सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Pandav Caves Pachmarhi - पचमढ़ी के पांडव गुफा की यात्रा

Information about Pandava Cave of Pachmarhi
पचमढ़ी के पांडव गुफा की जानकारी 


पांडव गुफा पचमढ़ी की एक खूबसूरत और धार्मिक जगह है। पांडव गुफा पचमढ़ी शहर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। पचमढ़ी शहर का नाम पांच पांडव गुफा के नाम पर रखा गया है। यहां पर एक बहुत बड़ी चट्टान है। जिस पर गुफा बनाई गई है। यह पचमढ़ी शहर का एक खूबसूरत जगह है। यहां पर खूबसूरत गार्डन भी है, जिसमें आपको तरह तरह के फूल देखने मिलते हैं।

Pandav Caves Pachmarhi - पचमढ़ी के पांडव गुफा की यात्रा

Pandav Cave Garden 


पचमढ़ी के पांडव गुफा की स्थिति
Status of Pandav Cave of Pachmarhi


पचमढ़ी एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। पचमढ़ी सतपुडा की पहाडियों में बसा है। पचमढ़ी को सतपुडा की रानी कहा जाता है। पचमढ़ी होशंगाबाद शहर में स्थित है। होशंगाबाद शहर मध्य प्रदेश का एक जिला है। पचमढ़ी में आप रेलगाडी के माध्यम से पहूॅच सकते है। पचमढ़ी मध्य प्रदेश का एकमात्र हिल स्टेशन है। पांडव गुफा पचमढ़ी में स्थित है। पांडव गुफा पचमढ़ी से करीब 2 या 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित होगी। आप यहां पर पैदल भी जा सकते हैं। बहुत से लोग जिप्सी या ऑटो से यहां आते है। 

यहां पर हम लोग बहुत पहले करीब 10 साल पहले पैदल ही आये थे। उस समय पचमढ़ी में इतनी गाड़ियां वगैरह नहीं चलती थी। उस टाइम पर यहां पर इतने ज्यादा टूरिस्ट लोग नहीं आते थे। अभी तो बहुत ज्यादा भीड़ रहती है। यहां पर उस टाइम पर हम लोग पांडव गुफा तक पैदल आ गए थे और अभी हम लोग गाड़ी से यहां पर घूमने गए थे। हम पाडंव गुफा अभी 2019 गए थें इस समय पचमढ़ी में बहुत बदलाव हो चुका है। यहां पर मै और मेरी मम्मी और हमारे साथ एक अंकल जो हम लोगों के साथ जिप्सी शेयरिंग किया था। हम लोग पांडव गुफा पहुॅचे यहां पर मेरी मम्मी गुफा के उपर नहीं चढी वहां नीचे खडी रही और मै अंकल हम दोनों इस गुफा के उपर चढकर पूरी गुफा  घूमें।  यहां पर मेरा अनुभव अच्छा रहा जो मै आपके साथ शेयर कर रही हूॅ। 

पांडव गुफा का विवरण
Description of Pandav Cave

पांडव गुफा पर एक बड़ी सी चट्टान है, ये गुफाए चटटानों को काटकर बनाई गई है। यह पर अब इन गुफाओं में ताला लगा दिया गया है, इन गुफाओं के जानें पर मनाही है, क्योंकि लोग इन गुफाओं को गंदा करते हैं। गुफा के अंदर ही बाथरूम वगैरह कर देते हैं। इसलिए गवर्नमेंट ने इन गुफाओं में ताला लगाया है। इन गुफाओं को देखने के लिए आपको इन गुफाओं तक पहुॅचना होगा उसके लिए इन चट्टान में सीढ़ियां बनाई गई है। चट्टान को तराश कर सीढ़ियां बनाई गई है। सीढ़ियों में रेलिंग लगाई गई है, ताकि कोई इन चट्टानों से गिरे ना। क्योंकि लोग बडे ही लपरवाह होते है। लोगों की लपरवाही के कारण यह बडी चटटान से गिर सकते है। इसलिए रेलिंग लगी है। इसके अलावा यह चटटान भी बहुत बडी है। आप इन गुफाओं को देखते है तो आपको बहुत    बढिया लगती है। 
पांडव गुफा एक छोटी से गुफा है जो खुली हुई है, जिसमें सरकार ने ताला नहीं लगाया है। मगर लोग उस गुफा में ही बाथरूम कर देते है। हम इन प्राचीन गुफा में इस तरह गंदा नहीं करना चहिए। इन गुफाओं को साफ रखना चहिए।

Pandav Caves Pachmarhi - पचमढ़ी के पांडव गुफा की यात्रा

Pandav Cave 

पांडव गुफा के सामने एक उद्यान स्थित है, जो बहुत खूबसूरत है। इस उद्यान में तरह तरह के फूल लगाए गए हैं। इस उद्यान की अच्छी तरह देखभाल की जाती है। इस उद्यान से होते हुए ही पांडव गुफा तक जाने का रास्ता है। यहां पर आकर आपको बहुत अच्छा लगता है। आप इस उद्यान में बैठकर अपना समय बिता सकते हैं।

इस उद्यान पर आप फोटो भी खिंचा सकते हैं। आपकी फोटो यहां पर बहुत अच्छी आती है। यह एक अच्छी लोकेशन है और यहां पर आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ आकर खूब मजे कर सकते हैं।

