सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

Daldali Mata Mandir and Mela / दलदली माता मंदिर और मेला

यहां होती है हर मन्नत पूरी 

Daldali Mata Mandir and Mela


दलदली माता का मंदिर एक चमत्कारों वाली जगह है। जहां आने से लोगों के रोग दूर हो जाते है और निसंतान दंपति को संतान की प्राप्ति होती है। यहां पर दूर दूर से लोग आते है और यहां पर मध्यप्रदेश के सभी कोने के अलावा अलग अलग राज्य से भी लोग आते है। 

Daldali Mata Mandir and Mela
Daldali Mela

आज का दिन बहुत ठंडा है, दिसम्बर की महीने की 15 तारीख है आप लोगों को पता होगा कि आज का मौसम कैसा था। आज के दिन तो कही कही पर बरसात भी हो रही थी। अभी मौसम में परिवर्तन हुये थे बादल छाये हुए थे और अब से कडके की ठंड पडने वाली थी। 

मै और मेरे दोस्त आज के दिन दलदली माता के दर्शन करने के लिए जाने वाले थे यहां पर बहुत बडा मेला भी लगता है। इस मेले में दूर दूर से लोग आते है। दलदली माता का मंदिर नैनपुर पिण्डरई रोड में पडता है। यहां मेला नैनपुर की जेवनारा गांव में लगता है। आप यहा पर अपने वाहन और रेलगाडी से आ सकते है। हम लोग अपनी स्कूटी से गये थे। अगर आप रेलगाडी से आते है तो यहां पर आपको जेवनारा स्टेशन में उतरना पडेगा उसके बाद आप पैदल ही इस मेले तक आ सकते है। अगर आप अपने गाडी से आते है तो आपको यहां तक पक्की रोड मिल जाएगी। आप धूमा से होते हुए यहां पर आ सकते है। 

Daldali Mata Mandir and Mela
Daldali mata mandir



यहा मेला पूर्णिमा की दूसरे दिन से लगता है, यह मेला 7 दिन के लिए लगता है। यहा पर दूर दूर से लोग दलदली माता के यहा आते है और माता से मन्नत मानते है। यहां पर छोटे से क्षेत्र में पानी भरा हुआ है इस जगह की लोग पूजा करते है और मन्नत मानते है और जब उनकी मन्नत पूरी हो जाती है तो वो अपने बच्चे के साथ माता के दर्शन एवं पूजा करने आते है। इस दलदल के पानी के पास ही एक मंदिर बना हुआ है लोग यहां पर पूजा करते और चढाव चढते है। यहां पर जो लोग रोग से ग्रस्त होते वो लोग दलदल का पानी पीते है और मन्नत मानते है, जब उनकी रोग ठीक हो जाते है तो वो भी दर्शन एवं पूजा करने आते है। यहां पर छोटे से क्षेत्र में पानी भरा हुआ रहता है इस जगह से ही माना जाता है कि दलदली माता का उदगम हुआ है। यहां पर दलदली माता के दर्शन एवं पूजा के अलावा आप यहां पर मेले का आंनद भी ले सकते है। यहां पर विभिन्न प्रकार की दुकाने लगी होती है जहां पर आप सामान खरीद सकते है और यहां पर विभिन्न प्रकार के झूले भी लगे होती है आप झूले का आंनद ले सकते है। यहां पर नाटक एवं नौटकी का खेल भी चलता रहता है। यहां पर आप दलदली माता के दर्शन एवं मेले का आंनद ले सकते है। 

Daldali Mata Mandir and Mela
Daldali mela

यहां पर बहुत बडे क्षेत्र में मेला भरता है। इस बार हम लोगों के साथ यहां पर एडवेंचर हो गया यहां पर पानी बरस गया था और यहां पर खेत के बीच दलदली माता का मंदिर है मेला भी यही भरती है, यहां पर काली मिटटी है, बरसात के कारण यहां पर चलने मे मुश्किल आ रही थी। हम लोग तो यहां पर गिर भी गये थे, क्योंकि यहां पर जूते चिपक रहे थे । 

Daldali Mata Mandir and Mela
Daldali mata mandir


आपके लिए टिप्स :-

1. आप यहां पर अपना सामान संभाल कर रखें।
2. अगर शहर से आते है और अंजान है तो हाईवे रोड का प्रयोग करें।
3. अपनी गाडी को अच्छी तरह लाॅक करें।
4. अपने साथ पानी की बोतल लेकर चलें।
5. मेले को एजाॅय करें।

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Beautiful ghat of Gwarighat in Jabalpur city || जबलपुर शहर के नर्मदा नदी का खूबसूरत घाट

