सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Rani Durgavati Abhyaran | Rani Durgavati Sanctuary | रानी दुर्गावती अभयारण्य

Rani Durgavati Sanctuary Beautiful Part of Damoh City.

रानी दुर्गावती अभ्यारण्य

रानी दुर्गावती अभ्यारण्य दमोह जिले का एक खूबसूरत जगह है। यह जगह प्रकृति से भरपूर एक प्राकृतिक जगह है। यहां पर आकर आप अपना पूरा दिन बिता सकते हैं। यहां पर आपको पूरा जंगल देखने मिलेगा और जंगली जानवर भी देखने मिलेंगे। रानी दुर्गावती अभ्यारण्य में जंगल में घूमने के अलावा भी बहुत सारी जगह है जहां पर आप घूम सकते हैं।

Rani Durgavati Abhyaran | Rani Durgavati Sanctuary | रानी दुर्गावती अभयारण्य

Najara View Point

रानी दुर्गावती अभ्यारण्य का लोकेशन

Location in Rani Durgavati Sanctuary


यह अभ्यारण्य मध्य प्रदेश के दमोह जिले में स्थित है। दमोह जिला जबलपुर जिले के बहुत करीब है। इस अभ्यारण्य में जबलपुर जिले से भी पहुंचा जा सकता है और दमोह जिले से भी पहुंचा जा सकता है। यह अभ्यारण्य दमोह जिले के सिंग्रामपुर तहसील के पास स्थित है। यह अभ्यारण्य दमोह जिले के सिंग्रामपुर तहसील में स्थित है। सिंग्रामपुर तहसील से रानी दुर्गावती अभ्यारण्य 4 या 5 किलोमीटर की दूरी पर होगा। यह अभ्यारण्य दमोह जबलपुर हाईवे रोड पर ही पड़ता है, तो आप यहां पर सड़क के माध्यम से आसानी से पहुंच सकते हैं। यहां पर आप अपनी बाइक के द्वारा आसानी से आ सकते हैं। आप इस अभ्यारण्य में कार से भी आ सकते हैं। 

आप रानी दुर्गावती अभ्यारण्य में बाइक से अच्छी तरह घूम सकते है। रानी दुर्गावती अभ्यारण्य में बहुत सारी जगह है। जहां पर आप घूम सकते हैं। रानी दुर्गावती अभ्यारण्य  जितनी भी जगह है। वह पूरी तरह प्राकृतिक एवं प्राचीन है। रानी दुर्गावती अभ्यारण्य में आपको जंगली जानवर देखने मिलते है। आपको यह पर बहुत सारी जगह आपको देखने मिलती है।

रानी दुर्गावती अभ्यारण का एंट्री चार्ज
Rani Durgavati sanctuary's entry charge


रानी दुर्गावती अभ्यारण्य में आपके वाहन का 60 रू. लगता है। आपको एक एंट्री टिकट मिलती है। इस टिकट के जरिये आप इस अभ्यारण्य में जितने भी  दर्शनीय स्थल है वो आप इस एंट्री टिकट से घूम सकते है। ये 60 रू. आपकी गाडी का चार्ज होता है आपकी जितनी भी गाडी रहेगी उन सभी गाडी का 60 रू. लगेगा। हम लोगों ने कार का पता नहीं किया था कि कितना चार्ज लगेगा कार का। मेरे हिसाब से कार का चार्ज भी 60 रू. लगता होगा। हम लोग स्कूटी ले गए थे तो स्कूटी का हम लोग का 60 रू. लगा था। आप यह 60 रू. देकर रानी दुर्गावती अभ्यारण्य की निदान जलप्रपात, नजारा व्यू पांइट, सिंगौरगढ का किला, दानीताल तालाब, सद्भावाना शिखर, और भी बहुत से जगह देख सकते है। रानी दुर्गावती अभयारण्य में मैंने जिन भी जगह घुमा है। मैं आपको उन जगहों की जानकारी आपसे शेयर कर रही हूं।

निदान जलप्रपात - Nidan Waterfalls 

निदान जलप्रपात रानी दुर्गावती अभ्यारण में स्थित है और यह बहुत ही खूबसूरत जलप्रपात है। यह जलप्रपात चारों तरफ से सुंदर पहाड़ियों से घिरा हुआ है और आपको जलप्रपात तक पहुंचने के लिए करीब एक से डेढ़ किलोमीटर का पहाड़ी रास्ता तय करना पड़ता है। आप दूर से भी इस जलप्रपात को देख सकते हैं जो बहुत खूबसूरत दिखता है यहां पर आप जाकर जलप्रपात के नजदीक में बैठ सकते हैं। यहां पर एक कुंड भी है जहां पर आप स्नान कर सकते हैं।

