सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Adegaon Fort and Kalbhairav Temple || आदेगांव का प्रसिध्द कालभैरव जी का मंदिर

आदेगांव का किला एवं काल भैरव जी का मंदिर


आदेगांव का किला (Adegaon Fort) एवं काल भैरव जी का मंदिर (Kaal Bhairav ji ka mandir) एक खूबसूरत पर्यटन स्थल है।  किले के अंदर कालभैरव जी का अतिप्रचीन मंदिर है। आदेगांव का किला (Adegaon Fort) 18 वी शताब्दी में बनाया गया था। इस मंदिर में काले भैरव, बटुक भैरव एवं नाग भैरव की सुंदर प्रतिमाए स्थित है। इस जगह में और भी चमत्कारी वस्तुए मौजूद है। यह पर श्यामलता का वृक्ष स्थित है जो विश्व में सिर्फ दो जगह ही पाया गया है। 

Adegaon Fort and Kalbhairav Temple
Adegaon Fort and Kalbhairav Temple


आदेगांव का किला 


यह किला सिवनी जिले की लखनादौन तहसील से 18 किमी की दूरी पर है। आदेगांव नाम की इस जगह में आप पहुॅचते है तो यह किला आपको दूर से नजर आने लगता है। इस किले तक पहॅुचने का रास्ता आदेगांव की बाजार से होते हुए जाता है। मगर आप अगर रविवार दिन इस किलें में जाते है, इस दिन बाजार के एरिया से न जाये। आप बाजार के बजाय गांव के बाहर से ही एक रोड स्कूल की तरफ से होते हुए इस किले तक जाता है, आप वहां से जा सकते है। आपको किले के पास पहुॅचते है, आप को किला एक पहाड की चोटी पर दिखता है जिस तक पहॅुचने के लिए आपको सीढियों से चढकर जाना होगा। इस किले के उपर पहुॅचकर आपको बहुत अच्छा व्यू देखने मिलता है। आपको आदेगांव के आसपास का नजारा देखने मिल जाता है। इस किला का निर्माण अठारहवीं शताब्दी में मराठा शासनकाल में सैनिकों के लिए ऊंचे पहाड़ पर किया गया था। इस किले को गढी के नाम से भी जाना जाता है। इस किले या गढी की निर्माण की नीवं नागपुर के मराठा शासक रघुजी भोंसले के शासनकाल में 18 वी शताब्दी में उनके गुरू नर्मदा भारती (खड़क भारतीय गोंसाई) ने डाली थे। इन्हें भोसले शासन ने 84 गांव की जागीर दी थी। इनके द्वारा ही किले के भीतर भैरव बाबा के मंदिर का निर्माण किया गया था। वर्तमान में इस किले में आपको इसके चारों तरफ जो बुर्ज बनें हुए है वो देखने मिल जाते है बाकी का किला अब ध्वस्त हो गया है। आदेगांव की उची पहाडी पर इस किले का निर्माण ईंट, पत्थर व चूना- मिट्टी से करवाया था। किले की बाहरी दीवार अभी भी मजबूती से खडी है, सदियाॅ बीत गई मगर इन दीवार को अभी तक कोई भी नुकसान नहीं हुआ है। किले की बाहरी दीवार और बुर्जो को छोडकर बाकी सारी निर्माण अब ध्वस्त हो गया है। आपको किले के अंदर यह ध्वस्त निर्माण देखने मिल जाएगा। यह किला अयातकार आकार का है। किले के पीछे एक बडा तालाब है। इस किले का मुख्य दरवाजा का मुख पूर्व की तरफ है। पश्चिम की तरफ भी एक दरवाजा है जहां पर आप किले के बाहर जा सकते है, यहां पर एक शटर लगा हुआ है, यहां से आप तालाब की तरफ जा सकते है। तालाब की तरफ जाने के लिए यहां सीढियाॅ दी गई है। इस किले में पुरातत्व विभाग द्वारा खुदाई का कार्य भी किया गया था। इस खुदाई के दौरान यह पर कक्ष, बरामदे एवं अन्य निर्माण होने का पता चला। बाद में खुदाई बंद कर दिया गया। इस किले का निर्माण मुख्य रूप से हथियारों व सैनिकों के उपयोग के लिए किया गया था। इस किले के पास ही पहाडी के उपर एक स्कूल बना हुआ है शायद यह प्राइमरी स्कूल है। आप किले के बाहरी क्षेत्र में एक मस्जिद भी देख सकते है। यह पर एक पानी की टंकी का निर्माण भी किया गया है। किले के बाहरी हिस्से से आपको तालाब भी देखने मिल जाता है। किले में भीतर दीवार से सटाकर पत्थर की चीप लगी हुई ताकि आप इस चीप में चलकर पूरा किला घूम सकते है। यह किला मुख्य प्रवेश द्वार से आप जैसे अंदर जाते है आपको काल भैरव मंदिर देखने मिल जाता है। आदेगांव किले (Adegaon Fort) और गांव में मराठा शासक के गुरु नर्मदा भारती का शासन था। गुरू नर्मदा भारती से यह किला शिष्य परम्परा के अंर्तगत उनके शिष्य भैरव भारती, धोकल भारती व दौलत भारती को सौंपा गया, बाद में यह किला ब्रिटिश सरकार ने मराठा शासकों से इस किले का आधिपत्य छीनकर किलें में कब्जा कर लिया था। यह एक प्राचीन किला है इसे देखने के लिए दूर दूर से लोग आते है। 