Gwarighatग्वारीघाटग्वारीघाट(Gwarighat) एक ऐसी खूबसूरत जगह है जहां पर आपको नर्मदा नदी के अनेक  घाट एवं भाक्तिमय वातवरण देखने मिल जाएगा। ग्वारीघाट(Gwarighat)एक बहुत अच्छी जगह है गौरी घाट में घाटों की एक श्रंखला है। ग्वारीघाट(Gwarighat) में आके आपको बहुत शांती एवं सुकून मिलता है। आप यहां पर नर्मदा मैया के दर्शन कर सकते है, उन्हें प्रसाद चढा सकते है। ग्वारीघाट (Gwarighat) में सूर्यास्त का नजारा भी बहुत मस्त होता है। 



ग्वारीघाट (Gwarighat) की स्थिाति 
ग्वारीघाट (Gwarighat) जबलपुर जिले में स्थित है। जबलपुर जिला मध्य प्रदेश में स्थित है जबलपुर जिले को संस्कारधानी के नाम से भी जाना जाता है। जबलपुर से नर्मदा नदी बहती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)नर्मदा नदी पर स्थित है। ग्वारीघाट एक अद्भुत जगह है, जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। ग्वारीघाट (Gwarighat)पहुंचने के लिए आप मेट्रो बस और ऑटो का प्रयोग कर सकते हैं। आपको ग्वारीघाट (Gwarighat) पहुंचने के लिए जबलपुर जिले के किसी भी हिस्से से बस या ऑटो की सर्विस मिल जाती है। ग्वारीघाट (Gwarighat)पर आप अपने वाहन से भी आ सकते हैं। 
आपको मेट्रो बस या …

Pachmarhi Chauragarh Temple || चौरागढ़ महादेव मंदिर, पचमढ़ी

Pachmarhi Chauragarh Shiv Templeचौरागढ़  महादेव पचमढ़ी
चौरागढ़(Chauragarh  Shiv Temple) का प्रसिद्ध मंदिर शिव मंदिर मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है और यह पचमढ़ी में स्थित है। चैरागढ़ का मंदिर एक ऊंचे पहाड़ पर स्थित है यह मंदिर भगवान शिव जी को समर्पित है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) महादेव पचमढ़ी(Pachmarhi) की एक खूबसूरत जगह है। यह जगह बहुत खूबसूरत है और जंगलों से घिरी हुई है। इस मंदिर तक जाने के लिए आपको बहुत मेहनत करनी पड़ेगी क्योंकि इस मंदिर तक पहॅुचने के लिए आपको पैदल चलना पड़ेगा और यह जगह पूरी तरह से जंगल और पहाड़ों से घिरी हुई है, यहां पर आपको बहुत खूबसूरत प्राकृतिक व्यू देखने मिलता है, यहां पर वादियों का मनोरम दृश्य देखने मिलता है। चौरागढ़ (Chauragarh  Shiv Temple) मंदिर 1326 मीटर की ऊंची पहाड़ी पर स्थित है और इस मंदिर तक पहुंचने के लिए आपको 1300 चढ़ने पड़ती है।

पचमढ़ी (Pachmarhi) को सतपुड़ा की रानी कहा जाता है और यहां पर बहुत सारी धार्मिक जगह है, जिनमें से प्राचीन शिव भगवान जी का मंदिर भी एक है,जिसके दर्शन करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। यहां पर साल भर लोग दर्शन करने के लिए आत…

Math Ghogra waterfall and Cave || Shri Paramhans Ashram Math Ghoghara Dham || Shiv Dham Math Ghoghara

श्री शिवधाम मठघोघरा लखनादौन
मठघोघरा जलप्रपात एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिलें का एक दर्शनीय स्थत है। यह झरना एवं गुफा प्रकृति की गोद में स्थित है। यहां पर आपको बरसात के सीजन में एक खूबसूरत झरना देखने मिलेगा। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )  में प्राचीन शिव मंदिर है। यहां पर शिव भगवान की अनोखी प्रतिमा विराजमान है। आपको यह पर चारों तरफ प्रकृति की खूबसूरती देखने मिल जाएगी। यहां जगह आपको बहुत पसंद आयेगी। 



मठघोघरा झरना एवं गुफा (Math Ghogra Waterfall and cave) सिवनी जिले के लखनादौन तहसील में स्थित है। आप यहां पर असानी से पहॅुच सकते है। लखनादौन सिवनी से लगभग 60 किमी की दूरी पर होगा। लखनादौन जबलपुर नागपुर हाईवे रोड पर स्थित है। आप लखनादौन तक बस द्वारा असानी से पहुॅच सकते है। मगर आपको लखनादौन बस स्टैड से आपको आटो बुक करना होगा इस मठघोघरा जलप्रपात (Math Ghogra Waterfall ) तक जाने के लिए। आप यहां पर अपने वाहन से भी आ सकते है। मठघोघरा (Math Ghogra Waterfall )तक पहुॅचने के लिए आपको पक्की रोड मिल जाती है। आपको इस जगह तक पहुॅचने के लिए पहले लखनादौन पहुॅचना पडता है। आपको इस जगह प…