Rani Durgavati Abhyaran | Rani Durgavati Sanctuary | रानी दुर्गावती अभयारण्य

Nidan Waterfall

Rani Durgavati Abhyaran | Rani Durgavati Sanctuary | रानी दुर्गावती अभयारण्य

Nidan Waterfall 

निदान जलप्रपात, दमोह

सिगौरगढ का किला - Fort of Singaurgarh

रानी दुर्गावती अभ्यारण्य में आपको सिगौरगढ का किला देखने मिलता है। यह एक खूबसूरत महल हुआ करता था अर्थात प्राचीन समय में यहां पर रानी दुर्गावती का गढ हुआ करता है। यह पर रानी दुर्गावती का विवाह हुआ था। यह किला रानी दुर्गावती अभ्यारण्य के अंदर स्थित है। आपको इस किले तक पहुॅचने के लिए आपको रानी दुर्गावती अभ्यारण्य की मुख्य सडक से 3 से 4 किमी की दूरी दूरी तक चलना होता है। आप यह पर अपनी गाडी से आसानी से जा सकते है। आपको यह पर जाने के लिए आधी दूर पर कच्ची सडक मिलती है। आपकी गाडी या कार इस सडक पर असानी से चल जाती है। कहीं कहीं पर आपको पक्की सडक मिल जाती है। इसके अलावा आपको यहां पर एक तालाब भी देखने मिलेगा। यह तालाब भी प्राचीन समय का है। इस तालाब में पुराने समय में रानी दुर्गावती जी स्नान करने के लिए आती थी। यहां पर आपको एक हनुमान मंदिर भी देखने मिल जाएगा, जिसके बारे में कहा जाता है कि यह हनुमान मंदिर प्राचीन समय का है। इस हनुमान जी के प्रतिमा के दर्शन करने के लिए दूर दूर से लोगों आते है और जो भी फॉरेस्ट ऑफिसर ड्यूटी जॉइन करता है। वह जरूर इस हनुमान मंदिर में दर्शन करने के लिए आते है। इस तालाब के बारे में कहा जाता है कि यहां पर मगरमच्छ है। तालाब के पास बोर्ड लगा हुआ है जिसमें इस बारें में सूचना दी गई है। इसके अलावा यहां पर जो व्यू रहता है, वो बहुत मस्त है। तालाब के आसपास का नजारा बहुत ही मनोरम रहता है। यहां पर आपको अद्भुत दृश्य देखने मिलता है। तालाब के किनारे बेल के पेड़ हैं जो बहुत प्यारे लगते हैं। इस तालाब के आगे भी आपको खूबसूरत व्यू देखने मिलता है।

इस महल के जाने वाले रास्ते में एक महल और है जो ऐसा लगता है कि सैनिकों के रहने के लिए बनाया गया है। यह महल भी बहुत पुराना है और बहुत खूबसूरत लगता है। आप जब जंगल की सैर करने जाते हैं, तो ऐसा लगता है जैसे आप एक अलग दुनिया में आ गए हैं।

Rani Durgavati Abhyaran | Rani Durgavati Sanctuary | रानी दुर्गावती अभयारण्य

Fort of singaurgarh


नजारा व्यूप्वाइंट - Najara View Point

रानी दुर्गावती अभयारण्य में आपको नजारा व्यूप्वाइंट भी देखने मिलता है। नजारा व्यूप्वाइंट्स में आपको दमोह जिले के रानी दुर्गावती अभ्यारण का खूबसूरत व्यू देखने मिलता है। चारों तरफ आपको हरियाली देखने मिलती है और यहां पर आपको आकर बहुत अच्छा लगता है। दमोह शहर का सबसे ऊंचा पॉइंट है जहां से अब दूर दूर तक का व्यू देख सकते हैं।

नजारा व्यू प्वाइंट, दमोह जिला


दानी तालाब - Dani Talab

रानी दुर्गावती अभयारण्य में आपको दानी तालाब देखने मिलता है। दानी  तालाब हाईवे रोड के बाजू में ही स्थित है। आप इस तालाब में ढेर सारे कमल के फूल देख सकते हैं और दानी  तालाब  के आसपास का जो जंगल का एरिया है वह भी आप देख सकते हैं।