Adegaon Fort and Kalbhairav Temple
Adegaon Fort and Kalbhairav Temple
Adegaon Fort and Kalbhairav Temple
Adegaon Fort and Kalbhairav Temple

श्री काल भैरव का प्राचीन मंदिर


यह किला काल भैरव की गढी के नाम से भी प्रसिध्द है। किले में भगवान काल भैरव का प्राचीन मंदिर है। लोगों के इस मंदिर के प्रति बहुत श्रध्दा भक्ति है। लोग इस मंदिर के दर्शन करने के लिए दूर दूर से आते है। आदेगांव किले के अंदर विराजमान मंदिर  कालभैरव, नागभैरव व बटुकभैरव विराजमान है जिनकी पूजा सदियों से होती आ रही है। लोग इसे दूसरा काशी के नाम से भी जानते हैं। लोगों का कहना है कि बनारस की तरह यहां पर भगवान कालभैरव की खड़े स्वरूप में प्राचीन प्रतिमा स्थापित है। भैरव अष्टमी के दिन इस किले के भैरव बाबा मंदिर में पूरे सिवनी जिले से एवं अन्य जिलों से भी लोग आते है। 
Adegaon Fort and Kalbhairav Temple
Adegaon Fort and Kalbhairav Temple

दुर्लभ श्यामलता वृक्ष की उपस्थिति


आदेगांव का यह किला अपने प्राचीन इतिहास के साथ भैरव बाबा के मंदिर के लिए प्रसिध्द है। इस किला में आपको एक दुर्लभ वृक्ष देखने मिल जाएगा जो दुनिया में और कहीं आपको देखने नहीं मिलेगा। यहां श्यामलता का वृक्ष किले के पिछले हिस्से में तालाब के किनारे लगा हुआ है। यह वृक्ष इस जगह के अलावा एक जगह और मिलता है। इस दुर्लभ वृक्ष की विशेषता यह है कि वृक्ष की पत्तियों में श्रीराधा कृष्ण का नाम लिखा दिखाई देता है। वृक्ष कब और किसने लगाया यह आज भी लोगों को इस बारें में किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं है। 