पांडव गुफा के बारे में कहा जाता है कि इन गुफाओं को बौद्ध भिक्षुओं द्वारा  बनाया गया है। आपको इन गुफाओं की बनावट और रचना से देखकर इस बात की जानकारी मिल सकती है। इन गुफाओं का निर्माण 6 वीं से 10 वीं शताब्दी के मध्य किया गया होगा। पांडव गुफा में आपको स्तंभ देखने मिलेगें जिनमें खूबसूरती से उकेर कर डिजाइन बनाया गया है। 

पांडव गुफा की चोटी में आपको ईट की एक संरचना के अवशेष देखने मिल जाएगे। जो प्राचीन समय में यह पर बौध्द स्तूप होगा। इसके अलावा यहां बुद्ध भगवान की एक मूर्ति मिली थी जो अब भोपाल में है।

पांडव गुफाओं के बारे में कहा जाता है कि इन गुफाओं में प्राचीन समय में पांडव आए हुए थे। निष्कासन काल के दौरान पांडव यहां पर रहने आए थे। पांडव यहां पर काफी समय तक रहे थे। युधिष्ठिर, अर्जुन, नकुल, सहदेव, भीम पाॅच पांडव थे और उनकी पत्नी द्रौपदी थी। इसलिए इन गुफाओं को पांडव गुफा कहा जाने लगा। इन गुफाओं में अलग अलग कक्ष है, जिनमें पांडव रहते थे। यह पर कहा जाता है कि द्रोपदी के लिए अलग कक्ष था। यह कथ बडा और हवादार था। भीम के लिए जो कक्ष था वो गहरा था। 

यह घूमने के लिए एक अच्छी जगह है। आप यहां पर मार्च के पहले आयेगे तो अच्छा होगा। वैसे पचमढ़ी में गर्मी में भी लोग आते है। आप यहां पर गर्मी में आते है तो आपको यह पर जरूर परेशानी हो सकती है, क्योकि यह पर पहाडी पर किसी भी प्रकार की छाया की व्यवस्था नहीं है। गार्डन में आने वाले रास्ते में शेड लगाया गया है। 

पांडव गुफा के गार्डन के बाहर आपको बहुत सारी रोमाचक गतिविधि करने मिल जाती है। यह छोटी बाइक की सवारी करने मिल जाती है, जो बच्चों के लिए होती है। बच्चे यहां पर एंजाय कर सकते है। इसके अलावा यह पर आपको बहुत सारी फास्ट फुड की दुकानें मिल जाएगी। जहां से आप मैंगी या और कुछ फास्ट फुड आर्डर कर सकते है। यहां पर आपको घोडे भी देखने मिल जाएगे। यहां पर घुडसवारी का आंनद भी ले सकते है। 

पांडव गुफा फोटोग्राफी के लिए एक अच्छी जगह है। आप पांडव गुफा के ऊपर से पचमढ़ी का पूरा दृश्य देखा जा सकता है। पांडव गुफा अच्छी तरह से प्रबंधित पर्यटक स्थल है। गार्डन का रखरखाव ठीक से किया जाता है। यह जगह काफी आकर्षण लगती है। यह एक शांतिपूर्ण जगह है। 

हमारा इस जगह का अनुभव बहुत अच्छा रहा है और आप इस जगह आ सकते है। यह पचमढ़ी के बहुत ही पास ही में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहुॅच सकते है। आप अगर पैदल आना चाहते है तो इस जगह आ सकते है। अगर आप यहां साइकिल से आने चाहते है, तो आ सकते है। साइकिल से  पचमढ़ी का सफर बहुत बढिया होता है। यह पर गर्मी के मौसम में भी 30 से 35 डिग्री तापमान रहता है। इसलिए लोग यहां पर गर्मी में भी आते है। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur || नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुर

Narmada Gau Kumbh, Jabalpur नर्मदा गौ कुंभ मेला, जबलपुरनर्मदा गौ कुंभ नर्मदा नदी के किनारे लगा हुआ है। नर्मदा कुंभ में देश के कोने-कोने से साधु-संत सम्मिलित हुए हैं। नर्मदा गौ कुंभ मेले में आपको बहुत सारी अनोखी चीजों के दर्शन करने मिल जाएंगे, नर्मदा गौ कुंभ का मेला कई सालों में आयोजित किया जाता है। इस बार यह कुंभ मेला फरवरी महीने की 23 तारीख से शुरू होकर 3 मार्च तक चला है। नर्मदा गौ कुंभ मेलें में शामिल होने के लिए दूर-दूर से लोग आए हैं।



नर्मदा गौ कुंभ मेले में अयोजन मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में ग्वारीघाट के गीताधाम मंदिर के सामने वाले मैदान में किया गया था। इस मेले में बहुत से मंदिर बनाये गये थें जहां पर मूर्तियां की स्थापना की गई थी। यहां पर मां दुर्गा, श्री राम चन्द्र, माता नर्मदा जी का मंदिर बनाये गए थे। 
ग्वारीघाट के नर्मदा कुंभ में आपको साधु संतो के दर्शन करने मिलेंगे, और इस कुंभ के मेले में ग्वारीघाट के नर्मदा नदी के घाटों पर हजारों लोग श्रद्धा की डुबकी लगने देश के कोने से लोग आये हुए थे। नर्मदा गौ कुंभ का आयोजन का मुख्य उद्देश्य नर्मदा नदी को स्वच्छ बनाए रखना और गौ माता की रक्…