वॉच टावर - Watch Tower

रानी दुर्गावती अभयारण्य में वॉच टावर भी स्थित है। यह वॉच टावर हाईवे रोड से थोड़ी ही दूरी पर स्थित है। आपको करीब 1 एक से डेढ़ किलोमीटर चलना पड़ता है। आपकी गाड़ी भी टावर तक आसानी से चली जाती है। यहां पर एक टावर बनाया गया है जिसमें आपको सीढ़ियों से चढ़कर जाना पड़ता है। आप इस टावर से रानी दुर्गावती अभ्यारण्य की खूबसूरती देख सकते हैं। आपको इस टावर से चारों तरफ पहाड़ियों का व्यू देखने मिलता है। इसके अलावा यहां पर फॉरेस्ट के जो कर्मचारी हैं। उनके रहने के लिए भी एक घर बनाया गया है। वह भी आप देख सकते हैं। वह भी बहुत खूबसूरत है।

रानी दुर्गावती अभयारण्य  अन्य जगह

Other Place in Rani Durgavati Sanctuary 

आप रानी दुर्गावती अभयारण्य में बड़ा चक्कर और छोटा चक्कर लगा सकते हैं आप बड़ा चक्कर और छोटे चक्कर लगाकर रानी दुर्गावती अभयारण्य का पूरी जगह घूम सकते हैं। आपको इस यात्रा में बहुत सारी जंगली जानवर देखने मिल जाएंगे। इसके अलावा रानी दुर्गावती अभयारण्य में जो भी जगह थी मैने उन सभी जगह की जानकारी आपको नहीं दी हूॅ क्योकि मै रानी दुर्गावती अभयारण्य की सभी जगह नहीं घूम पाई हूॅ। इसके अलावा भी रानी दुर्गावती अभयारण्य में बहुत सारी जगह है। जहां पर आप घूम सकते हैं। यह जो भी जगह मैंने आपको बताया है। यह जगह मैं खुद घूमी हूं तो इनके बारे में मैंने आपको डिटेल में जानकारी दे दी हूं। जिन जगहों में आप रानी दुर्गावती अभयारण्य में घूम सकते हैं।

रानी दुर्गावती अभयारण्य में रतन कुंड है। 52 बजरिया है। आप गिरी दर्शन देख सकते है। सद्भावना शिखर है, जहां पर आप जाकर घूम सकते हैं। इन जगह पर हम नहीं घूमे थे मगर आप इन जगहों पर जाकर घूम सकते हैं। 

Rani Durgavati Abhyaran | Rani Durgavati Sanctuary | रानी दुर्गावती अभयारण्य

View of Nidan falls 

रानी दुर्गावती अभयारण्य पर कहीं कहीं पर आपको फोन का नेटवर्क काम नहीं करता है, क्योंकि यहां पर पूरा जंगल और पहाड़ी वाला रास्ता है। इसलिए यहां पर फोन का नेटवर्क काम नहीं करता है। मगर आपको घूमने में बहुत मजा आएगा यहां पर जंगल में फॉरेस्ट के ऑफिस बने हुए हैं।

रानी दुर्गावती अभयारण्य पर आकर मुझको बहुत अच्छा लगा। यह हमारा  बहुत अच्छा एक्सपीरियंस रहा है। रानी दुर्गावती अभयारण्य जबलपुर जिले के पास में है, लगभग 50 से 60 किलोमीटर होगा। तो आप यहां पर कभी भी जा सकते हैं। अपनी 1 दिन का ट्रिप प्लान करके । दमोह जिले से भी रानी दुर्गावती अभयारण्य आ सकते हैं। 

रानी दुर्गावती अभयारण्य आप अपने दोस्तों और परिवार के साथ आ सकते हैं। यह जगह सुरक्षित है मगर कहीं कहीं पर सुनसान होता है। जहां पर भी दर्शनीय स्थल है। वहां पर लोग रहते हैं। मगर आप अपनी सेफ्टी का जरूर ध्यान दें। जगह अच्छी है आप जाकर काफी इजांय कर सकते है। 

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

Please do not enter any spam link in comment box

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कटनी दर्शनीय स्थल | Katni tourist place in hindi | Tourist places near Katni