किले की स्थिति एवं पहुॅचने का रास्ता 


आदेगांव का किला (Adegaon Fortसिवनी जिले में स्थित है। आदेगांव का किला सिवनी जिले की लखानदौन तहसील स्थित है। यह किला लखानदौन तहसील से करीब 18 किमी की दूरी पर स्थित है। आदेगांव का किला सिवनी जिला मुख्यालय से करीब 78 किमी की दूरी पर होगा। यह किला जबलपुर जिले से करीब 103 किमी की दूरी पर होगा। नरसिंहपुर किला से यह किला 60 किमी की दूरी पर स्थित होगा। यह किला मंडला से लगभग 114 किमी और छिदवाडा से लगभग 106 किमी की दूरी पर होगा। यहां पर आप सडक मार्ग से असानी से पहूॅच सकते है। यहां तक जाने के लिए अच्छी सडक बनी हुई है। आपको यह तक आने के लिए अपने वाहन का प्रयोग करना चाहिए क्योकि वहां आपके लिए अच्छा हो सकता है। यहां पर आटो या बस भी चलती होगी पर वो समय समय पर चलती होगा अगर आपको बस या आटो से सफर करना है तो आपको समय का विशेष ध्यान रखना होगा। आपको यहां पहॅुचने के लिए पहले लखनादौन पहॅूचना होगा। लखनादौन से आदेगांव नाम की जगह करीब 18 किमी की दूरी पर है । आप यहां तक आने के लिए श्रीनगर कन्याकुमारी हाईवे मिल जाता है आप हाईवे से आराम से इस जगह तक पहॅूच सकते है। हाईवे रोड अच्छी है मगर जब आप आदेगांव वाली रोड में जाते है तो वहां रोड कहीं कही पर थोडी खराब है। आपको इस किले तक आने के लिए नजदीक रेल्वे स्टेशन घंसौर और नरसिंहपुर का पडता है। नरसिंहपुर और घंसौर रेल्वे स्टेशन इस किले से लगभग 55 किमी की दूरी हो सकते है। 

यह किला एवं भैरव बाबा का मंदिर दोनों ही प्राचीन है। यह किला पुरातत्व विभाग द्वारा संरक्षित है। किले को देखने दूर-दूर से लोग आदेगांव पहुंचते हैं। यहां पर भैरव अष्टमी बड़े ही धूमधाम से मनाई जाती है। किले के पीछे श्यामलता का अदुभ्त वृक्ष लगा हुआ है जो पूरी दुनिया में अनोखा है। यहां पर मेले का आयोजन भी किया जाता है जहां पर सुबह के समय शोभायात्रा निकली जाती है। जिसमें बडी संख्या में भक्तगण आते है। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा  (Math Ghogra Waterfall )   में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी।  Math Ghogra Waterfall and Cave Math Ghogra Waterfall and Cave मठघोघरा झरना एवं गुफा  (Math Ghogra Waterfall and cave)  सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात  (Math Ghogra Waterfall )  तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा  (Math Ghogra Waterfall )   तक पहुॅचने के लिए आपक

बालाघाट दर्शनीय स्थल - Balaghat tourist place | Tourist places near Balaghat

बालाघाट पर्यटन स्थल - Picnic spot near Balaghat | Balaghat famous places | Balaghat Jila बालाघाट जिला Balaghat District बालाघाट मध्य प्रदेश का एक जिला है। बालाघाट छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की सीमा के पास स्थित है। बालाघाट में वैनगंगा नदी बहती है। बालाघाट में भारत की सबसे बड़ी कॉपर की खदान मौजूद है। बालाघाट का मलाजखंड क्षेत्र कॉपर का सबसे बड़ा उत्पादक क्षेत्र है। यहां खुली खदान मौजूद है। बालाघाट जबलपुर संभाग के अतंर्गत आता है। बालाघाट 10 तहसीलों में बटा हुआ है। यह तहसील है - बालाघाट, बैहर, बिरसा, परसवाडा ,कटंगी, वारासिवनी, लालबर्रा, खैरलांजी, लांजी, किरनापूर। बालाघाट जिलें में घूमने के लिए बहुत सारे प्राकृतिक एवं ऐतिहासिक स्थल मौजूद है, जहां पर जाकर आप आप अपना समय बिता सकते है। Places to visit in Balaghat बालाघाट में घूमने लायक जगहें बोटैनिकल गार्डन - Botanical Garden Balaghat वनस्पति उद्यान बालाघाट जिले में स्थित एक दर्शनीय जगह है। यह बालाघाट में घूमने के लिए अच्छी जगह है। यह उद्यान वैनगंगा नदी के किनारे स्थित है। यहां पर आपको विभिन्न तरह के वनस्पतियां

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighat ग्वारीघाट ग्वारीघाट ( Gwarighat )  एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट   ( Gwarighat )   एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट   ( Gwarighat )  में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है।  Gwaright View ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  की स्थिाति  ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट  ( Gwarighat )   नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट  ( Gwarighat )   पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको  ग्वारीघाट  ( Gwarighat )  पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मि