमान टोरिया छतरपुर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यहां पर हनुमान जी का मंदिर है। यहां पर हनुमान जी की बहुत ही खूबसूरत प्रतिमा आपको देखने के लिए मिलती है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यह जगह पहाड़ी की चोटी पर स्थित है और मंदिर तक जाने के लिए सीढ़ियां हैं। यहां पर आकर अच्छा लगता है। यहां पर हनुमान जी के मंदिर के अलावा आपको राम जी का मंदिर, साईं बाबा जी का मंदिर और शिव भगवान जी का मंदिर भी देखने के लिए मिलेगा। यहां से आपको छतरपुर शहर का बहुत ही खूबसूरत नजारा देखने के लिए भी मिल जाता है। 


फूला देवी मंदिर छतरपुर - Phula Devi Temple Chhatarpur

फूला देवी मंदिर छतरपुर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर नवरात्रि में बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। बहुत सारे लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। यहां पर खूबसूरत गार्डन है, जहां पर आप बैठ सकते हैं और शांति का अनुभव कर सकते हैं। आपको यहां पर आकर अच्छा लगेगा। मंदिर में आपको शेष नाग जी की और हनुमान जी की प्रतिमा भी देखने के लिए मिलती है। 


पितांबरा मंदिर छतरपुर - Pitambra Temple Chhatarpur

पितांबरा मंदिर छतरपुर शहर का एक धार्मिक स्थल है। यहां पर आकर आपको माता जी के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। कहा जाता है, कि इस मंदिर में आकर लोगों की मनोकामनाएं पूरी होती है। आपको यहां पर आकर बहुत अच्छा लगेगा। यहां पर नवरात्रि के समय लोग माता के दर्शन करने के लिए आते हैं। 


महाराजा छत्रसाल संग्रहालय  छतरपुर - Maharaja Chhatrasal Museum Chhatarpur

महाराजा छत्रसाल पुरातत्व संग्रहालय छतरपुर में स्थित एक मुख्य पर्यटन स्थल है। यह संग्रहालय धुबेला झील के पास में स्थित है। यह संग्रहालय झांसी हाईवे रोड में स्थित है। आप यहां पर आकर पुरानी वस्तुओं का संग्रह देख सकते हैं। यहां पर 8 गैलरी है, जहां पर आपको अलग-अलग प्राचीन वस्तुएं देखने के लिए मिलती हैं। यहां पर आप राजा के वस्त्र देख सकते हैं। पुरानी नक्काशी दार मूर्तियां देख सकते हैं। शिव लिंग देख सकते हैं और पुराने हथियार भी देख सकते हैं। यहां पर मस्तानी महल भी बना हुआ है, वह भी आप देख सकते हैं। यहां का एंट्री टिकट 20 रू है और विदेशियों के लिए 200 रू हैं। यहां पर वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी का अलग चार्ज लिया जाता है। इस संग्रहालय का उद्घाटन 1955 में पंडित जवाहरलाल नेहरू के द्वारा किया गया था। 


धुबेला झील छतरपुर - Dhubela Lake Chhatarpur

धुबेला झील छतरपुर में मऊ सहानिया के पास में स्थित एक खूबसूरत झील है। आप यहां घूमने के लिए आ सकते हैं। यह झील बहुत बड़ी है और बहुत सुंदर लगती है। 


हृदय शाह का महल छतरपुर - Hriday Shah's Palace Chhatarpur

हृदय शाह का महल छतरपुर में स्थित एक प्राचीन महल है। यह महल महाराजा छत्रसाल संग्रहालय के पास में स्थित है। यह महल बुंदेला वास्तुकला में बनाया गया है। यह महल बहुत खूबसूरत है। इस महल में आपको गुंबद और गेट देखने के लिए मिल जाएगा। यह महल दो मंजिला है। 

 

महाराजा छत्रसाल की समाधि छतरपुर -  Mahaaraaja chhatrasal ki samadhi chhatarpur

महाराजा छत्रसाल की समाधि छतरपुर में मऊ सानिया के पास में स्थित है। आपको यहां पर एक प्राचीन इमारत देखने के लिए मिलती है। इस इमारत में एक बहुत बड़ा गुंबद है और इमारत के चारों तरफ आपको छोटे-छोटे 10 गुंबद देखने के लिए मिलते हैं। यह इमारत बहुत खूबसूरत लगती है। 

 

शीतल गढ़ी छतरपुर -  Sheetal Garhi Chhatarpur

शीतल गढ़ी छतरपुर में स्थित एक प्राचीन इमारत है। यह एक ऊंचे पहाड़ी पर स्थित है।  प्राचीन समय में इस गढ़ी का निर्माण सुरक्षा की दृष्टि से ऊंचाई पर करवाया गया था। इस इमारत का निर्माण दीवान कीरत सिंह, जो महाराजा छत्रसाल के नाती एवं द्वितीय पुत्र जगत राज के पुत्र थे, उन्होंने करवाया था। यह 2 मंजिला इमारत है। अभी यह इमारत खंडहर अवस्था में है। आप यहां पर आकर इस इमारत की खूबसूरती को देख सकते हैं। 


श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर महेवा छतरपुर - Shri Krishna Pranami Temple Maheva Chhatarpur 

श्री कृष्ण प्रणामी मंदिर छतरपुर में महेवा में स्थित है। आप यहां पर घूमने के लिए आ सकते हैं। यह एक धार्मिक स्थल है और प्राचीन स्थल भी है। इस स्थान पर महाराज छत्रसाल के आध्यात्मिक गुरु स्वामी प्राणनाथ ने एक सभा ली थी। इस मंदिर का निर्माण सन 1729 में महाराजा छत्रसाल द्वारा किया गया था। 