कटनी में घूमने वाली जगह | Katni paryatan sthal | Places to visit near Katni |  कटनी जिले के पर्यटन स्थल |  कटनी जिले के दर्शनीय स्थल कटनी जिले के बारे में जानकारी Information about Katni district कटनी मध्य प्रदेश का एक जिला है। कटनी जिलें को मुडवारा के नाम से भी जाना जाता है। कटनी का संभागीय मुख्यालय जबलपुर है। 28 मई 1998 को कटनी को जिलें के रूप में घोषित किया गया है। कटनी में कटनी नदी बहती है, जो पीने के पानी का मुख्य स्त्रोत है। कटनी जिलें में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है। कटनी रेल्वे जंक्शन में 6 प्लेटफार्म है। यहां पर हमेशा भीड रहती है। कटनी की 8 तहसील कटनी शहर, कटनी ग्रामीण, रीठी, बड़वारा, बहोरीबंद, विजयराघवगढ, ढीमरखेड़ा, बरही है। कटनी जिले की सीमाएं उमरिया, जबलपुर , दमोह, पन्ना, और सतना जिले की सीमाओं को छूती हैं। कटनी जिले में बहुत सारी ऐतिहासिक और प्राकृतिक जगह है, जहां पर आप जाकर अच्छा समय बिता सकते हैं।  Katni places to visit कटनी में घूमने की जगहें जागृति पार्क - Jagriti Park Katni जागृति पार्क कटनी शहर का एक दर्शनीय स्थल है।

मैहर पर्यटन स्थल - Maihar Tourist place | Places to visit in maihar

मैहर के दर्शनीय स्थल - Maihar tourist place in hindi | Maihar tourist places list |  मैहर शारदा देवी मंदिर मैहर में घूमने की जगह  Maihar me ghumne ki jagah मैहर का शारदा मंदिर - M aihar ka sharda mandir मैहर में सबसे प्रसिद्ध शारदा माता जी का मंदिर है। शारदा माता जी का मंदिर पूरे देश में प्रसिद्ध है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए पूरे देश से भक्तगण आते हैं। मंदिर में विशेष कर नवरात्रि के समय बहुत भीड़ रहती है। यहां पर इस टाइम पर मेला भी भरता है। वैसे मंदिर में आप साल के किसी भी समय घूमने के लिए आ सकते हैं। यहां पर हमेशा ही मेले जैसा ही माहौल रहता है। मंदिर एक ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। मंदिर में पहुंचने के लिए सीढ़ियां बनी हुई है। मंदिर पर आप रोपवे की मदद से भी पहुंच सकते हैं। मंदिर में आपको शारदा माता के दर्शन करने के लिए मिलते हैं। मंदिर के परिसर में और भी देवी देवता विराजमान हैं, जिनके आप दर्शन कर सकते हैं। मंदिर से मैहर के चारों तरफ का दृश्य आपको देखने के लिए मिलता है। खूबसूरत पहाड़ देखने के लिए मिलते हैं। आपको मंदिर आकर बहुत अच्छा लगेगा।  नीलकंठ मंदिर और आश्रम मैहर -  Neelkanth Temple

बैतूल पर्यटन स्थल - Betul tourist place | Betul famous places

बैतूल दर्शनीय स्थल - Places to visit near Betul | Betul tourist spot | Betul city बैतूल जिले की जानकारी - Betul district information बैतूल मध्यप्रदेश राज्य में स्थित एक जिला है। बैतूल जिला सतपुडा की पहाडियों से घिरा हुआ है। बैतूल जिला के मुलताई में ताप्ती नदी का उदगम हुआ है। ताप्ती मध्यप्रदेश की मुख्य नदी है। बैतूल जिले की सीमा छिंदवाड़ा, नागपुर, अमरावती, बुरहानपुर, खंडवा, हरदा, और होशंगाबाद की सीमाओं को छूती है। बैतूल जिला 10 विकास खंडों में बटा हुआ है। यह विकासखंड है - बैतूल, मुलताई, भैंसदेही, शाहपुर, अमला, प्रभातपट्टन, घोड़ाडोंगरी, चिचोली, भीमपुर, आठनेर, । बैतूल नर्मदापुरम संभाग के अंर्तगत आता है। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बैतूल की दूरी करीब 178 किलोमीटर है। बैतूल जिलें में घूमने के लिए बहुत सारी दर्शनीय जगह मौजूद है, जहां पर जाकर आप बहुत अच्छा समय बिता सकते है।  बैतूल में घूमने की जगहें Places to visit in Betul बालाजीपुरम - Balajipuram betul | Betul ka Balajipuram | Balajipuram temple betul बालाजीपुरम बैतूल जिले में स्थित दर्शनीय स्थल है।