भीमकुंड मंदिर समूह छतरपुर -  Bhimkund Temple Group Chhatarpur

भीमकुंड मंदिर समूह छतरपुर में स्थित प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर 13वीं 14वीं शताब्दी के हैं। आप यहां आते हैं, तो आपको पत्थर के बने हुए मंदिर देखने के लिए मिलते हैं। इस मंदिर के सामने आपको बावड़ी भी देखने के लिए मिल जाएगी। 


शनि मंदिर छतरपुर - Shani Temple Chhatarpur

शनि मंदिर छतरपुर में स्थित एक धार्मिक स्थल है। यह एक प्राचीन स्थल है। यह मंदिर छतरपुर से नौगांव के बीच मऊ सानिया में जगतसागर तालाब के बीचो बीच में स्थित है। यह मंदिर अति प्राचीन है और यहां पर आपको शनि भगवान जी की नौ रूपों की प्रतिमाएं देखने के लिए मिलती है। यहां पर शनिचरी अमावस्या को बहुत सारे कार्यक्रम किए जाते हैं। यहां पर आपको आकर बहुत अच्छा लगेगा। शनिवार को यहां पर बहुत सारे लोग शनि भगवान जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। बरसात के समय में जगतसागर तालाब में बहुत ज्यादा पानी भर जाता है, जिससे यह शनि मंदिर भी डूब जाता है। 


बिहारी जू मंदिर छतरपुर - Bihari joo Temple Chhatarpur

बिहारी जू मंदिर छतरपुर में जगत सागर तालाब के पास में स्थित है। इस मंदिर का निर्माण महाराजा छत्रसाल के द्वारा किया गया था। यह मंदिर श्री कृष्ण जी को समर्पित है। आप इस मंदिर में घूमने के लिए आ सकते हैं। यह एक प्राचीन मंदिर है। 


गौरैया माता का मंदिर छतरपुर - Gauraiya mata ka mandir chhatarpur

गौरैया माता का मंदिर छतरपुर में मऊ सहानिया में स्थित है। यह मंदिर ऊंची पहाड़ी पर बना हुआ है। यहां पर आकर आप माताजी के दर्शन कर सकते हैं। आपको यहां पर आकर मऊ सानिया का खूबसूरत नाजरा देखने के लिए मिल जाता है। यहां से सूर्योदय और सूर्यास्त का भी बहुत खूबसूरत नजारा देखने के लिए मिलता है। 


पहाड़ी बांध छतरपुर - Pahadi bandh chhatarpur

पहाड़ी बांध छतरपुर में घूमने के लिए एक अच्छी जगह है। यह एक जलाशय है। यह एक बहुत बड़ा जलाशय है और बहुत सुंदर लगता है। आप यहां पर पिकनिक मनाने के लिए आ सकते हैं। यह जलाशय धसन नदी पर बना हुआ है। 


चौधरी चरण सिंह लहचूरा बांध छतरपुर - Chaudhary Charan Singh Lahchura Dam Chhatarpur

चैधरी चरण सिंह लहचूरा बांध छतरपुर शहर के पास घूमने के लिए एक अच्छी जगह है। यह एक खूबसूरत जलाशय है। यह जलाशय धसन नदी पर बना हुआ है। यह जलाशय बहुत सुंदर है। यहां पर बहुत सारे आपको सेल्फी प्वाइंट देखने के लिए मिलते हैं, जहां से आप सुंदर तस्वीरें क्लिक कर सकते हैं। आप यहां पर आकर पिकनिक मना सकते हैं। 


कमला पंत की समाधि मऊ सहानिया, छतरपुर (Kamala Pant's Samadhi Mau Sahania, Chhatarpur)

बादल महल मऊ सहानिया, छतरपुर (Badal Mahal Mau Sahania, Chhatarpur)

महेवा गेट मऊ सहानिया, छतरपुर (Maheva Gate Mau Sahania, Chhatarpur)

बेरछा रानी का मकबरा मऊ सहानिया, छतरपुर (Bercha Rani's Tomb Mau Sahania, Chhatarpur

सवाई सिंह का मकबरा मऊ सहानिया, छतरपुर (Sawai Singh's Tomb Mau Sahania, Chhatarpur)

चौसठ योगिनी मंदिर मऊ सहानिया, छतरपुर (Chausath Yogini Temple Mau Sahania, Chhatarpur)

गणेश मंदिर मऊ सहानिया, छतरपुर (Ganesh Temple Mau Sahania, Chhatarpur

नाग मंदिर मऊ सहानिया, छतरपुर (Nag Mandir Mau Sahania, Chhatarpur)

कबीर आश्रम मऊ सहानिया, छतरपुर (Kabir Ashram Mau Sahania, Chhatarpur)

सूर्य मंदिर मऊ सहानिया, छतरपुर (Sun Temple Mau Sahania, Chhatarpur)

मुखर्जी पार्क छतरपुर (Mukherjee Park Chhatarpur)

पंडित दीनदयाल उपाध्याय पार्क छतरपुर (Pandit Deendayal Upadhyay Park Chhatarpur)

गुरूनानक पार्क छतरपुर (Gurunanak Park Chhatarpur)


मंडला जिले के पर्यटन स्थल

बालाघाट पर्यटन स्थल

बैतूल पर्यटन स्थल

दमोह जिले के पर्यटन स्थल


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।